गांव के समूह बनाने बाद निर्धारित समूह के किसान मंडी में फसल बेच सकते हैं.

शिवपुरी जिलाधीश कार्यालय मेें व्यापरियों और मंडी सचिवों के साथ बैठक आयोजित की गई। इस दौरान पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल, अपर कलेक्टर आरएस बालोदिया और एसडीएम अतेंद्र सिंह गुर्जर भी मौजूद थे।

मंडियों में पेयजल व्यवस्था और छाया के लिए टेंट लगाएं।
किसानों को राशि का भुगतान कार्यालय में किया जाए।
गांव के क्लस्टर बनाकर दिन निर्धारित करें और इसी के अनुसार किसान फसल बेचने जाएंगे।
सभी व्यापारियों को निर्देश दिए हैं कि अपना स्टाफ तैनात करें।
बैठक में दिए निर्देश:
कोरोनावायरस के प्रभाव को देखते हुए मंडियों में अनावश्यक भीड़ ना हो। सोशल डिस्टेंस का पालन किया जाए।
काम करने वाले कर्मचारी और किसान सभी मास्क का उपयोग करें।
कर्मचारी और हम्माल की जानकारी संबंधित एसडीएम को देना है।

सभी से अपील की जाती है एसएमएस प्राप्त करने वाले किसान निर्धारित दिन पर ही अपनी फसल लेकर उपार्जन केंद्र पर आयें। सभी सोशल डिस्टेंस का पालन करें और मास्क का उपयोग करें।
स्वयं सुरक्षित रहें और अपने आसपास के लोगों को भी सुरक्षित रखें।
सोशल डिस्टेंस के साथ उपार्जन प्रक्रिया शुरू।
15 अप़ेल से गेहूं, चना, मसूर और सरसों का उपार्जन शुरू हो गया है। किसान भाइयों को एसएमएस के माध्यम से सूचना दी जा रही है। सभी किसानों को उल्लेखित दिन को ही उपार्जन केंद्र पर अपनी फसल लेकर आना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *