फाइनल मुकाबले से पहले CM नीतीश पर चिराग का बड़ा हमला- ’10 तारीख के बाद तेजस्‍वी के सामने नतमस्‍तक होते दिखेंगे’

बिहार विधानसभा के तीसरे और अंतिम चरण के मतदान के लिए प्रचार अभियान आज थम जाएगा। इस बीच गुरुवार को चुनावी जनसभाओं के लिए रवाना होने से पहले लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान ने एक बार फिर दावा किया कि चुनाव बाद बिहार में भाजपा (BJP) की अगुवाई में भाजपा-लोजपा की सरकार बनेगी। सीएम नीतीश कुमार पर हमलावर चिराग ने कहा कि जिस प्रधानमंत्री जी को वे कोसते नहीं थक रहे थे आज उनके साथ मंच पर नतमस्तक होते नहीं थक रहे हैं। ये कुर्सी के प्रति उनका प्रेम और लालच दिखाता है। चिराग यहीं नहीं रुके। उन्‍होंने कहा कि 10 तारीख के बाद वेे तेजस्वी के सामने नतमस्तक होते दिखेंगे। 

पटना स्थित पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए चिराग ने दावा किया कि पहले और दूसरे चरण में लोजपा का प्रदर्शन बहुत अच्‍छा रहा। कहा कि सीएम नीतीश कुमार को 10 नवंबर को 1 अने मार्ग (मुख्यमंत्री आवास) खाली करना पड़ेगा। लोजपा के उम्‍मीदवार ज्‍यादातर सीटों पर जीतेंगे। चिराग ने कहा कि तीसरे चरण में भी मतदाताओं के बीच लोजपा को लेकर काफी उत्‍साह है। सीएम नीतीश कुमार पर एक बार फिर हमला करते हुए उन्‍होंने कहा कि कम से कम वह दोबारा मुख्‍यमंत्री नहीं बनने जा रहे हैं। 

चिराग ने नीतीश कुमार को सबसे कमजोर मुख्‍यमंत्री बताया। कहा कि न वह केंद्र सरकार से बिहार के काम करा पा रहे हैं और न ही समस्‍याओं के समाधान कर पा रहे हैं। हर चीज के लिए उनके पास बहाना है कि ये चीज केंद्र सरकार को  करनी, ये चुनाव आयोग को और ये राज्‍यपाल को करनी है। यदि सारी चीजें दूसरों को ही करनी हैं तो पिछले 15 साल से नीतीश कुमार कुर्सी से चिपक कर क्‍यों बैठे हैं। उन्‍होंने कहा कि अभी भी नीतीश कुमार दोबारा सीएम बनने के लिए जी-जान से लगे हुए हैं। जिस तरह से प्रधानमंत्री जी वे कोसते नहीं थकते थे आज उनके साथ मंच पर नतमस्तक होते नहीं थक रहे हैं।

ये कुर्सी के प्रति उनका प्रेम और लालच दिखाता है। यही लालच 10 तारीख के बाद उन्‍हें तेजस्वी यादव और लालू यादव के सामने नतमस्तक करेगा क्‍योंकि तब उन्‍हें एनडीए में अपना गुजारा होता नहीं दिखेगा। बिहार में उनकी सरकार नहीं बनने जा रही है। वह दोबारा सीएम नहीं बनने जा रहे हैं। तब वह भागकर रांची जाएंगे। अभी हमें उनकी जैसी तस्‍वीरें प्रधानमंत्री जी के साथ देखने को मिल रही हैं वैसी ही तस्‍वीरें रांची से लालू जी के साथ दिखेंगी। 

चिराग ने आरोप लगाया कि नीतीश के राज में बिहार में भ्रष्‍टाचार सबसे अधिक बढ़ा। उनके कार्यकाल में एक साल ऐसा नहीं है जब बाढ़ नहीं आई है। सात निश्चय बिहार के इतिहास में सबसे बड़े भ्रष्‍टाचार में से एक है। शराबबंदी भी सबसे बड़े भ्रष्टाचार में से एक है। मैं पूछ रहा हूं जब शराब खुलेआम बिक रही है तो तस्करी का पैसा कहां जा रहा है?  पूछता हूं बाढ़ राहत की राशि हर साल कहां लगाई जाती है। 

उन्‍होंने कहा कि बाढ़ पीड़ितों से आग्रह करता हूं कि साहब से सवाल करें कि बाढ़ पीड़ितों के लिए उन्होंने क्या किया। मंच के सामने जब सीएम का विरोध हो रहा है तो क्यों नहीं जनता को बुलाकर पूछते हैं।  उल्टा सामने वालों को उकसाते हैं कि और फेंको, और फेंको। चिराग ने नीतीश की सभा में प्‍याज फेके जाने की घटना की निंदा की। उन्‍होंने कहा कि जनता का आक्रोश स्वाभाविक है लेकिन इसे मतदान के माध्यम से दिखाना चाहिए। शारीरिक हमले का मैं पक्षधर नहीं हूं।

चिराग ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार को अपने पांच साल का हिसाब देना चाहिए। उनके पास बताने को कुछ नहीं है। उनकी वजह से बिहार में पलायन बढ़ा है। मौजूदा सीएम से जानना चाहता हूं कि मेरे बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करते हैं। तमाम चीजें साझा करने के लिए समय है लेकिन अपनी उपलब्धियां कब बताएंगे। बताएं कि उनके विधायक और नेताओं ने क्या काम किया है और अगले 5 साल में उनका रोड मैप क्या है? क्‍या चिराग खुद मुख्‍यमंत्री पद के दावेदार हैं? इस सवाल पर उन्‍होंने कहा कि वह अभी खुद को सीएम के रूप में नहीं देखते।  चिराग ने कहा कि वह सिर्फ बिहार की अस्मिता की लड़ाई लड़ रहे हैं। चिराग ने लोगों से अपील की कि जो भी बिहारी हैं, वो अगर चाहते हैं बीजेपी के नेतृत्व में सरकार बने तो वोट करें। उन्होंने एक सवाल के जवाब में चिराग ने कहा कि सीएम के नाम का खुलासा सार्वजनिक मंच पर अभी नहीं करेंगे। वह खुद को अभी सीएम के रूप में नहीं देखते। सिर्फ पांच दिन बच गए हैं थोड़ा इंतजार करें। इसके बाद सब साफ हो जाएगा। 

बिहार के मैदान में लोजपा के कुल 134 उम्‍मीदवार 

लोजपा ने बिहार चुनाव में कुल 136 प्रत्‍याशी उतारे थे। इसमें से दो (मखदुमपुर और फुलवारी) पर उनका नामांकन रद हो गया। अब उनके कुल 134 प्रत्‍याशी मैदान में हैं। इनमें से 93 का भाग्‍य ईवीएम में कैद हो चुका है। 

तीसरे चरण 7 नवंबर को इन जिलों में होगी वोटिंग

तीसरे चरण में पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, दरभंगा, मधुबनी, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णियां, अररिया, किशनगंज और कटिहार में 7 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। तीसरे चरण में 78 विधान सभा सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *