केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने इस्लाम के ठेकेदारों को दिया करारा जवाब

नई दिल्ली: कट्टरवाद के खिलाफ फ्रांस (France) की कार्रवाई के विरोध में इस्लामिक देशों में घमासान मचा हुआ है. लोग सड़कों पर फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. ऐसे में केरल के राज्यपाल (Kerala Governor) ने इस्लाम के ठेकेदारों को करारा जवाब देकर उनकी बोलती बंद की है. 

इस्लाम के ठेकेदारों पर साधा निशाना
शनिवार को सरदार पटेल की जयंती के कार्यक्रम में शरीक होने आए केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान (Arif Mohammad Khan) ने इस्लाम के ठेकेदारों पर हमला बोला. आरिफ मोहम्मद खान ने कहा, ‘वो कह रहे हैं कानून अल्लाह का है, लागू हम करेंगे. तुम कौन हो. तुम्हारे पास कोई APPOINTMENT लेटर है.’ इस्लाम के नाम पर जबरदस्ती करने और अपनी ही बात को सही ठहराने वालों को भी आरिफ मोहम्मद खान ने निशाने पर लिया. उन्होंने ऐसे लोगों को शरीयत और कुरान का फर्क समझाया.

कुरान के बारे में दी जानकारी

आरिफ मोहम्मद खान ने कहा, ‘जिसको शरीयत कहते है. वो शरीयत नहीं है. वो इंसानों का लिखा हुआ कानून है. कुरान शरीयत है और कुरान के मुताबिक कोई जोर जबरदस्ती हो ही नहीं सकती है.’ आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि अल्लाह और इंसान के बीच कोई नहीं. इस्लाम यही कहता है. लेकिन कट्टरपंथी अपने निजी फायदों के लिए लोगों को भड़काकर गलत रास्ते पर ले जा रहे हैं.

मुल्ला-मौलवियों पर किया कटाक्ष
उन्होंने मुल्ला-मौलवियों के अधूरे ज्ञान पर निशाना साधते हुए कहा, ‘बीच वाले कहां से आ गये इस्लाम के बारे में बोलने वाले. मेरी राय है कि हर किसी को यह हक है कि वो मुझसे डिफर कर सकता है. इस्लाम इसकी गुंजाइश ही नहीं छोड़ता है कि मिडिल आदमी बीच में आए.’ आरिफ मोहम्मद खान ने आरोप लगाया कि ऐसे ही कट्टरपंथियों ने देश में नागरिकता कानून और तीन तलाक खत्म करने के कानून का भी विरोध किया था. कार्यक्रम में मौजूद आरएसएस के प्रचारक इंद्रेश कुमार ने भी पाकिस्तान में मुसलमानों के बदतर हालात को बयां किया. 

आरएसएस ने कट्टरवाद पर जताई चिंता
इंद्रेश कुमार ने कहा, ‘कट्टरवाद के नाम पर दुनिया आज दो धड़ों में बंटी हुई है. ऐसे में अब वक्त आ गया है कि आम मुसलमान न सिर्फ इस्लाम को सही मायने में समझें बल्कि इस्लाम के नाम पर अपने ही लोगों को गुमराह करने वालों के खिलाफ आखिरी जंग का ऐलान भी करें.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *