ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना

नई दिल्‍ली कोरोना वायरस का संक्रमण देश में तेजी से बढ़ता ही जा रहा है। रोज नए-नए मामले बढ़ रहे हैं। अब इस वायरस के संक्रमण की चपेट में भाजपा नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया और उनकी मां भी आ गए हैं।  

मध्यप्रदेश के गुना से पूर्व सांसद और भाजपा के वरिष्‍ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को कोरोना हो गया है। उन्‍हें इलाज के लिए मैक्‍स अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। अस्‍पताल ने उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव होने की पुष्‍टि कर दी है। दिल्‍ली के साकेत मैक्‍स असपताल में फिलहाल इनका इलाज चल रहा है। बता दें कि साकेत का मैक्‍स अस्‍पताल कोविड-19 असप्‍ताल में तब्‍दील है, ताकि यह कोरोना की जंग में और बेहतर तरीके से अपनी सेवा दे।

दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल का होगा कोरोना टेस्‍ट

बता दें कि दिल्‍ली ही नहीं पूरे देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रह हैं। इधर, दिल्‍ली में सीएम अरविंद केजरीवाल को भी बुखार और गले में खराश के कारण कोविड-19 का टेस्‍ट कराना होगा। उनका टेस्‍ट आज शाम को होगा।

भाजपा के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता संबित पात्रा को हुअा था कोरोना

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा को भी कोरोना हुआ था। उन्‍होंने आठ जून को कोरोना को मात देकर अस्‍पताल से छुट्टी मिली थी। उन्‍हें गुरुग्राम के मेंदाता अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनका टेस्‍ट कराया गया जिसके बाद कोरोना की टेस्‍ट में रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। इधर बता दें कि कोरोना बीमारी से पूरी तहर ठीक होने के बाद भी कुछ दिनों तक घर में ही क्‍वारंटाइन रहना होगा।

पाक का सवाल- लद्दाख में क्यों सर्जिकल स्ट्राइक नहीं करता भारत?

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने जुबानी जंग में भारत के खिलाफ पलटवार किया है. कुरैशी ने भारत के गृह मंत्री अमित शाह से सवाल पूछा है कि वे लद्दाख के बारे में क्या सोचते हैं? भारत लद्दाख पर सर्जिकल स्ट्राइक क्यों नहीं करता है? बता दें कि कुछ दिन पहले लद्दाख क्षेत्र में भारत-चीन सीमा पर तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी. 

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा- ‘मैं अमित शाह को ये साफ कर देना चाहता हूं कि अगर भारत ने हमला करने की गलती की (पाकिस्तान पर) तो हम मुंहतोड़ जवाब देंगे. अगर भारत हमला करता है, तुरंत जवाबी कार्रवाई होगी.’

भारत के गृह मंत्री अमित शाह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए सोमवार को शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि भारत को खाली धमकी देना बंद करना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि अमित शाह का बयान गैर जिम्मेदाराना है और दुनिया को ये देखना चाहिए.

geo.tv की रिपोर्ट के मुताबिक, कुरैशी ने यह भी कहा- ‘भारत को पाकिस्तान पर एयरस्ट्राइक की गलती नहीं करनी चाहिए क्योंकि इस्लामाबाद को पता है कि उसे अपनी रक्षा कैसे करनी है.’

कुरैशी ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा- ‘पाकिस्तान ने हमेशा शांति की बात की है. लेकिन भारत निर्दोष लोगों की जान से खेल रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार से अल्पसंख्यक असंतुष्ट हैं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी अपनी असफलता छिपाने के लिए पाकिस्तान को दोषी ठहराने की कोशिश कर रही है.’

कुरैशी ने कहा- ‘भारत की आर्थिक स्थिति खराब हो गई है. कश्मीर में भारत का जुल्म चरम पर पहुंच गया है. भारत अफगान शांति वार्ता को भी नुकसान पहुंचाना चाहता है.”

बता दें कि कुछ दिनों पहले लद्दाख क्षेत्र में भारत और चीन सीमा पर तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी. हालांकि, अब दोनों देश बातचीत के जरिए हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं. 

बोर्ड की परीक्षा/ प्रवेश पत्र के बाद भी कुछ छात्र रोल नंबर नहीं मिलने से परेशान हुए

ग्वालियर/भोपाल. एमपी बोर्ड की 12वीं कक्षा के बचे हुए पेपरों की परीक्षाएं आज से शुरू हो गईं। इसमें शामिल हो रहे प्रदेशभर के करीब साढ़े 8 लाख छात्रों के लिए 4 हजार केंद्र बनाए गए हैं। भोपाल के शासकीय सुभाष उच्चतर माध्यमिक उत्कृष्ट स्कूल शिवाजी नगर में परीक्षा शुरू होने के डेढ़ घंटे पहले ही छात्र-छात्राएं पहुंच गए।सबके चेहरे पर मास्क और हाथ में सैनिटाइजर की बोतल नजर आई। हालांकि, इस दौरान कुछ छात्र केंद्र में रोल नंबर नहीं मिलने के कारण परेशान भी होते दिखे। प्रबंधन द्वारा स्कूल के बाहर छात्रों का रोल नंबर और उसके सामने उनके बैठने वाले रूम की जानकारी का एक बोर्ड लगाया गया था। थर्मल स्क्रीनिंग करने के बाद छात्रों को केंद्र में प्रवेश दिया गया। इस बार शिक्षकों की कम संख्या में ड्यूटी लगाई गई। सिर्फ गेट पर ही एक अधिकारी और शिक्षक बच्चों की मदद के लिए खड़े हैं। इससे पहले हर परीक्षा रूम में कम से कम दो शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जाती रही है।

कुछ छात्र पेपर देने बैग लेकर पहुंचे, तो स्कूल के अलग कमरे में बैग रखवा दिए गए। इसके साथ छात्रों को अगले पेपर में अपने साथ बैग नहीं लगाने की सलाह दी गई। बच्चों को सिर्फ सैनिटाइजर, ग्लब्ज, मास्क, पानी की बोतल और परीक्षा के लिए पेन आदि के रखने की ही अनुमति है।स्कूल के गेट पर ही छात्रों की लाइन लगवाई गई। छात्रों के हाथ सैनिटाइज कराने के बाद उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई। शरीर का तापमान सामन्य आने के बाद ही उन्हें प्रवेश दिया। कोरोना लक्षण वाले छात्रों को सामान्य बच्चों से दूर दूसरे कमरों में बैठने की व्यवस्था भी की गई है। सोशल डिस्टेंसिंग समेत अन्य बातों का पालन करने के लिए सुरक्षा गार्ड और शिक्षकों द्वारा लगातार बच्चों को बताया गया।

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच लद्दाख में दो सड़को पर काम कर रहा भारत

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारत भारत पूर्वी लद्दाख में चीन की सीमा के पास दो प्रमुख सड़कों पर काम कर रहा है। पहली सड़क दरबूक-श्योक-दौलत बेग ओल्डी (डीएस-डीबीओ) है जो देश के उत्तरी-सबसे चौकी, दौलत बेग ओल्डी को कनेक्टिविटी प्रदान करती है, दूसरी सड़क जो ससोमा से सेसर ला तक बनाई जा रही है, अंततः काराकोरम पास के पास डीबीओ को एक वैकल्पिक मार्ग प्रदान कर सकती है।  

दोनों परियोजनाओं को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा क्रियान्वित किया जा रहा है, जो रणनीतिक सड़कों के निर्माण के लिए लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में चीन की सीमा के पास के क्षेत्रों में 11,815 श्रमिकों को पार कर रहा है,

दोनों परियोजनाओं को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा क्रियान्वित किया जा रहा है, जो रणनीतिक सड़कों के निर्माण के लिए लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में चीन की सीमा के पास के क्षेत्रों में 11,815 श्रमिकों से काम ले रहा है। भारत लद्दाख सेक्टर सहित आगे के क्षेत्रों में रणनीतिक सड़क परियोजनाओं में बाधा डालने के लिए चीन के साथ सीमा टकराव की अनुमति नहीं दे रहा है, जहां वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ चार स्थानों पर दोनों राष्ट्रों के सैनिक भिड़ गए थे।

इधर, भारत ने चीन के साथ सीमा विवाद और उससे निपटने के प्रयासों पर अपने परंपरागत मित्र देश रूस और प्रमुख रणनीतिक साझेदार अमेरिका को भरोसे में लिया है। दोनों देशों को घटनाक्रम से अवगत कराया गया है। जानकार इसे भारत की अहम मुद्दों पर मित्र देशों को अपडेट करने और भरोसा हासिल करने की रणनीति से जोड़कर देख रहे हैं।

सूत्रों ने कहा, “भारत ने पिछले कुछ महीनों में देश मे सभी बड़े घटनाक्रम पर मित्र देशों को जानकारी दी है और उन्हें भरोसे में लिया है। कश्मीर में धारा 370 समाप्त होने के बाद भी भारत ने बड़े पैमाने पर कूटनीतिक कवायद करते हुए पाकिस्तान के दुष्प्रचार एजेंडा को ध्वस्त किया था।” सूत्रों ने कहा चीन के साथ सीमा विवाद पर दुनिया के कई देशों की निगाह है।

बिना मास्क के पूर्व मंत्रियों से मिले घूमे ,हेल्थ मिनिस्टर , ककार्यवाही के लिए दिए नोटिस

ग्वालियर

मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री ओर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा एक बार फिर विवादों में है। नरोत्तम पर आरोप है, कि वह सूबे के स्वास्थ्य मंत्री है….. लेकिन कोरोना के नियमों का पालन नही कर रहे है। जिसको लेकर ग्वालियर के एक सीनियर एडवोकेट उमेश बोहरे ने प्रदेश के मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव हेल्थ, डीजीपी ओर ग्वालियर एसपी को नोटिस भेजा है। जिसमें उन्होनें नरोत्तम मिश्रा पर जुर्माना लगाने के साथ-साथ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है। साथ ही चेतावनी भी दी है, कि अगर 15 दिवस में कार्रवाई नही होती है, तो वह हाईकोर्ट मे इस मामले को लेकर जाएंगे। दरअसल उमेश बोहरे ने अपने नोटिस में 7 जून रविवार की नरोत्तम मिश्रा की ग्वालियर यात्रा को आधार बनाया है। जिसमें उन्होनें ने कहा है कि गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा अंचल के दौरे पर थे। लेकिन वह बिना मास्क लगाए प्रदेश सरकार के 4 पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा, माया सिंह, जयभान सिंह पवैया ओर नारायण सिंह कुशवाह से मिलने उनके घर गए थे। लेकिन उन्होनें मुलाकत के दौरान मास्क नही लगाया है, न सोशल डिस्टेंसिग का पालन किया है।

घर – घर जाकर कार्यकर्ताओं की नब्ज जांच रहे है बिसेन और मलैया

भले ही मध्यप्रदेश में होने वाले 24 उपचुनाव के लिए तारीखों का ऐलान नहीं हुआ हो लेकिन बीजेपी ने विधानसभा स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसी के लिए बीजेपी ने विधानसभा प्रभारी भी नियुक्त कर दिए हैं और यह विधानसभा प्रभारी अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में पहुंचकर माइक्रोमैनेजमेंट में भी जुट गए हैं। इसी कड़ी में ग्वालियर विधानसभा सीट के प्रभारी पूर्व मंत्री जयंत मलैया आज ग्वालियर पहुंचे और ग्वालियर के प्रमुख कार्यकर्ताओं के घर जाकर मुलाकात की, इसके साथ ही उन्होंने पार्टी दफ्तर में भी कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात की, वही ग्वालियर विधानसभा से 2018 के चुनाव में प्रत्याशी रहे जयभान सिंह पवैया से भी मुलाकात की। मीडिया से बात करते हुए जयंत मलैया ने कहा कि मध्य प्रदेश में सत्ता उसी की होगी जिसकी अभी सत्ता है,वह दो-तीन दिन यहां रुकेंगे ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर करेंगे,कुछ नेताओं के पार्टी छोड़े जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि गिने-चुने लोग ही है जो पार्टी छोड़कर जा रहे हैं, भारतीय जनता पार्टी को किसी कार्यकर्ता की बगावत से कोई फर्क नहीं पड़ता है,वही उपचुनाव में पुराने कार्यकर्ताओं के टिकिट न दिए जाने पर बगावत की आशंका पर कहा कि पार्टी के सभी कार्यकर्ता चुनाव नही लड़ते कुछ लोग ही होते हैं जो चुनाव लड़ना चाहते हैं, वैसे तो बगावत की कोई उम्मीद नहीं है लेकिन यदि कुछ ऐसा होगा तो पार्टी नाराज कार्यकर्ताओं के साथ बैठकर उन्हें मना लेगी।पार्टी में कहीं कोई डैमेज का नहीं है यह तो कांग्रेस की सोच है। उन्हें पूरी उम्मीद है कि जब पार्टी अपना प्रत्याशी घोषित कर देगी तो सभी लोग एकजुटता के साथ उप चुनाव लड़ेंगे।

गौरतलब है कि भाजपा द्वारा ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र के उप चुनाव प्रभारी बनाये गए पूर्व मंत्री गौरी शंकर बिसेन कल से ही बैठके ले रहे हैं ।

तारक मेहता का उलटा चश्मा: असल जिंदगी में करोड़ों के मालिक हैं पोपटलाल….

सब टीवी का फेमस शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ लोगों के बीच जितना पॉपुलर है, उसके किरदार भी उतने ही लोगों को पसन्द हैं. शो में पत्रकार पोपटलाल का किरदार निभाने वाले एक्टर श्याम पाठक अपनी अदाकारी से लोगों को अपना फैन बना चुके हैं. शो में उनके हाथ में हमेशा एक छतरी नजर आती है और उन्हें हर छोटी-छोटी बात पर गुस्सा आ जाता है. लेकिन क्या आप जानते शो में उन्हें बहुत ही कंजूस आदमी की तरह दिखाया गया है, मगर पोपटलाल असल जिंदगी में करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं.

एक्टर श्याम पाठक के पास 15 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी है. इसके साथ ही श्याम 50 लाख रुपये की मर्सिडीज कार के भी मालिक हैं. तारक मेहता का उल्टा चश्मा के हर एपिसोड के लिए श्याम पाठक उर्फ पोपटलाल करीब 60 हजार रुपए फीस लेते हैं.

पर्सनल लाइफ की बात करें तो शो में पोपटलाल कुंवारे हैं, लेकिन एक्टर असल जिंदगी में शादीशुदा हैं और बहुत खुश हैं. पोपटलाल सिर्फ शादीशुदा ही नहीं, बल्कि तीन बच्‍चों के पिता भी हैं. श्‍याम पाठक नेशनल स्‍कूल ऑफ ड्रामा के स्‍टूडेंट रह चुके हैं. यहीं उन्‍हें अपनी साथी रेशमी से प्‍यार हुआ. आगे चलकर श्‍याम ने रेशमी से शादी कर ली. श्‍याम पाठक की बेटी का नाम नियति और बड़े बेटे का नाम पार्थ है. जबकि उनके छोटे बेटे का नाम शिवम है. साल 2015 में वह अपने तीसरे बच्‍चे के पिता बने हैं.

श्याम पाठक ने एक इंटरव्यू में बताया था कि असल जिंदगी में मैं काफी इंट्रोवर्ट हूं, जिसका एक हंसता खेलता परिवार है. काम में बारे में बात करते हुए श्याम ने कहा, मैं भविष्य में अलग-अलग भूमिकाएं करना चाहता हूं लेकिन, अभी मेरा फोकस सिर्फ तारक मेहता का उल्टा चश्मा पर ही है.

‘तारक मेहता…’ के पोपटलाल यानी श्याम पाठक ने ‘जसुबेन जयंतीलाल जोशी की जॉइंट फैमिली’ और ‘सुख बाय चांस’ जैसे शोज में भी काम किया है. इसके अलावा पोपटलाल चाइनीज़ फिल्म ‘लस्ट, कॉशन’ में काम किया था. साल 2007 में आई इस फिल्म में वह सुनार यानी जूलरी शॉपकीपर बने थे. फर्राटेदार इंग्लिश बोलने वाले शॉपकीपर के किरदार में पोपटलाल यानी श्याम पाठक जंच गए थे. इस फिल्म में श्याम पाठक के अलावा बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर भी नजर आए थे.

बता दें कि श्याम पाठक चार्टेड अकाउंटेंट बनना चाहते थे और इसके लिए उन्होंने इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया में एडमिशन भी लिया. लेकिन एक्टिंग का चस्का लगते ही उन्होंने पढ़ाई बीच में छोड़ दी और नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में आ गए. यहीं से उनके करियर की दिशा बदल गई.

MP Post Office Recruitment 2020 | मध्य प्रदेश पोस्ट ऑफिस 2834 पदों पर सीधी भर्ती

Mp Post Office Recruitment 2020 मध्य प्रदेश पोस्टल सर्कल के अंतर्गत Mp Postal Circle Jobs की तलाश कर रहे बेरोजगार महिला-पुरुष अभ्यार्थियों को Mp Gramin Dak Sevak Bharti पाने का सुनहरा अवसर , दरअसल हाल ही में मध्य प्रदेश पोस्ट ऑफिस विभाग द्वारा ग्रामीण डाक सेवक , ब्रांच पोस्ट मास्टर , असिस्टेंट ब्रांच पोस्ट मास्टर पदों पर भर्ती हेतु नोटिफिकेशन प्रकाशित किया है। Mp Postal Circle Vacancy के योग्य एवं इच्छुक अभ्यर्थी जो Government Of Madhya Pradesh Postal Circle द्वारा निर्धारित शैक्षणिक योग्यता की पात्रता रखते हैं अंतिम तिथि के पूर्व संपूर्ण दस्तावेजों के साथ निर्धारित प्रारूप में मध्य प्रदेश राज्य के मूलनिवासी Mp Post Office Job Online Application Form प्रस्तुत कर सकते हैं। Mp Post Office Recruitment से जुड़ी ऑफिशल नोटिफिकेशन अवलोकन कर लेवे। इसके अलावा अपडेट प्राप्त कर सकते हैं।

Government Jobs In Mp Postal Circle Notification

Mp Gramin Dak Sevak Job Details
Company Name :- मध्य प्रदेश पोस्टल सर्कल
Name of Post :- ग्रामीण डाक सेवक
Total Job :- 2834 पद
Experience :- फ्रेशर एवं अनुभवी
Education :- 10वी / 12वी पास
Starting Date :- 08/06/2020
Close Date :- 07/07/2020
» View Full Details
Mp Branch Post Master Vacancy Details
Company Name :- एमपी पोस्टल सर्कल
Name of Post :- ब्रांच पोस्ट मास्टर
Total Job :- 2834 पद
Experience :- फ्रेशर एवं अनुभवी
Education :- 10वी / 12वी पास
Starting Date :- 08/06/2020
Close Date :- 07/07/2020
» View Full Details
Mp Assistant Branch Post Master Online Form
Company Name :- मध्य प्रदेश पोस्टल सर्कल
Name of Post :- ग्रामीण डाक सेवक
Total Job :- 2834 पद
Experience :- फ्रेशर एवं अनुभवी
Education :- 10वी / 12वी पास
Starting Date :- 08/06/2020
Close Date :- 07/07/2020
» View Full Details

आवेदन फार्म शुल्क विवरण
वर्ग का नाम शुल्क
सामान्य :- 100/- रुपया
अन्य पिछड़ा वर्ग :- 100/- रुपया
अनु. जाति / अनु. जनजाति :- –
How To Apply Mp Postal Circle Job Online Application Form Process

ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?सबसे पहले उपर दिए हुए View Full Details लिंक को क्लिक करके ऑफिशल नोटिफिकेशन अवलोकन करें।

उसके बाद Mp Gds Vacancy Online Form लिंक को क्लिक करें।

अब आपके सामने Open Form में अपनी संपूर्ण जानकारी Fill Up करें।

उसके बाद Submit Button पर क्लिक कर संबंधित विभाग को Payment करें।

अब आपके आवेदन फॉर्म सफलतापूर्वक सबमिट हो गया होगअब आप भविष्य के लिए एक प्रति Print कर ले / Pdf File Save कर ले।
ईमेल में फ्री जॉब अलर्ट पाने के लिए क्लिक करें
सिलेक्शन प्रक्रिया
Mp Postal Circle Sarkari Naukri में 10वीं 12वीं के अंकों के आधार पर कैंडिडेट का सिलेक्शन होगा, चयन प्रक्रिया की सम्पूर्ण जानकारी के लिए नीचे Mp Postal Circle Official Notification जरूर चेक करें।
» व्हाट्सएप ग्रुप जॉइन लिंक
महत्वपूर्ण निर्देश
सभी उम्मीदवारों से अनुरोध है कि Mp Post Office Employment News ऑफिशल नोटिफिकेशन भली भांति पढ़ लेवे उसके बाद ही संबंधित Department को फॉर्म अप्लाई करें। जनहित में आप अपने Friends के पास Social Media के माध्यम से Share करें.

अब इन वाहनों में हरा स्टिकर लगाना होगा अनिवार्य, एक अक्टूबर से लागू होगा यह नियम

देश में बीएस 4 वाहनों को बैन कर अब सिर्फ बीएस 6 वाहनों (BS-6 Vehicles Registration) का ही रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। यह नियम बन चुका है। जिस को लेकर सभी कंपनियों ने (BS-6 Vehicles) बीएस-6 वाहनों को तैयार करने के साथ ही मार्केट में उतारना भी शुरू कर दिया है। इसबीच ही नई बात ये है कि बीएस-6 वाहनों पर एक हरे रंग का स्टीकर (Green Sticker) लगाना अनिवार्य होगा। इसकी वजह इस नियम को सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय (Ministry of Road Transport and Highways)द्वारा जारी करना है। इतना ही नहीं एक अक्टूबर से 2020 से BS-6 उत्सर्जन मानकों का अनुपालन करने वाले वाहनों की तीसरी रजिस्ट्रेशन प्लेट के ऊपर एक सेमी की हरी पट्टी लगानी होगी। यह आदेश मोटर वाहन (हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स) 2018 में संशोधन के जरिये जारी किया गया है।

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट नहीं की जा सकेगी छेड़छाड़

वहीं बता दें कि पिछले साल यानि 2019 में सरकार ने वाहनों पर (High Security Registration Plate’s) हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स लगाने का आदेश जारी किया था। जिससे वाहनों की नंबर प्लेट से किसी भी तरह की छेड़छाड़ नहीं की जा सकें। इसके साथ ही वाहनों की वाहनों की पहचान अलग से हो सके। इसके साथ ही HSRP के तहत एक क्रोमियम आधारित (Hologram) होलोग्राम, नंबर प्लेट के टॉप लेफ्ट कॉर्नर पर आगे-पीछे दोनों ओर लगाया जाता है। इसके अलावा रजिस्ट्रेशन प्लेट पर बॉटम लेफ्ट साइड में रिफ्लेक्टिव शीटिंग में न्यूनतम 10 अंकों के साथ परमानेंट आइडेंटिफिकेशन नंबर की लेजर ब्रांडिंग भी रहना अनिवार्य किया गया है। साथ ही तीसरी नंबर प्लेट में वाहन में इस्तेमाल होने वाले ईंधन के अनुसार कलर कोडिंग भी होगी। कलर कोडिंग से प्रदूषण फैलाने वाले नंबर की पहचान हो सकेगी।

पेट्रोल और सीएनजी नंबरों पर अलग से होगी कोडिंग

वहीं जानकारी के अनुसार, बीएस 6 पेट्रोल या सीएनजी वाहनों पर हल्के नीले रंग की कलर कोडिंग होगी। जबकि डीज़ल वाहनों पर यह कोडिंग केसरिया रंग की होगी। जिसे वाहनों की अलग से ही पहचान की जा सकें।