सिंधिया ने कोरोना प्रोटोकॉल के साथ की बाबा मंसूर शाह की इबादत

सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आज गुरुवार को ग्वालियर के गोरखी स्थित परिसर में बाबा मंसूर शाह के स्थान पर पूजा अर्चना की । सिंधिया परिवार में इनका दर्जा कुलगुरु का है ।

कहते है इनके आशीर्वाद से ही सिंधिया परिवार राजा बन सका । हर साल सिंधिया परिवार के मुखिया भारतीय वेशभूसा में यहां पूजा करते है । यहां ढोली बुआ महाराज कीर्तन करते है और मौजूद लोग पूजा की सफलता के बाद सिंधिया को बधाई देते है ।
आज भी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यह पूजा की ।
खास बात ये रही कि सिंधिया हर साल की भांति परंपरागत लिवास धोती पहनकर तो गए ही साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल का भी उन्होंने पूरा ख्याल रखा ।वे पूरे समय मास्क लगाकर ही रहे है और मास्क के साथ ही उन्होंने इबादत की । उनके पहुचने से पहले मंदिर परिसर को सेनेटाइज़ भी कराया गया ।

पूर्व विधायकों के पुतले घसीट रहे छात्रों को पुलिस ने रोका, प्रदर्शनकारियों को ग्वालियर पुलिस ने हिरासत में लिया

ग्वालियर। भाजपा में शामिल होने के बाद दूसरी बार ग्वालियर पहुंचे राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के विरोध में गुरुवार को कुछ युवा 22 बागी पूर्व विधायकों के पुतले लेकर यहां पहुंचे। बुंदेलखंड के टीकमगढ़ जिले स्थित ओरछा से यह युवक लोकतंत्र बचाओ बैनर के तले यहां पहुंचे थे जैसे ही पुलिस को यह खबर लगी तो उन्हें तुरंत पकड़ लिया गया।

ज्योतिरादित्य सिंधिया इससे पहले भाजपा के महासदस्यता अभियान के लिए ग्वालियर आए थे। तब कांग्रेसियों ने आरोप लगाया था कि पार्टी से धोखा देने पर आम जानता के विरोध के डर से वे पूरी सरकार के साथ अपने ही घर आए है। गुरुवार को सिंधिया निजी कार्यक्रम में शामिल होने यहां पहुंचे हैं। उनके स्वागत के लिए मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी व हाल ही में कांग्रेस से भाजपा में आए कार्यकर्ता तो दिखे परंतु भाजपा का कोई बड़ा नेता या कार्यकर्ता नजर नहीं आया। बताया जाता है कि सिंधिया के यहां पहुंचने से पहले ही गुपचुप उनके विरोध को लेकर रणनीति तैयार की गई थी। इसी के चलते ओरछा से गाड़ी में 22 पुतले लेकर यहां कुछ लोग पहुंचे।

इनको चौराहे पर जलाए जाने की तैयारी थी इससे पहले पुलिस को खबर मिल गई और उन्हें रोक लिया। अर्धनग्न हालात में पुतले लाए इन युवाओं का कहना था कि वह लोकतंत्र बचाने के लिए प्रदर्शन करना चाहते हैं। सिंधिया की ओर इशारा करते हुए कहा कि राजा महाराजाओं को लोकतंत्र और आम जनता की भावनाओं से कोई मतलब नहीं। उधर पुलिस का कहना है कि बिना इजाजत इस तरह का प्रदर्शन करना गैरकानूनी है। इन युवकों को गिरफ्तार किया गया है। यहां कौन लाया इसको लेकर पूछताछ की जा रही है। अभी कोई बड़ा कांग्रेस नेता इन युवाओं के समर्थन में सामने नहीं आया है।

कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए 22 पूर्व विधायकों के पुतले रस्सी से बांधकर घसीट कर लगे जा रहे थे। पड़ाव पुल पर पुलिस ने गिरफ्तार किया ओर बल प्रयोग करते हुए छुड़ाए।

इंदौर, ग्वालियर सहित आस-पास के इलाकों में जमकर हुई बारिश

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक बार फिर तेज बारिश का दौर शुरू हो गया है। इंदौर और ग्वालियर सहित शहर के आस-पास के इलाकों में गुरुवार सुबह तेज बारिश हुई। इंदौर में सुबह करीब 5 बजे से तेज बारिश हुई। कुछ ही देर में सड़कें पानी से भर गईं। कुछ ही दिन पहले तेज बारिश के बाद शहर में आसमान पूरी तरह साफ हो गया था, जिसके बाद तापमान बढ़ गया था।

ग्वालिवयर में झमाझम बारिश से औसत का आंकड़ा पहुंचा 500 मिमी के ऊपर
.

चार दिन बाद ग्वालियर में फिर से बारिश का दौर शुरू हो गया। 6 घंटे में 40 मिली मीटर बारिश रिकार्ड हुई। इस बारिश से औसत का आंकड़ा 500 मिली मीटर के ऊपर पहुंच गया। झारखंड व पंजाब के ऊपर बने चक्रवातीय घेरे व मानसून ट्रफ लाइन की वजह से शहर में बारिश हुई है। मौसम विभाग ने 4 सितंबर तक बारिश के आसार जताए हैं। बारिश की वजह से उमस भरी गर्मी से राहत मिल गई। शहर में जून, जुलाई, अगस्त में कम बारिश होने की वजह से औसत से काफी पीछे हैं। सितंबर से ही आस है। पिछले साल सितंबर में अच्छी बारिश दर्ज हुई थी। इस कारण पिछले साल औसत का आंकड़ा 900 मिली मीटर के ऊपर पहुंच गया था।

मौसम विभाग नागपुर की वेबसाइट बुधवार को जारी रिपोर्ट में इंदौर संभाग सहित होशंगााबद, उज्जैन, चंबल और ग्वालियर व भोपाल संभाग में कुछ स्थानों पर वर्षा होने की संभावना जताई थी। वहीं पन्ना, उमरिया, शहडोल, सीधी, सतना और रीवा जिले में भारी बारिश की आशंका जताई गई है।

चीन ने बना ली दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना, भारत को घेरने की पूरी तैयारी!

चीन ने अपनी नौसेना को दुनिया की सबसे बड़ी नौसैनिक फौज बना ली है. उसने पिछले कुछ सालों में अपनी नौसेना की ताकत में कई गुना इजाफा किया है. साथ ही अब वह भारत को घेरने की पूरी तैयारी में है. चीन चाहता है कि वह पाकिस्तान, श्रीलंका और म्यांमार में अपने नौसैनिक अड्डे बनाए. सिर्फ इतना ही नहीं, वह इंडो-पैसिफिक रीजन में भी अपने नौसैनिक अड्डे बनाना चाहता है. भारत को इस बात ख्याल रखना चाहिए कि चीन हिंद महासागर में अपनी नौसैनिक ताकत में तेजी से इजाफा कर रहा है. 

चीन के पास अभी 350 युद्धपोत और पनडुब्बियां हैं. इनमें से 130 से ज्यादा तो सरफेस कॉम्बेटेंट्स हैं. जबकि, अमेरिका के पास सिर्फ 293 युद्धपोत ही हैं. हालांकि, अमेरिकी युद्धपोत चीन से ज्यादा आधुनिक हैं. अमेरिका के पास 11 एयरक्राफ्ट कैरियर हैं, जिनमें हर एक पर 80 से 90 फाइटर जेट तैनात हो सकते हैं. जबकि, चीन के पास दो ही एयरक्राफ्ट कैरियर हैं.

भारतीय नौसेना की बात करें तो नौसैनिक ताकत काफी कम है. भारत के पास एक एयरक्राफ्ट कैरियर, एक उभयचर ट्रांसपोर्ट डॉक, 8 लैंडिंग शिप टैंक्स, 11 डेस्ट्रॉयर, 13 फ्रिगेट्स, 23 कॉ़र्वेट्स, 10 लार्ज ऑफशोर पेट्रोल वेसल, 4 फ्लीट टैंकर्स समेत कुछ अन्य वाहन हैं. भारत के पास 15 इलेक्ट्रिक-डीजल ऑपरेटेड पनडुब्बियां और 2 परमाणु पनडुब्बियां ही हैं.

पेंटागन की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन भारत के चारों तरफ मौजूद करीब एक दर्जन से ज्यादा देशों में सैन्य अड्डे बनाने की तैयारी कर रहा है. चीन का लक्ष्य अगले कुछ सालों में अपने परमाणु हथियारों की संख्या भी दोगुनी करने की है. पेंटागन की रिपोर्ट के अनुसार चीन थाईलैंड, सिंगापुर, इंडोनेशिया, संयुक्त अरब अमीरात, केन्या, सेशल्स, तंजानिया, अंगोला और तजाकिस्तान में अपने ठिकाने बनाने के प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है.

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट मिलिट्री एंड सिक्योरिटी डेवलपमेंट्स इनवॉल्विंग द पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना-2020 को अमेरिकी कांग्रेस को सौंपा. इस रिपोर्ट में स्पष्ट तौर पर लिखा गया है कि ये संभावित चीनी ठिकाने जिबूती में चीनी सैन्य अड्डे के अलावा हैं, जिनका उद्देश्य नौसेना, वायु सेना और जमीनी बल के कार्यों को और मजबूती प्रदान करना है. 

चीन की सेना अपने सैन्य अड्डों के नेटवर्क के जरिए अमेरिकी मिलिट्री अभियानों में हस्तक्षेप कर सकता है. चीन तेजी से अमेरिका के खिलाफ पूरी दुनिया में अपनी स्थिति को मजबूत बनाने में लगा है. चीन ने नामीबिया, वनुआतू और सोलोमन द्वीप पर पहले से ही अपना कब्जा जमा रखा है. यहां पर भी वह अपनी सैन्य ताकत को बढ़ा रहा है. 

चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के पास अभी करीब 200 परमाणु हथियार हैं लेकिन आने वाले समय में जमीन, पनडुब्बियों और बमवर्षकों से दागी जाने वाली मिसाइलों के जखीरे में वह इजाफा कर रहा है. अभी उसके पास परमाणु वाहक एयर-लॉन्च बैलिस्टिक मिसाइल नहीं है जिसका विकास चीन कर रहा है. 

अगले 10 सालों में चीन अपनी परमाणु शक्ति को दोगुना कर लेगा. यानी उसके पास दोगुना परमाणु हथियार होंगे. अमेरिका ने पहली बार चीन के हथियारों की संख्या सार्वजनिक की है. साथ ही चिंता भी जताई है कि हथियारों की संख्या के साथ-साथ चिंता का विषय यह भी है कि चीन का परमाणु विकास किस दिशा में आगे बढ़ रहा है.

पेंटागन ने कहा कि चीन विकास के लिए वैश्विक परिवहन और व्यापार संबंधों का विस्तार करने और अपनी रणनीति को सफल बनाने के लिए ‘एक सीमा एक सड़क’ (ओबीओआर) का सहारा लेता है. पेंटागन ने चीनी सेना की सालाना रिपोर्ट में इस बात की आशंका जताई है कि चीन वैश्विक सुपर पावर बनने के लिए ऐसा कर रहा है.

हनी ट्रैप मामलाः आरोपी श्वेता और जेलर की मुलाकात की तस्वीरों से खलबली भोपाल से जांच को पहुंचे DIG

Honey Trap Case: इंदौर जिला जेल (Indore Jail) में हनी ट्रैप मामले की आरोपी कैदी और जेलर के मुलाकात की तस्वीरें वायरल होने के बाद महिला वार्ड से शैंपू, सौंदर्य प्रसाधन और मूंगफली बरामद. डीआईजी जेल (DIG Jail) ने कहा- पूरे मामले की होगी जांच.

हनी ट्रैप मामले की आरोपी श्वेता और जेलर के मुलाकात की तस्वीरें हुईं वायरल.

इंदौर. मध्य प्रदेश के चर्चित हनी ट्रैप मामले (Honey Trap Case) में जेल में बंद महिला आरोपी श्वेता और जेलर के बीच मुलाकात की वायरल तस्वीरों (Viral Photos) ने सुस्त पड़े इस मामले को फिर सुर्खियों में ला दिया है. सोशल मीडिया (Socail Media) पर इन तस्वीरों के वायरल होने के बाद जेल डीआईजी (DIG Jail) आज सुबह जांच-पड़ताल के लिए जिला जेल पहुंचे. डीआईजी के आने के बाद जेल में अलसुबह महिला वार्ड समेत संवेदनशील हिस्सों में सघन चेकिंग अभियान चलाया गया. महिला वार्ड में शैंपू, सौंदर्य सामग्री और मूंगफली के दाने मिले. बताया गया कि महिला बंदी को जेल डॉक्टर के कहने पर सौंदर्य साम्रगी मुहैया कराई गई थी.

दरअसल, सोशल मीडिया पर वायरल हुई हनीट्रैप मामलों की तस्वीरें चर्चा का विषय बनी हुई हैं. आशंका है कि जेल के ही किसी कर्मचारी ने ये तस्वीरें वायरल की थीं. जेल मेनुअल के मुताबिक जेलर को जेल के सभी बंदियों से प्रतिदिन मिलकर उनके हाल-चाल लेना होता है. इसके तहत महिला वार्ड में भी यही प्रक्रिया अपनाई जाती है, लेकिन इस वार्ड में बिना महिला प्रहरी के प्रवेश निषेध होता है. वायरल तस्वीरों में जेलर कुलश्रेष्ठ महिला बंदी श्वेता जैन से बात करते नजर आ रहे हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पास में ही एक महिला प्रहरी भी मौजूद थी, लेकिन साजिश के तहत फोटो ऐसे वायरल किए गए जिसमें सिर्फ जेलर और महिला कैदी ही नजर आ रहे हैं.

बहरहाल, सोशल मीडया पर तस्वीरों के वायरल होने के बाद हड़कंप मचा तो फौरन जेल डीजी ने मामले की जांच करने के लिए भोपाल से जेल डीआईजी संजय पांडेय को इंदौर भेजा. बुधवार शाम वह जेल पहुंचे और पड़ताल शुरू की. डीआईजी ने सभी कर्मचारी और अधिकारियों से अलग-लग चर्चा कर तथ्य जुटाए. गुरुवार सुबह 5 बजे जेल के अंदर महिला वार्ड और संवेदनशील हिस्सों में तलाशी अभियान चला तो महिला वार्ड से सौंदर्य सामग्री और अन्य सामान बरामद हुए. जांच के बाद पता चला कि यह जेल डॉक्टर के कहने पर ही ये सामान हनी ट्रैप के आरोपी कैदी को दिए गए थे.

इसके साथ ही अब डीआईजी यह जांच भी कर रहे है कि आखिर जेल के अंदर की तस्वीरें कैसे वायरल हुईं. इसके पीछे जेल अधिकारियों के बीच आपसी फूट को वजह माना जा रहा है. यह भी कहा जा रहा है कि जेलर की कुर्सी पर काबिज होने के लिए ऐसी साजिश रची गई. बहरहाल, डीआईजी संजय पांडेय ने इस मामले में कहा कि शुरुआती जांच पड़ताल के दौरान पता चला है कि ये तस्वीरें कुछ दिन पुरानी हैं, जिन्हें अब साजिशन वायरल किया गया है. इधर, बताया यह भी जा रहा है कि इस पूरे खेल में विभाग के ही किसी बाहरी शख्स का हाथ है, जिसका खुलास  जांच के बाद ही हो सकेगा.

दिलीप कुमार के एक और भाई का Covid-19 से निधन

महान एक्टर Dilip Kumar के एक और छोटे भाई का Covid-19 संक्रमण के चलते निधन को गया है। Dilip Kumar के छोटे भाई एहसान खान लंबे समय से Covid-19 से जूझ रहे थे। मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में बुधवार रात 11 बजे उनका निधन हो गया। इससे पहले दिलीप कुमार के एक और छोटे भाई असलम खान का भी पिछले दिनों Covid-19 की वजह से निधन हो गया था।

दिलीप कुमार के छोटे भाई एहसान खान का 90 साल की उम्र में निधन हुआ। वे कोरोना संक्रमण के अलावा दिल की बीमारी, हाइपर टेंशन और एल्जाइमर जैसी बीमारियों से भी पीड़ित थे। बता दें कि 12 दिन में दिलीप कुमार के परिवार में ये दूसरी मौत है। इससे पहले दिलीप कुमार के सबसे छोटे भाई असलम खान की 21 अगस्त को कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते मौत हो गई थी। परिवार में दो सप्ताह के अंदर दूसरी मौत से गम का माहौल है।

दिलीप कुमार के भाइयों एहसान खान और असलम खान को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद 15 अगस्त को लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था। असलम और एहसान खान दोनों को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। इसके बाद दोनों को वेंटिलेटर पर रखा गया था। 21 अगस्त को असलम और अब 2 सितंबर को एहसान का निधन हो गया।

ट्विटर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट से जुड़े अकाउंट को हैक कर लिया गया था जिसे बाद में ठीक कर दिया गया है.

हैकर ने कोविड-19 रिलीफ फंड के लिए डोनेशन में बिटक्वॉइन की मांग की थी. हालांकि तुरंत ये ट्वीट्स डिलीट कर दिए गए

नई दिल्ली  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का निजी ट्विटर अकाउंट हैक होने के बाद फिर से ठीक कर लिया है. हैक होने के बाद उनके अकाउंट से बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित ट्वीट पोस्ट किए गए थे. ट्विटर ने प्रधानमंत्री मोदी के अकाउंट को टैग करते हुए जानकारी दी कि इसे ठीक कर लिया गया है. हैक हुआ अकाउंट प्रधानमंत्री मोदी की निजी वेबसाइट से जुड़ा हुआ है, वहीं इस पर उनके 25 लाख से अधिक फॉलोवर्स हैं.

ट्विटर के प्रवक्ता ने ईमेल के जरिए दिए गए बयान में कहा, “हमें इसकी जानकारी है और हमने हैक किए गए अकाउंट को सुरक्षित करने के लिए कदम उठाए हैं। हम सक्रियता से स्थिति की जांच कर रहे हैं। इस वक्त, हमें अन्य किसी अकाउंट के प्रभावित होने की जानकारी नहीं है। अकाउंट सुरक्षित रखने की सलाह देखी जा सकती है.”

बता दें कि जुलाई में ट्विटर को एक बड़े क्रिप्टो हैक का सामना करना पड़ा था, जिसमें हाई-प्रोफाइल हस्तियों, राजनेताओं और व्यवसायों के अकाउंट्स को हैक करके बिटकॉइन घोटाले का प्रसार किया था.

हैकर्स द्वारा किए गए एक ट्वीट में लिखा है, “मैं आप सभी से कोविड -19 के लिए पीएम नेशनल रिलीफ फंड में उदारतापूर्वक दान देने की अपील करता हूं, अब भारत क्रिप्टो करेंसी के साथ शुरुआत करेगा, कृपया दान करें.ईटीएच (इथेरियम).”

बिटकॉइन के बाद इथेरियम बाजार पूंजीकरण का दूसरा सबसे बड़ा क्रिप्टोकरेंसी प्लेटफॉर्म है.

एक अन्य ट्वीट में लिखा, “मैं आप सभी से कोविड-19 के लिए पीएम नेशनल रिलीफ फंड में उदारता से दान देने की अपील करता हूं, अब भारत क्रिप्टो करेंसी के साथ शुरुआत करेगा, कृपया बिटकॉइन दान करें.”

बाद में ट्विटर से इन ट्वीट्स को हटा लिया गया.

हैकर्स ने जुलाई में 130 ट्विटर अकाउंट्स को किया था हैक
हैकर्स ने जुलाई में 130 ट्विटर अकाउंट्स को निशाना बनाया था, जिसके बाद उन्होंने 45 अकाउंट्स से ट्वीट किए थे, करीब 36 अकाउंट के डीएम (डायरेक्ट मैसेज) इनबॉक्स तक पहुंच गए थे और सात अकाउंट के ट्विटर डेटा को डाउनलोड किया था. इस घटना ने ट्विटर टूल और कर्मचारी तक हैकर्स की पहुंच के स्तर को लेकर चिंताएं बढ़ा दीं.

जो बाइडन, बराक ओबामा, एलेन मस्क, बिल गेट्स कए अकाउंट्स भी हुए थे हैक

अमेरिकी डेमोक्रेटिक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडन, बराक ओबामा, एलेन मस्क, बिल गेट्स, जेफ बेजोस, एप्पल और उबर सहित कई कंपनियों की प्रमुख हस्तियों के अकाउंट्स को हैकर्स द्वारा क्रिप्टोकरेंसी घोटाले के प्रसार के लिए एक साथ हैक किया गया था.

कोरोना से भारत में नवंबर तक होंगी पांच लाख मौतें, मास्क और दूरी का ख़्याल रखा तो बच सकते हैं दो लाख लोग- IHME का अनुमान


शोध में ये भी कहा गया कि अगर भारत में लॉकडाउन ढील जारी रही और फेस मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग वर्तमान स्तर पर रहती है तो नवंबर के आखिर या एक दिसंबर तक 4,92,380 लोगों की मौत हो सकती है.

नई दिल्ली

भारत में कोरोना वायरस महामारी से होने वाले नुकसान पर चौंकाने वाला शोध सामने आया है। इसमें बताया गया कि अगर भारतीय सख्ती से मास्क और सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हैं तो एक दिसंबर तक देश में दो लाख लोगों की जान बचाई जा सकती है। शोध के मुताबिक कोविड-19 भारतीयों में बड़ा सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा बना रहेगा। वायरस के प्रकोप पर अध्ययन करने वाले वाशिंगटन यूनिवर्सिटी में इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन (IHME) के शोध में बताया गया कि भारत में संक्रमण के प्रसार को सीमित करना का ये एक अवसर है।

IHME के निदेशक डॉ क्रिस्टोफर मुर्रे ने कहा कि भारत में लोगों को फेस मास्क के इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करने की गंभीरता से जरुरत हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए लोगों को स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने की भी जरुरत है। उन्होंने आगे कहा, ‘IHME का अनुमान है कि भारत में दिसंबर के मध्य में कोरोना चोटी पर होगा। नए मामलों के साथ संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब होगी और ध्यान नहीं दिया गया तो पांच लाख लोगों की मौत हो जाएगी।’

सैनिटाइजर की बोतल में लगी आग, गई जान…..

कोरोना वायरस का संकट सामने आने के बाद सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना आम बात हो गई है. हालांकि महाराष्ट्र में सैनिटाइजर ने एक शख्स की जान ले ली है.

नई दिल्ली,

सैनिटाइजर के कारण लगी आग68 फीसदी जल गया शख्सअस्पताल में हुई शख्स की मौत

देश में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. हर रोज कोरोना वायरस के मामलों में इजाफा देखने को मिल रहा है. वहीं कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोग एहतियात के लिए कई कदम भी उठा रहे हैं. लोग सैनिटाइजर का इस्तेमाल भी काफी कर रहे हैं. हालांकि अब सैनिटाइजर के कारण एक शख्स की जान जाने का मामला सामने आया है.

कोरोना वायरस का संकट सामने आने के बाद सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना आम बात हो गई है. हालांकि महाराष्ट्र में सैनिटाइजर ने एक शख्स की जान ले ली है. न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सैनिटाइजर के कारण आग लगने से शख्स जल गया और उसकी मौत हो गई.

घटना के बारे में पुलिस ने बताया कि महाराष्ट्र के नासिक में एक 56 वर्षीय शख्स सैनिटाजर के कारण आग की चपेट में आ गया. इसके कारण उसका शरीर 68 फीसदी जल गया. जिसके बाद घायल हालात में शख्स को अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया.

पुलिस ने बताया कि अनिल सुचक नाम का शख्स 30 अगस्त को एक बोतल में सैनिटाइजर भर रहा था, तभी सैनिटाइजर गैस स्टोव की आंच के संपर्क में आ गया. जिससे आग लग गई. इससे अनिल भी आग की चपेट में आ गया और उसका शरीर जल गया. हालांकि शख्स को बचाया नहीं जा सका और 1 सितंबर को जिला नागरिक अस्पताल में उसका निधन हो गया.