इस्‍लामिक आतंकवादियों की नर्सरी बना फ्रांस, स‍िखा रहे अपने ही देश से नफरत: इमैनुअल मैक्रां

पेरिस
फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रां ने चेतावनी दी है कि देश में कई जगहों पर ‘आतंकवादियों की नर्सरी’ चल रही है। मैक्रां ने दावा किया कि आतंकवादियों की नर्सरी में बच्‍चों को इस्‍लामिक तौर तरीकों से फ्रांसीसी मूल्‍यों के प्रति घृणा करना सिखाया जाता है। फ्रांसीसी राष्‍ट्रपति ने ‘इस्‍लामिक अलगाववाद’ का मुद्दा ऐसे समय पर उठाया है जब पूरा देश पिछले दिनों हुए आतंकी हमलों से गुस्‍से में है।

मैक्रां ने फाइनेंशियल टाइम्‍स को लिखे एक पत्र में कहा कि ‘इस्‍लाम के विकृत रूप’ के नाम पर नफरत फैलाने वाले बयानों से फ्रांस के शिक्षक सैमुअल पैटी की गला काटकर हत्‍या की गई। इस निर्मम हत्‍याकांड को अंजाम देने वाले चेचेनिया के नागरिक को बाद में पुलिस ने मार गिराया था। मैक्रां ने कहा कि मुस्लिम बच्‍चे ऑनलाइन कट्टरपंथी इस्‍लाम की शिक्षा के शिकार बन रहे हैं। इन बच्‍चों को देश के कानूनों नहीं मानने के लिए प्रेरित किया जाता है।

फ्रांस में आतंकवादियों की नर्सरी चल रही’
मैक्रां ने कहा, ‘वर्ष 2015 में यह स्‍पष्‍ट हो गया और मैंने राष्‍ट्रपति बनने से पहले ही कहा था कि फ्रांस में आतंकवादियों की नर्सरी चल रही है।’ उन्‍होंने कहा, ‘कुछ जिलों और इंटरनेट पर कट्टर इस्‍लाम से जुड़े गुट हमारे बच्‍चों को देश से ही नफरत करना बता रहे हैं। उन्‍हें देश के कानूनों को नहीं मानने का आह्वान कर रहे हैं। अगर आप मेरे ऊपर भरोसा नहीं कर रहे हैं तो सोशल मीडिया पर किए जाने वाले नफरत भरे पोस्‍ट को पढ़‍िए जो इस्‍लाम के दूषित रूप में शेयर किए जा रहे हैं और जिसकी वजह से सैमुअल पैटी की हत्‍या की गई।’

फ्रांसीसी राष्‍ट्रपति ने कहा, ‘उन छोटे जिलों की यात्रा करिए जहां पर तीन से चार साल की लड़कियां बुर्का पहनती हैं और उन्‍हें लड़कों से अलग रखा जाता है। थोड़ा सा जवान होने पर इन बच्‍चों को समाज से अलग करके रखा जाता है और फ्रांस के मूल्‍यों के प्रति नफरत करना सीखाया जाता है।’ उन्‍होंने इस अवधारणा को खारिज कर दिया कि फ्रांस किसी एक खास धार्मिक समूह के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है। उन्‍होंने कहा कि यह जंग घृणा के खिलाफ है न कि इस्‍लाम के खिलाफ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *