उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस में बड़ा बदलाव, 11 जिलों में की नए अध्यक्षों की नियुक्ति

उपचुनाव की तैयारी कांग्रेस ने भी तेज कर दी है। बीजेपी के बाद कांग्रेस ने भी जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की है। कांग्रेस ने भी 11 जगहों पर नए जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की है। 11 में से 5 ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाले इलाके के हैं। इसकी सूची कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने जारी कर दी है।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने सोनिया गांधी की मंजूरी के बाद 11 जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की है।

श्योपुर में अतुल चौहान

2- ग्वालियर ग्रामीण में अशोक सिंह

3- विदिशा में कमल सिलाकरी

4- सीहोर में बलबीर तोमर

5- रतलाम शहर में महेंद्र कटारिया

6- शिवपुरी में श्रीप्रकाश शर्मा

7- गुना शहर में मानसिंह पसरोदा

8- गुना ग्रामीण में हरी विजयवर्गीय

9- होशंगाबाद में सत्येंद्र फौजदार

10- सिंगरौली शहर में अरविंद सिंह चंदेल

11- देवास ग्रामीण में अशोक पटेल

24 सीटों पर हैं उपचुनाव
मध्यप्रदेश में 24 सीटों पर उपचुनाव हैं। 24 में से 23 सीट पूर्व में कांग्रेस के पास थीं । उसमें से 22 वो सीट हैं, जो कांग्रेस छोड़कर सिंधिया के साथ बीजेपी में चले गए हैं। कांग्रेस जोर अजमाइश उन्हीं 22 सीटों पर कर रही है। इसे लेकर भोपाल में बैठे आला नेता भी रणनीति बनाने में जुटे हैं। बीजेपी 22 सीटों पर कांग्रेस छोड़कर आए पूर्व विधायकों को ही मैदान में उतारेगी।

ग्वालियर-चंबल में 16 सीट
उपचुनाव में 24 में से 22 सीट ग्वालियर-चंबल इलाके में हैं। ग्वालियर-चंबल इलाके में ज्योतिरादित्य सिंधिया का प्रभुत्व है। कांग्रेस के लिए उन्हीं 16 सीटों पर चुनावों जीतना सबसे बड़ी चुनौती है। ऐसे में कांग्रेस बीजेपी खेमे में सेंधमारी की तैयारी में हैं। कांग्रेस नाराज चल रहे कई बीजेपी नेताओं के संपर्क में है, जो भविष्य को लेकर चिंतितहैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ दावा भी कर चुके हैं कि बीजेपी के कई नेता उनके संपर्क में हैं।

बड़ी खबर: देश में 25 मई से शुरू होंगी घरेलू उड़ानें, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने किया एलान

बता दें कि देश में जो लॉकडाउन-4 लागू है वो 31 मई तक है लेकिन इस दौरान ही घरेलू उड़ानों को शुरू करने का फैसला किया गया है.

नई दिल्ली देश में 25 मई से घरेलू उड़ानें शुरू होंगी. नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि सभी एयपोर्ट इसके लिए तैयार रहें. उन्होंने ट्वीट करते हुए इस बात की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि यात्रियों के लिए स्पेशल ऑपरेटिंग प्रोसिजर मंत्रालय की तरफ से अलग से जारी की गई है.

बता दें कि देश में जो लॉकडाउन-4 लागू है वो 31 मई तक है लेकिन इस दौरान ही घरेलू उड़ानों को शुरू करने का फैसला किया गया है. नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट करते हुए कहा, ”25 मई से घरेलू उड़ानों को शुरू किया जाएगा. सभी एयरपोर्ट को 25 मई से सेवा देने के लिए तैयार रहने की सूचना दे दी गई है.”


इसस पहले 15 मई को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) ने यात्रियों के लिए कुछ दिशानिर्देश जारी किए गए थे. एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने छः सूत्रीय दिशानिर्देश जारी किया गया है. जिसमें ‘आरोगय सेतु एप’ डाउनलोड करना, वेब-चेकइन करना और बोर्डिंग पास का प्रिंट आउट लाना अनिवार्य है.

1. एएआई ने अपने दिशानिर्देश में कहा है कि यात्रियों के लिए आरोग्य सेतू एप डाउनलोड करना अनिवार्य होगा.
2. मास्क पहनने सहित दूसरे सुरक्षात्मक कदम उठाना जरूरी होगा.
3. मुसाफिरों को 4 फिट की सामाजिक दूरी यानि सोशल डिस्टेंसिंग मेंटन करना होगा.
4. बोर्डिंग कार्ड प्रिंटिग के बजाय वेब चेक इन करना होगा. और उसका प्रिंट आउट साथ रखना होगा.
5. मुसाफिरों को अपने हाथ समय समय पर धोना होगा या सैनिटाइज करना होगा. 350 ml की सैनेटाइज़र की बोतल हर समय अपने साथ रखनी होगी.
6. मुसाफिरों को एयरपोर्ट स्टॉफ के साथ सहयोग करना होगा.

सब्जी बेचने जा रहे किसानों के वाहन को ट्रक ने टक्कर मारी, 6 लोगों की मौत

इटावा. लॉकडाउन के बावजूद उत्तर प्रदेश में आए दिन हादसे हो रहे हैं। बुधवार तड़के इटावा में पिकअप गाड़ी को ट्रक ने टक्कर मार दी। हादसे में पिकअप सवार 6 किसानों की मौत हो गई, एक घायल हो गया। घायल किसान को सैफई मिनी पीजीआई में भर्ती करवाया है। पुलिस ने बताया कि किसान सब्जी बेचने के लिए नवीन मंडी जा रहे थे।

नेशनल हाइवे-2 पर फ्रेंड्स कॉलोनी इलाके में ये हादसा हो गया। पक्के बाग के पास ट्रक ने पिकअप को टक्कर मार दी। पिकअप में सवार किसान बकेवर थाना इलाके के थे। पुलिस ने ट्रक को जब्त कर उसके ड्राइवर और मालिक के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है।

नीमच में कोरोना से तीसरी मौत, मजदूरों को लेकर दमोह पहुंची ट्रेन

दिल्ली से प्रवासी मजदूरों को लेकर श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन दमोह पहुंची। इस दौरान जिला प्रशासन के आला अधिकारी वहां मौजूद रहे। मजदूरों की स्क्रीनिंग करने और मेडिकल चेकअप के बाद बसों से उनके गंतव्य की ओर रवाना किया गया। ट्रेन करीब 1366 मजदूरों को लेकर स्टेशन पहुंची जिनमें से 400 मजदूर दमोह के हैं।

सेंधवा में फिर मिले पांच कोरोना पॉजीटिव

सेंधवा शहर में फिर 5 कोरोना वायरस पॉजिटिव मिलने की खबर आई है। इनमें एक व्यक्ति शहर की नामी हस्ती है। 5 लोगों में तीन पुरुष और दो महिलाएं है। एक रामकटोरा क्षेत्र से और एक नालेपार क्षेत्र से है। वहीं 2 जवाहर गंज क्षेत्र से और एक लोहार पट्टी के पीछे वाले क्षेत्र से शामिल हैं। इन 5 कोरोना पॉजिटिव के साथ ही शहर में अब 12 कोरोना वायरस पॉजीटिव हो गए हैं।

कोरोना वायरस रेड जोन इंदौर के ग्रामीण क्षेत्रों में आज से शराब की दुकानें खुलना थी, लेकिन इन इलाकों शराब की दुकानें नहीं खुली हैं। फोटो इंदौर के करीब हातोद का है।

सीहोर के 65 लोगों को लेकर आ रही ट्रेन, स्वास्थ्य टीम पहुंची स्टेशन

सीहोर जिले के 65 लोगों को लेकर जयपुर से ट्रेन स्टेशन पहुंचने वाली है। ट्रेन से आए लोगों की जांच करने मौके पर स्वास्थ्य अमला पहुंच गया है। जांच के बाद इन लोगों को बसों के माध्यम से घर तक पहुंचाने की व्यवस्था भी जिला प्रशासन की ओर से की गई है।

इंदौर में 2715 कोरोना पॉजिटिव, अब तक 105 की मौत

इंदौर में कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2715 पहुंच गई है। कोरोना का संक्रमण शहर में बीते चार दिनों से एक ही जैसी रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। मंगलवार को 942 सैंपलों की जंच हुई जिनमें से 78 नए मरीज मिले। यानी संक्रमण की वर 8 फीसद बनी हुई है। इसको मिलाकर संक्रमितों की संख्या 2715 हो गई है। वहीं अब तक दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई। इसके साथ ही शहर में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 105 हो गई है। अब तक 1174 लोग स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक मंगलवार को 391 सैंपल लिए गए। इससे साफ है कि स्वास्थ्य विभाग ने सैंपलिंग की संख्या बढ़ा दी है। इसके पहले रविवार और सोमवार को सैंपल की संख्या 500 भी पार नहीं कर पा रही थी। इससे स्वास्थ्य विभाग पर सवाल खड़े होने लगे थे

चीन छोड़ आगरा आएगी जर्मन फुटवियर कंपनी, 10 हजार से ज्यादा को मिलेगा रोजगार

आगरा
दुनिया के 80 से ज्यादा देशों में फुटवियर सप्लाई करने वाली जर्मन कंपनी वॉन वेल्क्स चीन से अपना मैन्युफैक्चरिंग प्लांट शिफ्ट कर आगरा में यूनिट लगाएगी। आगरा में लगने वाली यूनिट से हर साल 30 लाख जोड़ी जूते बनाए जाएंगे। पहले चरण में कंपनी आगरा में 110 करोड़ रुपये का निवेश करेगी और 10 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा। जर्मन कंपनी भारत में लैट्रिक इंडस्ट्रीज के साथ मिलकर काम करेगी। कंपनी यह पूरा निवेश अगले दो साल में करेगी।

दूसरे चरण में एनसिलरी यूनिटतय योजना के अनुसार पहले चरण में जर्मन कंपनी आगरा में यूनिट लगाएगी। दूसरे चरण में एनसिलरी यूनिट लगाने का काम किया जाएगा। जो कंपनी को जरूरी रॉ मेटेरियल सप्लाई करेगी। एनसिलरी यूनिट में फुटवियर कंपनी के लिए सोल, स्पेशल फैब्रिक और केमिकल बनाए जाएंगे, जो मौजूदा समय में भारत में मौजूद नहीं हैं।

इसलिए चीन छोड़ रही कंपनी
चीन छोड़कर यूपी में कंपनी के निवेश करने की एक बड़ी वजह यह है कि यहां सस्ती और स्किल्ड लेबर है। इसके अलावा जूता निर्माण के लिए जरूरी रॉ मेटेरियल भी उपलब्ध है। वहीं, यूपी सरकार द्वारा निवेश को लेकर दी जाने वाली रियायत भी बड़ी वजह है। इसके अलावा आगरा फुटवियर निर्माण का एक बड़ा केंद्र है। इस कारण भी कंपनी ने जिले को अपनी यूनिट के लिए चुना है।

उपचुनाव में टिकट को लेकर कांग्रेस-भाजपा में कलह / अजय सिंह ने कमलनाथ के सामने कहा- चौधरी राकेश को टिकट दिया तो इस्तीफा दे दूंगा

भोपाल. पूर्व सीएम कमलनाथ के द्वारा मंगलवार को ग्वालियर-चंबल अंचल के पार्टी पदाधिकारियों की बुलाई बैठक में पार्टी की अंदरूनी कलई खुलकर सामने आ गई। पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने नाथ के सामने ही कह दिया कि कि भिंड जिले की मेहगांव सीट से यदि चौधरी राकेश सिंह को टिकट दिया गया तो वे इस्तीफा दे देंगे। नाथ ने बैठक 16 सीटों पर होने वाले उपचुनाव की तैयारियों को लेकर बुलाई थी। उन्होंने बैठक के शुरुआत में ही कह दिया था कि किसे टिकट दिया जाए, किसे नहीं यह सर्वे के बाद तय होगा। इस दौरान अजय सिंह ने कहा कि मेहगांव से तो यह प्रचारित किया जा रहा है कि चौधरी राकेश का टिकट हो गया है। नाथ ने कहा कि अभी टिकट किसी का फाइनल नहीं हुआ है सर्वे में जिसका नाम आएगा, उसे टिकट मिलेगा।

अजय सिंह ने कहा कि जो व्यक्ति चलते सदन में उप नेता रहते हुए पार्टी छोड़कर अविश्वास प्रस्ताव के दौरान भाजपा में चला जाए क्या ऐसे व्यक्ति को टिकट देना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर ऐसे लोगों को ही टिकट देना है तो फिर हमारी क्या जरूरत। यदि ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया जाता है तो मैं इस्तीफा दे दूंगा। सिंह का पूर्व मंत्री और भिंड जिले से वरिष्ठ विधायक डाॅ. गोविंद सिंह ने भी समर्थन किया। भिंड जिला अध्यक्ष जय श्रीराम बघेल ने तो यहां तक कह दिया कि यदि ऐसा होता है तो पूरे जिले में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के इस्तीफे हो जाएंगे। हालाकि इस बारे में अजय सिंह, डा.गोविंद सिंह और बघेल से संपर्क किया गया तो तीनों की ओर से कोई जवाब नहीं मिला।

मुरैना, ग्वालियर, शिवपुरी और भिंड जिले के करीब 40 पदाधिकारियों को चर्चा के लिए बुलाया था
पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत 22 पूर्व विधायकों के भाजपा में शामिल हो जाने से ग्वालयिर-चंबल अंचल में कांग्रेस को नए सिरे से जमावट करना पड़ रही है। इसी के चलते नाथ ने पूर्व मंत्री और विधायक डा.गोविंद सिंह, लाखन सिंह यादव, अपेक्स बैंक के अध्यक्ष अशोक सिंह समेत मुरैना, ग्वालियर, शिवपुरी और भिंड जिले के करीब 40 पदाधिकारियों को चर्चा के लिए बुलाया था। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के बड़े नेताओं के झगड़े आए दिन सामने आ रहे हैं।

यह है मामला 
वर्ष 2011-12 में भाजपा सरकार के खिलाफ नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था उस दौरान चलते विधानसभा सत्र में उपनेता रहे चौधरी राकेश ने कह दिया था कि वे अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन नहीं करते हैं। इस तरह कांग्रेस द्वारा लाया गया अविश्वास प्रस्ताव गिर गया था और राकेश ने भाजपा का दामन थाम लिया था। वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उनके छोटे भाई मुकेश चौधरी को मेहगांव से टिकट दिया और वे चुनाव जीत गए थे। 2018 में फिर भाजपा ने राकेश को भिंड से टिकट दिया जहां से वे हार गए थे उसके बाद से ही वे कांग्रेस में आने के लिए प्रयासरत थे। शिवपुरी में ज्योतिरादित्या सिंधिया ने जब लोकसभा का नामांकन भरा था तब चौधरी राकेश भाजपा छोड़कर कांग्रेस में आ गए थे।
सिंधिया के खिलाफ बयानबाजी
विधानसभा चुनाव-2018 के दौरान कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू पार्टी से बाहर हो सकते हैं। प्रेमचंद ने हाल ही में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके गुट के तुलसी सिलावट के विरोध में न केवल बयानबाजी की, बल्कि इंदौर जिले की सांवेर सीट पर जाकर पार्टी विरोधी गतिविधियों को अंजाम दिया। भाजपा प्रदेश हाईकमान ने इसे गंभीरता से लेते हुए प्रेमचंद को नोटिस दे दिया है। साथ ही स्पष्टीकरण के लिए सात दिन की मोहलत दी है।

अशोक नगर और शिवपुरी जिले की नदियों पर दो नए पुलों को मंजूरी

ग्वालियर संभाग में 892 लाख 26 हजार लागत से दो नदी पुलों का निर्माण और एक पुल की मरम्मत करने के कार्य की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। लोक निर्माण विभाग सेतु निर्माण संभाग द्वारा पुल निर्माण और मरम्मत करने वाली एजेन्सियों का निर्धारण किया जा रहा है।

सेतु निर्माण संभाग ग्वालियर द्वारा जानकारी दी गई कि अशोकनगर जिले की मुगावली तहसील में बम्होरी-खाकलोन मार्ग में वेलन नदी पर पहुँच मार्ग सहित उच्चस्तरीय पुल का निर्माण 448 लाख 9 हजार रुपये की लागत से होगा। शिवपुरी जिले के ग्राम उमरीकला के पास मनपुरा खोड मार्ग से महुअर नदी पर उच्चस्तरीय पुल का निर्माण 439 लाख 72 हजार रुपये से किया जायगा। ग्वालियर में छेवरा छिरेटा मार्ग में नोन नदी के जलमग्नीय पुल के विशेष मरम्मत के कार्य को 4 लाख 45 हजार रुपये से किया जाएगा। यह सभी कार्य निर्धारित समय-सीमा में पूरा करवाये जायगें।

लॉकडाउन में मिली ढील के साथ ही सक्रिय हुआ विपक्ष, सोनिया गांधी ने बुलाई महाबैठक

नई दिल्ली: कोरोनावायरस के चलते जारी लॉकडाउन 4.0 में सरकार द्वारा दी गई ढील के बाद विपक्षी सक्रियता नजर आने लगी है. कांग्रेस पार्टी ने देश के मौजूदा हालात को देखते हुए शुक्रवार को सभी विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है. इस बैठक के एजेंडे में सरकार द्वारा कोरोनावायरस महामारी निपटने के लिए उठाए गए कदमों, प्रवासी मजदूरों का मुद्दा, राज्यों के श्रम कानूनों के निलंबन और विभिन्न संसदीय समितियों की गतिविधियों पर रोक लगाने का मुद्दा शामिल है.

शुक्रवार को दोपहर 3 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित होने वाली बैठक में सरकार द्वारा दिए गए आर्थिक पैकेज और कोरोनावायरस महामारी को लेकर उठाए गए अन्य कदमों पर भी चर्चा होने की उम्मीद है. कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक के लिए 18 राजनीतिक दलों को निमंत्रण दिया है. डीएमके नेता एमके स्टालिन, लेफ्ट पार्टियां और ममता बनर्जी की टीएमसी ने भी इस बैठक में शामिल होने पर सहमति व्यक्त की है. 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘हम यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव विकल्प का पालन करेंगे कि विधायी  निरीक्षण हो और सरकार विपक्षी दलों के साथ मिलकर काम करे.’ मार्च में देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किए जाने से पहले संसद की कार्यवाही स्थगित कर दी गई थी. इसके बाद सरकार ने प्रशासन से जुड़े मुद्दों पर कई स्तर पर वीडियो कॉन्फ्रेंस की है. लेकिन इस दौरान संसद की किसी भी स्थायी समिति की बैठक नहीं हुई है. सरकार का तर्क है कि स्थायी समिति की बैठक कैमरे पर आयोजित नहीं की जा सकती. 

एक विपक्षी नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया, ‘नरेंद्र मोदी-अमित शाह के गठबंधन ने विपक्ष को अस्थिर कर दिया है.’ उन्होंने आगे कहा कि सरकार इस बैठक का विरोध कर रही है.  शशि थरूर, और आनंद शर्मा सहित कई कांग्रेस नेताओं ने पीठासीन अधिकारियों को पत्र लिखकर पूछा है कि इन बैठकों को वस्तुतः अनुमति दी जाए और या फिर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक हो. जिस प्रकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, स्पीकर और  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कर रहे हैं.

महामारी के दौरान अति-केंद्रीकरण के चलते सरकार की पहले से काफी आलोचना हो रही है. यह बताते हुए कि देश एक लोकतंत्र है, विपक्षी नेता सामान्य लोकतांत्रिक कार्यों को बनाए रखने में जुटे हैं. विशेष रूप से अब जबकि सरकार का ध्यान धीरे-धीरे लॉकडाउन प्रतिबंधों को कम करने पर है.

आपको बता दें कि मार्च महीने कोरोनावायरस के चलते लॉकडाउन की घोषणा का कांग्रेस के नेतृत्व में सभी राजनीतिक दलों ने स्वागत किया था और यह माना था कि इस वक्त इस महामारी पर काबू पाना पहली प्राथमिकता है. 

पिछले हफ्तों में, प्रवासी मजदूरों और राज्यों द्वारा श्रण कानूनों के निलंबन, राज्यों को केंद्र द्वारा वित्तीय सहायता में देरी जैसे मुद्दों को लेकर आरोप-प्रत्यारोप बढ़े हैं.

रेहड़ी वाले के पीट-पीटकर हाथ तोड़ डाले, आरोपी पुलिसवाले सस्पेंड

ग्वालियर. भितरवार इलाके में एक रेहड़ी वाले से मारपीट करने वाले दो पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है. इन पुलिसकर्मियों पर आरोप है कि इन्होंने एक रेहड़ीवाले को पीट-पीटकर उसके दोनों हाथ तोड़ डाले. एडीजीपी  के निर्देश पर दोनों को सस्पेंड  कर इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. कलेक्टर ने आश्वासन दिया है कि पीड़ित की आर्थिक सहायता की जाएगी.

भितरवार कस्बे में रहने वाला सूरज लोहपीटा लोहे का सामान बनाकर अपनी गुजर-बसर करता है. मंगलवार सुबह सूरज अपनी पत्नी और 3 साल की मासूम बेटी को बाइक पर बैठाकर पास के गांव लोहे का सामान बेचने जा रहा था. ग्वालियर-शिवपुरी जिले की सीमा स्थित बनियानी चेक पोस्ट पर पुलिस वालों ने उसे रोका. सूरज ने पुलिस को बताया कि वह पास के गांव में लोहे के सामान देने जा रहा है. लेकिन लॉकडाउन में बाहर निकलने को लेकर पुलिसवालों ने उसके साथ बुरा बर्ताव शुरू कर दिया.

सूरज का आरोप है कि जब उसने पुलिसवालों से बचने की कोशिश की, तो उन्होंने उसे डंडों से पीटना शुरू कर दिया. सूरज की पत्नी ने बीच-बचाव किया तो आरोपी पुलिसकर्मियों ने उसे भी पीटा. इस दौरान इनकी मासूम बेटी रोती रही, लेकिन पुलिस वालों ने  एक न सुनी. सूरज की चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग बड़ी संख्या में पहुंच गए और पुलिस के खिलाफ वहीं धरने पर बैठ गए.