पहले ही दिन फेल हुई शासन की खरीदी, जिन्हें मैसेज कर बुलाया वे भी बैरंग लौटे

ब्यावरा.कोविड-19 के संक्रामक के खतरे के बीच तमाम प्रकार की रिस्क उठाकर शुरू की गई शासन स्तर की समर्थन मूल्य की खरीदी पहले ही दिन फेल हो गई। जिन किसानों को दो-तीन दिन पहले मैसेज कर केंद्रों पर बुलाया गया उन्हें बिना खरीदी के बैरंग लौटना पड़ा।
दरअसल, बकायदा मैसेज के बाद पहुंचे किसानों को समीपस्थ लसूल्डी महाराजा खरीदी केंद्र पर यह कहकर मना कर दिया गया कि आपकी 20 किलो, 70 और 50 किलो ही उपज तौली जाएगी। इससे ज्यादा उपज आपकी नहीं तौली जा सकती। जितना मैसेज आया है उतना ही हम ले पाएंगे। ऐसे में गुस्साए किसानों ने हंगामा कर दिया और कहा कि जब उपज तोलना ही नहीं थी तो बुलाया क्यों? ग्रामीणों की शिकायत के बाद विधायक गोवर्धन दांगी भी पहुंचे। उन्होंने किसानों से बाद कर संबंधित अधिकारियों को बताया। बता दें कि उपार्जन केंद्र पर 40 क्वींटल से अधिक की उपज लाने के लिए सूचना दी गई लेकिन जब किसान ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर पहुंचे तो लसूल्डी महाराजा केंद्र पर उन्हें केवल 21 किलो तो किसी को 51 किलो, तो किसी को 70 किलो से अधिक उपज नहीं ली गई। केंद्र प्रभारी ने साफ तौर पर मना कर दिय किया इससे ज्यादा नहीं ले पाएंगे? मायूस होकर किसान अपने घर लौट गए पहले ही दिन उनकी उपज नहीं तुल पाई। उनका कहना है कि जितनी उपज का पंजीयन करवाया था वह दर्शाया ही नहीं गया।
पंजीयन गेहूं का पर्चा चने का दे दिया
बारवां के किसान राम जगदीश दांगी, सिलपटीभाई के विक्रम सिंह, लसूल्डी महाराजा के रामबाबू दांगी और लसूल्डिया गुर्जर के पर्वतसिंह ने बताया कि हमने गेहूं का पंजीयन करवाया था लेकिन गेहूं की जगह चने का पंजीयन थमा दिया गया। इसे लेकर पहुंचे तो किसी ने हमारा समाधान तक नहीं किया। मामसे में एसडीएम संदीप अस्थाना का कहना है कि इसमें रकबे की दिक्कत है। जिन संबंधित किसानों को दिक्कत आई है उनका रकबा अन्य गांवों में भी है। ऐसे में गांव अलग होने से दूसरे केंद्र पर उन्हें अपनी बची हुई उपज बेचना होगा। फिर भी उनका समाधान भी किया जाएगा।गांवों में जाकर उपज खरीद पाएंगे व्यापारी, मंडी में भी सशर्त खरीदी होगी
ब्यावरा.कोविड-19 के बीच किसानों को राहत देते हुए जिले की सबसे बड़ी ब्यावरा मंडी में उपज खरीदी शुरू होने वाली है। इसे लेकर स्थानीय प्रशासन ने एक प्लॉनिंग की है। जिसके तहत गुरुवार से मंडी के अधिकृत व्यापारी जो कि बाहर खरीदी करना चाहते हैं वे अपने सौदा पत्रक से गांवों में जाकर भी खरीदी कर पाएंगे। साथ ही ऐसे किसान जिन्हें मंडी के अंदर उपज बेचना हो उन्हें मंडी के दो अधिकृत मोबाइल नंबर (९१३१९४८५५१ और ८१२०४७७६७४) पर सूचना देकर नाम, पिता का नाम, गांव, उपज इत्यादि की जानकारी देना होगी। इसके बाद मंडी प्रशासन उन्हें आगामी दिनों में तारीख देगी, उसी में जितने चयनित किसान है वे ही मंडी में पहुंच पाएंगे। एसडीएम संदीप अस्थाना ने बताया कि सुबह 10 से 5 बजे तक ही उपज लेकर मंडी पहुंच पाएंगे। बाकी अन्य लोगों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *