भारत पर साइबर अटैक कर सकता है चीन, आपके पास इस नाम से आ सकता ई-मेल

जानकारी के मुताबिक चीनी हैकर इस साइबर अटैक के लिए जुट गए हैं. भारत के 20 लाख ईमेल उनके निशाने पर हैं. निजी और वित्तीय ईमेल पर यह अटैक हो सकता है.

नई दिल्लीः सीमा पर गतिरोध के बीच चीन भारत के खिलाफ एक और नापाक चाल चलने की तैयारी में हैं. खबर है कि चीन भारत पर साइबर अटैक कर सकता है. जानकारी के मुताबिक भारत पर यह अटैक 21 जून से शुरू हो सकता है. इस साइबर अटैक में एक ईमेल- ncov2019.gov.in से हमला हो सकता है. इस ईमेल का सब्जेक्ट- ‘Free Covid 19 Test’ हो सकता है.

चीनी साइबर अटैक से बचने के लिए इस ईमेल से आए मेल या अटैचमेंट नहीं खोलें. बताया जा रहा है कि 20 लाख लोगों के ईमेल टारगेट पर हैं. निजी और वित्तीय ईमेल पर हमला हो सकता है. बता दें पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया पर भी एक साइबर अटैक हुआ था.

खुफिया एजेंसियों ने साइबर अटैक को लेकर जानकारी दी है जिसके बाद तीन चार वेबसाइट्स पर नजर भी रखी जा रही है. जानकारी के मुताबकि, चाइनीज हैकर इस साइबर अटैक के लिए तैयारियों में भी जुट गए हैं.

क्या कहना है कि साइबर एक्सपर्ट का? 
साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल ने एबीपी न्यूज से कहा है कि इस चेतावनी को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर आपके पास कोई अपरिचित मैसेज आता है जो कहता है कि किसी लिंक पर क्लिक करें तो आपको बिल्कुल नहीं करना है. अगर कोई ऐसा ईमेल आता जिससे आप परिचित नहीं है और जो कहता है कि कोई अटैचमेंट डाउनलोड करनी है तो ऐसा नहीं करें. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में वैसे भी साइबर क्राइम बहुत बढ़ गया है इसलिए बेहतर है कि साइबर सुरक्षा को लेकर हम लोग जागरुक हों और इसे अपनी जीवनशैली का हिस्सा बना लें.

विधायक ओमप्रकाश सकलेचा कोरोना पॉजिटिव, कल राज्यसभा चुनाव में दिया था वोट

नीमच जिले की जावद विधानसभा सीट से भाजपा विधायक ओमप्रकाश सकलेचा कोरोना की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। वे 16 जन से भोपाल में हैं और शुक्रवार को हुए राज्यसभा चुनाव में उन्होंने मतदान भी किया था। उनके परिवार के एक और सदस्य के कोरोना पॉजिटिव होने की बात सामने आ रही है। इस खबर के बाद हड़कंप मच गया है, राज्यसभा चुनाव में मतदान के दौरान जो-जो उनके संपर्क में आए उनकी तलाश की जा रही है। जावद में विधायक सकलेचा का निवास क्षेत्र पहले से ही कंटेन्मेंट एरिया बना हुआ है। सकलेचा पिछले कुछ दिनों से उनके फॉर्म हाउस पर रह रहे थे। उधर मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में दो और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं।

बालाघाट जिले में दो और कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं। कोरोना संक्रमित की संख्या बढ़कर 17 पर पहुंच गई। अब तक 11 स्वस्थ हो चुके हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडेय से प्राप्त जानकारी के अनुसार 19 जून को देर रात में आईसीएमआर लैब जबलपुर से 35 सैंपल की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इसमें से दो रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। कोरोना पॉजिटिव पाए गए व्यक्ति कटंगी तहसील के परसवाड़ा के निवासी हैं और वे उल्हासनगर मुंबई से आए हैं। 5 लोगों का परिवार उल्हासनगर मुंबई से परसवाड़ा पहुंचा था और उन्हें महकेपार के क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। इनमें से 55 साल के एक व्यक्ति और 20 साल की एक बालिका की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने पर उन्हें उपचार के लिए डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर गायखुरी बालाघाट में भर्ती करा दिया गया है। इस प्रकार बालाघाट जिले में वर्तमान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 6 हो गई है। इस प्रकार अब तक बालाघाट जिले में कुल17 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए जा चुके हैं। इनमें से 11 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं और 6 मरीजों का उपचार जारी है।

लद्दाख में घायल जवान के पिता ने राहुल गांधी से कहा- हम चीन को हराने में सक्षम, मत करिए नेतागिरी

नई दिल्ली 
गलवान घाटी में भारतीय सेना और चीन के सैनिकों के बीच हुए संघर्ष (Galwan ValleyClash) के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी को एक जवान के पिता ने नसीहत दी है। लद्दाख में घायल जवान के पिता ने अपने एक वीडियो संदेश में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से इस मसले पर नेतागिरी ना करने की अपील की है। इस वीडियो को अपने ट्वीटर अकाउंट पर शेयर करते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राहुल गांधी को मशविरा देते हुए कहा है कि वह छद्म राजनीति छोड़कर देश हित में सरकार के साथ खड़े हों। 
शाह ने जिन बलवंत सिंह के वीडियो को शेयर किया है, उनका एक वीडियो शुक्रवार को राहुल गांधी ने भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर साझा किया था। इस वीडियो में बलवंत सिंह बेटे से हुई बातचीत के आधार पर लद्दाख में हुई घटना की जानकारी दे रहे थे। वीडियो के साथ राहुल गांधी ने लिखा था कि ये दु:ख की बात है कि भारत सरकार के मंत्री पीएम को बचाने के लिए झूठ बोल रहे हैं। 

राहुल गांधी से कहा- ये राजनीति अच्छी नहीं 

इसके बाद शनिवार को समाचार एजेंसी एएनआई पर सामने आए वीडियो में बलवंत सिंह (Balwan Singh) ने राहुल गांधी से अपील करते हुए कहा कि भारतीय सेना वो सेना है जो चीन को हरा सकती है और भी देशों को हरा सकती है। राहुल गांधी आप नेतागिरी मत करना, ये राजनीति अच्छी नहीं है। मेरा बेटा पहले भी देश के लिए लड़ा है और ठीक होने के बाद आगे भी देश के लिए लड़ेगा। 

बलवंत सिंह के वीडियो को इंडोर्स करते हुए अमित शाह (Amit Shah on Ladakh) ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा- एक बहादुर सैन्यकर्मी के पिता ने राहुल गांधी को एक स्पष्ट संदेश दिया है। ऐसे वक्त में जबकि पूरा देश एक है, राहुल गांधी को भी छद्म राजनीति से ऊपर उठकर देशहित में पूरी दृढ़ता के साथ खड़ा होना चाहिए। 

जम्मू-कश्मीर: कठुआ में BSF ने पाकिस्तानी जासूसी ड्रोन को मार गिराया, हथियार भी बरामद

जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने शनिवार को आधुनिक राइफल और कुछ छोटे बमों से लैस पाकिस्तान के एक ड्रोन को मार गिराया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

जम्मू क्षेत्र में यह पहली ऐसी घटना है जब बीएसएफ ने हथियारों और विस्फोटकों से लैस ड्रोन को मार गिराया है। इसके साथ ही ड्रोन के जरिए केंद्र शासित प्रदेश में हथियारों की तस्करी करने की पाकिस्तान की कोशिश नाकाम कर दी गई है।   

अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ के एक गश्ती दल ने सुबह करीब पांच बजकर 10 मिनट पर सीमा चौकी पंसार के क्षेत्र में आसमान में एक ड्रोन को मंडराते देखा। उन्होंने बताया कि बीएसएफ जवानों ने नौ गोलियां चलाई और ड्रोन को भारतीय क्षेत्र में 250 मीटर अंदर की ओर मार गिराया। 

अधिकारियों ने प्रारंभिक सूचना देते हुए कहा कि ड्रोन में एक अत्याधुनिक राइफल, दो मैगजीन, 60 गोलियां और सात छोटे बम रखे गए थे जिन्हें पाकिस्तानी एजेंटों को देना था। उन्होंने बताया कि ऐसा माना जा रहा है कि पंसार सीमा चौकी के सामने अग्रिम चौकियों पर तैनात पाकिस्तानी रेंजर ड्रोन को नियंत्रित कर रहे थे।

इस बीच अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तानी रेंजर्स ने सुबह करीब आठ बजकर 50 मिनट पर हीरानगर सेक्टर में बबिया चौकी पर गोलियां चलाईं। अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात बीएसएफ ने जवाबी कार्रवाई नहीं की। स्थिति पर करीबी नजर रखी जा रही है।

चीन विवाद: राहुल बोले- पीएम ने किया सरेंडर, अमित शाह का पलटवार- ओछी राजनीति न करें

घायल सैनिक के पिता का वीडियो किया रिट्वीट

कहा- राहुल को राष्ट्रहित के साथ खड़े होना चाहिए

भारत और चीन के बीच तनाव को लेकर सर्वदलीय बैठक के बाद भी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सरकार पर हमलावर हैं. राहुल गांधी की ओर से बार-बार उठाए जा रहे सवालों के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने गलवान घाटी में झड़प के दौरान घायल हुए एक सैनिक के पिता का वीडियो रिट्वीट किया है. शाह ने वीडियो रिट्वीट करते हुए कहा है कि एक बहादुर सैनिक के पिता का राहुल गांधी को संदेश साफ है.

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि ऐसे समय में जब पूरा देश एकजुट है. राहुल गांधी को भी ओछी राजनीति से ऊपर उठना चाहिए. राहुल गांधी को भी राष्ट्रहित के साथ मजबूती से खड़े होना चाहिए. गौरतलब है कि गृह मंत्री अमित शाह ने एक घायल सैनिक के पिता का वीडियो रिट्वीट किया, जिसमें बहादुर सैनिक के पिता यह कह रहे हैं कि भारतीय सेना एक मजबूत सेना है.

घायल सैनिक के पिता ने कहा है कि भारतीय सेना चीन क्या, किसी भी देश की सेना को हरा सकती है. मैं राहुल गांधी से कहूंगा कि वे इस पर राजनीति ना करें. मेरा बेटा सेना में लड़ा है और ठीक होकर फिर लड़ेगा. बता दें कि गलवान घाटी में हुई झड़प की घटना के बाद से ही इस मुद्दे को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है.

सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि देश की सीमा में कोई नहीं आया है, न आया था. अब राहुल गांधी ने इस बयान पर भी तीखी प्रतिक्रिया दी है. राहुल ने ट्वीट कर कहा है कि पीएम ने चीन की आक्रामकता के सामने अपनी जमीन सरेंडर कर दी है. राहुल ने सवाल किया कि यदि जमीन चीन की थी तो हमारे सैनिक कहां और क्यों शहीद हुए.

नेपाल के नक्शे को लेकर बुरे फंसे पीएम ओली, अपनी ही पार्टी के नेताओं ने किया विरोध

काठमांडू 

भारत की आपत्ति को दरकिनार करते हुए विवादित नक्शे को कानूनी अमलीजामा पहनाना अब नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के लिए भारी पड़ता दिखाई दे रहा है। ओली की कम्यूनिस्ट पार्टी में ही नेपाल के नए नक्शे को लेकर विरोध के सुर उठने लगे हैं। नेपाली कम्यूनिस्ट पार्टी के कई सांसदों ने नाराजगी जताई है कि पार्टी अध्यक्ष होते हुए ओली ने नक्शे को लेकर एक बार भी पार्टी फोरम पर अपने विचार नहीं रखे हैं।
सभी दलों ने नक्शे पर दिया सरकार का साथ 
चुनाव के दौरान केवल नेपाली कम्यूनिस्ट पार्टी ने ही नहीं बल्कि उनके पीछे सभी दलों ने भारत के साथ सीमा विवाद के मामले को जोर शोर से उठाया था। इन दलों ने लिंपियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी को अपना बताते हुए इस पर कब्जे की बात भी कही थी, लेकिन अब राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी के हस्ताक्षर के बाद नया नक्शा कानून बन गया है। 

अब अपनी ही पार्टी के खिलाफ खड़े हुए नेता 
भारत के करीबी माने जाने वाले कई राजनेताओं ने भी नक्शे को लेकर न तो कभी पीएम ओली का विरोध किया न ही कम्यूनिस्ट पार्टी की सीमा को लेकर दिए जा रहे बयान के खिलाफ आवाज उठाई। लेकिन, अब चीन के साथ भारत के जारी तनाव के बाद कई नेताओं ने सीमा विवाद को लेकर फिर से नरमी दिखाना शुरू कर दिया है। 

पार्टी का आरोप- एकतरफा सरकार चला रहे ओली 

नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी केंद्रीय समिति के सदस्य हेमराज भंडारी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने फिर से सरकार को एकतरफा चलाने की अपनी आदत को शुरू किया है। पार्टी के नेता नक्शे के कारण नहीं बोल रहे हैं लेकिन उनका धैर्य अब टूट रहा है। अप्रैल में आयोजित सचिवों की बैठक में ओली के एकतरफा तरीके से सरकार चलाने को लेकर नाराजगी जताई गई थी। जिसके बाद उन्होंने सबसे साथ मिलकर सरकार चलाने का संकल्प लिया था। लेकिन, हाल में उन्होंने अपनी पुरानी आदतों को फिर से शुरू कर दिया है। 

नियुक्तियों पर घिरी सरकार 

मंगलवार को ओली के निजी चिकित्सक डॉ दिब्या सिंह शाह को त्रिभुवन विश्वविद्यालय के चिकित्सा संस्थान का डीन नियुक्त किया गया। हालांकि, वह वरिष्ठता के क्रम में काफी नीचे थे। भंडारी ने कहा कि सरकार के इस फैसले से पार्टी को आलोचना का सामना करना पड़ा। लोगों ने कहा कि ओली सरकार में अयोग्य होने के बावजूद उनके विश्वासपात्रों को ही नियुक्ति मिल सकती है। 

पार्टी के सांसद भी ओली से नाराज 

नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी की सांसद राम कुमारी झाकरी ने कहा कि ओली पार्टी की बैठकों से बचते रहे हैं क्योंकि वह पार्टी नेताओं का सामना नहीं कर सकते। राम कुमारी झाकरी ने कहा कि 23 जून को स्थायी समिति की बैठक बुलाई गई है, लेकिन हमें विश्वास नहीं है कि वह बैठक आयोजित होगी। अगर स्थायी समिति की बैठक आयोजित की जाती है, तो नेता कोरोना वायरस को लेकर सरकार के खराब प्रदर्शन सहित कई मुद्दों पर ओली से सवाल पूछेंगे। 

44 सदस्यों में ओली के पक्ष में 13 

44 सदस्यीय स्थायी समिति में ओली के पक्ष में केवल 13 सदस्य हैं। उनमें बिष्णु रिमल, सुबाह निंबांग, सत्य नारायण मंडल, रघुबीर महासेठ, पृथ्वी सुब्बा गुरुंग, किरण गुरुंग, शंकर पोखरेल, प्रदीप ग्यावली और छबील बिश्कर्मा, महासचिव बिष्णु पोडेल, गृह मंत्री राम बहादुर थापा, और उप प्रधानमंत्री ईश्वर पोखरा शामिल हैं

सेनाओं को है पूरी छूट मोदी ने दिलाया विश्वास. कोई पोस्ट किसी के कब्जे नहीं,


पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कहा,’मैं आपको भी आश्वस्त कर रहा हूं कि हमारी सेना देश की रक्षा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है. सभी दलों ने दिखाई एकता, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने मांगा हालात का पूरा ब्योरा.

नई दिल्ली: भारत चीन सीमा पर स्थिति के संबंध में पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार शाम को सर्वदलीय बैठक बुलाई. इस बैठक में सभी दलों ने एकजुटता दिखाई. बैठक में हिस्सा लेते हुए बाद पीएम मोदी ने कहा,’लद्दाख में हमारे 20 जांबाज शहीद हुए, लेकिन जिन्होंने भारत माता की तरफ आंख उठाकर देखा था, उन्हें वो सबक सिखाकर गए. उनका ये शौर्य, ये बलिदान हमेशा हर भारतीय के मन में अमिट रहेगा’

पीएम ने एलएसी की स्थिति को स्पष्ट करते हुए कहा,’न वहां कोई हमारी सीमा में घुस आया है और न ही कोई घुसा हुआ है, न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है.’

एक इंच जमीन की तरफ कोई आंख उठाकर नहीं देख सकता

पीएम मोदी ने कहा,’मैं आपको भी आश्वस्त कर रहा हूं कि हमारी सेना देश की रक्षा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है.
डेवलपमेंट हो, एक्शन हो, काउंटर एक्शन हो,जल-थल-नभ में हमारी सेनाओं को देश की रक्षा के लिए जो करना है, वो कर रही है.

आज हमारे पास ये क्षमता है कि कोई भी हमारी एक इंच जमीन की तरफ आंख उठाकर भी नहीं देख सकता. आज भारत की सेनाएं, अलग-अलग सेक्टर्स में, एक साथ मूव करने में भी सक्षम है.ऐसे में,हमने जहां एक तरफ सेना को अपने स्तर पर उचित कदम उठाने की छूट दी है, वहीं दूसरी तरफ डिप्लोमैटिक माध्यमों से भी चीन को अपनी बात दो टूक स्पष्ट कर दी है’

उन्होंने आगे कहा,’जिन क्षेत्रों पर पहले बहुत नजर नहीं रहती थी, अब वहां भी हमारे जवान, अच्छी तरह से मॉनिटर कर पा रहे हैं, रिस्पोंड कर पा रहे हैं. अब तक जिनको कोई पूछता नहीं था, कोई रोकता-टोकता नहीं था, अब हमारे जवान डगर-डगर पर उन्हें रोकते हैं, टोकते हैं तो तनाव बढ़ता है.

पीएम ने आगे यह भी कहा कि, बेहतर हो रहे इंफ्रास्ट्रक्चर से एक मदद ये भी मिली है कि हमारे जवान, जो उस कठिन परिस्थिति में वहां तैनात रहते हैं, उन्हें साजो-सामान पहुंचाने में, आसानी हुई है.

चाहे ट्रेड हो, कनेक्टिविटी हो, काउंटर टेरेरिज्म हो, भारत ने कभी किसी बाहरी दबाव को स्वीकार नहीं किया है.राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जो भी ज़रूरी कार्य हैं, जो भी जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण है, उसे इसी तरह तेज गति से आगे भी किया जाता रहेगा.

हालांकि इस बैठक में सभी पार्टी प्रमुखों ने पीएम के साथ होने की बात कही लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सरकार के साथ होने की बात तो कही लेकिन वह लगातार हमलावर बनी रहीं. उन्होंने पीएम से पूछा कि क्या ये हमारे इंटेलीजेंस का फ्लेयोर नहीं है.

21 जून को होगा साल का पहला सूर्यग्रहण, 12 घंटे लगेगा सूतक, इन 4 राशियों के लिए होगा शुभ.

साल का पहला सूर्यग्रहण 21 जून को है। इस दिन मंदिर दोपहर तक बंद रहेंगे। सुबह करीब 10:30 बजे से शुरू होने वाला ग्रहण 3 घंटे से भी अधिक समय तक रहेगा। सूतक 12 घंटे पहले यानी शनिवार की रात 10 बजे से लग जाएगा। जब सूतक लगता है तो पूजा नहीं होती है।

21 जून को लगने वाला साल का यह पहला सूर्यग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में लगेगा। सूर्य ग्रहण के दिन 6 ग्रह शनि, गुरु, शुक्र, बुध, वक्री होंगे। राहु, केतु वक्री रहते हैं। सूर्य ग्रहण में 30 दिन नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। इसके नकारात्मक प्रभाव से प्राकृतिक आपदाएं, समुद्री तूफान, भूकंप,, बाढ़ आदि के अलावा सीमा पर तनाव हो सकता है।

किन राशियों पर पड़ेगा शुभ प्रभाव : इस ग्रहण का मेष, सिंह, कन्या और मकर के लिए शुभ कारक बताया जा रहा है और अन्य राशियों के लिए ग्रहण कष्टदाई रहेगा।

ग्रहण काल के दौरान करें जाप : ग्रहण के दौरान महामृत्युंजय मंत्र के जाप के साथ भगवान शिव और विष्णु के मंत्रों का जाप करना चाहिए। सूतक काल में देवी देवताओं की मूर्तियां न छुएं, सूतक काल से ही गर्भवती महिलाओं को कटाई, सिलाई से बचना चाहिए।

शिवपुरी में अब केवल 2 कोरोना पोजिटिव सभी रिपोर्ट नेगेटिव

शिवपुरी। जिले में अब केवल दो कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीज है। शुक्रवार को 4 और मरीजों को स्वस्थ कर घर भेजा गया। कुल स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की संख्या 22 हो गयी है। शुक्रवार को प्राप्त सभी 46 रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.ए.एल.शर्मा ने बताया कि शुक्रवार को सभी 46 रिपोर्ट नेगेटिव आई है। अभी तक 1 लाख 5 हजार 901 से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की गई है और 2515 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, जिनमें से 2435 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। जिले में पाॅजीटिव केस की संख्या 24 थी, जिनमें से 22 लोग स्वस्थ्य होकर अपने घर जा चुके है।