फिर बढ़ने वाली है पाकिस्तान की बेचैनी, इस दिन भारत आएगा रफाल का दूसरा बैच

नई दिल्ली: फ्रांस से नॉन-स्टॉप उड़ान भरकर रफाल फाइटर जेट का दूसरा बैच 4 नवंबर को भारत के अंबाला एयरबेस पर पहुंचने की संभावना है. 3 रफाल के साथ फ्रांसीसी एयरफोर्स के फाइटर और मिड एयर रिफ्यूलर भी होंगे. इनके आने से भारतीय वायुसेना में रफाल एयरक्राफ्ट की कुल तादाद 8 हो जाएगी. 

इससे पहले 29 जुलाई को 5 रफाल विमानों की हरियाणा के अंबाला एयरबेस पर सुरक्षित लैंडिंग हुई थी. इन्हें 10 सितम्बर को अंबाला में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान ‘गोल्डन एरोज स्क्वॉड्रन’ में शामिल किया गया था. सूत्रों के मिली जानकारी के अनुसार, ये लड़ाकू विमान फ्रांसीसी बंदरगाह शहर बोरदु के मेरिग्नैक एयरबेस से उड़ान भरेंगे और करीब 7,000 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद पहले गुजरात के जामनगर पहुंचेंगे.

इस यात्रा के लिए भारतीय वायु सेना के पायलटों को फ्रांस के सेंट दिजिएर एयरबेस में बकायदे चरणबद्ध तरीके से ट्रेनिंग दी गई है. बताते चलें कि रफाल विमान भारत द्वारा पिछले दो दशक से अधिक समय में लड़ाकू विमानों की पहली बड़ी खरीद है. इन विमानों के आने से भारतीय वायुसेना की युद्धक क्षमता में महत्वपूर्ण रूप से बढ़ोतरी होगी. भारत ने 23 सितंबर 2016 को फ्रांसीसी एरोस्पेस कंपनी दसॉल्ट एविएशन से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59,000 करोड़ रुपये का सौदा किया था. 

जमीनी और हवाई ठिकानों को एक पल में ध्वस्त कर सकता है रफाल
रफाल मीका मल्टी-मिशन एयर-टू-एयर मिसाइलों और स्कैल्प डीप-स्ट्राइक क्रूज मिसाइलों से लैस है. ये वे हथियार हैं जिससे लड़ाकू पायलट पहाड़ों में भी दुश्मनों के हवाई और जमीनी ठिकानों पर हमला कर पाएंगे. राफेल के अचूक निशाने से दुश्मन किसी भी तरह से नहीं बच सकता. 10 टन वजनी यह लड़ाकू विमान मिसाइल्स के साथ उड़ान भरता है. तब इसका वजन 25 टन तक हो जाता है. ऐसे में इतना तो तय है कि रफाल दुश्मन के छक्के छुड़ाने के लिए अपने साथ काफी मिसाइल्स कैरी कर कर सकता है. रफाल स्टील्थ टेक्नोलॉजी से लैस है और इसी खूबी के चलते यह दुश्मन को चकमा देने की ताकत रखता है और युद्ध के दौरान पूरा गेम बदल सकता है. 

बात अगर हथियारों की करें, तो रफाल में सबसे खतरनाक मिसाइल  Meteo beyond Visual Range AIR to Air Missile है. इसकी खासियत है कि यह मिसाइल हवा से हवा में मार कर सकती है. बता दें कि कुल 36 रफाल विमान भारत फ्रांस से खरीद रहा है. एयरफोर्स के एक अधिकारी ने बताया, ‘रफाल कई तरह के मिशनों को अंजाम देने में सक्षम है. जमीनी और समुद्री हमला, वायु रक्षा, टोही और परमाणु हमले को रोकने में भी सक्षम है. यह लगभग 10 टन हथियार और पांच टन ईंधन ले जा सकता है.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *