अशर अनिस खान का नया गाना ठंडा बुखार हुआ रिलीज । टिप्स म्यूज़िक वॉल्यूम ने किया लॉन्च ।

मुबई।संगीतकार एवं निर्माता अशर अनिस खान का नया गाना ठंडा बुखार आज टिप्स वॉल्यूम द्वारा रिलीज किया गया, अशर का ये तीसरा इंडिपेंडेंट प्रोजेक्ट है, इस गाने में अशर ने संगीत के साथ अपनी आवाज़ भी दी,एवं इसे लिखा भी । ललिता मिश्रा ने इस गाने में बतौर निर्माता अपना योगदान दिया, ललिता का यह एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में पहला कदम है। मराठी फिल्म इंडस्ट्री की चर्चित अभिनेत्री निशानी बोरुले ने इस गाने से हिंदी फिल्म एवं म्यूज़िक इंडस्ट्री में कदम रखा, जहा हर कोई इनके काम की सरहना कर रहा है।

अशर का ये तीसरा म्यूज़िक एल्बम है। बतौर संगीतकार इनके गाने कई जाने माने म्यूज़िक लेबल से आ चुके है। ज़ी म्यूज़िक,टिप्स एवं वॉल्यूम जैसी बड़ी कंपनियों में अपने गानों से सबका दिल लुभाने के बाद, अशर इस वक़्त अपनी पहली हिंदी फिल्म पर बतौर संगीतकार काम कर रहे है, इसके अलावा उनके तीन और म्यूज़िक एल्बम इस साल आने वाले है ।

ठंडा बुखार एक बोहोत ही खूबसूरत गाना है, आज की नई पीढ़ी के साथ साथ हर वर्ष के लोगो को आकर्षित कर रहा है। कोरोना संक्रमण एवं भारी बारिश और घने कोहरे के बीच इस गाने को शूट करके, एक बेहतरीन कंटेंट इन सभी कलाकारों ने दिया है।

ठंडा बुखार, टिप्स के वॉल्यूम चैनल पर उपलब्ध है, साथ ही ये सारी ऑडियो साइट्स पर भी मौजूद है। अशर अनिस खान ने दीपांशु सैनी फिल्म्स, अश्विन तिवारी जी,दर्शाना सैनी जी,एवं अपने माता पिता का धन्यवाद किया है।

मंगल ग्रह का वक्री होना किसको करेंगे मालामाल और किसको बरतनी है सावधानी.

🔹
➖श्रीमती प्रीति अय्यर➖
(आध्यात्मिक प्रवक्ता-ज्योतिषी)

ज्योतिष शास्त्र यह कहता है कि जिस जताक की कुंडली में मंगल वक्री होता है, उन्हें डॉक्टर, वैज्ञानिक या किसी रहस्यमय विद्या में रुचि रखने की संभावना प्रबल हो जाती है।

ज्योतिष शास्त्र में मंगल को क्रूर और विशेष ग्रह के तौर पर मान्यता प्राप्त है।
ज्योतिष में मंगल को क्रूर ग्रह के रूप में देखा गया है। परंतु, इसके बावजूद भी मंगल कई स्थितियों में मंगल शुभ फल भी देते हैं। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक मंगल ऊर्जा का कारक होता है। ज्योतिष शास्त्र यह कहता है कि जिस जताक की कुंडली में मंगल वक्री होता है, उन्हें डॉक्टर, वैज्ञानिक या किसी रहस्यमय विद्या में रुचि रखने की संभावना प्रबल हो जाती है। वक्री की अवस्था में मंगल अशुभ प्रभाव के परिणामस्वरूप व्यक्ति को गुस्सा अधिक आता है। जिसकी वजह से व्यक्ति आमतौर पर गलत कार्य करता है। साथ ही अपनी ऊर्जा को गलत कार्यों में लगाता है। इसके अलावा जातक दाम्पत्य सुख से वंचित रह जाता है। वहीं जब कुंडली में मंगल शुभ अवस्था में रहता है तो जातक नौकरी अथवा व्यापार में अचानक उन्नति के रास्ते पर आगे बढ़ता है।
जीवन शक्ति को सभी प्राणियों के शरीर में खून के रूप में संचालित करने वाले पृथ्वी पुत्र मंगल 09 सितंबर की मध्यरात्रि बाद 03 बजकर 48 मिनट पर वक्री हो रहे हैं। अपनी वक्री अवस्था में चलते मंगल 04 अक्तूबर को सुबह 10 बजकर 04 मिनट पर रेवती नक्षत्र एवं मीन राशि में प्रवेश करेंगे और पुनः 14 नवंबर की प्रातः 06 बजकर 04 मिनट पर मार्गी होकर 24 दिसंबर को सुबह 10 बजकर सुबह 10 बजकर 16 मिनट पर मेष राशि में प्रवेश करते हुए 22 फरवरी 2021 की सुबह 04 बजकर 33 मिनट तक गोचर करेंगे उसके बाद बृषभ राशि में प्रवेश कर जायेंगे। इस प्रकार ये 02 माह 04 दिन तक वक्री रहेंगे।
: मंगल का वक्री होना सभी राशियों के लिए कैसा प्रभाव कारक रहेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण करते हैं।
💥मेष राशि- राशि स्वामी मंगल का आपकी की ही राशि में वक्री होना मिलाजुला फलदायक रहने वाला है। कहीं न कहीं पारिवारिक और मानसिक रूप से अपने आपको परेशान महसूस करेंगे। स्वभाव में भी उग्रता आ सकती है इसीलिए अपनी जिद एवं आवेश पर नियंत्रण रखते हुए कार्य करेंगे तो अच्छे सफल रहेंगे। कार्य क्षेत्र में भी झगड़े विवाद से दूर रहें और उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाए रखें।
💥वृषभ राशि- इस राशि के लिए मंगल सामान्यतः नुकसानदेय ही रहते हैं। राशि से हानि भाव में मंगल का वक्री होना अत्यधिक खर्च और आर्थिक तंगी का सामना करवाएगा। किसी संबंधी अथवा मित्र के द्वारा भी कष्ट कर समाचार भी मिल सकता है कोर्ट कचहरी के मामले भी बाहर ही सुलझा लें तो बेहतर रहेगा। यात्रा देशाटन का संयोग बनेगा। स्वभाव में लचीलापन तथा योजनाओं को गोपनीय रखते हुए कार्य करेंगे तो सफल रहेंगे।
💥 मिथुन राशि- मंगल का वक्री होना आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है। कार्यक्षेत्र का विस्तार तो होगा ही कोई बड़ा अनुबंध भी हासिल कर सकते हैं। शासन सत्ता का पूर्ण सुख मिलेगा। सरकारी विभागों में सर्विस हेतु आवेदन करना चाह रहे हों तो यह अवसर अनुकूल रहेगा। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों एवं भाइयों से मतभेद गहरा सकता है इसे ग्रह योग समझकर बढ़ने ना दें। संतान संबंधी चिंता से मुक्ति मिलेगी।
💥 कर्क राशि- राशि से कर्म भाव में वक्री मंगल मिले-जुले फल कारक रहेंगे। इनकी अत्यधिक ऊर्जा शक्ति आपके स्वभाव में उग्रता ला सकती है जिसके फलस्वरूप अधिकारियों तथा ईस्ट मित्रों से झगड़े विवाद बढ़ सकते हैं अतः क्रोध पर नियंत्रण रखें। नौकरी में स्थान परिवर्तन तथा नई सर्विस के भी योग बन रहे हैं। जमीन जायदाद से जुड़े हुए मामलों का निपटारा होगा। वाहन का क्रय भी कर सकते हैं।
💥 सिंह राशि- मूल त्रिकोण में वक्री मंगल शिक्षा के क्षेत्र में अच्छी सफलता दिलाएंगे। अपने अदम्य साहस एवं पराक्रम के बल पर विषम परिस्थितियों पर भी नियंत्रण पा लेंगे। आपके द्वारा लिए गए निर्णय की सराहना भी होगी। धर्म-कर्म के मामलों में रुचि बढ़ेगी। विद्यार्थियों एवं प्रतियोगियों को परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए कठिन प्रयास करने होंगे। विदेशी नागरिकता के लिए आवेदन करना बेहतर रहेगा।
💥 कन्या राशि- राशि से अष्टम भाव में वक्री मंगल आपके लिए मिलाजुले फल कारक रहेंगे। इस स्थान पर ये बहुत शुभ नहीं कहे जा सकते। स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। कार्य क्षेत्र में भी षड्यंत्र का शिकार होने से बचें। बेहतर रहेगा कि व्यर्थ विवादों से दूर रहें कार्य संपन्न करें और सीधे घर आएं। बुरे लोगों की संगति से भी बचें अन्यथा आरोप-प्रत्यारोप का शिकार हो सकते हैं। अपने माता पिता के स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें।
💥 तुला राशि- राशि से सप्तम भाव में मंगल आपके दांपत्य जीवन में अड़चनें ला सकता है इसे ग्रह योग समझकर बढ़ने न दें। ससुराल पक्ष से भी रिश्ते सहेज कर रखें। शादी विवाह से संबंधित वार्ता में भी कुछ विलंब हो सकता है। व्यापारियों के लिए योग अपेक्षाकृत बेहतर रहेगा। शासन सत्ता का पूर्ण सहयोग हासिल होगा। सरकारी सर्विस हेतु आवेदन करना भी बेहतर रहेगा। कोर्ट कचहरी के मामलों में भी निर्णय आपके पक्ष में आने के संकेत।
💥 वृश्चिक राशि- राशि स्वामी मंगल का छठे भाव में वक्री होना आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है। कोर्ट कचहरी के मामले आपके पक्ष में आने के संकेत। स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें और इस अवधि के मध्य किसी को भी अधिक धन उधार के रूप में न दें अन्यथा धन के समय पर मिलने में संदेह। रोजगार की दिशा में किए गए प्रयास सार्थक रहेंगे। राजनीतिज्ञों तथा उच्चाधिकारियों से संबंध बढ़ेंगे और लाभ भी होगा।
💥 धनु राशि- राशि से पंचम भाव में मंगल का वक्री होना आपके प्रेम संबंधों के लिए बहुत शुभ नहीं कहा जाएगा। विवाह में भी कुछ अड़चनें आ सकती हैं। रोजगार तथा कार्य व्यापार में निरंतर उन्नति होती रहेगी। अपने कुशल नेतृत्व के बल पर आप शत्रुओं को भी परास्त कर लेंगे किंतु, संतान संबंधी चिंता तंग कर सकती है। शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता प्राप्ति के भी योग। बड़े भाइयों से मतभेद बढ़ने न दें।
💥 मकर राशि- राशि से चतुर्थ भाव में मंगल का वक्री होना आपके लिए पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति का सूचक है। साहस एवं धैर्य की कठोर परीक्षा होने वाली है। जमीन जायदाद से जुड़े मामलों का निपटारा होगा। केंद्र अथवा राज्य सरकार विभागों से किसी भी तरह का कार्य संपन्न करवाना हो तो अवसर अच्छा है। सामाजिक कार्यों में भी हिस्सा लेंगे, पद प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी किन्तु तनाव और विवाद पीछा नहीं छोड़ेगा।
💥 कुंभ राशि- राशि से पराक्रम भाव में मंगल का गोचर आपके लिए अति शुभ रहेगा। अपने अदम्य साहस और पराक्रम के बल पर विषम हालात को भी सामान्य कर लेंगे। शत्रु परास्त होंगे। कोर्ट कचहरी के मामलों में भी निर्णय आपके पक्ष में आने के संकेत किंतु इस अवधि के मध्य किसी को भी अधिक धन उधार के रूप में न दें अन्यथा समय पर वापस मिलने में संदेह रहेगा। विदेशी नागरिकता के लिए आवेदन करने की दृष्टि से गोचर अनुकूल।
💥 मीन राशि- आपके लिए मंगल का वक्री होना शुभ तो रहेगा किंतु आपके स्वभाव में उग्रता लाएगा। अपनी कठोर वाणी से आसपास के लोगों को शत्रु बना सकते हैं इस पर नियंत्रण रखें। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। महंगी वस्तु का क्रय करेंगे। मकान-वाहन खरीदने का संकल्प भी पूर्ण हो सकता है। विद्यार्थियों अथवा प्रतियोगिता में बैठने वाले छात्रों के लिए गोचर और अनुकूल रहेगा। यात्रा सावधानीपूर्वक करें, वाहन दुर्घटना से बचें।।
▪ श्रीमति प्रीति अय्यर.
(आध्यात्मिक प्रवक्ता-ज्योतिष) ☎️9691568781

NEET 2020: नीट परीक्षा टालने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, 13 सितंबर को होगी देशभर में परीक्षा

उच्चतम न्यायालय ने 13 सितंबर को होने वाली ‘नीट‘ परीक्षा को स्थगित या रद्द करने का अनुरोध करने वाली याचिकाओं पर बुधवार को  सुनवाई से इनकार कर दिया। 

न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि प्राधिकारी चिकित्सा पाठ्यक्रमों में दाखिलों के लिए कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच नीट परीक्षा कराने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएंगे। पीठ ने कहा, ‘माफ कीजिए, हम सुनवाई नहीं करना चाहते।’
न्यायालय ने नीट और जेईई की परीक्षा की अनुमति देने संबंधी 17 अगस्त के उसके आदेश पर पुनर्विचार के लिए गैर-भाजपा शासित छह राज्यों के मंत्रियों की याचिका सहित सभी याचिकाएं चार सितंबर को खारिज कर दीं थीं, जिसके साथ ही नीट और जेईई परीक्षाओं का रास्ता साफ हो गया था।

बता दें कि देशभर में इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन सफलतापूर्वक पूरा कराने के बाद अब नीट परीक्षा की तैयारी शुरू हो चुकी है। परीक्षा आयोजित कराने के लिए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने पूरी तैयारी कर ली है। पूरे देश में 13 सितंबर को नीट परीक्षा का आयोजन होगा, जिसके लिए 15 लाख से ज्यादा विद्यार्थियों ने पंजीकरण करवाया है।

एनटीए के अधिकारी ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण दो-दो बार निरस्त होने के बाद सितंबर में ये महत्वपूर्ण परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि नीट के लिए 15.97 लाख छात्रों ने पंजीकरण करवाया है। जेईई के विपरीत मेडिकल प्रवेश परीक्षा पेन और पेपर युक्त होगी। सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए एनटीए ने परीक्षा केंद्रों की संख्या 2,546 से बढ़ाकर 3,843 कर दी है।

वहीं प्रत्येक कक्षा में छात्रों की संख्या 24 से घटा कर 12 कर दी गई है। परीक्षा केंद्र से लेकर प्रवेश और निकासी तक सामाजिक दूरी का ध्यान रखने को लेकर पर्याप्त व्यवस्था की गई है। छात्रों के लिए मास्क, सैनिटाइजर के अलावा सुरक्षा प्रोटोकॉल का ध्यान रखने के लिए एडवाइजरी भी जारी की गई है।

पीएम मोदी ने अर्चना से पूछा, ग्वालियर आने पर मुझे टिक्की खाने को मिल जाएगी

ग्वालियर
मोदी जी ने आज एमपी के 3 शहरों के स्ट्रीट वेंडर से बात की है। उन्होंने सबसे पहले शुरुआत इंदौर में झाड़ू बेचने वाले छगन लाल से की है। छगनलाल के बाद पीएम मोदी ने ग्वालियर की   अर्चना बात की है। अर्चना शर्मा ग्वालियर में सड़क किनारे टिक्की बेचती हैं। अर्चना के पति अभी बीमार हैं, ऐसे में वह बच्चों के साथ-साथ कारोबार भी संभालती हैं।

लॉकडाउन की वजह से कारोबार पूरी तरह से ठप हो गया था। अनलॉक होने के बाद कारोबार को खड़ा करना मुश्किल था। अर्चना शर्मा ने पीएम स्वनिधि योजना के तहत बैंक से 10 हजार रुपये का लोन लिया। उसके बाद अपने कारोबार को फिर से खड़ा किया है। पीएम मोदी अर्चना शर्मा से बात कर बहुत खुश नजर आए हैं। अर्चना शर्मा के साथ पीएम से लाइव चर्चा के लिए उनके 2 बच्चे भी मौजूद थे।

पीएम ने मोदी ने स्ट्रीट वेंडर अर्चना शर्मा से बातचीत की शुरुआत बच्चों की पढ़ाई-लिखाई से की है। अर्चना ने बताया कि पति बीमार हैं। अब मैंने सारा कारोबार संभाल लिया है। पीएम ने कहा कि आप घर के साथ टिक्की सेंटर भी संभालती हो, जवाब में अर्चना ने कहा कि जी। इसके बाद पीएम मोदी ने पूछा कि टिक्की सेंटर पर ज्यादा भीड़ कब होती है। अर्चना ने कहा कि टिक्की खाने के लिए ज्यादातर लोग 2 बजे के बाद आते हैं।

हमें टिक्की खाने को मिल जाएगी

स्ट्रीट वेंडर अर्चना शर्मा से बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कभी हम ग्वालियर आएं, तो हमें टिक्की खाने को मिल जाएगी। अर्चना ने कहा कि जी बिल्कुल मिलेगी। पीएम मोदी ने अर्चना से फिर उसकी टिक्की की खासियत के बारे में भी जाना है। अर्चना ने कहा कि ये तो खाने वाले लोगों को ही पता होगा कि वह क्यों हमारे यहां खाने आते हैं। पीएम ने कहा कि साफ-सफाई की वजह से भी दुकान पर ज्यादा लोग आते हैं।

आयुष्मान योजन से हो रहा है इलाज

पीएम ने अर्चना शर्मा के पति के इलाज के बारे में भी जानकारी ली है। उन्होंने पूछा कि आयुष्मान योजना का लाभ आपको मिल रहा है। साथ ही कहा कि कोई परेशानी तो नहीं है। अगर किसी योजना को लेकर परेशानी हो, तो आप मुझे सीधे भी चिट्ठी लिख सकती हैं।

लोन लेकर किया चालू

अर्चना ने पीएम मोदी को बताया कि पास के ठेलों वाले से मुझे पीएम स्वनिधि योजना के बारे में जानकारी मिली। उसके बाद मैंने बैंक से लोन लिया और फिर से कारोबार को चालू किया है। पीएम ने कहा कि आप पूरे समाज के लिए प्रेरणा हैं। आपके दोनों बच्चे और पढ़ लिख कर आगे बढ़े।

पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा हुए कोविड-19 से संक्रमित

ग्वालियर।पूर्व मंत्री एवं पूर्व सांसद अनूप मिश्रा कोरोना संक्रमित, फेफड़ों में संक्रमण बढ़ने पर इलाज के लिए दिल्ली के निजी अस्पताल में भर्ती। उन्होंने कहा है कि पिछले एक डेढ़ सप्ताह में जो भी उनके संपर्क में आया हो, वह अपनी कोरोना की जांच करा ले।

पहले उन्होंने RT-PCR टेस्ट करवाया था जोकि नाक और मुंह से सैंपल लेकर किया जाता है। उसमें उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। लेकिन अनूप मिश्रा की तबीयत बिगड़ती जा रही थी जिसके बाद दोबारा जांच करवाई जिसमें उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अनूप मिश्रा के फेफड़ों में संक्रमण फैल गया है।

उल्लेखनीय है कि  अब तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित कांग्रेस और भाजपा के अनेक नेता और मंत्री विधायक संक्रमित हो चुके है ।

राम मंदिर निर्माण में आई बड़ी अड़चन

लखनऊ: 

अयोध्या में राममंदिर के निर्माण में अब एक नई चुनौती सामने आ रही है। राजस्थान के भरतपुर जिला प्रशासन ने राजस्थान के बंशीधरपुर की गुलाबी घाट की खदानों से पत्थर निकालने पर प्रतिबंध लगा दिया है। जबकि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने 4.5 लाख गुलाबी पत्थर ऑर्डर करने की योजना बनाई है, जिसमें लगभग 36 करोड़ रुपये की लागत है।

सोमवार को भरतपुर जिला प्रशासन और पुलिस और वन विभागों की टीमों ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए अयोध्या जा रहे 25 ट्रकों को जब्त कर लिया है। राम मंदिर निर्माण के लिए जा रहे भरतपुर के बंशी पहाड़पुर के पत्थर को लेकर खास बात यह भी है कि इस पहाड़ में खनन करने के लिए सरकार की तरफ से फिलहाल किसी को भी स्वीकृति प्रदान नहीं की गयी है। यहां होने वाले अवैध खनन पर रोक लगाते हुए यह कार्रवाई की गई है।

राजस्थान के भरतपुर में गुलाबी पत्थर से हजारों साल तक चलने वाले राममंदिर के निर्माण की तैयारी पूरी हो गई है। एलएंडटी 60 मीटर गहरी नींव में सीमेंट-मोरंग और गिट्टी से 1200 पायलिंग करेगी और इसे राजस्थान के पत्थर से बीम को मजबूती देगी। इसी समय नींव लगभग ढाई एकड़ में एक लाख पांच हजार 147 वर्ग फुट के भू-तल पर तीन मंजिला राममंदिर बनने की है।

भारत में काफी समय से खड़ी सभी इमारतें और किले इस पत्थर से बनाए गए हैं। अक्षरधाम, संसद भवन, लाल किले के अधिकांश मंदिर बंशीपुर के पत्थरों से बने हैं। एवरेस्ट के पटेल स्टोन उद्योग के मालिक देवेंद्र पटेल ने कहा कि सबसे अच्छी गुणवत्ता वाले गुलाबी रेत के पत्थर की कीमत वर्तमान में 800 रुपये प्रति घन मीटर है। सभी देशवासियों को अब राममंदिर के जल्द निर्माण का इंतजार है।

कांग्रेस दफ्तर के बाहर लगे पोस्टर, ‘बिकाऊ नहीं, टिकाऊ चाहिए…’, मोटू-पतलू भी आ रहे नजर

भोपाल
उपचुनाव को लेकर एमपी में कांग्रेस ने बीजेपी पर तीखा प्रहार शुरू कर दिया है। भोपाल स्थित कांग्रेस दफ्तर के बाहर पोस्टर लगाए हैं। इस पोस्टर के जरिए सिंधिया के साथ बीजेपी में गए लोगों पर वॉर किया गया है। पोस्टर में तस्वीर सिर्फ मोटू और पतलू की नजर आ रही है। वहीं, स्लोगन लिखा है कि बिकाऊ नहीं…टिकाऊ चाहिए।

कांग्रेस उपचुनाव से पहले आक्रमक हो गई है। पोस्टरों के जरिए बीजेपी पर वार कर रही है। भोपाल स्थित कांग्रेस दफ्तर के बाहर पोस्टर लगाए गए हैं, जिसमें लिखा है कि कांग्रेस के उम्मीदवार को वोट दें। बिकाऊ नहीं, टिकाऊ चाहिए और उसके आगे लिखा है कि माफ करें गद्दार। इस पोस्टर के नीचे निवेदक के रूप में राजेश कुमार अहिरवार का नाम लिखा हुआ है। सोशल मीडिया पर यह पोस्टर खूब वायरल हो रहा है।

वहीं, पोस्टर पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि यह उन 25 लोगों के लिए जिन्होंने पैसे के लिए जनता के मैनडेट को बेच दिया है। वे लोग चुनाव कांग्रेस की टिकट पर जीते थे, लेकिन वोट का सौदा कर लिया है।

गौरतलब है कि कांग्रेस ने इस पोस्टर के जरिए बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा है। सिंधिया के साथ 22 कांग्रेस विधायक पार्टी छोड़ कर बीजेपी में चले गए थे। उसके 3 लोग और छोड़े थे। 25 कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे से प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर गई थी।

सुब्रह्मण्यम स्वामी ने दिया भाजपा को अल्टीमेटम- गुरुवार तक अमित मालवीय को आईटी सेल प्रमुख के पद से हटाए

स्वामी ने कहा कि मालवीय को हटाना एक ‘समझौते का प्रस्ताव’ है जो उन्होंने पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने रखा है. अगर उन्हें नहीं हटाया जाता है तो ये साफ होगा कि पार्टी मेरा ‘बचाव’ करने की इच्छुक नहीं है.

नई दिल्ली भाजपा से राज्य सभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अपनी पार्टी को अल्टीमेटम दिया है कि वो गुरुवार तक आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय को उनके पद से हटाएं. एक दिन पहले ही उन्होंने मालवीय पर फेक ट्वीट्स के जरिए उनके खिलाफ कैंपेन चलाने का आरोप लगाया था.

स्वामी ने कहा मालवीय को हटाना एक ‘समझौते का प्रस्ताव’ है जो उन्होंने पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने रखा है. अगर उन्हें नहीं हटाया जाता है तो ये साफ होगा कि पार्टी मेरा ‘बचाव’ करने की इच्छुक नहीं है.

उन्होंने यह भी कहा कि कोई पार्टी फोरम नहीं है जहां वह कैडर की राय ले सकें और ‘इसलिए मुझे अपना बचाव करना होगा.’

स्वामी ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘कल तक अगर मालवीय को बीजेपी आईटी सेल (जो कि नड्डा के लिए मेरे पांच गांवों का समझौता प्रस्ताव है) से नहीं हटाया जाता है तो इसका मतलब है कि पार्टी मेरा बचाव नहीं करना चाहती है. चूंकि पार्टी में कोई मंच नहीं है, जहां मैं कैडर की राय मांग सकता हूं इसलिए मुझे अपना बचाव करना होगा.’

कंगना रनोट मुंबई पहुंचने से पहले उनके दफ्तर में BMC की तोड़फोड़

नई दिल्ली अभिनेत्री कंगना रनोट आज यानी बुधवार को मुंबई पहुंचना है। इसके लिए वो मंडी में अपने पैतृक घर से रवाना हुई। कंगना सड़क मार्ग से चंडीगढ़ पहुंच गई है। वो चंडीगढ़ से मुंबई के लिए फ्लाइट लेंगी। बता दें कि हिमाचल के मंडी में कंगना का पैतृक घर है। कंगना के साथ बहन रंगोली चंदेल, निजी सहायक और सुरक्षाकर्मी उनके साथ हैं। वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद सीआरपीएफ दस्ते ने मंगलवार देर रात मनाली पहुंचकर उनकी सुरक्षा का जिम्मा संभाल लिया है। वहीं बीएमसी ने बांद्रा वेस्ट के पाली हिल रोड पर स्थित कंगना रनोट के दफ्तर के अवैध निर्माण को ध्वस्त करने की तैयारी कर ली है। बीएमसी अफसरों का कहना है कि कंगना के दफ्तर के अंदर कई अवैध निर्माण किए गए हैं और इसलिए कार्रवाई की जाएगी। उनका कहना है कि वे औपचारिकताएं पूरी कर रहे हैं और कागज तैयार किए जा रहे हैं, एक बार कागज तैयार हो गया, फिर बीएमसी की टीम अवैध निर्माण को ध्वस्त करने जाएगी।

गौरतलब है कि बीते दिनों ही बीएमसी टीम ने कंगना रनोट के दफ्तर का मुआयना किया था और पाया था कि ग्राउंड फ्लोर और फर्स्ट फ्लोर पर कई अवैध निर्माण किया गया है। यह दफ्तर कंगना रनोट के स्वामित्व वाली मणिकर्णिका प्रोडक्शंस का है। इसका मतलब है कि कंगना रनौत के मुंबई पहुंचने से पहले उनके दफ्तर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

स्त्री सम्मान और अस्मिता के लिए अपना खून भी दे सकती हूं: कंगना

बीएमसी की कार्रवाई का अंदेशा कंगना रनोट को पहले से है। इस वजह से कंगना ने आज सुबह ही ट्वीट करके कहा कि मेरे आने से पहले ही महाराष्ट्र सरकार और उनके गुंडे मेरे ऑफिस के बाहर पहुंच गए हैं और उसे गिराने की तैयारी कर रहे हैं। मैं वादा करती हूं कि महाराष्ट्र के सम्मान के लिए खून देने के लिए तैयार हूं। ये कुछ नहीं है, चाहे तो सबकुछ छीन सकते हो लेकिन मेरी भावनाएं लगातर ऊंची होती जाएंगी। एक अन्य ट्वीट में उन्होंनेकहाकि मणिकर्णिका फ़िल्म्ज़ में पहली फ़िल्म अयोध्या की घोषणा हुई, यह मेरे लिए एक इमारत नहीं राम मंदिर ही है, आज वहां बाबर आया है, आज इतिहास फिर खुद को दोहराएगा राम मंदिर फिर टूटेगा मगर याद रख बाबर यह मंदिर फिर बनेगा यह मंदिर फिर बनेगा। जय श्री राम , जय श्री राम , जय श्री राम।