जश्न:भोपाल में शिवराज ने भाजपा अध्यक्ष शर्मा को खिलाई मिठाई तो ग्वालियर में बच्चों के बीच पहुंचे मंत्री

मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीट पर उपचुनाव में अधिकांश पर भाजपा के पक्ष में रुझान हैं। ऐसे में मतगणना स्थलों के पास और भाजपा कार्यालयों में जश्न मनाया जाना शुरू कर दिया गया है। ग्वालियर में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर मतगणना के बीच एक पार्क में बीच के बीच पहुंच गए। भोपाल में भाजपा कार्यालय में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और गोपाल भार्गव ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर बधाई दी। इसके अलावा सांवेर, देवास, खंडवा सहित जहां भी भाजपा प्रत्याशी प्रारंभिक मतगणना में आगे चल रहे हैं। यहां भाजपा ने जश्न मनाया जाना शुरू कर दिया है।

प्रद्युम्न सिंह तोमर अपनी जीत को लेकर निश्चिंत थे थे

ग्वालियर में एक तरफ मतगणना चल रही थी, तो दूसरी ओर मंत्री एवं प्रत्याशी प्रद्युम्न सिंह तोमर बिना किसी चिंता के पार्क में बच्चों के साथ खेल रहे थे। इससे पहले उन्होंने मंशापूर्ण हनुमान जी के मंदिर में माथा टेका और भगवान से प्रार्थना की। इसके बाद जब पार्क पहुंचे तो बड़े बूढ़ों के पैर छूकर आशीर्वाद लिया। उन्होंने कहा कि जनता का आशीर्वाद उनके साथ है।

Diwali 2020: कब है धनतेरस और भाई दूज, जानिए इन त्‍योहारों को मनाए जाने की तिथियां और शुभ मुहूर्त

Diwali 2020: दीयों का त्योहार दिवाली (Diwali) हिन्दू धर्म का मुख्य त्योहार है. यह त्योहार (Diwali Festival) बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में सम्पूर्ण भारत में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.

Diwali 2020: रोशनी का त्योहार दिवाली हिंदू धर्म के खास त्‍योहारों में से एक है. मान्यता है कि भगवान श्री राम (Lord Shri Ram) रावण का वध करके इस दिन अयोध्या लौटे थे. उनके आने की खुशी में प्रजा ने दिवाली मनाई. दीप जला कर उनका स्‍वागत किया था. तब से ही दिवाली (Diwali Festival) मनाई जाने लगी. इस बार दिवाली का पर्व 14 नवंबर को है. आप भी जानिए धनतेरस से भाई दूज तक के पूजा के शुभ मुहूर्त और महत्वपूर्ण तिथियां.

धनतेरस

धनतेरस इस वर्ष 13 नवंबर को मनाया जाएगा. इसे दिवाली से एक दिन पहले मनाने की परंपरा रही है. धनतेरस का मुहूर्त शाम 5 बजकर, 34 मिनट से लेकर शाम 6 बजकर, 1 मिनट तक है. साथ ही इस दिन प्रदोष काल शाम 5 बजकर, 28 मिनट से लेकर रात 8 बजकर, 7 मिनट तक रहेगा. वृषभ काल मुहूर्त शाम 5 बजकर, 34 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर, 29 मिनट तक रहेगा.

नरक चतुर्दशी

छोटी दिवाली को नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है. यह मुख्‍य दिवाली से एक दिन पहले मनाई जाती है. इसे नरक चौदस या रूप चौदस भी कहा जाता है. इस बार कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी तिथि का आरंभ 13 नवंबर को शाम 5 बजकर, 59 मिनट पर होगा. यह 14 नवंबर को 2 बजकर, 18 मिनट तक रहेगी. ऐसे में यह त्यौहार 14 नवंबर को मनाया जाएगा. मान्‍यता है कि नरक चौदस के दिन घर से कबाड़ आदि निकाल देना चाहिए, ताकि दिवाली के दिन घर में मां लक्ष्‍मी का आगमन हो सके. इस दिन अभयदान का शुभ समय सुबह 5:23 से शुरू होकर 6:43 बजे तक रहेगा.

दिवाली
इस साल दिवाली का त्योहार 14 नवंबर को मनाया जाएगा. इस दिन लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर, 30 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर, 25 मिनट तक रहेगा. इसके अलावा प्रदोष काल मुहूर्त शाम 5 बजकर, 27 मिनट से लेकर रात 8 बजकर, 6 मिनट तक होगा. साथ ही वृषभ काल मुहूर्त शाम 5 बजकर, 30 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर, 25 मिनट तक रहेगा.

गोवर्धन पूजा
गोवर्धन पूजा 15 नवंबर को होगी. हिंदू धर्म में गोवर्धन पूजा का विशेष महत्व है. मान्‍यता है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अपनी छोटी उंगली पर गोवर्धन पर्वत को उठाकर भगवान इंद्र को पराजित किया था. गोवर्धन पूजा का सायंकाल मुहूर्त दोपहर 3 बजकर, 18 मिनट से लेकर 15:18:37 से शाम 5 बजकर, 27 मिनट तक रहेगा.

भाई दूज
भाई दूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है. भाई दूज के तिलक का समय दोपहर 1 बजकर, 10 मिनट से लेकर दोपहर 3 बजकर, 18 मिनट तक होगा.

बिहार में आ गए शुरुआती रुझान: महागठबंधन 73 तो NDA 50 सीटों पर आगे – श्रेयसी सिंह और अनंत सिंह की लीड 

बिहार में नीतीश की वापसी या तेजस्वी के सिर सजेगा ताज?

बिहार में विधानसभा चुनाव की मतगणना चल रही है और इसके रुझान सामने आ रहे हैं। अभी तक के रुझानों के अनुसार जमुई से शूटर श्रेयसी सिंह आगे चल रही हैं। वो बिहार के दिग्गज दिवंगत नेता दिग्विजय सिंह की बेटी हैं।

वाल्मीकिनगर से जदयू के युवा विधायक धीरेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ़ रिंकू सिंह आगे । शिवहर से आनंद मोहन और लवली आनंद के बेटे चेतन आनंद सिटिंग विधायक सर्फुद्दीन से आगे चल रहे हैं।

फ़िलहाल महागठबंधन 73 और राजग 50 सीटों पर आगे चल रहा है। झंझारपुर से नीतीश मिश्रा आगे चल रहे हैं। मोतिहारी से भाजपा के प्रमोद कुमार आगे चल रहे हैं।

बिहार में सरकार बनाने के लिए 122 सीटों के बहुमत की आवश्यकता है। 243 सदस्यों वाली बिहार विधानसभा के लिए हुए चुनाव के बाद लगभग सभी एग्जिट पोल्स ने तेजस्वी यादव की जीत अनुमान लगाया था।

दिवाली के दिन ये आसान उपाय करने से आप धनवान बन जाएंगे, इससे लक्ष्मी की कृपा बरसने लगेगी 

दिवाली के दिन कर्ज से छुटकारा पाने के लिए आपको निम्नलिखित उपाय करने चाहिए। इन कामों को करने से आपको कर्ज से बाहर निकलने में मदद मिलेगी और कभी भी पैसे की कमी नहीं होगी। इतना ही नहीं बल्कि अगर ये उपाय सही मन से किए जाएं तो आपके घर में भी लक्ष्मी का वास होता है। तो आपको दिवाली के दिन धन लाभ पाने के लिए इन उपायों की आवश्यकता होनी चाहिए। दिवाली के दिन, आपको 12 दीपक जलाने होंगे और प्रत्येक दीपक के अंदर एक कॉड लगाना होगा। आपको इस दीपक को घर के हर कोने में रखना चाहिए और जब दीपक निकल जाए, तो उसमें से कॉड निकालकर अपनी तिजोरी या व्यावसायिक स्थान पर रख दें। इस उपाय को करने से आपके घर में कभी भी धन की कमी नहीं होगी और माँ लक्ष्मी सदैव जीवित रहेंगी।

नरक चतुर्दशी के दिन, आपको पांच प्रकार के फूलों की एक माला बनानी चाहिए और इसे माँ लक्ष्मी को अर्पित करना चाहिए और इस माला को चढ़ाते समय, आपको अपने मन की बात बोलनी चाहिए ऐसा करने से आपका मानस पूरा हो जाएगा। दिवाली की रात को माताजी के नाम का जाप करें और जाप करते समय माताजी से अपने घर में हमेशा रहने के लिए प्रार्थना करें और अपनी कृपा आप पर बनाए रखें। लक्ष्मी की पूजा करते समय माता को कमल के फूल अर्पित करने चाहिए। पूजा समाप्त होने के बाद इस कमल के फूल को अपने खजाने में रख लें। ऐसा करने से आपके ऊपर लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी। दिवाली के दिन एक नई झाड़ू खरीदें और इस झाड़ू से घर की सफाई करें। ऐसा करने से आपके पास कोई भी ऋण कम हो जाएगा। दिवाली के त्योहार पर, रात में लक्ष्मी और गणेश की पूजा करते समय, उनके सामने 21 दीप जलाएं और पूजा समाप्त होने के बाद, इस दिवा को अपने घर के मुख्य दरवाजे और खिड़कियों के पास रखें। इस उपाय को करने से निश्चित ही आपके घर में लक्ष्मी आएगी और आपको कभी भी आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा। कर्ज से मुक्ति पाने के लिए दिवाली के दिन मंदिर जाना चाहिए और मां लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। उन्हें लाल सिंदूर चढ़ाया जाना चाहिए और उनके सामने एक तेल का दीपक जलाना चाहिए। कुबेर को धन का देवता माना जाता है, इसलिए दिवाली के दिन शाम को भगवान की पूजा करें और उनकी पूजा करते समय उन्हें एक लाल फूल, फल और मिठाई भेंट करें। दिवाली के दिन लक्ष्मी के सामने चार दीपक जलाएं और उसके अंदर लौंग डालें। फिर इस दिवा को उस कमरे में रखें जहाँ आपकी तिजोरी है। यह है कि आप अपने व्यवसाय के स्थान पर एक दीपक कैसे जला सकते हैं। ऐसा करने से आपको आर्थिक रूप से लाभ होगा और व्यापार बहुत अच्छा चलेगा।

अमरोहा: खेत में जुताई के दौरान मिला `खजाना`, मालिक छोड़ मन गई सबकी दिवाली

ड्राइवर कुछ जानता-समझता उससे पहले ही राहगीर और खेत में काम कर रहे लोग जेवर और सिक्के लेकर रफूचक्कर हो गए. खेत के स्वामी का लड़का जुल्फिकार वहां मौजूद नहीं था.

अमरोहा: ज‍िले के रहरा थाना क्षेत्र के गंगेश्वरी गांव में ट्रै्क्टर से खेत की जुताई के दौरान चांदी के सिक्कों से भरा हुआ एक कलश मिला. मजे की बात ये रही कि इस कलश के मिलते ही गांव भर में बात फैल गई. जो जहां था वहां से सिक्के लूटने के लिए भागा. पलक झपकते ही कलश का सारा खजाना गांव वालों ने लूट लिया. इस लूट में न तो ट्रैक्टर के ड्राइवर को कुछ मिला, न ही खेत के मालिक को. 

शौकत अली के खेत में मिले ऐतिहासिक सिक्के 
गंगेश्वरी गांव में शौकत अली नाम के शख्स के खेत में जुताई चल रही थी. इसी बीच ट्रैक्टर चालक का हल किसी धातु से टकराया. जब तक वो कुछ समझ पाता तब तक चांदी के कलश में रखी हुई चीजें खेत में बिखर चुकी थीं. चांदी के सिक्के, आभूषण- जो कुछ भी मिला, उसे लेकर गांव वाले चलते बने. 

न तो खेत के मालिक को कुछ मिला, न ही ड्राइवर को 
रहरा गांव निवासी शौकत अली का पुश्तैनी खेत पथरा मार्ग पर है. जहाँ पर बीते शनिवार को नाजिम ट्रैक्टर से खेत की जुताई कर रहा था. इसी दौरान खेत से चांदी के सिक्के मिले. ड्राइवर कुछ जानता-समझता उससे पहले ही राहगीर और खेत में काम कर रहे लोग जेवर और सिक्के लेकर रफूचक्कर हो गए. खेत के स्वामी का लड़का जुल्फिकार वहां मौजूद नहीं था. ऐसे में उसके हाथ कुछ भी नहीं लगा.  


पुलिस मौके पर पहुंची, तो कुछ नहीं मिला
उधर सूचना मिलने पर डायल 112 और थाना रहरा पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस के पहुंचने पर भी वहां कुछ मिला नहीं. अपर पुलिस अधीक्षक अजय प्रताप सिंह ने बताया कि खेत में चांदी के सिक्के मिलने की सूचना पर पुलिस भेजी गई थी. इस पूरे मामले में जुताई में निकले कुछ सिक्के बरामद करके अग्रिम कार्यवाही की जा रही है. पुलिस अधिकारियों ने कहा कि अभी सिक्कों को कब्जे में ले लिया गया है और इनको हम जिला अधिकारी अमरोहा के पास प्रस्तुत करेंगे. जिसके बाद यह कोषागार में जमा कराए जाएंगे.