खुदकुशी के एक पुराने केस में मुंबई पुलिस ने Republic TV के एडिटर अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार किया

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को 53 साल के एक इंटीरियर डिजाइनर और उनकी मां की आत्महत्या के मामले में मुंबई पुलिस ने बुधवार सुबह उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। रिपब्लिक न्यूज चैनल का दावा है कि अर्नब को उस मामले में गिरफ्तार किया गया है, जो पहले ही बंद किया जा चुका है।  पुलिस महानिरीक्षक (कोंकण रेंज) संजय मोहिते ने पुष्टि की कि अर्नब गोस्वामी को रायगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार किया है। हालांकि, उन्होंने अधिक विवरणों देने से इनकार कर दिया। अर्नब को अलीबाग पुलिस स्टेशन ला गया है और कुछ देर में स्थानीय अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा

मुंबई पुलिस ने आधिकारिक तौर पर नहीं बताया है कि अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी किस मामले में हुई है। बताया जा रहा है कि डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां  कुमुद नाइक की कथित आत्महत्या के मामले में उकसाने के आरोप में आईपीसी की धारा 306 के तहत अर्नब को गिरफ्तार किया गया है। मई 2018 में आत्महत्या से पहले लिखे एक खत में अन्वय नाइक ने आरोप लगाया था कि अर्नब गोस्वामी ने रिपब्लिक नेटवर्क के स्टूडियो का इंटीरियर डिजाइन कराने के बाद भुगतान नहीं किया था।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, अर्नब गोस्वामी ने आरोप लगाया है कि मुंबई पुलिस ने सुबह घर में घुसकर उनके साथ हाथापाई की है। रिपब्लिक टीवी चैनल ने वीडियो क्लिप शेयर किए हैं, जिनमें पुलिस गोस्वामी के घर के अंदर घुसती दिख रही है और झड़प भी हो रही है। फिलहाल, इस खबर के साथ ही हैशटैग #ArnabGoswami ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा है।
एएऩआई के मुताबिक, अर्णब गोस्वामी ने आरोप लगाया है कि मुंबई पुलिस ने उनके ससुर, सास, बेटे और पत्नी के साथ मारपीट की है। रिपब्लिक टीवी पर जो वीडियो चल रहे हैं, उसमें दावा किया जा रहा है कि पुलिस अर्णब से बदसलूकी करती दिख रही है। 

जावड़ेकर ने की गिरफ्तारी की निंदा
केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी की निंदा की है और महाराष्ट्र सरकार पर हमला बोला है। प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया, ‘हम महाराष्ट्र में प्रेस की आजादी पर हमले की निंदा करते हैं। यह प्रेस के साथ बर्ताव का तरीका नहीं है। यह हमें आपातकाल के उन दिनों की याद दिलाता है जब प्रेस के साथ इस तरह से व्यवहार किया गया था।’

वहीं, उन्होंने हिन्दी में ट्वीट कर लिखा, ‘मुंबई में प्रेस-पत्रकारिता पर जो हमला हुआ है वह निंदनीय है। यह इमरजेंसी की तरह ही महाराष्ट्र सरकार की कार्यवाही है। हम इसकी भर्त्सना करते हैं।’

जानें क्या था मामला

दरअसल, यह मामला 2018 का है, जब एक 53 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक ने मई 2018 में अलीबाग में आत्महत्या कर ली थी। इस घटना के बाद एक सुसाइड नोट मिला था, जो कथित तौर पर अन्वय द्वारा लिखा गया था। इस सुसाइड नोट में उन्होंने कहा था कि अर्नब गोस्वामी और दो अन्य ने उन्हें 5.40 करोड़ रुपये का भुगतान नहीं किया, जिसकी वजह से उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा। 

53 वर्षीय इंटीरियर डिज़ाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक मई 2018 में अलीबाग तालुका के कावीर गांव में अपने फार्महाउस पर मृत पाए गए थे। अन्वय फर्स्ट फ्लोर पर मृत पाए गए, जबकि उनकी मां का शव ग्राउंड फ्लोर पर मिला था। इसके बाद 48 वर्षीय अन्वय की पत्नी अक्षता नाइक ने मामला दर्ज कराया था। उस घटना के बाद जो सुसाइड नोट मिला, उसमें मृतक ने आरोप लगाया था कि उसे और उसकी मां को अपनी जिंदगी समाप्त करने के लिए मजबूर होना पड़ा, क्योंकि उन्हें अर्नब गोस्वामी और दो अन्य फिरोज शेख और नितेश सरदा के द्वारा 5.40 करोड़ रुपये की बकाया राशि का भुगतान नहीं किया

मई 2020 में अन्वय नाइक की बेटी अदन्या ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख से से दोबारा जांच करने की गुहार लगाई। अदन्या ने आरोप लगाया कि अलीबाग पुलिस ने मामले की ठीक से जांच नहीं की थी। इसके बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने नए सिरे से जांच की घोषणा की। इससे पहले स्थानीय पुलिस ने यह कहते हुए मामला बंद कर दिया था कि मामले में दर्ज लोगों के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं थे।

धर्मेंद्र प्रधान और स्मृति ईरानी ने की निंदा

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि प्रजातंत्र में इससे खराब दिन कुछ नहीं हो सकता। वरिष्ठ पत्रकार से ऐसा अमानवीय व्यवहार करने की कड़ी से कड़ी भाषा में निंदा करना भी कम है। ये राजनीतिक उद्देश्य से किया गया है, हम इसकी निंदा करते हैं।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री ईरानी ने ट्वीट कर कहा, ‘स्वतंत्र प्रेस के लोग अगर आज अर्नब के समर्थन में खड़े नहीं होते हैं, तो आप रणनीतिक रूप से फासीवाद के समर्थन में हैं। आप भले ही उन्हें पसंद नहीं करते हों, आप उनको चाहे मान्यता नहीं देते हों, भले ही आप उनकी उपस्थिति को नजर अंदाज करते हों लेकिन अगर आप चुप रहे तो आप दमन का समर्थन करते हैं। अगर अगले शिकार आप होंगे, तो फिर कौन बोलेगा?’

फाइनल रिजल्ट से पहले ट्रम्प का बड़ा बयान, शानदार नतीजे आने वाले हैं

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतों की गिनती का काम अंतिम चरण में है। फाइनल नतीजे का पूरी दुनिया को इंतजार है। यह अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की टी20 क्रिकेट मैच से कम नहीं हैं। पहले रिपब्लिक पार्टी के डोनाल्ड ट्रम्प आगे थे, फिर डेमोक्रेट्स जो बिडेन ने बढ़त बना ली, लेकिन आखिरी समय में ट्रम्प फिर आगे हो गए हैं। वैसे बिडेन का शुरू से दावा रहा है कि इस बार रिकॉर्ड संख्या में लोगों ने मतदान किया है इसलिए फाइनल रिजल्ट आने में समय लगेगा। सभी धैर्य बनाए रखें। इससे पहले 3 नवंबर को अमेरिका के सभी 50 राज्‍यों में एक साथ वोटिंग हुई। करीब 24 करोड़ लोगोंं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतदान वाले दिन की पूर्व संध्या पर 9.2 करोड़ लोगों ने पहले ही मतदान किया था। इस तरह रिकॉर्डतोड़ मतदान के बाद डोनाल्ड ट्रम्प ने जीत का दावा किया है। 

डोनाल्ड ट्रम्प ने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा है कि हम जीत रहे हैं। शानदार नतीजे आने वाले हैं।

आखिरी दौर में दोनों नेताओं के बीच कड़ी टक्कर हो रही है। कभी ट्रम्प आगे होते हैं तो कभी बिडेन। समाचार लिखे जाने तक ट्रम्प को 213 इलेक्टोरल वोट मिले हैं तो बिडेन 225 वोट के साथ बढ़त बनाए गए हुए हैं। कहा जा रहा है कि डोनाल्ड ट्रम्प थोड़ी देर में बयान जारी करेंगे।

ट्रम्प का ट्वीट, ‘प्रतिद्वंद्वी चुनाव की चोरी कर रहे हैं। हम आगे हैं लेकिन वे चुनाव परिणाम हमसे चुराना चाहते हैं। हम उन्हें ऐसा नहीं करने देंगे, चुनाव खत्म होने के बाद वोट नहीं डाले जा सकते।’

बिडेन का बयान, ‘हम विस्कॉन्सिन और मिशिगन के परिणाम को लेकर खुश हैं। चुनाव तब तक समाप्त नहीं होगा जब तक कि हर एक बैलट गिन नहीं लिया जाता। हमें लग रहा है कि हम जीतने जा रहे हैं, आपका धैर्य सराहनीय है, हम अच्छा महसूस कर रहे हैं। नतीजे आने में समय लगेगा, वोट गिने जाने में समय लगेगा क्योंकि हर वोट गिना जाएगा, डाक से भेजे गए वोट भी। मैं या ट्रम्प घोषित नहीं कर सकते कि कौन जीता, यह अमेरिकी जनता तय करेगी।’

जो बिडेन ने अपनी जीत का दावा किया है। उन्होंने कहा कि परिणाम उम्मीद के मुताबिक ही हैं। वहीं ट्रम्प ने कहा कि समय खत्म होने के बाद वोटिंग नहीं हो सकती है। हम चुनाव में धांंधली नहीं होने देंगे। जीत के लिए 270 इलेक्टोरल वोट की जरूरत है। ताजा खबर लिखे जाने तक जो बिडेन के पास 205 वोट हैं, जबकि ट्रम्प के खाते में महज 165 वोट जाते दिख रहे हैं।

जो बिडेन लगातार आगे चल रहे हैं। इस समय तक बिडेन के 223 और ट्रम्प को 174 इलेक्टोरल वोट मिले हैं। दोनों नेता थोड़ी देर में बयान जारी करेंगे।

US Election 2020 Result LIVE Updates: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में टी20 जैसा रोमांच देखने को मिल रहा है। सरकार बनाने के लिए 270 इलेक्टोरल वोट की जरूरत होती है। अब तक Joe Biden 118 तो Donald Trump 105 पर आगे चल रहे हैं।

US Election 2020 Result LIVE Updates: इलेक्टोरल वोट्स में डोनाल्ड ट्रम्प पीछे हैं। जीत के लिए 271 सीटों की जरूरत होती है और अब तक जो बिडेन 119 पर आगे चल रहे हैं, वहीं डोनाल्ड ट्रम्प 92 पर आगे चल रहे हैं। ट्रम्प भले ही पीछे हो, लेकिन उनकी उम्मीद कायम है। इसका कारण हैं स्विंग स्टेट। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए स्विंग स्टेट जीतना जरूरी है। यही राज्य निर्णायक साबित होते हैं। स्विंग स्टेट उन राज्यों को कहा जाता है जिनके मतदाता का रूझान बदलता रहता है। ऐसा ही एक राज्य फ्लोरिडा है, जहां जीते बगैर बीते 100 सालों में कोई राष्ट्रपति नहीं बना है। फ्लोरिया में ट्रम्प आगे चल रहे हैं।

चीन के चैनल पर पैगंबर मोहम्मद के विवादित तस्वीर दिखाने पर पाकिस्तान ने साधी चुप्पी

फ्रांस में पैगंबर मोहम्मद के कार्टून दिखाए जाने पर एक स्कूल टीचर ही गला रेतकर हत्या और उसके बाद कार्टून टीचर का बचाव करने मुस्लिम फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों के खिलाफ दुनियाभर के मुस्लिम देशों में भारी प्रदर्शन हो रहा है। इस बीच, चीन में पैगंबर हजरत मोहम्मद की विवादित तस्वीर वहां के सरकारी चैनल पर प्रसारित की गई।

लेकिन, फ्रांस मामले पर तीखा विरोध करने वाले बीजिंग के सदाबहार दोस्त पाकिस्तान और अधिकतर मुस्लिम बहुल देशों ने चीन मामले पर चुप्पी साध रखी है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की तरफ से चीन में उईगर समुदाय के मुसलमानों के साथ हो रहे बुरे व्यवहार पर भी पाकिस्तान की तरफ से अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

हाल में चीनी सरकार की तरफ से संचालित चाइना सेंट्रल टेलीविजन (सीसीटीवी) ने पैगंबर मोहम्मद का कैरिकेचर प्रसारित किया। उईगर कार्यकर्ता अर्सलान हिदायत ने चाइनीज टीवी सीरिज की ये क्लिप ट्वीट की थी। इस क्लिप में तांग राजवंश के दरबार में एक अरब राजदूत को दिखाया गया है। इसमें अरब राजदूत पैगंबर मोहम्मद की एक पेंटिंग चीनी सम्राट को सौंपते हुए नजर आते हैं।

खास बात ये है कि चीन में टीवी पर खुलेआम इस तरह से पैगंबर मोहम्मद का कैरिकेचर दिखाए जाने से लोग हैरान है। सोशल मीडिया पर पैगंबर मोहम्मद के कैरिकेचर को इस तरह दिखाए जाने के खिलाफ यूजर ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह टीवी शो पर पैगंबर मोहम्मद की पैंटिंग्स दिखाए जाने क्या ईशनिंदा नहीं है। कुछ यूजर्स ने पूछा कि क्या अब जिनजिंयाग में उईगर मुस्लिमों के चीन में दमन के बीच इस तरह टीवी शो पर पैगंबर मोहम्मद के दिखाए जाने के बाद क्या दुनियाभर मुस्लिम देश चीनी सामानों का बहिष्कार करेंगे।

नेपाल की 150 हेक्टेयर जमीन निगल गया पड़ोसी ड्रैगन? थू-थू होने के बाद दिया यह जवाब

पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद के चलते भारत से तनावपू्र्ण माहौल पैदा करने वाले चीन ने एक अन्य पड़ोसी देश नेपाल के साथ भी अपने रिश्तों को बिगाड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। हाल ही में मीडिया रिपोर्ट्स से सनसनीखेज जानकारी सामने आई थी कि चीन ने नेपाल की सीमा पर मौजूद 150 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा कर लिया है। हालांकि, चारों ओर थू-थू होने के बाद चीन ने इस मामले पर सफाई पेश करते हुए इन मीडिया रिपोर्ट्स को सिरे से खारिज कर दिया है। चीन ने इन खबरों को ‘पूरी तरह से निराधार’ और ‘शुद्ध अफवाह’ बताया है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने ब्रिटेन के अखबार द टेलीग्राफ की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया दी है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया था नेपाल के नेताओं ने कहा है कि बीजिंग ने नेपाल-तिब्बत सीमा पर नेपाल की ओर की 150 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा जमा लिया है। इस रिपोर्ट के बारे में जब प्रवक्ता वांग से पूछा गया तो उन्होंने कहा, ”मैं यह बताना चाहता हूं कि रिपोर्ट पूरी तरह से अफवाह है।”

उन्होंने आगे कहा, ”रिपोर्ट तथ्य पर आधारित नहीं है। यह शुद्ध अफवाह है।” पिछले महीने, अक्टूबर में चीन की सरकारी मीडिया ने भी ऐसी रिपोर्ट्स को खारिज किया था, जिसमें कहा गया था कि नेपाल के हुमला जिले की जमीन को चीन ने हड़प लिया है। चीन के प्रोपेगेंडा अखबार ग्लोबल टाइम्स ने 16 अक्टूबर की रिपोर्ट में कहा था, ”नेपाल में कुछ इमारतों ने चीन पर हुमला जिले में अपनी जमीन पर अतिक्रमण करने का आरोप लगाया है, जो वास्तव में चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के बुरंग काउंटी में एक नवनिर्मित गांव है।”

उल्टा भारत को ही ठहरा दिया दोषी

ग्लोबल टाइम्स’ ने अपनी रिपोर्ट में भारत को ही दोषी ठहरा दिया था। पूरे मामले में किसी भी तरह का कोई मतलब नहीं रखने वाले भारत को लेकर चीनी अखबार ने नई दिल्ली को आरोप लगाते हुए कहा था कि भारत ने मामले को बढ़ावा दिया। साथ ही नेपाल के विपक्ष पर नई दिल्ली के इशारे पर आरोप लगाने का इल्जाम लगाया। रिपोर्ट में कहा गया, ”नेपाल का मुख्य विपक्ष जोकि पूरे मामले को बढ़ावा दे रहा है, उसका झुकाव भारत की ओर माना जाता है।”

चीन ने और क्या-क्या फैलाया था प्रोपेगेंडा?

चीन ने भारत और नेपाल के सीमा विवाद का जिक्र करते हुए प्रोपेगेंडा फैलाया था। ग्लोबल टाइम्स ने रिपोर्ट में कहा था कि वास्तव में भारत का नेपाल के साथ लंबे समय से क्षेत्रीय विवाद चल रहा है। भारत सरकार ने 2019 में नेपाल के साथ एक विवादित क्षेत्र को अपने नए मैप में शामिल किया, जिससे दोनों देशों के बीच टकराव शुरू हो गया। जवाब में, नेपाल ने एक नया मैप संसद में पारित करवाया, जिसमें  किया, जिसमें कालापानी और अन्य क्षेत्र शामिल थे।

ब्रिटेन के अखबार की क्या थी रिपोर्ट?

ब्रिटेन के अखबार द टेलीग्राफ ने चीन और नेपाल को लेकर एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। इस रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीन ने नेपाल के हुमला जिले में 150 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा कर लिया है। चीन ने अपनी पीएलए के सैनिकों को बॉर्डर पर भेजकर मई महीने से पांच मोर्चों पर यह कब्जा जमाना शुरू किया था। रिपोर्ट में आगे कहा गया, ”हुमला जिले में, पीएलए सैनिकों ने बॉर्डर पार किया और लिमी घाटी व हिलसा में मौजूद पिलर को हटा दिया। इसके बाद, पीएलए ने सैन्य ठिकाने बनाने की शुरुआत कर दी।”

राज्य सभा: NDA की स्थिति हुई मजबूत, कांग्रेस न्‍यूनतम स्‍कोर पर सिमटी

नई दिल्ली: भाजपा के सोमवार को राज्य सभा की नौ सीटें जीतने के साथ ही संसद के ऊपरी सदन में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सदस्यों की संख्या 100 के पार चली गई. दूसरी तरफ, लंबे समय तक राज्यसभा में दबदबा रखने वाली कांग्रेस के सदस्यों की संख्या घटकर 38 तक पहुंच गई. यह सदन में कांग्रेस का अब तक का न्यूनतम आंकड़ा है.

उत्तर प्रदेश में 10 और उत्तराखंड में एक सीट पर हुए चुनाव में भाजपा के खाते में नौ सीटें गईं. केंद्रीय नागर विमानन मंत्री हरदीप पुरी समेत उसके आठ उम्मीदवार उत्तर प्रदेश से निर्विरोध चुने गए. इन नौ सीटों के साथ ही ऊपरी सदन में भाजपा की संख्या 92 हो गई. उत्तर प्रदेश में उसे कुल छह सदस्यों का फायदा हुआ है क्योंकि उसके तीन लोग फिर से निर्वाचित हुए हैं.

एनडीए का संख्‍याबल 104 पहुंचा
बिहार में भाजपा की सहयोगी जद (यू) के राज्यसभा में पांच सदस्य हैं. इसके साथ ही एनडीए में शामिल आरपीआई-आठवले, असम गण परिषद, मिजो नेशनल फ्रंट, नेशनल पीपुल्स पार्टी, नगा पीपुल्स फ्रंट, पट्टाली मक्कल काची (पीएमके) और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के सदन में एक-एक सदस्य हैं. इस तरह से राज्य सभा में अब एनडीए के कुल सदस्यों की संख्या 104 हो गई है. वर्तमान समय में सदन में कुल सदस्यों की संख्या 242 है.

जरूरत पड़ने पर भाजपा के नेतृत्व वाला एनडीए गठबंधन अन्नाद्रमुक के नौ, बीजू जनता दल के नौ, तेलंगाना राष्ट्र समिति के सात और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के छह सदस्यों का समर्थन हासिल कर सकता है. ये पार्टियां अतीत में कई मौकों पर राजग के साथ खड़ी नजर आई हैं. राज्यसभा के ताजा चुनाव में कांग्रेस को दो, समाजवादी पार्टी को तीन और बसपा को एक सीट का नुकसान उठाना पड़ा है.

आज भारत पहुंचेगा 3 राफेल लड़ाकू विमान का दूसरा जत्था, होगी उड़ान, हवा में ही भरे जाएंगे इंधन

भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज तीन और राफेल लड़ाकू विमान शामिल होंगे। तीनों विमान बुधवार को फ्रांस से सीधे गुजरात के जामनगर एयरबेस पर पहुंचेंगे। इस घटनाक्रम से परिचित अधिकारियों के अनुसार, एयरफोर्स अंबाला में अपना पहला राफेल स्क्वाड्रन बनाने की तैयारी कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘तीनों विमान का रास्ते में कोई ठहराव नहीं होगा। यात्रा के दौरान उन्हें फ्रांसीसी और भारतीय टैंकरों द्वारा ईंधन दिया जाएगा। अधिकारियों ने कहा कि तीनों के जामनगर में एक दिन के ब्रेक के बाद अंबाला पहुंचने की उम्मीद है।

बता दें कि फ्रांस में भारतीय वायुसेना के लड़ाकू पायलट प्रशिक्षण के लिए पहले से ही सात राफेल लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

एक दो-स्टार अधिकारी के नेतृत्व में एक भारतीय वायु सेना की टीम पिछले महीने फ्रांस में थी, जो कि लड़ाकू विमानों के दूसरे बैच के आगमन से पहले राफेल परियोजना की प्रगति की समीक्षा करने के लिए थी। अधिकारियों ने कहा कि अधिक लड़ाकू विमानों ने पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान के साथ तनाव के बीच तेजी से उन्नत जेट विमानों को तैनात करने की भारतीय वायुसेना की क्षमता को और बल दिया।

भारतीय वायुसेना को हर दो महीने में तीन से चार राफेल जेट दिए जाने की उम्मीद है। सभी 36 विमानों के साल के अंत तक वायुसेना के जल्द लड़ाकू बेड़े में शामिल होने की संभावना है।

राफेल लड़ाकू विमान जून 1997 में रूसी सुखोई-30 के बाद 23 साल में भारतीय वायुसेना में शामिल होने वाला पहला लड़ाकू विमान है। इसने वायुसेना की आक्रामक क्षमताओं को काफी बढ़ाया है।

आज है करवा चौथ का व्रत, जानें आज के पंचांग में हर एक शुभ मुहूर्त और अशुभ समय… 

Karwa Chauth 2020 Date, Time, Aaj Ka Panchang, Vrat Vidhi, Puja Vidhi, Vrat Samagri, Katha:आज कार्तिक कृष्णपक्ष की चतुर्थी तिथि है. रात 02 बजकर 08 मिनट के उपरांत पंचमी हो जाएगी. आइये जानते हैं ज्योतिर्विद दैवज्ञ डॉ श्रीपति त्रिपाठी से आज 4 नवंबर दिन बुधवार के पंचांग के जरिए आज की तिथि का हर एक शुभ मुहूर्त व अशुभ समय…

04 नवंबर बुधवार

कार्तिक कृष्णपक्ष चतुर्थी रात -02:08 उपरांत पंचमी

श्री शुभ संवत -2077, शाके -1942, हिजरीसन -1441-42

सूर्योदय -06:30

सूर्यास्त -05:30

सूर्योदय कालीन नक्षत्र -मृगशिरा उपरांत आद्रा, शिव -योग, वव -करण

सूर्योदय कालीन ग्रह विचार -सूर्य -तुला, चन्द्रमा -वृष, मंगल -मीन, बुध -तुला, गुरु -धनु, शुक्र -कन्या, शनि -धनु, राहु -वृष, केतु -वृश्चिक

चौघड़िया

सुबह 06.01 से 7.30 बजे तक लाभ

सुबह 07.31 से 9.00 बजे तक अमृत

सुबह 09.01 से 10.30 बजे तक काल

सुबह 10.31 से 12.00 बजे तक शुभ

दोपहर 12.01 से 1.30 बजे तक रोग

दोपहर 01.31 से 03.00 बजे तक उद्वेग

दोपहर 03.01 से 04.30 बजे तक चर

शाम 04.31 से 06.00 बजे तक लाभ

राहुकाल 12 से 3 1:30 तक।

उपाय

गणेश जी को दूर्वा चढ़ाएं।आराधनाः ॐ गं गणपतये नमःखरीदारी के लिए

शुभ समयः शाम 04.31 से 06.00 बजे तक लाभ

दिशाशूल-ईशानकोण एवं उत्तर

क्रेडिट कार्ड पर लगने वाले 5 चार्ज, जिनके बारे में अक्सर बैंक या एंजेट आपको कुछ नहीं बताते.

अगर आप क्रेडिट कार्ड लेने की सोच रहे हैं, क्योंकि किसी ने आपको उसके फायदे गिना दिए हैं और कहा है कि वह मुफ्त में मिलता है, तो जरा सचेत हो जाएं। मुफ्त कुछ नहीं होता। क्रेडिट कार्ड पर भी तमाम चार्ज लगते हैं। आइए 5 अहम चार्ज के बारे में जानते हैं।

क्रेडिट कार्ड पर लगने वाले 5 चार्ज, जिनके बारे में अक्सर बैंक या एंजेट आपको कुछ नहीं बताते!

अगर आपसे कोई कहे कि क्रेडिट कार्ड आपको मुफ्त में मिलता है और उस पर कोई चार्ज नहीं लगता, तो वो गलत कह रहा है। क्रेडिट कार्ड पर तमाम छूट और रिवॉर्ड प्वाइंट्स के बारे में बताने वाले तो आपको खूब मिल जाएंगे, लेकिन ये कोई नहीं बताता कि अगर ध्यान नहीं दिया तो ढेरों फायदे वाला क्रेडिट कार्ड नुकसान की वजह बन सकता है। चीजें सस्ती दिलाने वाला क्रेडिट कार्ड आपको बहुत महंगा पड़ सकता है अगर आपको इस पर लगने वाले चार्ज के बारे में ना पता हो। कुछ चार्ज तो हर कार्ड पर लगते ही हैं, कुछ आपकी लापरवाही से लग जाते हैं। कुछ चार्ज का तो बैंक या एजेंट जिक्र भी नहीं करते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही 5 अहम चार्ज के बारे में।

1- सालाना चार्ज

ये ऐसा चार्ज है, जो अलग-अलग बैंक अलग-अलग लगाते हैं। बहुत से ऐसे भी बैंक हैं जो ये चार्ज नहीं लेते तो कुछ ऐसे हैं जो ये चार्ज तो लेते हैं, लेकिन अगर आप एक तय सीमा से अधिक के लिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो वह ये फीस वापस कर देते हैं। तो अगर आप कोई क्रेडिट कार्ड लें तो पहले देख लें कि बैंक उस पर सालाना चार्ज तो नहीं लगा रहा और अगर लगा रहा है तो उसकी पॉलिसी होनी चाहिए कि एक तय सीमा तक खर्च के बाद वह पैसे वापस करे। वहीं अगर बैंक हर हाल में सालाना चार्ज ले रहा है तो वह क्रेडिट कार्ड उसी सूरत में लें जबकि आपको उसकी बहुत अधिक जरूरत है।

2- क्रेडिट कार्ड बकाया पर ब्याज

वैसे तो ये चार्ज हर बैंक लगाता है, लेकिन उन्हीं पर लगाता है जो समय से क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं देते हैं। यानी अगर आप अपनी ड्यू डेट तक भुगतान कर देते हैं तो ठीक, वरना क्रेडिट कार्ड कंपनी की तरफ से आप पर भारी भरकम ब्याज लगाया जाता है। ध्यान रहे कि मिनिमम ड्यू का भुगतान भी आपको भारी-भरकम ब्याज से नहीं बचा सकता। इसलिए हमेशा ड्यू डेट तक अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान जरूर करें, भले ही उसके लिए आपको कहीं और से पैसे लेने पड़ें, वरना आप पर 40 फीसदी तक का ब्याज लग सकता है।

3- कैश निकालने पर लगने वाला चार्ज

क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करने से पहले ये समझ लीजिए कि क्रेडिट कार्ड से खर्च किया हर रुपया एक तरह का लोन होता है। ऐसे में अगर आप क्रेडिट कार्ड से कैश निकालते हैं तो ध्यान रहे कि उस पर कैश निकालने के दिन से ही चार्ज लगने लगेगा। यानी अगर आप कार्ड से शॉपिंग करते हैं तो आपको ड्यू डेट तक बिना किसी ब्याज के पैसे चुकाने होते हैं, लेकिन अगर कैश निकाल लेते हैं तो उस पर पैसे निकालने के दिन से ही पैसे चुकाने के दिन तक का ब्याज चुकाना होगा। ऐसे में ध्यान रहे कि जब तक सारे रास्ते बंद ना हो जाएं, तब तक क्रेडिट कार्ड से कैश ना निकालें, वरना बहुत भारी नुकसान होगा।

4- सरचार्ज का रखें ध्यान

लगभग सभी बैंकों के क्रेडिट कार्ड पर तेल भरवाने पर सरचार्ज लगता है। वैसे तो अधिकतर बैंक क्रेडिट कार्ड देते समय ही ये साफ कर देते हैं कि सरचार्ज रिफंड होगा, लेकिन अगर बैंक ऐसी जानकारी ना दे तो उससे स्पष्ट जरूर कर लें। अधिकतर बैंक एक निश्चित सीमा तक ही सरचार्ज रिफंड देते हैं। जैसे हो सकता है कि आपको कम से कम 500 और अधिक से अधिक 5000 रुपये की ट्रांजेक्शन पर सरचार्ज रिफंड मिले। साथ ही हो सकता है कि आपको एक महीने में 100 या 200 या बैंक की तरफ से कोई और तय रकम ही सरचार्ज के तौर पर रिफंड हो। ऐसे में क्रेडिट कार्ड लेने से पहले इस चार्ज के बारे में पूरी जानकारी ले लें।

5- ओवरसीज ट्रांजेक्शन चार्ज

क्रेडिट कार्ड देते हुए बहुत सारे बैंक अपने फीचर्स में ये बात शामिल करते हैं कि आप उनका क्रेडिट कार्ड विदेशों में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, ये ध्यान देने की जरूरत है कि विदेशों में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने पर आप पर भारी भरकम चार्ज भी लगते हैं, जिनके बारे में बैंक नहीं बताता। अगर आप भी विदेश यात्रा करने की सोच रहे हैं और वहां जाकर अपने क्रेडिट कार्ड से कुछ शॉपिंग करने की योजना है, तो पहले अपने बैंक से ये सुनिश्चित कर लीजिए कि वह आप पर कितना चार्ज लगाने वाला है।

कमलनाथ का नाम हटाने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- आप चुनाव आयोग हैं या पार्टी के नेता है?

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता कमलनाथ का नाम स्टार प्रचारक की लिस्ट से हटाने के फैसले पर रोक लगाते हुए चुनाव आयोग से सुप्रीम कोर्ट ने पूछा है कि आपको नाम हटाने की शक्ति किसने दी? सीजेआई एसए बोबडे ने कहा कि किसी का नाम स्टार प्रचारक की सूची से हटाना चुनाव आयोग के अधिकार क्षेत्र में नहीं है.

चुनाव आयोग ने कहा कि प्रचार खत्म हो चुका है और कमलनाथ की याचिका निष्प्रभावी हो चुकी है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा किये आपकी शक्ति नहीं है. हम इस मामले को व्यापक तरीके से देखेंगे. शीर्ष अदालत ने इस मामले में चुनाव आयोग को नोटिस जारी कर जवाब मांगा.

CJI ने चुनाव आयोग से कहा कि स्टार प्रचारक सूची से उम्मीदवार को हटाने के लिए आपको किसने शक्ति दी है? आप चुनाव आयोग हैं या पार्टी के नेता है? सुप्रीम कोर्ट ये परीक्षण करेगा कि क्या चुनाव आयोग किसी स्टार प्रचारक का नाम हटा सकता है या नहीं.