पुलिस नाका चेकिंग में प्याज से भरे ट्रक में छुपा कर लाए जा रहे थे 22 लोग

ग्वालियर । बेरोजगारी से परेशान लोग हर हाल में अपने गाँव लौटना चाह रहे है । इसके लिए वे ट्रक वालो को मनमाना पैसा देकर और नारकीय तरीके से भी अपने गांव की तरफ भाग रहे है । ऐसे ही प्याज से भरे एक ट्रक में भरकर जाते 22 लोगों को पुलिस ने रोका।

बताया गया कि चिरवाई नाका पर बैरिकेड डालकर चेकिंग की जा रही है । यहां एक ट्रक यूपी 93 एटी 0623 आया इसमें प्याज भरी हुई थी । बताया गया कि ट्रक इंदौर से प्याज लेकर चला है और मैनपुरी जा रहा है ।

पुलिस ने इंदौर का नाम सुना तो चौकी क्योंकि यही एमपी में कोरोना संक्रमण का सबसे बड़ा एपी सेंटर है । पुलिस ने तलाशी ली तो उसमें छुपाकर बैठाए गए 22 लोग निकले । इनमे महिलाये और बच्चे भी शामिल है ।

पुलिस ने सभी को उतारकर अधिकारियों को इसकी सूचना दी और सभी लोगो को पहले नाश्ता कराया फिर खाना खिलाया ।

ग्वालियर में बारिश के साथ जबरदस्त आंधी और ओलाबृष्टि

ग्वालियर । शहर में आज दिन भर रही भीषण गर्मी के बाद अचानक मौसम ने करवट ले ली । यहाँ अचानक तेज बरसात शुरू हुई जबकि शहर के अनेक इलाको में जबरदस्त ओलाबारी भी हो रही है ।

ग्वालियर में आज भीषण गर्मी थी और चिपचिपाहट भी हो रही थी । हालांकि मौसम विभाग पहले ही आंधी पानी का आगाज़ कर चुका था लेकिन शाम को आंधी तो नही आई लेकिन अचानक तेज बरसात शुरू हो गया । कम्पू,गुढा गुढी और माधोगंज क्षेत्र के कई इलाकों में जबरदस्त ओलावृष्टि भी हुई । लोगों ने ओले अपने हाथों में भरकर फ़ोटो खींचे और सोसल मीडिया पर डाले । हालांकि सिटी सेंटर इलाके में आंधी के साथ तेज बरसात तो जांरी है लेकिन ओले नही पड़े।

सेना ने कलेक्ट्रेट में किया कोरोना वारियर्स का सम्मान,थानों में बांटी मिठाई

ग्वालियर । भारत की तीनों सेनाओं ने आज देशभर में अपने अपने ढंग से कोरोना को हराने के जी जान से जुटे लोगो के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने के लिए आयोजन किये । विमानों से पुष्पवर्षा की । ग्वालियर में भी सेना और वायुसेना के अधिकारियों ने कोरोना वारियर्स का सम्मान किया ।

कलेक्ट्रेट पर सेना और वायुसेना के अधिकारियों के दस्ते ने पहुंचकर कोरोना से लड़ रहे प्रशासन और पुलिज़,स्वास्थ्य और अन्य सभी कर्मचारियो और अधिकारियों का अभिनंदन किया । यहां सोशल डिस्टेंसिंग के बीच सेना अफसरों ने कोरोना वारियर्स की देश की सेवा के लिए किए जा रहे कार्यो के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की ।

इसी तरह सेना के लोग आईजी ऑफिस आदि भी गए और उनका सम्मान किया ।

थानों में बांटी मिठाई

इधर सेना ने गोला का मंदिर,मुरार,महाराजपुरा आदि थानों में पहुंचकर कोरोना के खिलाफ दिन रात जंग लड़ रहै पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों को मिठाई खिलाकर उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की ।

⭐उपचुनाव के कैम्पेनिंग मे सोशल मीडिया की भूमिका प्रभावशाली होगी :भानू प्रताप किरार.

🔹
➖डा.भूपेन्द्र विकल➖

इन्दोर।प्रदेश मे लोकडाउन के बाद 24 सीटो पर उपचुनाव होने है ।जिसमे से 22 सीट ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थको की है। ऐसे मे सभीराजनीतिक पार्टियाँ सीटो को अपने-अपने कब्जे मे लेने के लिए क्षेत्रीय जनता के बीच भरसक जद्दोजहद मे रहेंगी। क्योकि नतीजे जनता के मूढ़ पर आधारित होंगे।

उपचुनावों को ध्यान मे रखते हुए युवा पोलेटिक्स व डिजिटल ब्रांडिंग स्ट्रैटेजिस्ट भानुप्रताप किरार जो कि कई राजनेताओं के लिए चुनावी कैम्पेनिंग कर चुके उनसे जाना कि आज इंटरनेट के दौर मे एक नेता अपने क्षेत्र की जनता से कौन से माध्यमों से सीधे तौर पर जुड़ सकते है।

युवा रणनितिकार किरार ने बताया कि पिछले कई विधानसभा एवं लोकसभा चुनावों मे चुनाव कैम्पेनिंग डारेक्ट इंटरनेट से प्रभावित रही है, क्योंकि देश व प्रदेश मे लगभग सभी मतदाता सोशल मिडिया प्लेटफार्मो का उपयोग करते है और सभी जननेता भी फेसबुक, ट्विटर, टिकटोक, यूट्यूब, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लगभग मौजूद हैं और क्षेत्रीय जनता अपने नेताओ को इन प्लेटफार्म पर फोलो करती है जिससे उन्हें अपने नेता की दैनिक गतिविधियों का पता चलता है। हमने 2014 से लेकर अबतक के पिछले चुनावों मे अनुभव भी किया है कि सोशल मिडिया ने कई क्षेत्रों के नतीजों मे निर्णायक भूमिका निभाई है।

इंटरनेट के दौर मे एक सोशल मीडिया का माध्यम जनता से जननेता को सीधे संवाद स्थापित कराने मे सहायक हो सकता है। उपचुनाव मे नेता के पास समय सीमा की कमी होने पर ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रीय जनता तक पहुंचने मे ये प्लेटफार्म कारगर सिद्ध होंगे। फिलहाल लॉकडाउन मे इन माध्यमों का ताजा उदाहरण स्वयं माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी है एवं सभी बड़े राजनेता और सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री व क्षेत्रीय नेता भी जनता से संपर्क के लिए इन माध्यमों का उपयोग कर रहे है।

वाट्सएप और अन्य सोशल मैसेंजर का उपयोग जनसमास्याओ को सीधे जनता से पता करने मे जननेता उपयोग कर सकते है।

किरार ने बताया कि, अगर हम कहे कि ‘सफल चुनाव कैम्पेनिंग
से तात्पर्य एक नेता का उसकी क्षेत्रीय जनता के मध्य एक संतुलित जनसंपर्क है’ तो बिना इंटरनेट और सोशल मीडिया प्लेटफार्मो के उपयोग से ये आज की चुनावी शैली मे संभव नही है।

किरार ने ये भी बताया कि इंटरनेट के दौर मे ये सभी प्लेटफार्म तो हर क्षण अपनी क्षेत्रीय जनता से जुड़े रहने का एक त्वरित माध्यम है। नेता के प्रत्यक्ष संपर्क से जनता(मतदाता) रहती है ओर पूर्णतः संतुष्ट भी होती है।
उप चुनाव मे सोशल मीडिया की भूमिका प्रभावशाली रहेगी।
➖➖➖➖➖➖➖

वरिष्ठ पत्रकार अमिश देवगन को धमकी, रिपोर्ट दर्ज, समर्थन में उतरे पत्रकार और कई पार्टियों के नेता

नई दिल्ली. नेटवर्क 18 के वरिष्ठ पत्रकार अमिश देवगन को फोन पर धमकियां मिली हैं. उन्होंने इसे लेकर नोएडा में एक रिपोर्ट दर्ज कराई है, जिसमें बताया है कि उन्हें लगातार मिडिल ईस्ट के देशों से फोन के जरिए धमकी दी जा रही है. देवगन ने कहा कि वो इन धमकियों से डरने वाले नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘कोरोना योद्धाओं की आवाज को उठाते रहेंगे. आज सुबह से मेरे पास कई अलग अलग फोन नंबर से कॉल आ रही हैं. ख़ास करके मिडिल ईस्ट (Middle east) से. उनसे मेरा कहना है कि अपने आकाओं को कह दो न डरे हैं न डरेंगे. भारत के लिए आख़िरी दम तक बोलेंगे.’ देवगन के समर्थन में कई पार्टी के नेता और पत्रकार उतर गए हैं. बीजेपी, कांग्रेस, सपा सहित कई पार्टियों ने ऐसी धमकियों की भर्त्सना की है.

अमिश देवगन ने अपने प्रोग्राम ‘आर-पार’ में एक क्लिप दिखाई थी. यह वीडियो उन्होंने मुंबई (Mumbai) के कुर्ला इलाके का बताया था. जहां दिख रहा था कि लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्या में लोग एक जगह पर इकट्ठा थे. जिसको समझाने पुलिस (police) पहुंची तो उन स्थानीय लोगों ने पुलिस वाले के साथ गाली गलौच करना शुरू कर दिया. इसी वीडियो पर जब अमिश देवगन ने ओवैसी की पार्टी AIMIM के पार्षद मुर्तजा से उनकी प्रतिक्रिया पूछी तो वह अमिश को चलते शो में धमकी देने लगे.

इस मामले के ठीक चंद घंटे बाद अमिश देवगन ने ट्विटर के जरिए बताया कि इस धमकी के बाद से उन्हें मिडिल ईस्ट के कई देशों से सीधे फोन करके धमकी दी जा रही है. इसके बाद अमिश के समर्थन में कई पार्टी के नेता और पत्रकार भी प्रतिक्रिया देने लगे.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने देवगन को धमकी के मामले में कहा, ‘जिसकी गलती होगी उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा और सख्त कार्रवाई की जाएगी.’ वहीं फिल्म मेकर अशोक पंडित ने कहा, देश तुम्हारे साथ है. इन गीदड़ धमकियों से मत डरो. यह तुम्हारी ईमानदारी से बौखलाए हुए हैं. देश तुम्हारे और तुम्हारे जैसे पत्रकारों के साथ है.’

उधर, सपा प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने कहा पत्रकार को धमकी देना बहुत गंभीर मामला है. कानून से ऊपर कोई नहीं हो सकता. कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा, किसी पत्रकार से सहमत या असहमत होना अलग बात है, लेकिन “पत्रकारों” को “धमकी” देना घोर निंदनीय और चिंता का विषय है, भारत सरकार को उनकी “सुरक्षा” व्यवस्था करनी चाहिए.

बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा, अमिश जी आप एक निडर और निर्भीक पत्रकार हो और पूरा देश आप के साथ खड़ा है. मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है. इस पर कोई प्रहार बर्दाश्त नहीं होगा. किसी को धमकी देना कानूनन अपराध है. कोई भी किसी भी पत्रकार को धमकी देगा तो उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई ज़रूर होगी.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कल से आप को डराया और धमकाया भी जा रहा है क्योंकि आपने AIMIM के पार्षद के गुंडागर्दी को एक्सपोज किया. यही यदि किसी तथाकथित “डिजाइनर” पत्रकार के साथ होता तो अभी तक अरब देशों तक गूंज चली जाती.

कोरोना से जंग जीतकर रसीद खान लौटे घर

ग्वालियर / गजराराजा मेडीकल कॉलेज ग्वालियर के सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल के चिकित्सकों, पैरामेडीकल स्टाफ, नर्सेज की लगन, मेहनत एवं सुपर स्पेशिलिटी चिकित्सालय में मिली चिकित्सा सेवाओं का परिणाम है कि चिकित्सालय में भर्ती श्योपुर के कोरोना पॉजिटिव मरीज श्री रसीद खान उपचार के उपरांत स्वस्थ होकर अब अपने घर श्योपुर में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।
श्री रसीद खान ने बताया कि नमूनों की जांच में कोरोना पॉजिटिव आने पर उपचार हेतु उन्हें सुपर स्पेशिलिटी चिकित्सालय में भर्ती किया गया। इलाज के बाद नमूनों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने पर छुट्टी होकर वे अपने घर पर 14 दिन के लिये होम क्वारंटाइन के तहत स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।
श्री रसीद खान ने बताया कि ईलाज के दौरान चिकित्सालय के चिकित्सकों, पैरामेडीकल स्टाफ एवं नर्सेज आदि का अच्छा व्यवहार एवं सकारात्मक सहयोग रहा है। चिकित्सालय में मिली बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं एवं सकारात्मक सोच के कारण स्वस्थ होकर वे अपने घर पहुँचे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना से घबराएं नहीं, बल्कि सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। कोरोना से बचने हेतु लोग घरों में ही रहें, लॉकडाउन का पालन करें और अपने चेहरे को मास्क या गमछा से अवश्य ढककर रखें।
सुपर स्पेशिलिटी चिकित्सालय ग्वालियर के अधीक्षक डॉ. जी एस गुप्ता ने बताया कि श्योपुर के कोरोना मरीज रसीद खान को 7 अप्रैल को सुपर स्पेशिलिटी चिकित्सालय में भर्ती किया गया था। इनकी लगातार 3 कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने तथा वे कोरोना के साथ मधुमेह, हाईब्ल्डप्रेशर एवं टीबी की बीमारी से भी ग्रसित होने के कारण हाईरिस्क में थे। जिन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखकर उपचार करते वक्त निरंतर निगरानी रखी गई। उपचार के उपरांत 24 व 27 अप्रैल को इनके पुन: टेस्ट कराए गए, जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आने पर 28 अप्रैल को इन्हें डिस्चार्ज कर 14 दिन के लिये होम क्वारंटाइन रहने के साथ उपचार जारी रखने के निर्देश दिए गए।

खेत की मेढ़ तोड़ने पर दो पक्षों में चलीं ताबड़तोड़ गोलियाँ ,एक की मौत

मुरैना ।  मुरैना जिले के देवगढ़ इलाके में स्थित एक गाँव मे खेत की मेढ़ तोड़ने की मामूली बजह को लेकर दो परिवारों के बीच हुए विवाद ने इतना बड़ा रूप ले लिया कि एक युवक  की हत्या हो गई । घटना के बाद तनाव और दहशत का माहौल है ।

बताया गया है कि जिले के बीहड़ में स्थित थाना देवगढ़ इलाके में स्थित ग्राम मोधनी में दो परिवारों के खेत अगल बगल में है । वहां जुताई के दौरान एक खेत की मेढ़ टूट गयी । इस पर दोनों पक्षो में कहासुनी हुई । बात बढ़ती गई तो खबर गाँव तक पहुंच गई । वहां से दोनों गुटों के लोग हथियार लेकर आ गए और देखते ही देखते दोनों तरफ से फायरिंग शुरू हो गई । इनमे दोनों पक्षो के आधा दर्जन लोग घायल हो गए । सूचना पाकर एक पुलिस पहुंची तब हमलावर भागे । पुलिस घायलों को लेकर हॉस्पिटल पहुंची जहां एक घायल ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है लेकिन आरोपी फरार हैं।

गृह व स्वाथ्य मन्त्री ने शुरू की जीवन अमृत योजना

ग्वालियर / गृह एवं लोक स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आज दतिया में आयुर्वेदिक काढ़ा त्रिकटु चूर्ण के पैकेट के वितरण के साथ आयुष विभाग की जीवन अमृत योजना का शुभारंभ किया।
गृह एवं लोक स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि जीवन अमृत योजना में आयुष विभाग के सहयोग से मध्य प्रदेश लघु वनोपज संघ ने आयुर्वेदिक काढ़ा के पैकेट्स तैयार किए हैं, जो ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में लोगों को निःशुल्क वितरित किए जा रहे हैं। यह काढ़ा शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता विकसित करता है।
जिला आयुष अधिकारी दतिया के मुताबिक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए शम्शनी बटी एवं त्रिकटु चूर्ण तथा एसर्निक एल्बम 30 के रूप में दतिया जिले में अब तक एक लाख 20 हजार 10 लोगों को आयुर्वेदिक एवं होम्योपैथिक दवाएं वितरित की गईं। इनमें 46086 लोगों को आयुर्वेदिक एवं 73924 लोगों को होम्योपैथिक दवाएं वितरित की गईं। दतिया ब्लॉक में 62203 लोगों को, भाण्डेर में 36175 लोगों को तथा सेवढ़ा ब्लॉक में 21632 लोगों को प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली दवाइयां बांटी जा चुकी हैं।

वास्तु शास्त्र : इस रंग के जूते रोकते है तरक्की

जूते इंसान की छवि बताते है। वहीं लोगों का मानना भी है कि यदि किसी की आर्थिक स्थिति जांचनी हो तो उसके जूते को देखना चाहिए। कुल मिलाकर अच्छे कपड़ो के साथ-साथ अच्छे जूते भी होना आवश्यक है। लेकिन ज्योतिषशास्त्र में आपके जूतों को आपके सौभाग्य से जोड़कर देखा जाता है। ज्योतिषशास्त्र में जूतों को लेकर कई बातें बताई गई है।
वहीं ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक जूते आपकी किस्मत बदलने में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसी वजह से जूते पहनते समय इन बातों को ध्यान में रखना जरूरी होता है।
मंदिर में जाते समय भूलकर भी नहीं करें ये काम मंदिर या किसी और जगह से कोई आपके जूते पहन जाए तो आपको वहां से किसी दूसरे के जूते पहनकर नहीं आना चाहिए। यदि आप किसी दूसरे के जूते पहनकर आते हैं तो इससे आप उसकी दरिद्रता और परेशानियां भी अपने साथ ले आते हैं।
फटे जूते पहनकर नई नौकरी पर नहीं जाएं वास्तुशास्त्र के अनुसार, अगर आपके जूते फट गए हैं तो उन्हें न पहनें। ऐसा कहा जाता है कि उधड़े और फटे हुए जूते पहनकर नई नौकरी पर तो बिल्कुल ही नहीं जाना चाहिए, इससे काम में असफलता मिलती है।
भूरे रंग के जूते रोकते है तरक्की वास्तुशास्त्र के मुताबिक, ऑफिस या अपने किसी अन्य कार्यक्षेत्र में भूरे जूते पहनकर जाना सही नहीं माना जाता है। इन जगहों पर भूरे जूते पहनकर जाने से तरक्की के रास्ते रूकते हैं। यदि कोई आपको तोहफे में जूते देता है तो आपको वो जूते नहीं पहनने चाहिए।
बता दें कि जूते का संबंध शनि से होता है, यदि आप किसी के दिए हुए जूते पहनते हैं तो उसके ऊपर यदि शनि का प्रकोप चल रहा होता है तो उसका प्रभाव आप पर पडने लगता है।