हेमा मालिनी का जया बच्चन को समर्थन, पूरी इंडस्ट्री को निशाना बनाना गलत.

अब अभिनेत्री हेमा मालिनी ने जया बच्चन के विचारों पर अपनी सहमति दिखाई है. उनकी नजरों में कुछ लोगों की वजह से पूरी इंडस्ट्री को बदनाम करना, या फिर सभी को ड्रग्स से जोड़ना गलत है.

नई दिल्ली

सुशांत सिंह राजपूत मामले में जब से ड्रग एंगल सामने आया है, इसने पूरी इंडस्ट्री में भूचाल ला दिया है. जो विवाद पहले सिर्फ एक केस तक सीमित था, अब वो पूरे बॉलीवुड में अपनी पैठ जमा चुका है. बॉलीवुड और उसका ड्रग कनेक्शन एक ऐसा मुद्दा बन गया है जिस पर सदन तक में जोरदार बहस देखने को मिली है. राज्यसभा में जया बच्चन की तरफ से रवि किशन पर निशाना साधना और कहना कि उन्होंने जिस थाली में खाया उसी में छेद किया, इस बयान ने काफी बवाल कर दिया है. कई सेलेब्स अगर जया का सपोर्ट कर रहे हैं तो कंगना जैसे सितारे उन्हें आईना दिखाने की भी कोशिश कर रहे हैं.

जया के सपोर्ट में हेमा मालिनी

अब अभिनेत्री हेमा मालिनी ने जया बच्चन के विचारों पर अपनी सहमति दिखाई है. उनकी नजरों में कुछ लोगों की वजह से पूरी इंडस्ट्री को बदनाम करना, या फिर सभी को ड्रग्स से जोड़ना गलत है. एक न्यूज पोर्टल को दिए इंटरव्यू के दौरान हेमा ने कहा है- सिर्फ बॉलीवुड की ही बात क्यों हो रही है. कई इंडस्ट्री में ऐसा होता है. हमारी इंडस्ट्री में भी हो रहा होगा. लेकिन इसका मतलब ये तो नहीं कि पूरी इंडस्ट्री खराब है. जिस तरह बॉलीवुड को निशाना बनाया जा रहा है, वो गलत है. ऐसा बिल्कुल भी नहीं है.

कंगना का जया बच्चन पर निशाना

हेमा मालिनी से पहले सोनम कपूर, अनुभव सिन्हा, फरहान अख्तर, तापसी पन्नू जैसे सेलेब्स भी जया का सपोर्ट कर चुके हैं. बॉलीवुड का एक तबका उनके बयान का दिल खोलकर स्वागत कर रहा है. उनकी नजरों में इंडस्ट्री के लिए इस अंदाज में खड़ा होना काबिले तारीफ है. लेकिन एक्ट्रेस कंगना रनौत ने इस मुद्दे पर जया बच्चन को घेरा है. अभिषेक को इस विवाद में घसीटते हुए उन्होंने ट्वीट किया है- जया जी, आप तब भी वही बात कहेंगी, अगर मेरी जगह आपकी बेटी श्वेता को टीनएज में पीटा जाता, ड्रग दिया जाता और छेड़छाड़ की जाती. क्या आप तब भी ये ही कहती अगर अभिषेक लगातार बुलिंग और उत्पीड़न की शिकायत करता और एक दिन फांसी पर लटका मिले? हमारे लिए भी करुणा से हाथ जोड़कर दिखाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *