जो बाइडेन की जीत लगभग पक्‍की, भारत के लिए टेंशन भरे रहे हैं उनके और कमला हैरिस के ये 5 बयान

अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव 2020 (US President Election) में डेमोक्रेट्स को जीत मिलने की पूरी संभावना है। जो बाइडेन अब बहुमत के आंकड़े से ज्‍यादा दूर नहीं। (ताजा नतीजे देखने के लिए क्लिक करें) बाइडेन ने कमला हैरिस को उप-राष्‍ट्रपति उम्‍मीदवार चुना है। विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) कह चुके हैं कि रिपब्लिकन हो या डेमाक्रेट, अमेरिकी राष्‍ट्रपतियों के लिए भारत एक अहम पॉइंट है। बाइडेन और हैरिस, दोनों ही पिछले कुछ मौकों पर ऐसे बयान दे चुके हैं जो भारत के स्‍टैंड से ठीक उलट था। दोनों जब अमेरिका के शीर्ष दो पदों पर बैठेंगे तो भारत को उनके इन बयानों के पीछे का मंतव्‍य समझकर आगे बढ़ना होगा।

CAA, NRC की मुखालफत कर चुके हैं डेमोक्रेट जो बाइडेन

डेमोक्रेटिक जो बाइडेन भारत सरकार के दो फैसलों की खुलेआम आलोचना कर चुके हैं। उन्‍होंने कश्‍मीर में भी पुरानी स्थिति बहाल करने को कहा था। बाइडेन की चुनावी वेबसाइट पर मुस्लिम-अमरीकियों के लिए एजेंडा में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और राष्‍ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (NRC) का विरोध किया गया था। बाइडेन की तरफ से कहा गया था कि CAA और NRC, भारत में सेक्‍युलरिज्‍म की परंपरा से मेल नहीं खाते।

CAA-NRC पर बाइडेन कैम्‍पेन टीम ने क्‍या कहा?

भारत सरकार को कश्मीर के लोगों के अधिकारों को बहाल करने के लिए सभी जरूी उपाय करने चाहिए। असहमति पर प्रतिबंध जैसे शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों को रोकना या इंटरनेट को बंद या धीमा कर देना लोकतंत्र को कमजोर करता है…. जो बाइडेन भारत सरकार के असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NCR) और बाद में नागरिकता संशोधन अधिनियम पारित करने के तरीकों से निराश हैं।

पाकिस्‍तान के प्रति नरम रहे हैं बाइडेन, अरबों डॉलर द‍िए

जो बाइडेन खांटी डिप्‍लोमेट हैं। पाकिस्‍तान की कई मौकों पर तरफदारी कर चुके हैं। 2008 में उन्‍हें ‘हिलाल-ए-पाकिस्‍तान’ से नवाजा गया था। पाकिस्‍तान को 4 सालों तक 7.5 बिलियन डॉलर की सैन्‍य सहायता दिलाने वाला बिल साइन कराने में भी बाइडेन का खास रोल था। पाकिस्‍तान में इस बात की चर्चा जोरों पर है कि अगर बाइडेन चुने जाते हैं तो वह कश्‍मीर मुद्दा उठाएंगे।

कश्‍मीर पर कमला हैरिस दे चुकी हैं हस्‍तक्षेप के संकेत

भारत के संविधान से अनुच्‍छेद 370 हटाने का कमला हैरिस विरोध कर चुकी हैं। पिछले साल अक्‍टूबर में उन्‍होंने कहा था कि ‘अगर हालात बने तो हस्‍तक्षेप’ की जरूरत पड़ेगी।’ सितंबर 2020 में प्रचार के दौरान कमला हैरिस से कश्‍मीर को लेकर सवाल किया गया था। उन्‍होंने जवाब में कहा, ‘मैं उन लोगों से कहना चाहती हूं कि वे अकेले नहीं हैं। हम देख रहे हैं।’ उन्‍होंने कहा था कि अगर अमेरिका किसी तरह से कश्‍मीर में होने वाली घटनाओं पर असर डाल सकता है कि उसके लिए उनका एक प्रति‍निधि वहां होना चाहिए। हैरिस ने कहा था, “हमारे आदर्शों का हिस्‍सा है कि हम मानवाधिकार के उल्‍लंघन का विरोध करते हैं और जरूरत पड़ने पर दखल भी।” हैरिस के मुताबिक, बतौर कमांडर इन चीफ वह इसी हिसाब से चलेंगी।

कमला हैरिस CAA के भी खिलाफ

कमला हैरिस उन अमेरिकी सीनेटर्स में थीं जिन्‍होंने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ आवाज उठाई1 उन्‍होंने दिसंबर 2019 में एक प्रस्‍ताव पेश किया था। इसी के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सीनेटर प्रमिला जयपाल से मिलने पर इनकार कर दिया था। हैरिस ने जयपाल के समर्थन में ट्वीट किया था।

प्रचार के दौरान कश्‍मीर पर क्‍या बोली थीं कमला

हम लोगों को यह बताना चाहते हैं कि वे अकेले नहीं हैं, हम नजर बनाए हुए हैं। हम मानवाधिकार उल्लंघन के बारे में बोलते हैं और जहां जरूरी होता है, हम हस्तक्षेप भी करते हैं। एक राष्ट्र के तौर पर यह हमारे मूल्यों का हिस्सा है।

प्याज के थोक भाव 25 रुपये किलो तक गिरे, पर बाजार में मिल रहा महंगा

भोपाल, । स्‍टॉक लिमिट (संग्रहण सीमा) तय होने के बाद भोपाल की करोंद मंडी में प्याज के थोक भाव 25 रुपये किलो तक गिर चुके हैं। इसके बावजूद बाजारों में यह 50 से 60 रुपये किलो में ही बिक रहा है। बिट्टन मार्केट, पांच नंबर, अवधपुरी, न्यू मार्केट क्षेत्र, कोलार, होशंगाबाद रोड, गवर्मेंट प्रेस क्षेत्र एवं पुराने शहर में प्याज इसी कीमत पर ग्राहकों को बेचा जा रहा है। दरअसल, मंडी में बीते दो-तीन दिन से प्याज की आवक औसत 350 क्विंटल पर सिमट गई है। इसका फायदा भी बिचौलिये उठा रहे हैं। वे मांग एवं आपूर्ति में बड़ा अंतर बताकर अधिक भाव वसूल रहे हैं।

बिट्टन मार्केट में तीन वैरायटी का प्याज 30 से 60 रुपये किलो तक है। छोटी साइज का प्याज न्यूनतम 30 रुपये किलो है, जबकि बड़ी साइज व अच्छी क्वालिटी का प्याज 60 रुपये किलो तक बिक रहा है। कोलार के नयापुरा क्षेत्र में भी भाव यही है। गवर्मेंट प्रेस क्षेत्र में स्थायी दुकानों पर प्याज की कीमतें अधिक है।

तीन दिन में ही आवक आधी हुई

त्योहारों में प्याज की कीमतें बेलगाम हुईं तो 23 अक्टूबर को केंद्र सरकार ने प्याज की स्‍टॉक लिमिट तय कर दी थी। थोक व्यापारी को अधिकतम 25 टन एवं फुटकर कारोबारी को दो टन तक प्याज भंडारण की अनुमति दी गई है। इसके बाद करोंद मंडी में आवक बढ़ गई थी और 700 क्विंटल तक प्याज मंडी में बिकने आने लगा। वर्तमान में आवक आधी हो गई है, लेकिन अच्छी बात यह है कि थोक में भाव 25 से 40 रुपये किलो तक ही है। इसके बावजूद फुटकर में भाव अधिक लिए जा रहे हैं। वर्तमान में व्यापारी अपने गोदामों एवं गांवों में किसानों के पास जमा प्याज को बेचने ला रहे हैं। हालांकि, प्याज किसानों के माध्यम से ही लाया जा रहा है। थोक कारोबारी मोहम्मद नसीम ने बताया कि दिसंबर में नया प्याज मंडियों में आने लगेगा। इसके बाद भाव में कमी आएगी।

भोपाल में आवक

350 क्विंटल प्रतिदिन आवक करोंद मंडी में

20 से 40 रुपये थोक में भाव

60 रुपये किलो तक फुटकर में बिक रहा अच्छी क्वालिटी का प्याज

नोट : कारोबारियों के अनुसार।

आलू दो महीने से महंगा

फुटकर बाजार में आलू के भाव भी 35 से 40 रुपये किलो तक चल रहे हैं। यह स्थिति पिछले दो महीने से है। थोक में आलू के भाव 24 से 30 रुपये किलो तक है।

फाइनल मुकाबले से पहले CM नीतीश पर चिराग का बड़ा हमला- ’10 तारीख के बाद तेजस्‍वी के सामने नतमस्‍तक होते दिखेंगे’

बिहार विधानसभा के तीसरे और अंतिम चरण के मतदान के लिए प्रचार अभियान आज थम जाएगा। इस बीच गुरुवार को चुनावी जनसभाओं के लिए रवाना होने से पहले लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान ने एक बार फिर दावा किया कि चुनाव बाद बिहार में भाजपा (BJP) की अगुवाई में भाजपा-लोजपा की सरकार बनेगी। सीएम नीतीश कुमार पर हमलावर चिराग ने कहा कि जिस प्रधानमंत्री जी को वे कोसते नहीं थक रहे थे आज उनके साथ मंच पर नतमस्तक होते नहीं थक रहे हैं। ये कुर्सी के प्रति उनका प्रेम और लालच दिखाता है। चिराग यहीं नहीं रुके। उन्‍होंने कहा कि 10 तारीख के बाद वेे तेजस्वी के सामने नतमस्तक होते दिखेंगे। 

पटना स्थित पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए चिराग ने दावा किया कि पहले और दूसरे चरण में लोजपा का प्रदर्शन बहुत अच्‍छा रहा। कहा कि सीएम नीतीश कुमार को 10 नवंबर को 1 अने मार्ग (मुख्यमंत्री आवास) खाली करना पड़ेगा। लोजपा के उम्‍मीदवार ज्‍यादातर सीटों पर जीतेंगे। चिराग ने कहा कि तीसरे चरण में भी मतदाताओं के बीच लोजपा को लेकर काफी उत्‍साह है। सीएम नीतीश कुमार पर एक बार फिर हमला करते हुए उन्‍होंने कहा कि कम से कम वह दोबारा मुख्‍यमंत्री नहीं बनने जा रहे हैं। 

चिराग ने नीतीश कुमार को सबसे कमजोर मुख्‍यमंत्री बताया। कहा कि न वह केंद्र सरकार से बिहार के काम करा पा रहे हैं और न ही समस्‍याओं के समाधान कर पा रहे हैं। हर चीज के लिए उनके पास बहाना है कि ये चीज केंद्र सरकार को  करनी, ये चुनाव आयोग को और ये राज्‍यपाल को करनी है। यदि सारी चीजें दूसरों को ही करनी हैं तो पिछले 15 साल से नीतीश कुमार कुर्सी से चिपक कर क्‍यों बैठे हैं। उन्‍होंने कहा कि अभी भी नीतीश कुमार दोबारा सीएम बनने के लिए जी-जान से लगे हुए हैं। जिस तरह से प्रधानमंत्री जी वे कोसते नहीं थकते थे आज उनके साथ मंच पर नतमस्तक होते नहीं थक रहे हैं।

ये कुर्सी के प्रति उनका प्रेम और लालच दिखाता है। यही लालच 10 तारीख के बाद उन्‍हें तेजस्वी यादव और लालू यादव के सामने नतमस्तक करेगा क्‍योंकि तब उन्‍हें एनडीए में अपना गुजारा होता नहीं दिखेगा। बिहार में उनकी सरकार नहीं बनने जा रही है। वह दोबारा सीएम नहीं बनने जा रहे हैं। तब वह भागकर रांची जाएंगे। अभी हमें उनकी जैसी तस्‍वीरें प्रधानमंत्री जी के साथ देखने को मिल रही हैं वैसी ही तस्‍वीरें रांची से लालू जी के साथ दिखेंगी। 

चिराग ने आरोप लगाया कि नीतीश के राज में बिहार में भ्रष्‍टाचार सबसे अधिक बढ़ा। उनके कार्यकाल में एक साल ऐसा नहीं है जब बाढ़ नहीं आई है। सात निश्चय बिहार के इतिहास में सबसे बड़े भ्रष्‍टाचार में से एक है। शराबबंदी भी सबसे बड़े भ्रष्टाचार में से एक है। मैं पूछ रहा हूं जब शराब खुलेआम बिक रही है तो तस्करी का पैसा कहां जा रहा है?  पूछता हूं बाढ़ राहत की राशि हर साल कहां लगाई जाती है। 

उन्‍होंने कहा कि बाढ़ पीड़ितों से आग्रह करता हूं कि साहब से सवाल करें कि बाढ़ पीड़ितों के लिए उन्होंने क्या किया। मंच के सामने जब सीएम का विरोध हो रहा है तो क्यों नहीं जनता को बुलाकर पूछते हैं।  उल्टा सामने वालों को उकसाते हैं कि और फेंको, और फेंको। चिराग ने नीतीश की सभा में प्‍याज फेके जाने की घटना की निंदा की। उन्‍होंने कहा कि जनता का आक्रोश स्वाभाविक है लेकिन इसे मतदान के माध्यम से दिखाना चाहिए। शारीरिक हमले का मैं पक्षधर नहीं हूं।

चिराग ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार को अपने पांच साल का हिसाब देना चाहिए। उनके पास बताने को कुछ नहीं है। उनकी वजह से बिहार में पलायन बढ़ा है। मौजूदा सीएम से जानना चाहता हूं कि मेरे बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करते हैं। तमाम चीजें साझा करने के लिए समय है लेकिन अपनी उपलब्धियां कब बताएंगे। बताएं कि उनके विधायक और नेताओं ने क्या काम किया है और अगले 5 साल में उनका रोड मैप क्या है? क्‍या चिराग खुद मुख्‍यमंत्री पद के दावेदार हैं? इस सवाल पर उन्‍होंने कहा कि वह अभी खुद को सीएम के रूप में नहीं देखते।  चिराग ने कहा कि वह सिर्फ बिहार की अस्मिता की लड़ाई लड़ रहे हैं। चिराग ने लोगों से अपील की कि जो भी बिहारी हैं, वो अगर चाहते हैं बीजेपी के नेतृत्व में सरकार बने तो वोट करें। उन्होंने एक सवाल के जवाब में चिराग ने कहा कि सीएम के नाम का खुलासा सार्वजनिक मंच पर अभी नहीं करेंगे। वह खुद को अभी सीएम के रूप में नहीं देखते। सिर्फ पांच दिन बच गए हैं थोड़ा इंतजार करें। इसके बाद सब साफ हो जाएगा। 

बिहार के मैदान में लोजपा के कुल 134 उम्‍मीदवार 

लोजपा ने बिहार चुनाव में कुल 136 प्रत्‍याशी उतारे थे। इसमें से दो (मखदुमपुर और फुलवारी) पर उनका नामांकन रद हो गया। अब उनके कुल 134 प्रत्‍याशी मैदान में हैं। इनमें से 93 का भाग्‍य ईवीएम में कैद हो चुका है। 

तीसरे चरण 7 नवंबर को इन जिलों में होगी वोटिंग

तीसरे चरण में पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, दरभंगा, मधुबनी, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णियां, अररिया, किशनगंज और कटिहार में 7 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। तीसरे चरण में 78 विधान सभा सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे।  

हस्तरेखा से पहचानें अपने राजयोग…

पंडित पवन शास्त्री

अनेक जातक-जातिकाओं की महत्वाकांक्षा होती है राजसुख प्राप्त करने की। वे जानना चाहते हैं कि उनके हाथ में भी राजयोग है या नहीं।  ऐसे महत्वाकांक्षी जातकों के लिए हमारे हस्त रेखा के विद्वान महर्षियों ने अनेक राजयोगों के संबंध में सामुद्रिक शास्त्रों में वर्णन किया है जिसमें मुख्य योग मंत्री, मुख्यमंत्री, राजदूत, राज्याधिकारी, राज्यपाल, न्यायाधीश, वकील आदि योग निम्न प्रकार के हैं- 

1. जिसकी हथेली के मध्य घोड़ा, घड़ा, पेड़, दंड या स्तंभ का चिह्न हो, वह राजसुख भोगने वाला, नगर सेठ के समान धनी होता है। जिसका ललाट चौड़ा और विशाल, नेत्र सुंदर, मस्तक गोल और भुजाएं लंबी हों, वह भी राजसुख भोगता है। 

2. जिसके हाथ में धनुष, चक्र, माला, कमल, ध्वजा, रथ, आसन अथवा चतुष्कोण हो, उसके ऊपर लक्ष्मी सदा प्रसन्न रहती है। 

3. जिसके हाथ में अनामिका के मूल में पुण्य रेखा हो और मणिबंध से शनि रेखा मध्यमा उंगली पर जाए तो वह राजसुख भोगता है। 


4. जिसके अंगुष्ठ में यव चिह्न हो साथ ही मछली, छाता, अंकुश, वीणा, सरोवर, हाथी का चिह्न हो, वह यशस्वी एवं करोड़ों मुद्राओं का स्वामी होता है। 

5. जिसके हाथ में तलवार, पहाड़, हल, चिह्न हो उसके पास लक्ष्मी की कमी नहीं होती है। 

6. जिसके हाथ की सूर्य रेखा मस्तक रेखा से मिली हो और मस्तक रेखा स्पष्ट सीधी होकर गुरु की ओर झुकने से चतुष्कोण का निर्माण होता हो, वह मुख्यमंत्री होता है। 

7. जिसके हाथ में गुरु, सूर्य पर्वत उच्च हो, शनि और बुध रेखा पुष्ट एवं स्पष्ट और सीधी हो, वह राज्यपाल होता है।

8. जिसके हाथ में शनि पर त्रिशूल चिह्न हो, चन्द्र रेखा का भाग्य रेखा से संबंध हो या भाग्य रेखा हथेली के मध्य से प्रारंभ होकर उसकी एक शाखा गुरु पर्वत पर और एक सूर्य पर्वत पर जाए, वह राज्याधिकारी होता है। 

9. जिसके गुरु, मंगल पर्वत उच्च हो तथा मस्तिष्क रेखा दोहरी हो या बुध की अंगुली नुकीली हो और लंबी हो एवं नाखून चमकदार हो, वह राजदूत होता है।

10. जिसके बाएं हाथ की तर्जनी एवं कनिष्ठिका की अपेक्षा दाहिने हाथ की तर्जनी एवं कनिष्ठिका मोटी और बड़ी हो, मंगल पर्वत अधिक ऊंचा हो और सूर्य रेखा प्रबल हो, वह कलेक्टर या कमिश्नर होता है। 

11. जिसके हाथ के सूर्य, बुध, गुरु, शनि उच्च हो अंगुलियां लंबी होकर उनके ऊपरी भाग मोटे हों, सूर्य रेखा प्रबल हो मध्यांगुली का मध्य पर्व बड़ा हो, वह शिक्षाधिकारी होता है।

12. जिसके हाथ की हृदय रेखा और मस्तक रेखा के बीच एक चौड़ा चतुष्कोण हो, मस्तक रेखा सीधी व स्वच्छ हो, बुधांगुली का प्रथम पर्व लंबा हो, गुरु की उंगली सीधी हो सूर्य पर्वत उठा हो, वह दयालु न्यायाधीश होता है।

13. जिसकी अंगुलियां लंबी, अंगूठा लंबा सीधा, अंगुलियां सटी हुईं, मस्तक रेखा में सीधी दो रेखाएं निकलती हो  और हथेली चपटी हो तो वह बैरिस्टर होता है। 

मध्य प्रदेश: दिवाली से पहले शिवराज सरकार का बड़ा फैसला, चीनी और विदेशी पटाखों के भंडारण-बिक्री पर पूरी तरह बैन

मध्य प्रदेश सरकार ने दिवाली से ठीक पहले राज्य में चीनी और अन्य विदेशी पटाखों के भंडारण, परिवहन और बिक्री पर पूरी तरह बैन लगा दिया है। अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा ने सभी जिलाधिकारियों को नियम-84 (विस्फोटक अधिनियम अंतर्गत प्रभावशील नियम) में ऐसे विदेशों में निर्मित पटाखों के लिए अस्थायी लाइसेंस जारी न करने को कहा है।

भोपाल
मध्य प्रदेश सरकार ने दिवाली से ठीक पहले एक बड़ा फैसला लिया है। शिवराज सरकार ने राज्य में चीनी और अन्य विदेशी पटाखों के भंडारण, परिवहन और बिक्री पर पूरी तरह बैन लगा दिया है। मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग ने प्रेस रिलीज जारी कर बताया, ‘चीनी और अन्य विदेशी पटाखों का आयात बिना लाइसेंस पूरी तरह बैन है। डायरेक्टर जनरल फॉरेन ट्रेड (डीजीएफटी) की ओर से चीनी या विदेशी पटाखों के आयात के लिए कोई लाइसेंस भी जारी नहीं किए गए हैं।’

मध्य प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (गृह) डॉ. राजेश राजौरा ने सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षक को इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। अधिकारियों से कहा गया है कि कि चीनी और अन्य विदेशी पटाखों का भंडारण, परिवहन और बिक्री पूरी तरह बैन है। विज्ञप्ति के अनुसार, ऐसा करना पूरी तरह गैरकानूनी है।विस्फोटक अधिनियम की धारा 9-बी (1) (बी) में इस प्रकार के अवैध पटाखों का भंडारण, वितरण, बिक्री या उपयोग किए जाने पर दो साल तक की सजा का प्रावधान है। राजौरा ने सभी जिलाधिकारियों को नियम-84 (विस्फोटक अधिनियम अंतर्गत प्रभावशील नियम) में ऐसे विदेशों में निर्मित पटाखों के लिए अस्थायी लाइसेंस जारी न करने को कहा है।

मुख्यमंत्री का आदेश, चीनी और विदेशी पटाखों पर पूरी तरह बैन
इससे पहले, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने बुधवार को मंत्रालय में प्रदेश की कानून-व्यवस्था के संबंध में उच्च स्तरीय बैठक की थी। इसमें मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में  बेचने और उनके उपयोग पर प्रतिबंध रहेगा। चौहान ने कहा कि ऐसा करने पर ‘एक्सप्लोसिव एक्ट’ की संबंधित धारा के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

शिवराज की अपील, मिट्टी के दिए खरीदें
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता से अपील की है कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत स्थानीय उत्पादों को खरीदा जाए। दीपावली के दौरान मिट्टी के दिए खरीदें, जिससे स्थानीय कुम्हारों को रोजगार मिले।

अमेरिका में चुनाव का परिणाम दिलचस्प होगा अभी स्थिति स्पष्ट नहीं.

US Presidential Election Results 2020 Live news updates: स्पष्ट जीत के लिए 538 निर्वाचक मंडल सदस्यों में से विजेता बनने के लिए कम से कम 270 निर्वाचक मंडल मतों की आवश्यकता है।

नई दिल्ली |

US Election Results 2020 Live updates: अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उनके प्रतिद्वंद्वी जो. बाइडेन के बीच कांटे की टक्कर नजर आ रही है। इस बीच बाइडेन ने मिशिगन और विस्कॉन्सिन जैसे दो अहम राज्यों में जीत हासिल कर राष्ट्रपति पद के अपने दावे को मजबूत कर लिया। अब जॉर्जिया और पेंसिलवेनिया जैसे दो अहम राज्यों में वोटों की गिनती जारी है। बाइडेन ने इस बढ़त के बाद कहा कि उन्हें जीत का भरोसा है, पर यह जीत सिर्फ उनकी नहीं, बल्कि पूरे अमेरिकी लोकतंत्र और अमेरिकी लोगों की होगी। उन्होंने कहा कि आगे प्रगति के लिए हमें अपने विरोधियों से दुश्मन की तरह बर्ताव बंद करना होगा। हम दुश्मन नहीं हैं।

हालांकि मौजूदा रिपब्लिकन राष्ट्रपति ट्रंप ने मतगणना में बुधवार को ‘धोखाधड़ी’ का दावा किया और कहा कि वह इसे रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। लाखों मतों की गिनती अब भी चल रही है और कई महत्वपूर्ण राज्यों में परिणामों की घोषणा होनी अभी बाकी है। ट्रंप और बाइडेन दोनों ने कहा है कि वे 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में जीतने जा रहे हैं। यह चुनाव अमेरिका के इतिहास में सर्वाधिक विभाजक और कटु चुनावों में से एक है।

मंगलवार को हुए चुनाव में महत्वपूर्ण राज्यों में कांटे की टक्कर नजर आ रही है जिनमें बाइडेन 264 निर्वाचक मंडल मत जीत रहे हैं, जबकि ट्रंप 213 निर्वाचक मंडल मतों के साथ थोड़ा पीछे हैं। स्पष्ट जीत के लिए 538 निर्वाचक मंडल सदस्यों में से विजेता बनने के लिए कम से कम 270 निर्वाचक मंडल मतों की आवश्यकता है। राष्ट्रपति का पसंदीदा समाचार नेटवर्क माने जाने वाले फॉक्स न्यूज ने ट्रंप को अपने अनुमान में केवल 213 निर्वाचक मंडल मत दिए हैं और बाइडेन की झोली में इसने इन मतों की संख्या 238 बताई है। इसने लोकप्रिय मतों में से 50 प्रतिशत वोट डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बाइडेन को तथा 48.4 प्रतशित लोकप्रिय मत ट्रंप को दिए हैं। अमेरिका के किसी भी बड़े मीडिया प्रतिष्ठान ने स्पष्ट विजेता की घोषणा नहीं की है।

ATM कार्ड इस्तेमाल करने से पहले हों जाएं सावधान 

नई दिल्ली: क्या आप भी पैसे निकालने के लिए अपना ATM कार्ड किसी रिश्तेदार या फिर दोस्त को देते हैं…अगर आप ऐसा करते हैं तो अब सावधान हो जाएं. ऐसा करना आपको काफी महंगा पड़ सकता है. देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI का कहना है कि डेबिट कार्ड नॉन ट्रांसफरेबल होता है, ऐसे में किसी फैमिली मेंबर को भी यह इस्तेमाल के लिए नहीं दिया जा सकता है. यहां तक कि पति भी अपनी पत्नी का एटीएम कार्ड इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. अगर कोई भी ऐसा करता है तो वह सुरक्षा नियमों के खिलाफ होगा.

ATM कार्ड इस्तेमाल करने से पहले हों जाएं सावधान

बता दें अगर आप भविष्य में होने वाले नुकसान से बचना चाहते हैं तो एटीएम या डेबिट कार्ड का इस्तेमाल सावधानी से करें. किसी के साथ भी अपने एटीएम का पिन शेयर न करें. इसके साथ ही कार्ड और अकाउंट की डिटेल्स भी किसी को न बताएं. ATM कार्ड को लेकर आपको कुछ नियमों को जान लेना बहुत ही जरूरी है. जानें, क्या हैं नियम…

क्या न करें

>> कार्ड पर अपना पिन नंबर कभी न लिखें.

>> अनजान लोगों से एटीएम ट्रांजैक्शन में मदद न लें या फिर किसी अन्य को ट्रांजैक्शन के लिए कार्ड न दें.

>> किसी भी शख्स को अपना एटीएम पिन न बताएं. यहां तक कि बैंक कर्मचारी और फैमिली मेंबर्स को भी यह जानकारी न दें.

>> पेमेंट के दौरान कार्ड पर पूरी नजर रखें और उसे नजरों से ओझल न होने दें.

>> ट्रांजैक्शन के दौरान मोबाइल फोन पर बात करने से बचें.

हमेशा रखें ये सावधानियां-

>> एटीएम ट्रांजैक्शन के दौरान पूरी प्राइवेसी रखें. यह सुनिश्चित करें कि एटीएम मशीन में पिन नंबर दर्ज करते वक्त कोई देख न रहा हो,

>> ट्रांजैक्शन के बाद यह देखें कि मशीन में वेलकम स्क्रीन आ गया हो. उससे पहले मशीन न छोड़ें.

>> यह सुनिश्चित करें कि आपका मौजूदा मोबाइल नंबर बैंक में रजिस्टर्ड हो. इससे आपको बैंक से सभी ट्रांजैक्शंस के अलर्ट मिल सकेंगे.

>> शॉपिंग के बाद किसी भी मर्चेंट से अपना कार्ड वापस लेना न भूलें.

>> एटीएम में यदि कोई एक्स्ट्रा डिवाइस लगी हो तो उस पर नजर रखें.

>> एटीएम कार्ड खोने या चोरी होने पर तुरंत बैंक को सूचित करें.

>> बैंक से आने वाले ट्रांजैक्शन अलर्ट और बैंक स्टेटमेंट को नियमित रूप से देखें.

>> एटीएम से कैश न निकलने और पैसे कटने की स्थिति में तुरंत बैंक को सूचित करें.

>> कोई भी ट्रांजैक्शन करने के बाद तुरंत मोबाइल पर एसएमएस चेक करें.

आप किन तरीकों से घर बैठे अपना कार्ड ब्लॉक करा सकते हैं-

कॉल व ऐप के जरिए ब्लॉक कराएं कार्ड

अगर ग्राहक कॉल के जरिए SBI डेबिट/ATM कार्ड ब्लॉक कराना चाहता है तो आपको इस टोल फ्री नंबर 1800-11-22-11, 1800-425-3800 पर या फिर 080-080-26599990 पर कॉल करनी होगी. इसके बाद ग्राहक को कॉल पर मिल रहे निर्देशों का पालन करना होगा. इसके अलावा ग्राहक SBI Quick ऐप की मदद से अपना कार्ड ब्लॉक करा सकते हैं.

इस तरह SMS के जरिए कराएं कार्ड ब्लॉक

इसके अलावा SMS के जरिए कार्ड ब्लॉक कराने के लिए आपको मैसेज में ‘BLOCK<space>अपने कार्ड के आखिरी 4 डिजिट’ लिखकर 567676 नंबर पर भेजना होगा. उदाहरण के लिए- आपके एटीएम के आखिरी 4 डिजिट 4567 है तो आपको मैसेज में BLOCK 4567 लिखकर इस नंबर 567676 मैसेज करना होगा.

रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से करें SMS

आपको बता दें आप जिस नंबर से मैसेज कर रहे हैं वह बैंक में रजिस्टर होना चाहिए. बैंक की ओर से जब आपकी ब्लॉकिंग की रिक्वेस्ट एक्सेप्ट हो जाएगी तो आपके रजिस्टर्ड नंबर पर मैसेज आ जाएगा, जिसमें आपका ब्लॉकिंग की तारीख व समय मौजूद होते हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ में मध्य प्रदेश भाजपा को हार का डर

भोपाल मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर हुए उपचुनाव के बाद भाजपा की कोर टीम ने नतीजों को लेकर पार्टी स्तर पर विश्लेषण किया है। इसमें भाजपा आश्वस्त है कि पार्टी की जीत पक्की है। हालांकि विश्लेषण में चौंकाने वाला तथ्य भी सामने आया है कि भाजपा को ग्वालियर-चंबल संभाग में हार का डर है। यह राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाला क्षेत्र है। पार्टी के आंतरिक विश्लेषण को अंतिम नहीं माना जा सकता, लेकिन राजनीतिक जानकारों का कहना है कि सिंधिया के प्रभाव वाले क्षेत्र में पार्टी को नुकसान की आशंका यदि सही साबित हुई तो मध्य प्रदेश में भाजपा की राजनीति का अलग दौर शुरू होगा।

सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस से भाजपा में आए जिन सिंधिया समर्थकों को भाजपा ने प्रत्याशी बनाया, उनकी पार्टी में स्वीकार्यता को लेकर शुरू से ही असमंजस था। पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के सामने एक हिचक यह भी थी कि भाजपा में आने से पहले दशकों तक जिन नेताओं को भला-बुरा कहा गया, अब उनके लिए जनता से वोट किस तरह मांगें?

हालांकि भाजपा के मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय का दावा है कि पार्टी के आंतरिक विश्लेषण में हम सभी 28 सीटों पर जीत रहे हैं। यह निश्चित है कि शिवराज सिंह चौहान जी के नेतृत्व में आगे भी पार्टी जनता के हित में काम करती रहेगी।

.. मध्य प्रदेश में नहीं होगा पुनर्मतदान

मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने ग्वालियर क्षेत्र के सुमावली और मेहगांव के उन मतदान केंद्रों पर फिर मतदान की मांग उठाई थी, जहां मंगलवार को हुए मतदान के दौरान हिंसा हुई थी। हालांकि पीठासीन अधिकारी, केंद्रीय पर्यवेक्षक को ऐसा कोई आधार नहीं मिला, जिसके कारण पुनर्मतदान कराने का निर्णय लिया जाए। अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अरुण कुमार तोमर ने बताया कि पीठासीन अधिकारी प्रतिदिन स्ट्रांग रूम का दौरा करके रिपोर्ट चुनाव आयोग को देंगे। साथ ही कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और रिटर्निग ऑफिसर प्रतिदिन स्ट्रांग रूम का निरीक्षण करेंगे। रिटर्निग ऑफिसर निर्वाचन कार्यालय को रिपोर्ट भेजेंगे। स्ट्रांग रूम की सुरक्षा के लिए केंद्रीय सुरक्षा बल तैनात किया गया है। इधर, बुधवार को अंतिम गणना के बाद मतदान का कुल आंकड़ा 70.27 प्रतिशत पर पहुंच गया।

… कांग्रेस बूथ-वार करवा रही विश्लेषण

मध्य प्रदेश कांग्रेस भी विश्लेषण में जुट गई है। पार्टी ने सभी बूथ कमेटियों से मतदान केंद्रवार वोटिंग की जानकारी मंगवाई है।

सिद्धि-साधना होगी दीपावली की रात

किसी भी सिद्धि या तंत्र साधना के लिए अनबूझा शुभ मुहुर्त दीपावली कल है। इस दिन का साधक और तांत्रिक बड़ी बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं। लक्ष्मी को रिझाने की खातिर कोई हवन, यज्ञ, जप की तैयारी कर रहा हो तो कोई ताबीजों-यंत्रों को सिद्ध करने को तैयार है। यानि गणेश-लक्ष्मी पूजन के अलावा तंत्र-मंत्र-यंत्र की सिद्धि भी दीपावली की रात परवान चढ़ेगी।

तंत्र के नाम पर दीपावली की रात अब लोग श्मशान आदि का रुख कम करते हैं, लेकिन बाग-बगीची, मंदिर, आश्रम, धर्मशालाएं अथवा एकांत स्थान इस बार भी तमाम तरह की सिद्धियों के गवाह बनेंगे। दीपावली को सबसे बड़ी रात कहा माना गया है। इस रात कुछ ही समय में सिद्धि प्राप्ति के लिए जानकार रातभर हवन, यज्ञ, जाप आदि करेंगे।

मथुरा-वृंदावन, बरसाना व गोवर्धन क्षेत्र में इस तरह की सिद्धियों के लिए कई जगह गुपचुप तैयारी की जा रही हैं। अपने शिष्यों के लिए कुछ जानकार आचार्य, शास्त्री व सिद्ध लोग इस तरह की क्रिया करने वाले हैं। कुछ गृहस्थ लोग भी अपने घरों में लक्ष्मी पूजन के बाद इस तरह की क्रिया करेंगे। हालांकि सिद्धि अब मंत्रों व यंत्रों के जरिए होने लगी हैं। ताबीज व यंत्र ज्यादा मात्रा में तैयार किए जाने लगे हैं।

ज्योतिर्विद पवन कहते हैं कि दीपावली की रात गृहस्थ के लिए श्री यंत्र सिद्ध करना सबसे आसान है। इसके लिए पूजन के बाद लक्ष्मी मंत्र-ऊं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्री ह्रीं श्रीं ऊं महालक्ष्म्ये नम: की 11 माला का जाप करें। साथ ही श्री यंत्र की स्थापना कर उसका पूजन करें तो वह सिद्ध हो जाएगा।

इसी प्रकार लक्ष्मी के बीज मंत्र ऊं श्रीं ह्रीं महालक्ष्म्ये नम: की 21 माला कमलगंट्टे अथवा स्फटिक की माला पर जाप करें और दशांश हवन करें तो यंत्र ऊर्जा से भर जाता है। हवन में कमल गंट्टा अथवा कमल पुष्प की आहूति दी जानी चाहिए।

उनका कहना है कि दीपावली की रात में लक्ष्मी यंत्र, श्री यंत्र, बीसा यंत्र, पंद्रह का यंत्र, हनुमान यंत्र आदि भी ऊर्जित किए जाएंगे। नजर, रक्षा, मुकदमा विजय एवं वशीकरण यंत्र भी इस रात बनाए जाएंगे।