⭐उपचुनाव के कैम्पेनिंग मे सोशल मीडिया की भूमिका प्रभावशाली होगी :भानू प्रताप किरार.

🔹
➖डा.भूपेन्द्र विकल➖

इन्दोर।प्रदेश मे लोकडाउन के बाद 24 सीटो पर उपचुनाव होने है ।जिसमे से 22 सीट ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थको की है। ऐसे मे सभीराजनीतिक पार्टियाँ सीटो को अपने-अपने कब्जे मे लेने के लिए क्षेत्रीय जनता के बीच भरसक जद्दोजहद मे रहेंगी। क्योकि नतीजे जनता के मूढ़ पर आधारित होंगे।

उपचुनावों को ध्यान मे रखते हुए युवा पोलेटिक्स व डिजिटल ब्रांडिंग स्ट्रैटेजिस्ट भानुप्रताप किरार जो कि कई राजनेताओं के लिए चुनावी कैम्पेनिंग कर चुके उनसे जाना कि आज इंटरनेट के दौर मे एक नेता अपने क्षेत्र की जनता से कौन से माध्यमों से सीधे तौर पर जुड़ सकते है।

युवा रणनितिकार किरार ने बताया कि पिछले कई विधानसभा एवं लोकसभा चुनावों मे चुनाव कैम्पेनिंग डारेक्ट इंटरनेट से प्रभावित रही है, क्योंकि देश व प्रदेश मे लगभग सभी मतदाता सोशल मिडिया प्लेटफार्मो का उपयोग करते है और सभी जननेता भी फेसबुक, ट्विटर, टिकटोक, यूट्यूब, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लगभग मौजूद हैं और क्षेत्रीय जनता अपने नेताओ को इन प्लेटफार्म पर फोलो करती है जिससे उन्हें अपने नेता की दैनिक गतिविधियों का पता चलता है। हमने 2014 से लेकर अबतक के पिछले चुनावों मे अनुभव भी किया है कि सोशल मिडिया ने कई क्षेत्रों के नतीजों मे निर्णायक भूमिका निभाई है।

इंटरनेट के दौर मे एक सोशल मीडिया का माध्यम जनता से जननेता को सीधे संवाद स्थापित कराने मे सहायक हो सकता है। उपचुनाव मे नेता के पास समय सीमा की कमी होने पर ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रीय जनता तक पहुंचने मे ये प्लेटफार्म कारगर सिद्ध होंगे। फिलहाल लॉकडाउन मे इन माध्यमों का ताजा उदाहरण स्वयं माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी है एवं सभी बड़े राजनेता और सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री व क्षेत्रीय नेता भी जनता से संपर्क के लिए इन माध्यमों का उपयोग कर रहे है।

वाट्सएप और अन्य सोशल मैसेंजर का उपयोग जनसमास्याओ को सीधे जनता से पता करने मे जननेता उपयोग कर सकते है।

किरार ने बताया कि, अगर हम कहे कि ‘सफल चुनाव कैम्पेनिंग
से तात्पर्य एक नेता का उसकी क्षेत्रीय जनता के मध्य एक संतुलित जनसंपर्क है’ तो बिना इंटरनेट और सोशल मीडिया प्लेटफार्मो के उपयोग से ये आज की चुनावी शैली मे संभव नही है।

किरार ने ये भी बताया कि इंटरनेट के दौर मे ये सभी प्लेटफार्म तो हर क्षण अपनी क्षेत्रीय जनता से जुड़े रहने का एक त्वरित माध्यम है। नेता के प्रत्यक्ष संपर्क से जनता(मतदाता) रहती है ओर पूर्णतः संतुष्ट भी होती है।
उप चुनाव मे सोशल मीडिया की भूमिका प्रभावशाली रहेगी।
➖➖➖➖➖➖➖

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!