कोरोना रेड जोन से शराब की दुकान चलाने आये सेल्स मेनों से स्क़ीनिंग के लिये बोलने पर आबकारी उपनिरीक्षक सस्पेंड


शिवपुरी एक खबर शिवपुरी आबकारी विभाग से आ रही है. यहां आबकारी की दुकानें नये ठेकेदार के द्वारा खोलनी थीं, इनको खोलने के लिये इंचार्ज आबकारी उपनिरीक्षक ने जब सेल्स मेनों से कोरोना स्क़ीनिंग के लिये बोला तो उनकी शिकायत उपर की गई और आबकारी आयुक्त ने सब इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया है.
चूंकि अगर सेल्समेन कोरोना संक़मित रेड जोन एरिया से आये हैं तो स्क़ीनिंग तो नियमानुसार बनती है. जब कि दूसरे जिलों से आने वाले प़त्येक व्यक्ति की जांच स्वास्थ विभाग द्वारा की जा रही है.
अगर सेल्समेन कोरोना संक़मित क्षेत्र से आये हैं तो जिले की स्थिति भयावह हो सकती है. अतः भविष्य में महामारी विकराल रुप धारण न करे इसके लिये हर उस व्यक्ति की स्क़ीनिंग जरुरी हो जाती है जो बाहर से आया हो.

बाजारों में उमड़ी भीड़ ,जिन्हें नही मिली छूट वे दुकाने भी खुलीं

ग्वालियर । हालांकि अभी लॉक डाउन 0.3 पूरा होने में दस दिन बाकी है और जिला रेड जोन में है बावजूद जिला प्रशासन ने गाइडलाइन के अनुसार लॉक डाउन से कुछ सेवाओ को मुक्त करने की रियायतें दी । इनके कारण बाजारों में भीड़ उमड़ने लगी । खास बात ये कि आज बाज़ार में ऐसी भी अनेक दुकाने भी खुलीं जिन्हें अभी इसकी इजाजत नही दी गई।

आज से जिला प्रशासन ने जरूरी सामान की आपूर्ति बहाल करने के लिए छोटी बड़ी किराना,जनरल स्टोर, आटा चक्की,पशु आहार,चश्मे और स्टेशनरी आदि की दुकानें निर्धारित समय मे खोलने का शेड्यूल जांरी किया था ।

इनके चलते बाज़ार में भीड़ उमड़ने लगी । स्टेशनरी की दुकानो पर भी आज जमकर भीड़ उमड़ी और किराना दुकानो पर । भीड़ के चलते यहां सोशल डिस्टेंन्सिग का कही पालन होते नही दिखा । इक्का दुक्का जगहों पर पुलिस इसके लिए लोगो को हड़काती भी दिखी ।

लेकिन बाज़ार में उमड़ी भीड़ और लंबे समय से तालाबंदी से उपजी आर्थिक तंगी से परेशान ऐसे दुकानदार भी आज दुकाने खोलकर बैठ गए जिन्हें आवश्यक श्रेणी में नही रखा गया है । कई इलेक्ट्रोनिक्स के शोरूम बगल की गैलरी या आधे शटर को खोलकर व्यापार करते दिखे वही मोबाइल की दुकान वाले बाहर खड़े होकर व्यापार करते नज़र आये ।

चोरी छिपे बिक रहे समोसा कचौड़ी

सरकार ने लॉक डाउन में खाने पीने के सभी सामान की दुकानो को खोलने पर रोक लगा रखी है जिससे एक माह तक शौकीन लोगो को समोसा,कचौड़िया नही मिल रही थी अब छोटे दुकानदारों ने इसका तोड़ निकाल लिया है वे स्कूटर और साइकिल के जरिये इसे बेच रहे है और अपने घर मे ही इन्हें तैयार कर रहै है ।

आन्ध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में एक बड़ी औद्योगिक दुर्घटना हो गई .

🔹

➖विशाखापटनम की इस घटना को भोपाल गैस त्रासदी की तरह भयावह माना जा रहा है ।
अभी सारे शहर में इधर उधर लोग गिरे पड़े हैं कोई 500 लोग अभी तक अस्पताल पहुँच चुके हैं । आठ लोगों की मौत हो चुकी है।

यह हादसा बीती रात दो बजे आर आर वैन्कत्पुरम स्थित एल जी के पोलिमर कारखाने में गेस रिसने से हुआ, गेस का सर चार किलोमाटर के दायरे में हैं शहर के अस्पतालों में एक -एक बेड पर चार -चार लोग है। आक्सीजन सिलेंडर की कमी हो गयी है ।
सन 1961 में बना यह प्लांट हिंदुस्तान पॉलिमर्स का था जिसका 1997 में दक्षिण कोरियाई कंपनी एलजी ने अधिग्रहण कर लिया था।लॉकडाउन की वजह से प्लांट काफी दिनों से बंद था। बुधवार को ही इसे दोबारा शुरू करने के लिए खोला गया था।

पुलिस ने आसपास के पाँच गाँवों को ख़ाली करा दिया है और उन्हें मेघाद्री गेड्डा और दूसरे सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया है. कइयों ने आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ़ होने की शिकायत की है. ख़ासकर बुज़ुर्गों और छोटे बच्चों को सांस लेने में परेशानी हो रही है।
जो गैस लीक हुई, वह पीवीसी यानी स्टाइरीन या ईथायिल बेंजीन कहलाती है। यह न्यूरो टॉक्सिन है। इसका केमिकल फॉर्मूला C6H5CH=CH2 होता है। यह सबसे लोकप्रिय ऑर्गनिक सॉल्वेंट बेंजीन से पैदा हुआ पानी की तरह बिना रंग वाला लिक्विड होता है। इसी से गैस निकलती है। यह दम घोंट देने वाली गैस है। यह सांसों के जरिए शरीर में चली जाए तो 10 मिनट में ही असर दिखाना शुरू कर देती है।
प्लांट में एक गैस चैम्बर और उसी के ठीक पास न्यूट्रिलाइजर चैम्बर है। जब 5 हजार टन की कैपेसिटी वाले टैंक से गैस लीक हुई तो न्यूट्रिलाइजर चैम्बर के जरिए उसे कंट्रोल करने की कोशिश की गई, लेकिन तब तक हालात बेकाबू हो चुके थे.
यह गैस पॉलिस्टाइरीन प्लास्टिक, फाइबर ग्लास, रबर और पाइप बनाने के प्लांट में इस्तेमाल होती है। दुनिया के सबसे ज्यादा उत्पादित होने वाले 50 रसायनों में से एक स्टायरिन प्लास्टिक, फोम और फिल्म के रूप में तैयार होता हैं .
फिलहाल सुंदर शहर विशाखापत्तनम में मौत नाच रही है।
🔹डा.भूपेन्द्र विकल.

बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय थे:बुद्ध.

▪बुद्ध पूर्णिमा पर विशेष.
●●●●●●●●●●●●●●●
🔹
➖डा.भूपेन्द्र विकल➖
आज से 3000 वर्ष पूर्व वैशाखी पूर्णिमा के दिन महामानव तथागत गौतम बुद्ध का अवतरण हुआ था।

उन्होंने दया, प्रेम, शांति कर समता का दर्शन देकर संपूर्ण विश्व को आलोकित किया। आज के दिन आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा और भारतवर्ष को गुरु होने का गोवव प्राप्त हुआ।
बुद्ध का जन्म एसे युग में हुआ था। जब समाज में जाति व्यवस्था जातिभेद प्रबंध हो रहा था ।धार्मिक, अंधविश्वास ,कर्मकांड व पाखंड का बोलबाला था। इस समय सामाजिक कुरीतियों से भारतीय समाज आहत हो रहा था। समाज का हर वर्ग प्रचलित व्यवस्था से दुखी था तथा समाज में आमूलचूल परिवर्तन के लिए उद्वेलित हो रहा था।
ऐसे समय में भगवान बुद्ध का आविर्भाव भारत भूमि पर हुआ। उन्होंने प्रचलित सामाजिक धार्मिक मान्यताओं का कड़ा विरोध किया और समता स्वतंत्रता वंधुता, नैतिकता ,वैज्ञानिक सोच की स्वस्थ परंपरा स्थापित की बुद्ध ने पंचशील द्वारा समाज में मानवता उत्तरजीवी मैत्री करुणा प्रेम शांति व क्षमता जैसे नैतिक मूल्यों की स्थापना की आज देश में जातिवाद को जलाने की बजाय खींचा जा रहा है।तमाम आधुनिक जीवन शैली के बावजूद धार्मिक, अंधविश्वास, कर्मकांड व पाखंड का अंधेरा गहराता जा रहा है।
हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार के रूप में नैतिकता का पतन हो रहा है।
विवेक , वैज्ञानिक सोच का गला घोंटा जा रहा है ऐसे दौर में बुध के चिंतन व दर्शन की प्रसंगिकता और भी बढ़ जाती है।
गौतम बुद्ध ने कहा था ‘मानव तुम शेर का सामना करना, सामने जाकर मुकाबला ही बहादुरी की परीक्षा है ।तुम तलवार का सामना करने से भी भयभीत मत होना व त्याग की कसौटी है। तुम धधकती ज्वाला उसे भी मत डरना यह स्वर्ण परीक्षा है। लेकिन शराब से हमेशा भयभीत रहना क्योंकि है बुराई है गरीबी व दुराचार की जननी है।’ वह को उस सम्यक मार्ग अनुसरण करने को कहते थे। लेकिन वह आवश्यकता से अधिक धन संग्रह की प्रवृत्ति के विरोधी थे। तृष्णा होगी तो बुराइयां पैदा होंगी ।जीवन में अच्छा आचरण यानी सदाचार बौद्ध धर्म सदाचार को ही सील कहा गया है। पंचशील सदाचार के पांच शुभम है जीव हिंसा करना, चोरी ना करना, तथा नशाखोरी से दूर रहना ।
गौतम बुद्ध ने कहा कि किसीबात को इसलिए मत मानो जोकि सदियों से होता आया है। इसलिए मत मानो कि किस धर्म के अंत में लिखा हुआ है ।
किसी साधू की बात को आंख बंद कर मत मान लेना। किसी बात को सिर्फ इसलिए मत मान लेना कि मैं तुमसे कह रहा हुँ, बल्कि हर बात को तर्क विवेक चिंतन की कसोटी पर तोलकर ही मानना है।
बुद्ध ने समाज में व्याप्त जड़ता धार्मिक दास्तां को खत्म कर व्यक्ति के स्वतंत्र चिंतन बुद्धि से करने की बात कही है ।
क्योंकि जो धर्म दिमागी गुलामी आता है ।चमत्कारों कल्पना अंधविश्वासों के सारे चलता है वह कतई आगे नहीं बढ़ सकता संसार मे।
बुद्ध के चिन्तन- विचार ने संसार को नई दिशा दी।आज के दिन बुद्ध के विषय मे जाने हम सभी इन्टरनेट से जान सकते है।हमे जानना चाहिए बुद्ध को …।
➖➖

एमपी के श्योपुर के हुल्लपुर गाँव मे भीषण आग लगी,

श्योपुर
एम्पी के श्योपुर में हुल्लपुर गाँव मे अचानक भडकी आग ने गांव के 20 घरों को अपनी चपेट में ले लिया जिससे ग्रामीणों के घर गृहस्थी का लाखो रुपयो का सामान जलकर खाक हो गया वही 5 मवेशी जिंदा जल गए आग की सूचना पर मौके पर पहुँची पुलिस और प्रशासन ने 4 दमकल वाहनों की मदद से 2 घण्टे कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया आग लगने की वजह साफ नही हो सकी है । प्रशासन ने आगजनी से हुए नुकसान का आंकलन कार्य शुरू कर दिया है।
-विजयपुर तहसील के हुल्लपुर गाँव मे बुधवार रात एक घर से आग की लपटें उठना शुरू हुई जो कुछ ही देर में 20 घरो तक जा पहुँची आग लगने की सूचना मिलते ही विजयपुर नगर परिषद की फायर बिग्रेड पहुँची साथ ही ग्रामीण भी आग बुझाने की कोशिशों में जुट गए लेकिन आग बुझने का नाम नही ले रही थी ऊपर से तेज़ आँधी से आग ने विकराल रूप ले लिया मौके पर पहुँचे अधिकारियों ने विजयपुर नगर परिषद की दमकल गाड़ी और ग्रामीणों की मदद से आग पर काबू पाने की कोशिशें भी नाकाम हो रही थी तो पड़ोसी जिलों शिवपुरी,मुरैना से भी दमकल वाहन बुलवाए तब जा कर 2 घण्टे बाद आग पर काबू पाया लेकिन तब तक 20 से ज्यादा ग्रामीणों के कच्चे घर और झोपड़ियां पूरी तरह खाक होगए और 5 मवेशी भी जिंदा जल गए ।

विदेश में फंसे भारतियों को वापस लाने के लिए तोमर ने विदेश मंत्री से की चर्चा

भोपाल | केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कोरोना वायरस के कारण ऑस्ट्रेलिया में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए विदेश मंत्री एस जयशंकर एवं नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी से आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध किया है।

एक अधिकारी ने बुधवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि तोमर ने जयशंकर एवं पुरी से इस मामले में आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध किया है। तोमर ने भोपाल निवासी राजेश मलिक द्वारा दिए गये एक पत्र को जयशंकर एवं पुरी को भेजा है। मलिक का बेटा किसी काम से ऑस्ट्रेलिया गया था लेकिन लॉकडाउन के चलते वहां फंस गया । इस पत्र में मलिक ने कुछ अन्य लोगों के नाम भी लिखे हैं, जो वहां फंस गये हैं और वापस लौटना चाहते हैं।

देश में बढ़ाया जा चुका है लॉकडाउन
कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए लॉकडाउन का देश में तीसरी बार विस्तार किया गया है. इसके अलावा देश में बस, ट्रेन और एयर सेवाओं पर पूरी तरह रोक लगाई गई है. इसके अलावा विदेशों से भारत आने वाले इंटरनेशनल फ्लाइट्स की उड़ान पर पूरी तरह रोक है. इस कारण दुनिया के कई देशों में फंसे भारतीय कई समस्याओं का सामना कर रहे हैं. इस मामले में केंद्र सरकार के हस्तक्षेप के बाद विदेशों में फंसे इन भारतीयों को देश वापस लाना संभव हो सकेगा| ऐसे में तोमर ने मानवीय आधार पर विदेश में परेशान हो रहे लोगों को वतन वापसी के लिए सार्थक पहल की है |

ग्वालियर और मुरैना में पांच-पांच नए कोरोना पॉजिटिव मिले

ग्वालियर और चम्बल दोनों संभागों के मुख्यालय पर वुधवार को कोरोना संक्रमण ने जबरदस्त हड़कंप मचाया । दोनों जिलों में आज एकमुश्त पकंच पांच कोरोना पॉजिटिव मरीज निकले ।

ग्वालियर जिले में आज एक साथ पांच नए कोरोना संक्रमित लोगो की पॉजिटिव निकली । पहली बार है जब जिले में एक साथ पांच पॉजिटिव आये हो । यह सभी पांचों मरीज उन्ही परिवारों के है जिनके एक एक सदस्य कोरोना संक्रमित है । सिल्वर स्टेट के निवासी शम्सी पहले ही पॉजिटिव थे आज उनके वृद्ध पिता ,पत्नी और बेटा भी पॉजिटिव निकल गए । शम्सी परिवार दिल्ली से अपने पिता का ऑपरेशन कराके लौटा था और कोरेंटइन मे था । इसी तरह दो पॉजिटिव मरीज डबरा पिछोर के उस ट्रक चालक के परिजन निकले जो पहले ही पॉजिटिव निकला था और उसका इलाज जांरी है । इस तरह अब ग्वालियर जिले में कोरोना एक्टिव मरीजों की संख्या 9 हो गई।

उधर मुरैना जिले  में कोरोना पाजीटिव हुए 23 , वुधवार को  आई रिपोर्ट में 2 स्टाफ नर्सों सहित अहमदाबाद व चैन्नई से आये 3 मरीज शामिल , आज 5 पाजीटिव , बीते माह 14 मरीज स्वस्थ्य होकर पहुंच चुके है घर , जिला चिकि्त्सालय में 9 मरीज ईलाजरत , चैन्नई से पाजीटिव होकर ट्रक से आया था ओनो मरीज , प्रवीण श्रीवास व उसका पिता हरीओम रहने वाले है सबलगढ के ,, अहमदाबाद से भी कोरोनटाईन से आया युवक मुरैना रविदास नगर का , मुरैना गणेशपुरा की रहने वाली है दौनो स्टाफ नर्स ।

दवा फैक्ट्री में गैस रिसाव से भगदड़, कई गाँव खाली,तीन की मौत

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम के आर.आर. वेंकटपुरम गांव में दक्षिण कोरिया की कंपनी एलजी के पॉलिमर प्लांट में रासायनिक गैस लीकेज की सूचना मिली है। जहरीली गैस के प्रभाव में आकर 3 लोगों की मौत हो गई है। गांव और आसपास के इलाकों के हजारों लोगों ने आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत की है। जिसके बाद लोगों को अस्पताल ले जाया जा रहा है। इसके साथ ही गांवों का खाली कराया जा रहा है। पुलिस, फायर ब्रिगेड, एंबुलेंस मौके पर पहुंची । अब स्थिति काबू में है ।

आंध्र प्रदेश स्थित विशाखापट्टनम में के आरएस वेंकटपुरम में एलजी पॉलिमर उद्योग में एक फार्मा कंपनी में रासायनिक गैस लीकेज का मामला सामने आया है. इसके बाद पूरे शहर में तनाव का माहौल है. अभी भी हालात नियंत्रण में नहीं हैं. स्थानीय प्रशासन और नेवी ने फैक्ट्री के पास के गांवों को खाली करा लिया है.

मौके पर विशाखापट्टनम के जिलाधिकारी वी विनय चंद पहुंच गए हैं और हालात पर नजर बनाए हुए हैं. उनका कहना है कि दो घंटे के अंदर हालात को नियंत्रण में कर लिया गया. कुछ लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है, उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट दिया जा रहा है.

बताया जा रहा है कि सरकारी अस्पताल में 150-170 लोग भर्ती कराए गए हैं. इसके अलावा कई लोगों को गोपालपुरम के प्राइवेट अस्पताल में भी भर्ती कराया गया है. 1500-2000 बेड की व्यवस्था कर ली गई है.

अगले 72 घंटों में भारी बारिश-ओलावृष्टि का अनुमान, मौसम विभाग ने 20 से ज्यादा राज्यों को किया अलर्ट

(Weather Alert) भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक, अगले 72 घटों में कई राज्‍यों में भारी बारिश/गरज के साथ छीटे, गरज-चमक, ओलावृष्टि हो सकती है. अगले तीन दिन तक ऐसा ही मौसम बने रहने की संभावना है.

देश में मॉनसून की शुरुआत अगले महीने से हो सकती है. लेकिन, इससे पहले ही देश में प्री-मॉनसून एक्टिविटी देखी जा रही है. हफ्ते की शुरुआत से ही प्री-मॉनसून काफी सक्रिय हो गया है और अगले 72 घंटों में प्री-मॉनसून जोरदार रूप ले सकती है. देश के 20 से ज्यादा राज्यों में भारी बारिश और ओलावृष्टि की संभावना है. मौसम विभाग का अनुमान है कि तेज बारिश के साथ धूल भरी आंधी भी कई राज्यों को प्रभावित कर सकती है.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक, अगले 72 घटों में कई राज्‍यों में भारी बारिश/गरज के साथ छीटे, गरज-चमक, ओलावृष्टि हो सकती है. अगले तीन दिन तक ऐसा ही मौसम बने रहने की संभावना है. इससे पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है. आंधी-तूफान, बिजली, तेज हवाओं के साथ खराब मौसम कई राज्यों को प्रभावित कर सकता है.

जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में अगले तीन दिनों तक आंधी-तूफान के साथ बारिश होने की संभावना है. वहीं, पूर्वोत्तर राज्यों असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल की पहाड़ियों और सिक्किम में भारी बारिश का अनुमान है. ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड के मैदानी इलाकों में मूसलाधार बारिश हो सकती है.

मौसम विभाग के मुताबिक, कई जगहों पर धूलभरी आंधी की संभावना है. ऐसी स्थिति में हवा की गति 50-60 किमी/घंटा हो सकती है. विशेषरूप से हरियाणा के अंबाला, भिवानी, चरखी दादरी, फतेहाबाद, गुरुग्राम, हिसार, झज्जर, जींद, कैथल, करनाल, कुरुक्षेत्र, पंचकुला, पानीपत, सोनीपत, यमुनानगर, पानीपत, रीवापत जिलों में तेज हवाओं के साथ धूल भरी आंधी चलने की संभावना है.

मौसम विभाग का कहना है कि पश्चिमी विक्षोभ, पाकिस्तान से उत्तर-पश्चिम भारत के रास्ते पर पहुंच गया है. एक चक्रवाती सिस्‍टम हरियाणा के ऊपर मंडरा रहा है. इसका असर उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में भी देखने को मिल सकता है.

थंडरस्टॉर्म गतिविधि पर है फोकस

बंगाल की खाड़ी में चक्रवात किसी भी समय विकसित हो सकता है. हालांकि, इसकी संभावनाएं काफी कम हैं. लेकिन, प्री-मॉनसून थंडरस्टॉर्म गतिविधि पर अब सारा फोकस है. भारत के कुछ राज्यों में हीट वेव की भी स्थिति बन रही है. इनमें तेलंगाना, विदर्भ जैसे इलाके शामिल हैं. यहां अगले दो दिनों तक ऐसी स्थिति बनी रह सकती है.