बाबा रामदेव ने लॉन्च की कोरोना की आयुर्वेदिक दवा Coronil, 7 दिन में मरीजों को ठीक करने का दावा

हरिद्वार 
बाबा रामदेव ने मंगलवार को कोरोना की आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic Medicine of Corona) बनाने का दावा करते हुए , कोरोनिल नाम की मेडिसिन लॉन्च की है। इस मेडिसिन के जरिए कोरोना (Corona Medicine) के मरीजों को ठीक करने का दावा किया गया है। 
पतंजलि योगपीठ (Patanjali Medicine for Corona) के प्रमुख बाबा रामदेव (Baba Ramdev) ने इस दवा को लॉन्च करते हुए क्लिनिकल ट्रायल में इसके सफल परिणामों का दावा किया है। इस दवा को मंगलवार से ही बाजार में उतारने का दावा किया गया है। 

7 दिन में 100 फीसदी मरीज हुए स्वस्थ: बाबा रामदेव 

बाबा रामदेव ने कहा कि पूरा देश और दुनिया जिस क्षण की प्रतीक्षा कर रहा था आज वो क्षण आ गया है। कोरोना की पहली आयुर्वेदिक दवा तैयार हो गई है। बाबा रामदेव ने कहा कि दवाओं के ट्रायल के दौरान तीन दिन के अंदर 69 पर्सेंट रोगी नेगेटिव हो गए। इसके अलावा ट्रायल के दौरान सात दिन में 100 फीसदी मरीज नेगेटिव हो गए। 

लोग जलेंगे कि संन्यासी ने दवा बना ली: रामदेव 

बाबा रामदेव ने कहा कि जब कहीं क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल होता है तो कई अप्रूवल लेने होते हैं। इस दवा के लिए भी तमाम नैशनल एजेंसियों से अप्रूवल लिए गए। बाबा रामदेव ने कहा कि इस दवा का ट्रायल 280 मरीजों पर किया गया है। बाबा रामदेव ने कहा कि लोग इस बात से जलेंगे कि किसी संन्यासी ने कोरोना की दवा बना ली है। 

तीन दवाओं को लोगों के सामने रखा 

बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोनिल में गिलोय, तुलसी और अश्वगंधा हमारे इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करता है। इसके अलावा अणु तेल नाक में डालने से हमारे रेस्परेटरी सिस्टम में किसी वायरस के मौजूद होने पर उसका अंत होता है। साथ ही श्वसारी हमारे रेस्परेटरी सिस्टम को मजबूत करेगी। बाबा रामदेव ने कहा कि पहले आयुर्वेद का क्लिनिकल ट्रायल बहुत मुश्किल था, लोग समझते थे कि कोई बला गले ना पड़े। लेकिन ये दवा बला को दूर करने वाली बन गई। 

सात दिन में बाजार पहुंचेगी, ऐप से भी होगा ऑर्डर 

बाबा रामदेव ने कहा कि सात दिन में ये दवा पतंजलि के स्टोर्स पर मिलेगी। इसके अलावा इस दवा की डिलिवरी के लिए एक ऐप लॉन्च किया जाएगा। जिसपर ऑर्डर करने के तीन दिन में दवा घर पर डिलिवर कर दी जाएगी। 

नैशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के साथ उत्पादन 

यह दवा पतंजलि रिसर्च इंस्‍टीट्यूट और नैशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, जयपुर ने मिलकर बनाई है। कंपनी का दावा है कि ‘कोरोनिल’ (Corona Medicine Rates) का क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल अंतिम दोर में है। फिलहाल इसका प्रॉडक्‍शन हरिद्वार की दिव्‍य फार्मेसी (Divya Coronil Tablet) और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड कर रहे हैं। 

5 से 14 दिन में मरीजों को ठीक करने का दावा 

बालकृष्‍ण के मुताबिक, कोविड-19 आउटब्रेक शुरू होते ही साइंटिस्‍ट्स (Divya Coronil Tablet Price) की एक टीम इसी काम में लग गई थी। पहले स्टिमुलेशन से उन कम्‍पाउंड्स को पहचाना गया तो वायरस से लड़ते और शरीर में उसका प्रसार रोकते हैं। पतंजलि सीईओ के अनुसार, सैकड़ों पॉजिटिव मरीजों पर इस दवा की क्लिनिकल केस स्‍टडी हुई जिसमें 100 प्रतिशत नतीजे मिले। उनका दावा है कि कोरोनिल कोविड-19 मरीजों को 5 से 14 दिन में ठीक कर सकती है। 

इन औषधियों से बनाई गई दवा 

पतंजलि सीईओ के अनुसार, कोरोनिल में गिलोय, अश्‍वगंधा, तुलसी, श्‍वसारि रस और अणु तेल का मिश्रण है। उनके मुताबिक, यह दवा दिन में दो बार- सुबह और शाम को ली जा सकती है। पतंजलि के अनुसार, अश्‍वगंधा से कोविड-19 के रिसेप्‍टर-बाइंडिंग डोमेन (RBD) को शरीर के ऐंजियोटेंसिन-कन्‍वर्टिंग एंजाइम (ACE) से नहीं मिलने देता। यानी कोरोना इंसानी शरीर की स्‍वस्‍थ्‍य कोशिकाओं में घुस नहीं पाता। वहीं गिलोग कोरोना संक्रमण को रोकता है। तुलसी कोविड-19 के RNA पर अटैक करती है और उसे मल्‍टीप्‍लाई होने से रोकती है। 

नेपाल के 11 इलाकों पर चीन का कब्जा, सीमा विवाद छेड़ ओली सरकार ने भटकाया जनता का ध्यान

चीन की चालबाजी में नेपाल अब फंस चुका है। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली भारत के खिलाफ नक्‍शा बदलने में लग रहे, लेकिन चीन में उसको धोखा देते हुए उत्तरी गोरखा के रुई गांव पर कब्‍जा कर लिया। मिली जानकारी के अनुसार, ओली ने इसी बात को दबाने के लिए कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा का मुद्दा उठा था।

जानकारों ने बताया कि नेपाल सरकार, कानूनविद, बुद्धिजीवी और नागरिक कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा क्षेत्र में भारतीय क्षेत्र में अतिक्रमण के बारे में बात करने में व्यस्त हैं, जबकि गोरखा गांव में चीन के अतिक्रमण की बातों को वहां की सरकार ने छिपा दिया है। गोरखा का रुई गांव जो गोरखा के रुई भोट के अंतर्गत आता है, अब चीन के स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत के कब्‍जे में आ गया है।

सरकार की घोर लापरवाही और उच्च सरकारी अधिकारियों की उदासीनता की वजह से 72 घरों वाले इस गांव में चीनी ने घुसपैठ करते हुए कब्‍जा कर लिया। हालांकि रुई गांव क्षेत्र अभी भी नेपाल के मानचित्र में शामिल है, लेकिन वहां पर पूरी तरह से चीनी नियंत्रण है। यहां के सीमा स्तंभों को अतिक्रमण को वैध बनाने के लिए हटा दिया गया है।

नेपाल के पास गांव का राजस्‍व रिकॉर्ड

भू-राजस्व कार्यालय गोरखा के अनुसार, कार्यालय के पास अभी भी रुई गांव के निवासियों से एकत्र राजस्व का रिकॉर्ड है। रुई भोट क्षेत्रों के निवासियों द्वारा भुगतान किए गए राजस्व का विवरण भूमि राजस्व कार्यालय में अभी भी फ़ाइल संख्या एक में सुरक्षित है। भूमि राजस्व कार्यालय गोरखा के एक सहायक कर्मचारी ने कहा, “कार्यालय के रिकॉर्ड अनुभाग में अथारा साया खोले से रुई भोट तक के लोगों द्वारा प्रस्तुत राजस्व का रिकॉर्ड है।”

इतिहासकार रमेश धुंगल का कहना है कि रुई और तेइगा गांव गोरखा जिले के उत्तरी भाग में थे। धुंगल ने कहा, “रुई गांव नेपाल का हिस्सा है। न तो नेपाल ने इसे युद्ध में खोया और न ही यह तिब्बत से संबंधित किसी विशेष समझौते या अनुबंध के अधीन था। बल्‍कि पिलर को ठीक करने के समय में हुई लापरवाही के कारण नेपाल ने रुई और तेघा दोनों गांव खो दिए।

चूमुबरी ग्रामीण नगर पालिका वार्ड नंबर 1 के वार्ड अध्यक्ष बीर बहादुर लामा भी यह दावा करते हैं कि रुई गांव सहित क्षेत्र गोरखा का हिस्सा था और वहां के निवासी नेपाल सरकार को राजस्व जमा करते थे, और अब यह निवासी तिब्बती बन गए हैं।

कुछ भ्रष्ट नेपाली अधिकारियों की सहमति से 35 नंबर पिलर को समदो और रुई गांव के बीच की सीमा तय कर दिया गया, जिससे पूरा गांव चीनी नियंत्रण में आ गया। साम गांव, सामडो और रुई की भाषा, संस्कृति, परंपराएं और अनुष्ठान समान हैं और इन सभी प्रार्थना की जगह भी एक ही है। वार्ड के चेयरपर्सन लामा का कहना है कि उनके बुजुर्गों ने उन्हें बताया कि विरोध करने वाले रुई गांव के निवासी ताल छोड़कर समदो के अपने खेतों में लौट आए और फिर यहां पर नई बस्ती की स्थापना की।

लामा ने कहा, “बहुत से लोग हैं जो तिब्बत में शामिल होना पसंद नहीं करते थे, वे भागकर समदो आ गए। वे 1000-1200 पुराने ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दस्तावेजों के साथ आए थे। यहां पर उन्‍होंने एक गुंबा बनाया और उसकी प्रार्थना फिर से शुरू की। गुंबा में अभी भी मल्ल राजाओं के दो ऐतिहासिक देवता आदित्य मल्ल और पुण्य मल्ल के ऐतिहासिक तांबे के प्रमाण हैं।

इतिहासकार धुंगेल ने इसे नेपाल सरकार की अत्यंत लापरवाही बताया। उन्होंने कहा, “भारत की सीमा सुलभ है। लोग इसके चारों ओर घूमते हैं। इसलिए भारत के साथ सीमा मुद्दे सभी को दिखाई दे रहे हैं, लेकिन उत्तरी सीमा में तिब्बती से लगे नेपाल का हाल बहुत ही खराब है।

नेपाल सरकार ने ऐसे 11 जगहों की पहचान की है, जिस पर चीन सरकार ने कब्जा कर लिया है. जानिए नेपाल के किन इलाकों पर चीन ने किया कब्जा-

-नेपाल के हुमला जिले (Humla) के भागडेर खोला (Bhagdare Khola) के 6 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के हुमला जिले (Humla) के करनाली नदी (Karnali River ) के  4 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जानेपाल के रसुवा जिले (Rasuwa)  के सिनजेन खोला (Sinjen Khola) के 2 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के रसुवा जिले (Rasuwa)  के भुरजुक खोला (Bhurjuk Khola) के एक हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के रसुवा जिले (Rasuwa)  के लमडे खोला (Lamde Khola) की जमीन पर चीन का कब्जानेपाल के रसुवा जिले (Rasuwa) के जंबू खोला (Jambu Khola) की तीन हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के सिधुपलचोक जिले (Sandhu Pal Chock)  के खरने खोला (Kharane Khola ) की 7 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के सिधुपलचोक जिले (Sandhu Pal Chock) के भोटसे कोसी (BHOTE Koshi) की 4 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के संखुआसभा (Sankhuwasabha) जिले के समझुंग खोला (Samjung Khola) की 3 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के संखुआसभा (Sankhuwasabha) जिले के कम खोला (Kam Khola) की 2 हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

नेपाल के संखुआसभा (Sankhuwasabha) जिले के अरुन नदी (Arun River) की 4  हेक्‍टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

असम में सेना के 18 जवान कोरोना संक्रमित, मचा हड़कंप

असम। नगांव जिला में 37 नए करोना संक्रमित मरीज पाए गए हैं। नए संक्रमित मरीजों में 18 सेना के जवान बताए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार नगांव के मिसा स्थित सेना छावनी के एकांतवास शिविर में रह रहे है।

सेना के जवानों का स्वैब टेस्ट किया गया था। जिसके बाद 18 जवानों को कोरोना संक्रमित पाया गया है। सभी को इलाज के लिए तेजपुर स्थित सेना की बेस अस्पताल में भेज दिया है। वहीं अन्य आम नागरिकों को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सेना से कांपा पाकिस्तान: 17 सनिकों को मिली दर्दनाक मौत, बौखलाए इमरान

नई दिल्ली। पाकिस्तान लगातार जम्मू-कश्मीर में लाइन ऑफ कंट्रोल पर सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। ऐसे में भारतीय सेना भी उनके नापाक इरादों को कामयाब नहीं होने दे रही है और मुंह तोड़ जवाब दे रही है। मिली जानकारी के अनुसार, भारतीय सुरक्षाबलों ने सोमवार को दो पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया है, वहीं बीते 3 दिनों में पाकिस्तान के 17 सैनिक मारे जा चुके हैं। इसी के चलते पाकिस्तानी सेना के कई फार्वड पोस्ट को भी क्षति पहुंचाया है।

पाकिस्तानी सैनिक मारे गए

मिली जानकारी के अनुसार, रविवार देर रात भारतीय सेना की तरफ से दिये गए मुंह तोड़ जवाब में पीओके के निकियाल सेक्टर में पाकिस्तान सेना के 6 जवान मारे गए हैं, जबकि सुबह दो पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं।

साथ ही पाकिस्तानी सेना की चार फार्वड पोस्ट भी तबाह हो गए है। ये सभी सैनिक पाकिस्तान सेना की सिंध रेजीमेंट के जवान थे।

ये बताया जा रहा है कि भारतीय सेना की ओर से की गई कार्रवाई में एक दर्जन से अधिक पाकिस्तानी सैनिक घायल हुए हैं। इस साल आतंकियों द्वारा 2000 से अधिक बार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है।

पाक सेना के 9 सैनिक मारे गए

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, दो दिनों में भारतीय सेना की कारवाई में हाजीपीर सेक्टर, बदोरी सेक्टर, बगसर सेक्टर, जंदरोट और डेरा शेर खान में पाक सेना के 9 सैनिक मारे गए थे।

इसके साथ ही पाकिस्तान की तरफ से सोमवार यानी आज सीजफायर का उल्लंघन किया गया था। जम्मू-कश्मीर के राजौरी और पुंछ जिले को निशाना बनाते हुए आतंकियों ने गोलाबारी की थी। जिसमें एक जवान शहीद हो गया है जबकि एक अन्य जवान घायल हो गया।

MP: उपचुनाव से पहले बिजली उपभोक्ताओं को बड़ी राहत, सीएम ने किया ऐलान

मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने उपचुनावों से पहले प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं के लिए बड़ी राहत का ऐलान किया है। सोमवार को उपभोक्ताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीधे संवाद के दौरान सीएम चौहान ने 100 से 400 रुपए तक के बिजली बिलों के लिए केवल 100 रुपए भुगतान करने की घोषणा की है।

भोपाल।
एमपी में राज्यसभा चुनावों के लिए वोटिंग के बाद प्रदेश सरकार उपचुनाव की तैयारियों में जोर-शोर से लग गई है। समाज के अलग-अलग वर्गों के लिए नई-नई योजनाएं शुरू की जा रही हैं। सोमवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीधे संवाद किया। इस दौरान उन्होंने बिजली उपभोक्ताओं के लिए बड़ी राहत का ऐलान किया।

Office of Shivraj

@OfficeofSSC
· 17h
Replying to @OfficeofSSC
मैं जब सरकार में आया तो देश व प्रदेश में कोरोना का संक्रमण फैल चुका था। इसके कारण रोजी-रोटी के जो अवसर थे, वे खत्म से हो गये। इस बीमारी ने हमें घर पर रहने पर मजबूर कर दिया। स्वाभाविक है कि घर पर ज्यादा रहते हैं, तो बिजली भी ज्यादा खर्च होती है: सीएम श्री @ChouhanShivraj

Office of Shivraj

@OfficeofSSC
जब काम-धंधा न चल रहा हो और बिजली के बड़े-बड़े बिल आ जायें, तो उसे भरना तो मुश्किल होगा ही। इसलिए हमने फैसला किया कि मार्च और अप्रैल के बिजली के बिल बिना सरचार्ज के 15 मई तक जमा कर सकेंगे : सीएम श्री @ChouhanShivraj

79
4:48 PM – Jun 22, 2020
Twitter Ads info and privacy
27 people are talking about this
सीएम ने कहा कि जिन उपभोक्ताओं को 100 से 400 रुपए तक बिजली बिल आया है, उन्हें केवल 100 रुपए की राशि ही देनी होगी। जिन लोगों का बिल 400 रुपए से ज्यादा है, उन्हें भी आधी रकम ही देनी होगी। सीएम ने यह निर्देश भी दिया कि जिन उपभोक्ताओं का अप्रैल महीने में 100 रुपए बिल आया है, उनसे मई, जून और जुलाई महीनों में केवल 50 रुपए ही बिजली बिल लिया जाएगा।

Office of Shivraj

@OfficeofSSC
· 17h
Replying to @OfficeofSSC
इसके अलावा हमने तय किया कि मार्च 2020 तक की स्थिति में हमारे संबल योजना के हितग्राही जिनका अप्रैल महीने में 100 रुपये का बिल आया है, उनसे अप्रैल, मई और जून तीन महीने का बिजली की बिल केवल 50 रुपया लिया जायेगा : सीएम श्री @ChouhanShivraj

Office of Shivraj

@OfficeofSSC
जिनका अप्रैल महीने में 100 रुपये बिजली का बिल आया; लेकिन मई, जून, जुलाई में 400 रुपया हो गया, तो ऐसे 100 से 400 रुपये बिजली बिल पाने वालों से हर महीने केवल 100 रुपया लिया जायेगा : सीएम श्री @ChouhanShivraj

55
5:11 PM – Jun 22, 2020
Twitter Ads info and privacy
See Office of Shivraj’s other Tweets

pjimage – 2020-06-22T174602.339
56 लाख उपभोक्ताओं को फायदा
सीएम की इन घोषणाओं का प्रदेश के 56 लाख बिजली उपभोक्ताओं को फायदा होगा। उपभोक्ताओं को बिल की राशि में माफी से करीब 255 करोड़ रुपए का लाभ होगा, जिसे राज्य सरकार वहन करेगी।

Office of Shivraj

@OfficeofSSC
· 16h
Replying to @OfficeofSSC
जिनका अप्रैल महीने में 100 रुपये बिजली का बिल आया; लेकिन मई, जून, जुलाई में 400 रुपया हो गया, तो ऐसे 100 से 400 रुपये बिजली बिल पाने वालों से हर महीने केवल 100 रुपया लिया जायेगा : सीएम श्री @ChouhanShivraj

Office of Shivraj

@OfficeofSSC
मई, जून, जुलाई में जिन परिवारों का 100 रुपया बिजली बिल आया है, उनसे केवल 50 रुपया बिल लिया जायेगा। इससे प्रदेश के 56 लाख उपभोक्तओं को 255 करोड़ रुपये का लाभ मिलेगा। यह राशि प्रदेश सरकार बिजली विभाग को भुगतान करेगी: सीएम श्री @ChouhanShivraj

72
5:13 PM – Jun 22, 2020
Twitter Ads info and privacy
25 people are talking about this
सीएम ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार की गलत नीतियों के चलते प्रदेश के उपभोक्ताओं को भारी-भरकम बिजली बिल आने लगे थे। लॉकडाउन पीरियड में बिना रीडिंग लिए उपभोक्ताओं को पिछले साल की रीडिंग के आधार पर बिल थमा दिए गए थे। इसके कारण लोगों में आक्रोश पैदा हो रहा था। सरकार ने लोगों की समस्याएं समझते हुए उन्हें बिल में राहत का ऐलान किया है।

कोरोना अपडेट: देश में पिछले 24 घंटे में सामने आए साढ़े 15 हजार नए मामले, 312 लोगों की हुई मौत

देश में इस वक्त एक लाख 78 हजार 14 कोरोना के एक्टिव केस हैं. सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं. दूसरे नंबर पर दिल्ली है.

नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 4 लाख 40 हजार के पार जा चुकी है. पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 14 हजार 933 नए मामले सामने आए और 312 लोगों की मौत हुईं है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में अबतक 4 लाख 40 हजार 215 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. इसमें से 14011 की मौत हो चुकी है, जबकि दो लाख 48 हजार 190 लोग ठीक भी हुए हैं.

दुनिया में चौथा सबसे प्रभावित देश कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत ने दुनिया का चौथा सबसे प्रभावित देश है. अमेरिका, ब्राजील, रूस के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में भारत चौथे स्थान पर आ गया है. भारत से अधिक मामले अमेरिका (2,388,153), ब्राजील ( 1,111,348), रूस (592,280) में हैं. वहीं भारत में मामले बढ़ने की रफ्तार दुनिया में चौथे नंबर पर बनी हुई है. अमेरिका और ब्राजील के बाद एक दिन में सबसे ज्यादा मामले भारत में दर्ज किए जा रहे हैं.

भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स को बड़ा झटका,डोनाल्ड ट्रंप ने सस्पेंड किया H1-B वीजा. 

नई दिल्ली

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि यह कदम उन अमेरिकियों की मदद करने के लिए आवश्यक था, जिन्होंने मौजूदा आर्थिक संकट के कारण अपनी नौकरी खो दी है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने H1-B वीजा निलंबित करने की घोषणा की है. इससे भारत समेत दुनिया के आईटी प्रोफेशनल को बड़ा झटका लगा है. ये निलंबन साल के आखिर तक वैध रहेगा. ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों के मुताबिक, ये फैसला अमेरिकी श्रमिकों के हित के लिए लिया गया है.

डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि यह कदम उन अमेरिकियों की मदद करने के लिए आवश्यक था, जिन्होंने मौजूदा आर्थिक संकट के कारण अपनी नौकरी खो दी है. नवंबर में होने जा रहे राष्ट्रपति चुनावों से पहले ये ऐलान करते हुए ट्रंप ने विभिन्न व्यापारिक संगठनों, कानूनविदों और मानवाधिकार निकायों द्वारा आदेश के बढ़ते विरोध की अनदेखी की है.

ये निलंबन 24 जून से लागू होगा. इससे बड़ी संख्या में भारतीय आईटी पेशेवरों के प्रभावित होने की संभावना है. अब उन्हें स्टैम्पिंग से पहले कम से कम साल के अंत तक इंतजार करना होगा. यह बड़ी संख्या में भारतीय आईटी पेशेवरों को भी प्रभावित करेगा जो अपने एच -1 बी वीजा को रिन्यू कराना चाहते थे.

डोनाल्ड ट्रंप के इस फैसले से दुनियाभर से अमेरिका में नौकरी करने का सपना देखने वाले 2.4 लाख लोगों को धक्‍का लग सकता है. बता दें कि अमेरिका में काम करने वाली कंपनियों को विदेशी कामगारों को मिलने वाले वीजा को एच-1 बी वीजा कहते हैं. इस वीजा को एक तय अवधि के लिए जारी किया जाता है.

क्या है एच-1बी वीजा

एच-1बी वीजा एक गैर-प्रवासी वीजा है. अमेरिका में कार्यरत कंपनियों को यह वीजा ऐसे कुशल कर्मचारियों को रखने के लिए दिया जाता है जिनकी अमेरिका में कमी हो. इस वीजा की वैलिडिटी छह साल की होती है. अमेरिकी कंपनियों की डिमांड की वजह से भारतीय आईटी प्रोफेशनल्‍स इस वीजा को सबसे अधिक हासिल करते हैं.

अंडरटेकर ने किया संन्यास का ऐलान, तो मुंबई इंडियंस ने कुछ ऐसे दी विदाई

WWE के फैंस के लिए एक बहुत बड़ी खबर आ रही है. दरअसल, आज दिग्गज रेसलर अंडरटेकर ने WWE से रिटायरमेंट ले ली है और कंपनी ने भी इसे स्वीकार कर लिया है. अंडरटेकर ने अपने रिटायरमेंट की घोषणा लास्ट राइड डोक्यूमेंट्री के दौरान ने की है. अंडरटेकर ने साफ किया कि अब उनका काम रिंग में हो चुका है और अब रिंग के लिए उनके पास कुछ नहीं बचा है.

लास्ट राइड के फाइनल एपिसोड के दौरान की रिटायमेंट की घोषणा

लास्ट राइड के फाइनल एपिसोड के बाद WWE मे ऐलान कर दिया है कि अंडरटेकर ने संन्यास ले लिया है. WWE ने अपने अंदाज में अंडरटेकर को सम्मान दिया है और #ThankYouTaker का इस्तेमाल किया है.

बता दें, कि वह 1989 में विश्व चैम्पियनशिप रेसलिंग (WCW) में पहली बार आये थे. उन्होंने 1990 में वर्ल्ड रेसलिंग फेडरेशन (WWF, अब WWE) के साथ अनुबंध किया.

रैसलमेनिया में 21 फाइट लगातार जीतने का बना चुके हैं रिकॉर्ड

वह कुछ फिल्मों और कुछ अमेरिकी टीवी शो में भी नजर आ चुके हैं. उन्होंने अपने लम्बे WWE करियर में कई दिग्गज रेसलरों को भी हराया हुआ है.

अंडरटेकर का पसंदीदा मेन इवेंट रैसलमेनिया माना जाता है. उन्होंने रैसलमेनिया में 21 फाइट लगातार जीतने का एक बहुत बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम किया था. हालाँकि, रैसलमेनिया-30 में उनका 21 मैचों से चला आ रहा लगातार जीत का ब्रोक लैसनर ने तोड़ दिया था.

WWE

@WWE
#ThankYouTaker for…

83.5K
2:00 AM – Jun 22, 2020
Twitter Ads info and privacy
28.8K people are talking about this
मुंबई इंडियंस ने भी कहा, ThankYouTaker

दिग्गज रेसलर अंडरटेकर के संन्यास के बाद 4 बार की आईपीएल चैंपियन मुंबई इंडियंस ने भी अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया है. बता दे, कि रोहित शर्मा की कप्तानी वाली मुंबई इंडियंस 4 बार की आईपीएल विजेता भी है.

मुंबई इंडियंस ने रोहित शर्मा की डब्ल्यूडब्ल्यूई बेल्ट के साथ फोटो को पोस्ट करते हुए लिखा, ’30लैजेंड्री ईयर्स‘ उन्होंने इसके साथ ही #ThankYouTaker हैशटैग का भी इस्तेमाल किया है.

Amazon India में पार्ट टाइम जॉब से आप कर सकते हैं अच्‍छी कमाई, घंटे के हिसाब से मिलेगी पेमेंट

नई दिल्ली: Amazon India लोगों को पार्ट टाइम काम कर कमाई करने का अवसर उपलब्‍ध करा रहा है। आप अपने खाली समय में इससे जुड़कर प्रति घंटे 120-140 रुपये तक की कमाई कर सकते हैं। दरअसल, अमेज़न इंडिया ने देश के 35 से ज्यादा शहरों में अमेज़न फ्लेक्स डिलीवरी प्रोग्राम के विस्तार की घोषणा की है। इस वैश्विक डिलीवरी प्रोग्राम को जून 2019 में लॉन्च किया गया था और इसका लक्ष्य पार्ट टाइम काम के अवसर निर्मित करना था, जहां लोग खुद के बॉस बनें, खुद का शेड्यूल बनाएं और अमेज़न के ग्राहकों को पैकेजेज की डिलीवरी कर प्रति घंटा 120 से 140 रुपये कमायें।

जून 2019 में यह प्रोग्राम 3 शहरों तक सीमित था, जो जून 2020 में 35 शहरों तक पहुँच गया। इस विस्तार ने मेट्रो शहरों और नॉन-मेट्रो शहरों, जैसे रायपुर, हुबली, ग्वालियर और नासिक आदि में लोगों के लिये पार्ट-टाइम काम के हजारों अवसर निर्मित किये हैं।

अमेज़न फ्लेक्स प्रोग्राम के विस्तार से कंपनी की डिलीवरी क्षमता बढ़ने से ऐसे समय में और मदद मिलेगी, जब देशभर के ग्राहक अपने घर पर उत्पादों की सुरक्षित आपूर्ति चाहते हैं।

जून 2019 में अपने लॉन्च के बाद से इस प्रोग्राम ने ऐसे स्टूडेन्ट्स, गृहिणियों और लोगों के लिये अवसर निर्मित किये हैं, जो अपने खाली समय में अमेज़न के पैकेजेज की डिलीवरी कर अपनी आय बढ़ाना चाहते हैं। इच्छुक डिलीवरी पार्टनर्स साइन-अप कर अपना शेड्यूल चुन सकते हैं और पैकेजेज डिलीवर कर सकते हैं- वो ये सब अमेज़न फ्लेक्स एप के इस्तेमाल से कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिये इच्छुक लोग https://flex.amazon.in पर जा सकते हैं।

अमेज़न इंडिया के लास्ट माइल ट्रांसपोर्टेशन के निदेशक प्रकाश रोचलानी ने कहा कि पिछले एक वर्ष में हमें अमेज़न फ्लेक्स प्रोग्राम के लिये हजारों ऐसे लोगों से बेहतरीन रिस्पांस मिला है, जिन्हें अमेज़न के ग्राहकों को डिलीवरी कर लाभ पहुंचा है। अमेज़न फ्लेक्स के पार्टनर्स पार्ट टाइम काम कर अपने खाली समय में कमाई करते हैं, खासकर इस समय, जब देशव्यापी लॉकडाउन के प्रभाव से देश की अर्थव्यवस्था उबर रही है।