शिवराज सिंह चौहान ने कहा यदि गेहूँ चमक विहीन है तो अन्‍य मापदंडों पर पूरा होने पर उसे भी खरीदा जाएगा।उपार्जन हेतु पास जरुरी नहीं

भोपाल कल मीडिया को संबोधित करते हुये मध्यप़देश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों को रियायत देते हुये कहा यदि गेहूँ चमक विहीन है तो अन्‍य मापदंडों पर पूरा होने पर उसे भी खरीदा जाएगा।

उपार्जन के लिए परिवहन हेतु किसानों को पास नहीं दिखाना पड़ेगा। उपार्जन केंद्र पर भोजन भी दिया जाएगा। कृषि कार्य हेतु ट्रैक्‍टर, थ्रेसर के आने-जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है। तारीख से कुछ औद्योगिक गतिविधियां प्रारंभ की जा रही हैं,लेकिन नियमों और निर्देशों का पूरी तरह से पालन करते हुए। संक्रमित इलाकों और कंटेनमेंट एरिया से मजदूर नहीं आएंगे। भोपाल, इंदौर और उज्जैन में यह छूट नहीं दी जाएगी .पिछली सरकार ने फसल बीमा योजना का प्रीमियम ही नहीं भरा था। मैंने मुख्यमंत्री बनते ही रु. 2200 करोड़ का प्रीमियम जमा किया।

अगले कुछ दिनों में किसानों के खातों में फसल बीमा योजना के अंतर्गत करीब रु. 3000 करोड़ डाल दिये जायेंगे। #COVID19 संक्रमण को देखते हुए किसानों को अपनी फसल बेचने के कई विकल्‍प दिए गए हैं। वे चाहें तो उपार्जन केंद्र से या मंडी द्वारा अधिकृत प्राइवेट खरीदी केन्द्रों से अथवा मंडी में पंजीकृत व्यापारी को सौदा पत्रक के माध्यम से ग्राम स्तर पर भी फसल बेच सकते है।COVID19 संकट के चलते #lockdown किया गया जिसके कारण प्रदेश में निर्माण की गतिविधियाँ रोक दी गई थी।

भारत सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार हम 20 अप्रैल से आवश्यक निर्माण की गतिविधियाँ प्रारम्भ करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *