प्रसूता कोमल जैसवानी कोरोना पॉजिटिव कौल नर्सिंग होम में मिली नर्सिंग होम में मचा हड़कंप

ग्वालियर.। जयपुर से आयी माधवगंज कमाठीपुरा के शीतला माता मंदिर के पास की निवासी कोमल जैसवानी अपनी डिलेवरी कराने के लिये शुक्रवार को कौल नर्सिंग पहुंची थी उसको पिछले दिनों से खांसी और बुखार के सिमटम्स मिलने के बाद सैम्पल लेकर जांच कराने के लिये भेजा जिसे शनिवार की सुबह रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जिला प्रशासन की ओर से इंसीडेंट कमाण्डर शिवानी पांडे, आरआई होतमसिंह यादव, शिवदयाल शर्मा को अपने साथ लेकर कौल नर्सिंग पहुंचीै। कौमल जैसवानी के मायके और ससुराल पक्ष के दोनों लोगों को होम क्वारंटाइन कराया जा रहा है।
इन्हें कराया गया होम क्वारंटाइन
ससुराल पक्ष
माधवगंज कमाठीपुरा के शीतला माता मंदिर के पास कोमल जैसवानी के ससुराल के पक्ष ससुर प्रहलाद, सास जैवन्ती, पति अनिल जैसवानी, बहु कोमल जैसवानी, नंनद कु. वर्षा, नंनद कवता कुकरेजा, नन्देऊ जगदीश कुकरेजा, बच्चे साहिल, 15 वर्ष आयु, साक्षी 11 वर्ष आदि।
मायका पक्ष
सिकंदरकंपू, अजयपुर रोड़, सरदार जी का कॉम्पलेक्स फ्लैट नम्बर सी-205 कौमल जैसवानी के पिता घनश्याम माखीजा, मा अंजू माखीजा, भाई सन्नी माखीजा, भाभी हीरत माखीजा आदि ।

प्रशानिक सूत्रों के अनुसार नर्सिंग होम ने यह टेस्ट अभी प्राइवेट कराया था । इसके पॉजिटिव होने की सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर पीड़िता का दूसरा सेम्पल लेकर जाँच के लिए भेजा है । इनके सभी परिजनों को कोरेंटइन करके ट्रेवल हिस्ट्री के अनुसार सबके सेम्पल लिए जाएंगे ।

युवती की हत्या कर लाश को फेंका

दतिया । शहर में एक महिला की लाश मिलने से सनसनी मचा गई है । आसपास के इलाके में दहशत का माहौल है ।

कुछ लोगों ने गोविंद गौशाला के पीछे एक युवती की लाश पड़ी देखी तो सनसनी फैल गई । लोगो ने इसकी सूचना पुलिस को दी । पुलिस ने मौके पर पहुंचकर कार्यवाही शुरू की तो पता चल कि यह लाश 19 साल की युवती रेखा वंशकार की है । लाश क्षत विक्षत अवस्था मे मिली । उसके कई हिस्से जानवर कहा गए । मृतका के परिजनों का आरोप है कि उज़के दोस्तो ने हत्या कर उसकी लाश फेंकी है । कोतवाली पुलिस जांच में जुटी है ।

राजस्थान, मध्यप्रदेश के उपर हवा का चक्रवाती घेरा, इस सप्ताह रहेगा आंधी—बारिश

जयपुर। पश्चिमी विक्षोभ का असर और अरब सागर के साथ बंगाल की खाड़ी से आ रही नमी के कारण राजस्थान और मध्यप्रदेश में उपर हवाओं के परिसंचरण से चक्रवाती घेरा विकसित हो गया है। इससे आने वाले चार दिन बारिश और तेज अंधड़ का सिलसिला चलेगा। हालांकि शुक्रवार को राजस्थान के कुछ जिलों में लू चलने की चेतावनी दी है। वहीं, 11 मई तक 20 जिलों में ओरेंज अलर्ट जारी किया है।
मौसम विशेषज्ञों के अनुसार एक साथ पांच सिस्टम सक्रिय होने के कारण अचानक तेज हवा के साथ बारिश की संभावना बन रही है। इसमें अंधड की गति 50 किमी प्रति घंटा होगी। 11 मई तक स्थिति ऐसी ही रहेगी। विशेषज्ञों के अनुसार यह प्री मानसून की गतिविधियां हैं। जो मई के पहले हफ्ते में सिस्टम बनने से लगातार हो रही है।

आखिर क्या कारण है
मौसम विशेषज्ञों के अनुसार हिमालय क्षेत्र में जमीन से 5.8 किमी उपर एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। इसके साथ ही राजस्थान के उपर चक्रवाती घेरा बना है। दूसरा च्रक्रवाती घेरा हरियाणा और यूपी के उपर सक्रिय है। वहीं तीसरा पूर्वी उत्तरप्रदेश और चौथा विदर्भ और बांग्लादेश के उपर है। विशेषज्ञों के अनुसार दक्षिणी भारत तक एक ट्रफ लाइन जा रही है। इसी के साथ अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से नमी आ रही है। इससे दोनों राज्यों के उपर चक्रवाती घेरा बन रहा है।
इन सिस्टम से आया मौसम में बदलाव
अंडमान सागर में कम दबाव का क्षेत्र बना। इससे आंध्र और ओडिशा से नमी मिली। बांग्लादेश के उपर चक्रवाती हवा के घेरे से झारखंड व बिहार से नमी आई। इससे राजस्थान और मध्यप्रदेश में सिस्टम सक्रिय हो गए।
राजस्थान के इन जिलों में ओरेंज अलर्ट यानी सचेत रहने की जरूरत
मौसम विभाग ने नौ, 10 और 11 मई को चूरू, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, बीकानेर, बाड़मेर, जालौर, सीकर, जयपुर, दौसा, धौलपुर, सवाईमाधोपुर, करौली, बारां, भरतपुर, अजमेर, अलवर, पाली, कोटा, बूंदी में अलर्ट जारी किया है। वहीं, शुक्रवार को बाड़मेर, जैसलमेर, जालौर में लू चलने की चेतावनी दी है।

पिछले कई दिनों से राजस्थान राज्य के कुछ भागों में थंडर स्टोर्म,ओलावृष्टि, बूंदा-बांदी के साथ कहीं कहीं हल्की से मध्यम स्तर की बारिश का दौर चल रहा है। इसमें बिजली गिरने के साथ अचानक तेज हवाओं चलती है। मार्च से मई के महीनों में इस तरह का मौसम रहना एक सामान्य घटना है
*मौसम विभाग

किसान सम्मान निधि से वंचित किसानों का सत्यापन शुरू

किसान सम्मान निधि से वंचित किसानों का सत्यापन शुरू
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभ से वंचित किसानों का सत्यापन एक बार फिर शुरू हो गया है। दस्तावेजों की खामियों के कारण लाभ से वंचित किसानों का डाटा भी अपडेट किया जा रहा है। जिले में बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं जिन्हें सम्मान निधि की कई किस्तें मिल चुकी हैं मगर अब इनके खाते में रकम आना बंद हो गई। शासन के निर्देश पर ऐसे किसानों का डाटा फिर से अपडेट किया जा रहा है। आवेदन की खामियों को दूर कराने के लिए ब्लॉक स्तर पर व्हाट्सएप नंबर जारी किए गए हैं। किसान इन नंबरों पर दस्तावेज भेज अपना आवेदन पत्र दुरुस्त करा सकते हैं। उप कृषि निदेशक अशोक कुमार ने बताया कि अप्रैल में ही सभी पात्र किसानों के खाते में पांचवीं किस्त की रकम भेज दी गई है। 1. 89 लाख किसानों के खाते में कुल 37 करोड़ 82 लाख रुपये भेजा गया है। अगस्त में भेजी जाने वाली छठी किस्त के लिए भी तैयारियां शुरू हो गई है।