मेड इन इंडिया का दम, एंटी रेडिएशन मिसाइल ‘रुद्रम’ का सुखोई फाइटर से सफल परीक्षण

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने एक बार फिर इतिहास रचा है. भारत ने शुक्रवार को एंटी रेडिएशन मिसाइल रुद्रम का सफल परीक्षण किया. इस मिसाइल को DRDO द्वारा बनाया गया है. इसका परीक्षण सुखोई-30 फाइटर एयरक्राफ्ट से किया गया है.  भारत में बनाई गई ये ऐसी पहली मिसाइल है, जो किसी भी ऊंचाई से दागी जा सकती है. ये मिसाइल किसी भी तरह के सिग्नल और रेडिएशन को पकड़ सकती है. साथ ही अपनी रडार में लाकर ये मिसाइल नष्ट कर सकती है. 

अभी ये मिसाइल डेवलेपमेंट ट्रायल में जारी है. लेकिन इन ट्रायल के पूरा होने के बाद जल्द ही इन्हें सुखोई और स्वदेशी विमान तेजस में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी इस मौके पर DRDO को बधाई दी. 

आपको बता दें कि इसी हफ्ते की शुरुआत में DRDO ने सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज़ ऑफ टॉरपीडो (SMART) का सफल परीक्षण किया था. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन यानी DRDO ने इसका ओडिशा के तटीय इलाके में इसका परीक्षण किया था.  

IIT दिल्ली के डायरेक्टर ने जेईई एडवांस्ड के छात्रों से कहा- पहले वर्ष में अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्र बदल सकेंगे ब्रांच

नई दिल्ली: जेईई एडवांस्ड 2020 (JEE Advanced 2020) के कई उम्मीदवार अपनी ब्रांच को बदलने के लिए सवाल कर रहे हैं. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली (IIT दिल्ली) के निदेशक, वी रामगोपाल राव ने उम्मीदवारों के जवाब में बताया कि हर साल 100 से अधिक छात्रों को अपने पहले वर्ष के प्रदर्शन के आधार पर अपनी ब्रांच बदलने की अनुमति दी जाती है. 

आईआईटी दिल्ली  (IIT Delhi) के डायरेक्ट ने अपने ट्विटर पर हैंडल के  माध्यम से कहा, “कई जेईई एडवांस्ड 2020 के योग्य उम्मीदवार मुझे लिख रहे हैं कि उन्हें शाखा परिवर्तन की अनुमति नहीं दी जाएगी. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली (IIT दिल्ली) में 100 से अधिक छात्रों को हर साल अपनी शाखा बदलने की अनुमति दी जाती है, जो उनके 1 वर्ष के प्रदर्शन के आधार पर तय होती है. हम वास्तव में इस प्रक्रिया को और अधिक फ्लेक्सिबल बनाने की कोशिश कर रहे हैं. ”

IIT दिल्ली की गाइडलाइन्स ब्रांच बदलने के लिए इस प्रकार हैं…
पहले वर्ष के अंत में केवल वही छात्र शाखा परिवर्तन के लिए आवेदन कर सकते हैं, जो निम्नलिखित क्राइटेरिया को पूरा करते हों…सामान्य और ओबीसी श्रेणी के छात्रों के लिए CGPA 8.00 से अधिक होना चाहिए. 

विकलांग वर्ग के छात्रों और SC / ST के छात्रों के लिए CGPA 7.00 से अधिक होना चाहिए.

पहले वर्ष के दूसरे सेमेस्टर के अंत में क्रेडिट या नॉन ग्रेडेड यूनिट्स होनी चाहिए. 

प्रत्येक कार्यक्रम द्वारा एक प्रथम वर्ष के पाठ्यक्रम की पहचान की गई है, जिसमें आवेदक का ग्रेड बी के बराबर या उससे ऊपर होना चाहिए.

आवेदन करने वाले छात्र के खिलाफ कोई अनुशासनात्मक कार्रवाई नहीं होनी चाहिए. 

मुख्‍तार अंसारी पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी, गाजीपुर में गिराया जाएगा पत्‍नी का होटल गजल

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की पत्नी अफ्सा अंसारी व उनके दोनों बेटों अब्बास और उमर अंसारी के नाम से नगर के महुआबाग में संचालित गजल होटल को गिराने का कोर्ट ने आदेश दिया है। एसडीएम सदर कोर्ट में दायर प्रार्थनापत्र पर सुनवाई के बाद गुरुवार शाम एसडीएम ने कार्रवाई के लिए फैसला दिया है। 

बीते 25 जून को सदर एसडीएम प्रभास कुमार ने गजल होटल के जमीन की पैमाइश कराई थी। इसमें तमाम अनियमितता मिली थी। होटल के नक्शे को भी एसडीएम ने निरस्त कर दिया है। वहीं होटल की जमीन की जांच में उसके खरीद व बिक्री में तमाम अनियमितता मिली थी। इसके तहत मुख्तार की पत्नी और दोनों बेटों सहित 12 के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जा चुका है। एसडीएम  ने बताया कि जमीन पर फर्जी तरीके से रजिस्ट्री कराई गई थी। इसके बाद उसका  नक्शा भी दो भागों में पास कराया गया जो पूरी तरह से गैर कानूनी है। 

मास्टर प्लान में हाउसिंग का नक्शा पास कराकर उसे कामर्शियल के उपयोग में लाया जा रहा  था। इसमें सुरक्षा मानकों को दरकिनार करके गलत तरीके से निर्माण भी कराया गया था। मुख्तार अंसारी की पत्नी के प्रार्थना पत्र पर सुनवाई के बाद  एसडीएम कोर्ट ने होटल गिराने का फैसला सुनाते हुए कहा कि एक सप्ताह में भूतल पर 80 फीसदी और प्रथम तल को पूरी तरह से स्वयं गिरा लें। अगर ऐसा नहीं किया गया तो प्रशासन होटल गजल के ध्वस्तीकरण की कार्रवाई करेगा। होटल में कार्यरत संस्थाओं को भी हटने के लिए एक सपताह का समय दिया गया है। 

चारा घोटाला: चाईबासा केस में लालू प्रसाद यादव को मिली जमानत, मगर नहीं कर पाएंगे बिहार चुनाव में प्रचार, जानें क्यों

चारा घोटाला से जुड़े चाईबासा केस में जेल की सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव को जमानत मिल गई है। चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में झारखंड हाईकोर्ट ने लालू प्रसाद यादव को जमानत दे दी। मगर अभी उनकी रिहाई नहीं हो पाएगी। जब तक चारा घोटाले से जुड़े दुमका कोषागार मामले की सुनवाई पूरी नहीं हो जाती, तब तक लालू प्रसाद यादव जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई।

दरअसल, चारा घोटाले से संबंधित चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू प्रसाद को रांची की सीबीआई कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई है। लालू ने अपनी जमानत याचिका में कहा था कि इस मामले में उन्होंने आधी सजा काट ली है। इस आधार पर उन्हें जमानत मिलनी चाहिए।

कोर्ट ने आदेश दिया कि लालू प्रसाद यादव को 50 हजार का दो निजी मुचलका भरना है और दो लाख जुर्माना भी देना है। कोर्ट ने लालू यादव की बीमारी की रिपोर्ट मांगी है और इस बीच कितने लोग उनसे मिले है उसकी रिपोर्ट भी मांगी है। रिपोर्ट पर छह नवंबर को सुनवाई होगी।

इससे पहले 11 सितंबर को सुनवाई के दौरान सीबीआई की ओर से लालू की याचिका का विरोध किया गया था। सीबीआई ने जवाब दाखिल करते हुए कहा था कि लालू को चार मामले में सजा सुनाई गई है। सभी सजा अलग-अलग चल रही हैं। जब तक सभी सजा एक साथ चलने का आदेश संबंधित अदालत नहीं दे देती है, तब तक सभी सजा अलग-अलग चलेंगी। सभी में आधी सजा काटने के बाद ही इन्हें जमानत मिल सकती है।

जुलाई महीने में लालू प्रसाद ने जमानत याचिका दाखिल की थी। इसमें उनके बिगड़ते स्वास्थ्य का भी हवाला दिया गया था। जमानत याचिका में आधार बनाया गया है कि लालू प्रसाद यादव ने चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में सीबीआइ कोर्ट द्वारा सजा की आधी अवधि पूरी कर ली है और लालू प्रसाद यादव फिलहाल आधा दर्जन से ज्यादा गंभीर असाध्य रोगों से ग्रसित हैं। इसलिए उन्हें जमानत दी जाए।

लालू के पक्ष ने क्या कहा

लालू की तरफ से पक्ष रखते हुए वरीय अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि लालू प्रसाद को अब तक सभी मामले में आधी सजा काटने पर जमानत दी गयी है। सुप्रीम कोर्ट ने भी आधी सजा काटने पर जमानत देने का प्रावधान किया है। इस कारण इसका लाभ लालू  प्रसाद को भी मिलना चाहिए। अदालत को बताया गया कि उनका स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रहता है। वह डायबिटिज, हृदय रोग, किडनीऔर कई बीमारियों से ग्रसित हैं। बढ़ती उम्र और बीमारियों को देखते हुए भी उन्हें जमानत प्रदान किया जाना चाहिए। 

किस मामले में कितनी सजा 
पहला मामला- चाईबासा कोषागार से अवैध तरीके से 37.7 करोड़ रुपये निकालने का आरोप। लालू समेत 44 अभियुक्त।
सजा- मामले में 5 साल की सजा हुई। लालू जमानत पर 

दूसरा मामला- देवघर सरकारी कोषागार से 84.53 लाख रुपये की अवैध निकासी का आरोप। लालू समेत 38 पर केस
सजा- लालू को साढ़े तीन साल की सजा और 5 लाख का जुर्माना। लालू जमानत पर 

तीसरा मामला- चाईबासा कोषागार से 33.67 करोड़ रुपये की अवैध निकासी का आरोप। लालू समेत 56 आरोपी।
सजा- लालू दोषी करार, 5 साल की सजा। लालू जमानत पर 

चौथा मामला- दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ रुपये की अवैध निकासी का मामला। लालू प्रसाद यादव दोषी करार। 
सजा- 2 अलग-अलग धाराओं में 7-7 साल की सजा, 60 लाख जुर्माना। -जमानत याचिका दाखिल नहीं

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव के लिहाज से लालू यादव की जमानत को काफी अहम माना जा रहा था। मगर दुमका मामले में सुनवाई लंबित है, जिस वजह से उन्हें रिया नहीं किया जा सकता।  फिलहाल लालू यादव का रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती हैं। लालू प्रसाद यादव के बाहर निकलने से बिहार की राजनीति का समीकरण बदल सकता है।

जेवर एयरपोर्ट से होगी सबसे सस्ती हवाई यात्रा, जानिए

.

यहां यात्रियों के टिकट में शामिल रहने वाली यूजर डिवेलमेंट फीस (यूडीएफ) को कम से कम कराने का प्रयास है। यह दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आधी से कम हो सकती है। ऐसे में यहां सबसे सस्ता हवाई टिकट होगा। एयरपोर्ट निर्माण के लिए बुधवार को ज्यूरिख इंटरनैशनल एजी के साथ कंसेशन एग्रीमेंट हो चुका है।

हाइलाइट्स:

जेवर एयरपोर्ट में यूजर डिवेलमेंट फीस (यूडीएफ) को कम से कम कराने का प्रयासयह दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आधी से भी कम हो सकती हैऐसे में जेवर एयरपोर्ट से सबसे सस्ता हवाई टिकट होगा.

जेवर एयरपोर्ट से सबसे सस्ती हवाई यात्रा का तोहफा देने की योजना है।

ग्रेटर नोएडा
जेवर में बनने वाले इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आपको देश में सस्ती हवाई सेवा कराने की योजना है। इसके लिए यहां यात्रियों के टिकट में शामिल रहने वाली यूजर डिवेलमेंट फीस (यूडीएफ) को कम से कम कराने का प्रयास है। यह दिल्ली के इंटरनैशनल एयरपोर्ट से आधी से कम हो सकती है। ऐसे में यहां सबसे सस्ता हवाई टिकट होगा। उधर, निर्माण के लिए करार पर हस्ताक्षर होने के साथ ही अब इन्फ्रास्ट्रक्चर पर जल्द काम शुरू होगा।

एयरपोर्ट निर्माण के लिए बुधवार को ज्यूरिख इंटरनैशनल एजी के साथ कंसेशन एग्रीमेंट हो चुका है। ज्यूरिख के अधिकारियों ने नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के अधिकारियों से कहा है कि वे यहां सस्ती हवाई यात्रा का तोहफा देने की योजना पर काम कर रहे हैं। इसे लिए वह यहां टर्मिनल, रनवे और ऑफिस बिल्डिंग आदि के निर्माण में ऐसी तकनीक का इस्तेमाल करेंगे, जिससे कम से कम लागत आए। निर्माण की लागत के आधार पर ही रेग्युलेटरी अथॉरिटी यूजर डिवेलपमेंट फीस तय करती है।

कैसे कम होगी कॉस्ट
दिल्ली समेत देश के दूसरे एयरपोर्ट पर इंटरनैशनल फ्लाइट के लिए ये फीस एक हजार रुपये से अधिक है। ये रकम टिकट की कीमत में शामिल होती है। ज्यूरिख के अधिकारियों की योजना है कि इसे करीब 400 रुपये के आसपास लाया जाए। नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने कहा है कि ज्यूरिख के अधिकारियों ने निर्माण की लागत में तकनीक की मदद से कमी करने की बात कही। कॉस्ट कम होने पर वे इसके आधार पर यूजर डिवेलपमेंट फीस को कम कराने की योजना पर काम कर रहे हैं। ऐसा होता है तो यहां देश में सबसे सस्ता हवाई टिकट मिल सकेगा।

क्यूआर कोड से प्रवेश और निकास
इस एयरपोर्ट में सभी आधुनिक सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी। इस एयरपोर्ट पर ऐप और मोबाइल आदि से डिजिटल भुगतान की सुविधा मिलेगी। तकनीकी का उपयोग अधिक से अधिक होगा। कोरोना जैसी बीमारियों को देखते हुए प्रयास होगा कि एयरपोर्ट पर अधिक से अधकि कॉन्टेक्टलेस सुविधाएं हों। इसके लिए टिकट बुकिंग से लेकर एयरपोर्ट में प्रवेश व निकास आदि तकनीकी पर आधारित होगा। टिकट पर क्यूआर कोड स्कैन करने पर प्रवेश और निकास द्वार खुलेंगे।

ATM पर फेल हुई ट्रांजेक्शन तो टेंशन ना लें, खुद RBI ने बताया किस तरह आपके पैसे मिलेंगे वापस!

एटीएम ट्रांजेक्शन फेल होने की दिक्कत बहुत से लोगों को झेलनी पड़ी होगी, लेकिन ये दिक्कत तब और बढ़ जाती है जब आपके पैसे कट जाते हैं। रिजर्व बैंक ने कहा है कि समय से अगर बैंक आपके पैसे रिफंड नहीं करता है तो उसे मुआवजा भी चुकाना होगा।

ATM पर फेल हुई ट्रांजेक्शन तो टेंशन ना लें, खुद RBI ने बताया किस तरह आपके पैसे मिलेंगे वापस!

एटीएम में गड़बड़ी या फिर कैश ना होने की वजह से कई बार एटीएम ट्रांजेक्शन फेल हो जाती हैं। दिक्कत तब होती है, जब खाते से पैसे कट जाते हैं, लेकिन उन्हें वापस पाने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ती है। खैर, चिंता की कोई बात नहीं है, क्योंकि बैंक एक निश्चित समय के अंदर-अदर आपके पैसे आपके खाते में डालेगा। खुद रिजर्व बैंक ने एक ट्वीट कर के इस बात की जानकारी दी है।

क्या कहा है रिजर्व बैंक ने?

भारतीय रिजर्व बैंक ने ट्वीट में कहा है कि अगर कोई एटीएम ट्रांजेक्शन फेल हो जाती है और बैंक एक निश्चित समय में आपके पैसे आपके खाते में नहीं डालता है तो उसे आपको मुआवजा देना होगा। बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक लोगों को जागरूक करने के लिए समय-समय पर ऐसी जानकारियां देता रहता है। रिजर्व बैंक ने अपनी वेबसाइट पर भी एटीएम से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए हैं।

बैंक ने देरी की तो देना होगा मुआवजा

भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा है बैंकों को फेल हुई ट्रांजेक्शन का रिफंड करना जरूरी है। हालांकि, केंद्रीय बैंक ने ये भी कहा है कि ऐसी किसी भी ट्रांजेक्शन की सूचना जल्द से जल्द अपने बैंक को दें। एटीएम ट्रांजेक्शन फेल होने की सूरत में 5 दिन के अंदर-अंदर ग्राहक के खाते में पैसे वापस डालना बैंक की जिम्मेदारी है। अगर बैंक देरी करता है तो उसे रोजाना 100 रुपये के हिसाब से मुआवजा देना होगा।

शुक्रवार के दिन ऐसी कौन सी वस्तु खरीदनी चाहिए जिससे माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं, आइए जानते हैं.

शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी को समर्पित है. मां लक्ष्मी को सुख समृद्धि, यश और वैभव का प्रतीक माना गया है. शुक्रवार के दिन ऐसी कौन सी वस्तु खरीदनी चाहिए जिससे माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं, आइए जानते हैं.

पंचांग के अनुसार 9 अक्टूबर 2020 को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की सप्तमी की तिथि है. मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए यह तिथि शुभ मानी गई है. इस दिन शुक्रवार भी है. शुक्रवार को मां लक्ष्मी की पूजा करने से घर में सुख शांति आती है. शुक्रवार के दिन कुछ ऐसी वस्तुएं है जिन्हें खरीद कर घर लाने पर मां लक्ष्मी का आर्शीवाद प्राप्त होता है. ऐसा माना जाता है कि शुक्रवार के दिन वस्त्र खरीदने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं.

मां लक्ष्मी को स्वच्छता अधिक पसंद है. जो लोग स्वच्छता को अपनाते हैं और साफ वस्त्र धारण करते हैं उन्हें माता लक्ष्मी अपना आर्शीवाद प्रदान करती हैं. माना जाता है कि फटे और गंदे वस्त्र धारण करने से राहु अशुभ होता है और जीवन में खराब परिणाम भोगने पड़ते हैं. इसलिए व्यक्ति को हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए. राहु जब अशुभ होता है तो निर्धनता और दरिद्रता आती है.

शुक्रवार को क्या खरीदें

शुक्रवार के दिन व्यक्ति को वस्त्र, वाहन, गैजेट्स, आभूषण, शक्कर, मिष्ठान, श्रंगार का सामान आदि खरीदना चाहिए. मान्यता है कि इन वस्तुओं को खरीदने से मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न होती हैं.

शुक्रवार को घी का दीपक जलाएं

शुक्रवार के दिन घर के मुख्य द्वार पर घी का दीपक जरूर जलाएं ऐसा करने से घर में सुख समृद्धि आती है. कहा जाता है कि रात्रि के समय लक्ष्मी जी भ्रमण पर निकलती हैं और जिस घर के मुख्य द्वार पर दीपक जला हुआ दिखाई देता है वे उस घर में प्रवेश करती हैं. दीपक घर की नकारात्मक ऊर्जा को भी नष्ट करता है.

शुक्रवार का दान

शुक्रवार के दिन कुछ विशेष चीजों का दान करने से भी मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं इस दिन कन्याओं को उपहार देना चाहिए. सुहागिन स्त्रियों को सुहाग की वस्तुएं भेट करने से भी माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं.

लक्ष्मी जी की पूजा करें

शुक्रवार को लक्ष्मी जी की पूजा विधि पूर्वक करनी चाहिए. पूजा के दौरान कमल और गुलाव के फूलों का प्रयोग करना चाहिए. पूजा के बाद महालक्ष्मी आरती का पाठ करना चाहिए.

घर में है मंदिर तो रखें इन 11 बातों का ध्यान, वरना नाराज हो जाते हैं भगवान

हमारे हिन्दू धर्म में सामान्य रूप से हर घर में मंदिर होता है. घर में मंदिर होने से जहां घर में सुख शांति आती है वहीं घर के लोगों के मन में भगवान के लिए प्यार और विश्वास भी बना रहता है. लेकिन कई बार ऐसा देखा जाता है कि घर के मंदिर को बनाते और उसे सजाते समय लोग कुछ ऐसी गलतियां कर जाते हैं जिनका उन्हें एहसास भी नहीं होता है. इस तरह की गलती से जहां पूजा-पाठ का उचित लाभ भी नहीं मिलता बल्कि ऐसा होने से भगवान नाराज हो जाते हैं जिससे हमारा सौभाग्य दुर्भाग्य में बदल जाता है. आइए जानें घर में मंदिर बनाते समय हमें किन-किन 11 बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है.

घर में मंदिर बनाने के लिए 11 बातें या नियम :

वास्तुशास्त्र के मुताबिक घर में मंदिर हमेशा पूर्व या उत्तर की दिशा में ही बनाना चाहिए.
घर के मंदिर में कभी एक से अधिक मूर्ति या तस्वीर नहीं रखनी चाहिए और अगर ऐसा है तो उन मूर्तियों या तस्वीरों को आमने-सामने नहीं रखना चाहिए.
मंदिर में भगवान की अगर कई मूर्तियां हैं तो मूर्तियों के बीच कम से कम एक इंच की दूरी जरूर रखना चाहिए.
घर में बने मंदिर की तरफ या भगवान की तरफ पैर करके कभी भी नहीं सोना चाहिए.
घर में बने मंदिर के आस-पास या सामने टॉयलेट नहीं होना चाहिए.
मंदिर में कभी भी पूर्वजों को न तो स्थापित करना चाहिए और न ही उनकी तस्वीर मंदिर में लगाना चाहिए.
घर के मंदिर में कभी भी भगवान के रौद्र रूप वाली तस्वीरें या मूर्तियां नहीं लगानी चाहिए. घर के मंदिर में हमेशा भगवान की सौम्य रूप वाली मूर्तियां या तस्वीरें ही लगानी चाहिए.
घर के मंदिर में रोज पूजा-अर्चना भी होनी चाहिए. घर के मंदिर को दिन में बंद भी नहीं रखना चाहिए.
मंदिर में पूजा-अर्चना करते समय भगवान को भोग भी जरूर लगाना चाहिए केवल धूप-अगरबत्ती ही जलाकर पूजा नहीं ख़त्म करनी चाहिए.
घर के मंदिर में शनि देव और भैरव भगवान जैसे देवताओं की मूर्तियां भी नहीं रखनी चाहिए.
घर के मंदिर में जिस भगवान की मूर्ति या तस्वीर की पूजा की जाती हो वह मूर्ति या तस्वीर खंडित या फटी नहीं होनी चाहिए.

आपके गुरु को नमन, इतनी अच्छी क्वालिटी का नशा कहां से लाते हैं… राहुल के बयान पर नरोत्तम मिश्रा का तंज, .


पूर्वी लद्दाख में करीब पांच महीने से जारी गतिरोध को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर राहुल गांधी ने बीते दिनों हमला बोला और कहा कि कांग्रेस नीत यूपीए सरकार के शासनकाल में चीन की हमारे देश की सीमा में घुसने की हिम्मत नहीं होती और हमारी सरकार सत्ता में होती तो चीन को वहां से भगाने में 15 मिनट भी नहीं लगते। अब राहुल गांधी के इस बयान पर मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चुटकी ली है। नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा है कि आखिर राहुल गांधी इतनी अच्छी क्वालिटी का नशा कहां से लाते हैं, मुझे समझ नहीं आता। 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राहुल गांधी के बयान पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा, ’10 दिन में कर्जा माफ और 15 मिनट में चीन साफ। मैं तो उस गुरु को नमन कर रहा हूं, जिन्होंने इनको पढ़ाया है। इतनी अच्छी क्वालिटी का नशा लाते कहां से हैं ये, यही समझ नहीं आता मुझे।’

उसी कार्यक्रम के दौरान नरोत्तम मिश्रा ने हाथरस कांड पर कहा, ‘कांग्रेस का हाथ दंगाइयों के साथ। इनको दलित की चिंता नहीं है, बल्कि दल हित की चिंता है। जब भी किसी जाति की बात आती है तो आगे आ जाते हैं। वहीं, जब हिंदुत्व की बात करें तो सांप्रदायिक-सांप्रदायिक चिल्लाने लगते हैं। वो चाहते हैं, देश जातियों में बंटे रहे। हाथरस एक संयोग नहीं, बल्कि एक प्रयोग था।’

दरअसल,  मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ अपने हमले तेज करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अगर संप्रग सत्ता में होता तो पड़ोसी देश की हमारे देश की ओर आंख उठाकर देखने की हिम्मत नहीं होती। केन्द्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए गांधी ने कहा कि कांग्रेस नीत संप्रग सरकार के शासनकाल में चीन की हमारे देश की सीमा में घुसने की हिम्मत नहीं होती, अगर संप्रग सत्ता में होता तो हमने चीन को वहां से कब का भगा दिया होता, इसमें 15 मिनट भी नहीं लगते। 

दरअसल, राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के दौरान कहा था कि अगर उनकी सरकार सत्ता में आती है तो दस दिन में किसानों का कर्ज माफ हो जाएगा। नरोत्तम मिश्रा ने उस बात का भी जिक्र किया है।