भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी ने अपने जन्म दिवस पर पूर्व मंत्री माया सिंह ,ध्यानेन्द्र सिंह से आर्शीवाद लिया.

🔹

ग्वालियर।आज प्रातःभारतीय जनता पार्टी के नव नियुक्त जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी ने अपने जन्म दिवस पर पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह एवं ध्यानेन्द्र सिंह सेआशीर्वाद लेने उनके निवास रानी महल पहुंचे ओर पुष्पहार पहनाकर आर्शीवाद प्राप्त किया.
पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कमल माखीजानी को तिलक लगाया ओर आर्शीवाद प्रदान किया साथ ही ध्यानेन्द्र सिंह से भी आर्शीवाद लिया.इनके सुपुत्र ओर भाजपा नेता पीताम्बर प्रताप सिंह ने भी बधाई ओर शुभकामना प्रदान की.

इस अबसर पर उपस्थित भाजपा के अनेक नेताओं के समक्ष ग्वालियर के विकास पर भी पूर्व मंत्री माया सिंह ओर ध्यानेन्द्र सिहं ने विस्तार से चर्चा की साथ ही भाजपा कार्यकर्ताओं की तथा नगर की प्रत्येक समस्या के निदान करने की बात जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी से कही ओर दिशा निद्रेश भी प्रदान किये।


➖➖➖

कोरोना अपडेट: बीते 24 घंटे में अब तक सबसे ज्यादा 8392 नए मामले, 230 की मौत, 1,90,535 हुई मरीजों की कुल संख्या

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से आज सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में कोरोना वायरस मरीज़ों की कुल संख्या बढ़कर 1,90,535 हो गई है.


नई दिल्ली: भारत में कोरोना  के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से आज सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में मरीज़ों की कुल संख्या बढ़कर 1,90,535 हो गई है और जबकि इस वायरस से अब तक 5394 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि राहत की बात यह है कि 91819 मरीज कोरोना को मात देने में कामयाब हुए हैं. वहीं पिछले 24 घंटों में आए नए मामलों की बात करें तो आपको बता दें कि पिछले 24 घंटों में 8392 नए मामले सामने आए हैं, वहीं 230 लोगों की मौत हुई है. यह एक दिन में आए अब तक के सबसे ज्यादा मामले हैं. रिकवरी रेट 48.19 फीसदी हो गया है. 

बता दें कि देश में आज से लॉकडाउन का अगला चरण शुरू होगा जो कि 30 जून तक चलेगा. सरकार ने इसे लॉकडाउन के बजाय अनलॉक 1 कहा है. इस चरण में सरकार ने कन्टेनमेंट जोन को छोड़कर बाकी जगहों पर मॉल और रेस्टोरेंट को भी खोलने की इजाजत दे दी है. अब 8 जून से मॉल और रेस्टोरेंट खुल सकेंगे. गृह मंत्रालय (एमएचए) ने कन्टेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्रों को फिर से खोलने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं. ये दिशानिर्देश आज से लागू होंगे और 30 जून तक प्रभावी रहेंगे

भारत न बने अमेरिका से जारी कोल्ड वॉर का हिस्सा: चीन


नई दिल्ली, 

चीन ने कहा है कि बेहतर होगा कि भारत इस कोल्ड वॉर से बाहर रहे जिससे कि दोनों देशों के बीच चल रहे व्यापारिक संबंध बने रहें. चीन ने कहा है कि भारत के साथ व्यापारिक संबंध बेहतर बनाए रखना ही उसका लक्ष्य है.

सकारात्मक विचारधारा के साथ आगे बढ़े मोदी सरकारराजनीतिक कारणों से आर्थिक नुकसान ठीक नहीं

चीन और अमेरिका के बीच काफी समय से ट्रेड वॉर चल रहा है. वहीं पिछले कुछ दिनों में भारत और अमेरिका के बीच संबंध भी ज्यादा मजबूत हुए हैं. इसलिए चीन ने भारत को सख्त हिदायत देते हुए कहा है कि वो अमेरिका-चीन के बीच चल रहे कोल्ड वॉर से दूर रहे. चीनी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने भारत को सलाह देते हुए लिखा है कि अच्छा होगा अगर भारत, अमेरिका-चीन के मामलों से दूर रहे. चीन ने चेतावनी के लहजे में लिखा है कि अगर भारत, अमेरिका का साझीदार बनकर चीन के खिलाफ कुछ भी करता है तो कोरोना महामारी के बीच आर्थिक परिणाम बेहद खराब होंगे.

भारत के पड़ोसी देश चीन ने कहा है कि बेहतर होगा कि भारत इस कोल्ड वॉर से बाहर रहे जिससे कि दोनों देशों के बीच चल रहे व्यापारिक संबंध बने रहें. चीन का कहना है कि भारत के साथ व्यापारिक संबंध बेहतर बनाए रखना ही उसका लक्ष्य है. इसलिए चीन आगे भी भारत में चल रहे आर्थिक सुधार के लिए दोनों देशों के बीच के संबंध को बेहतर बनाए रखेगा.

चीन ने आगे चेतावनी देते हुए कहा है कि चीन वैसी किसी भी परिस्थिति से बचना चाहता है जिसमें राजनीतिक कारणों से भारत को आर्थिक दुष्परिणाम भुगतने पड़ें. इसलिए मोदी सरकार को भारत-चीन के बीच के संबंध को लेकर एक सकारात्मक विचारधारा के साथ आगे बढ़ना चाहिए.

चीन ने भारत को सिर्फ आर्थिक परिणाम भुगतने की चेतावनी ही नहीं दी है, बल्कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लॉकडाउन हटाए जाने को लेकर भी दिल्ली का उपहास बनाया है.

वहीं हाल ही में अमेरिका के प्रस्ताव को लेकर चीन के सरकारी मीडिया ने कहा है कि चीन और भारत को वर्तमान में सीमा पर जारी गतिरोध को हल करने के लिए अमेरिका की सहायता की जरूरत नहीं है.

इससे पहले लद्दाख क्षेत्र में भारत-चीन सेना के बीाच तनाव को देखते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दोनों देशों के बीच मध्यस्थता की पेशकश की थी. ट्रंप ने एक ट्वीट में कहा था, ‘हमने भारत और चीन दोनों को सूचित किया है कि अमेरिका सीमा विवाद में मध्यस्थता करने के लिए तैयार, इच्छुक और सक्षम है.’

हालांकि चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से ट्रंप के ट्वीट के जवाब में कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आयी है. लेकिन सरकारी समाचारपत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने एक लेख में लिखा कि दोनों देशों को राष्ट्रपति ट्रंप की ऐसी सहायता की जरूरत नहीं है. हालिया विवाद को भारत और चीन द्विपक्षीय वार्ता से सुलझाने में सक्षम हैं. दोनों देशों को अमेरिका से सतर्क रहना चाहिए जो कि क्षेत्र में शांति और सद्भाव को बिगाड़ने के अवसर की तलाश में रहता है.

पाकिस्तान उच्चायोग के दो अधिकारी जासूसी कर रहे थे भारत छोड़ने के आदेश

भारत ने सख्त ऐतराज दर्ज कराया है. यह पहला मौका नहीं है जब भारत में जासूसी नेटवर्क चलाने की साजिशों के तार नई दिल्ली स्थित पाक उच्चायोग से जुड़े हुए पाए गए हैं.

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के काल में भी पाकिस्तान अपनी करतूतों से बाज़ नहीं आता. पाक उच्चायोग के दो अधिकारियों को रविवार को जासूसी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप में पकड़ा गया है. भारत ने पाक उच्चायोग के दोनों अधिकारियों को 24 घण्टे के भीतर देश छोड़ने को कहा है. विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के उच्चायोग प्रभारी को तलब कर इन करतूतों पर भारत का सख्त ऐतराज दर्ज कराया है.

सूत्रों के मुताबिक, उच्चायोग के वीज़ा विभाग में तैनात आबिद हुसैन, ताहिर हुसैन को राजनयिक मिशन के सदस्यों के रूप में जासूसी गतिविधियों में लिप्त होने के चलते परसोना-नॉन-ग्रेटा यानी अवांछित व्यक्ति घोषित किया है. उन्हें चौबीस घंटों के भीतर देश छोड़ने के लिए कहा है.

भारत ने पाकिस्तानी उच्चायोग प्रमुख को तलब कर यह चेतावनी भी दे है कि उनके राजनयिक मिशन का कोई भी कर्मचारी भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त न हो और अपनी राजनयिक हैसियत का गलत इस्तेमाल न करे.

हालांकि, यह पहला मौका नहीं है जब भारत में जासूसी नेटवर्क चलाने की साजिशों के नई दिल्ली स्थित पाक उच्चायोग से जुड़े तार उजागर हुए हैं. इससे पहले 2016 में भी पाक उच्चायोग के एक राजनयिक को रंगे हाथों पकड़ा गया था. उसे भी परसोना-नॉन-ग्रेटा करार देते हुए भारत से निकाला गया था.

सीमा विवाद पर चीन से राजनयिक और सैन्य वार्ता जारी : अमित शाह

लद्दाख में चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद पर बोलते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह का कहना है कि चीन से कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर बातचीत चल रही है.

अमित शाह का मानना है कि जल्द ही इस पूरे मामले को सुलझा लिया जाएगा.

नई दिल्लीः केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मौजूदा सीमा विवाद को लेकर चीन के साथ कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर बातचीत चल रही है और उन्हें उम्मीद है कि इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा. इसके साथ ही पाकिस्तान को स्पष्ट चेतावनी में, शाह ने कहा कि भारत अपनी सीमाओं पर किसी भी उल्लंघन को बर्दाश्त नहीं करेगा और ऐसे कदमों का उचित जवाब दिया जाएगा.

शाह ने कहा, ”अभी कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर संवाद चल रहे हैं और मुझे विश्वास है कि यह मुद्दा हल हो जाएगा.” शाह ने लद्दाख और कुछ अन्य क्षेत्रों में चीन के साथ सीमा विवाद औऱ दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़पों के वीडियो और तस्वीरों के बारे में पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे, गृह मंत्री ने कहा ”नरेंद्र मोदी सरकार अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को कमजोर नहीं होने देगी और देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए सभी कदम उठाएगी. इस संबंध में किसी को भी कोई संदेह नहीं होना चाहिए.”

सीमा पर पाकिस्तान की हरकतों के बारे में पूछे जाने पर, शाह ने कहा कि भारत ने कभी भी विस्तारवादी नीति नहीं अपनायी है लेकिन वह अपनी सीमाओं पर किसी भी उल्लंघन को बर्दाश्त नहीं करेगा. शाह ने कहा ‘अगर कोई ऐसा करने की कोशिश करता है, तो हम मुंहतोड़ जवाब देंगे. यह हमारा कर्तव्य और जिम्मेदारी है.’ कोविड-19 के खिलाफ चल रही लड़ाई का उल्लेख करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार इस महामारी के प्रकोप का मुकाबला करने में सफल रही है. उन्होंने कहा ‘यह पता नहीं है कि टीके और दवा कब तक आएगी. लोग कब तक अपने घरों में रहेंगे? मैं कह सकता हूं कि भारत और नरेंद्र मोदी की कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई अब तक सफल रही है.’

पूरा देश एक साथ और एक दिमाग से लड़ रहा है- शाह

शाह ने कहा कि पूरा देश एक साथ और एक दिमाग से लड़ रहा है, इसलिए कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई सफल रही है. उन्होंने कहा ‘जहां तक ​​अनलॉक-1 की बात है, राज्य, जिले, पंचायत, आशा कार्यकर्ता तैयार हैं. कोविड से लड़ने के लिए एक सेना तैयार है.’ गृह मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार, प्रधानमंत्री और वह खुद इस बात से दुखी थे कि कुछ प्रवासी मजदूरों को पैदल घर जाना पड़ा जबकि उनके परिवहन के लिए व्यवस्था की जा रही थी.

उन्होंने कहा ‘हो सकता है कि यह गलत संचार या जागरूकता की कमी के कारण हुआ. लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि रेलवे द्वारा लगभग 4,000 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं, जिनसे यात्रा कर 50 लाख से अधिक लोग अपने-अपने घरों तक पहुंच चुके हैं. इसके अलावा करीब 40 लाख लोगों ने अपने गंतव्यों तक पहुंचने के लिए बसों का उपयोग किया.’ शाह ने कहा ‘मैं रेलवे को बधाई देना चाहता हूं कि रूटीन ड्राइवर नहीं होने के बावजूद वे इतनी सारी श्रमिक ट्रेनें चलाने में कामयाब रहे.’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा केंद्र सरकार की नीतियों की आलोचना किए जाने के बारे में पूछे जाने पर, शाह ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई हो या चक्रवात से निपटना, पश्चिम बंगाल में चीजें सही आकार में नहीं थीं. उन्होंने कहा ‘एक बात निश्चित है कि आने वाले दिनों में भाजपा पश्चिम बंगाल में सरकार बनाएगी. बंगाल के लोग बदलाव की प्रतीक्षा कर रहे हैं.’

6 जून से प्रारंभ होगा आषाढ़ माह, इस महीने आते हैं ये खास त्योहार

आषाढ़ माह के व्रत-त्योहार
आषाढ़ का महीना हिन्दू पंचांग का चौथा महीना है। स्वास्थ्य के नजरिए से यह माह ठीक नहीं होता है। दरअसल आषाढ़ माह संधि काल का महीना है, इसी महीने से वर्षा ऋतु की शुरुआत होती है। इसलिए इस महीने में रोगों का संक्रमण सर्वाधिक होता है। इस महीने से वातावरण में थोड़ी सी नमी आनी शुरू हो जाती है। पूर्णिमांत को अनुसार, आषाढ़ माह 6 जून से प्रारंभ होगा और 5 जुलाई 2020 को समाप्त होगा।
आषाढ़ मास के प्रमुख त्योहारों में जगन्नाथ रथयात्रा है। इस महीने में सूर्य और देवी की भी उपासना की जाती है और इसी महीने देवशयनी एकादशी के दिन से श्री हरि विष्णु शयन के लिए चले जाते हैं जिसके कारण अगले चार माह तक शुभ कार्यों को करने की मनाही है। तो चलिए जानते हैं इस महीने पड़ने वाले त्योहार और उनकी तारीखें –
6 जून – गुरु हरगोविंद सिंह जयंती
8 जून – गणेश चतुर्थी
13 जून – शीतलाष्टमी बसौरा त्योहार
15 जून – मिथुन संक्रांति
17 जून – योगिनी एकादशी
18 जून – प्रदोष व्रत
19 जून – शिव चतुर्दशी व्रत और संत नामदेव पुण्य स्मरण दिवस
20 जून – आषाढ़ अमावस्या
21 जून – हलहारिणी, आषाढ़ी, विश्व योग दिवस और खंडग्रास सूर्यग्रहण
23 जून – भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा
24 जून – विनायकी चतुर्थी व्रत
26 जून – स्कंध षष्ठी, सांई टेऊराम जयंती
27 जून – मां ताप्ती जयंती रहेगी और वैवस्वत मनु पूजन दिवस रहेगा।
28 जून – मासिक दुर्गाष्टमी
29 जून – भड़ली नवमी
1 जुलाई – देवशयनी एकादशी
5 जुलाई – आषाढ़ पूर्णिमा