मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में एस्मा किया लागू.

नोवल कोरोना वायरस से अबतक दुनिया को राहत नहीं मिली है और इस महामारी का कहर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. भारत में अभी भी कुछ राज्य ऐसे हैं जहां हालात ठीक होने का नाम नहीं ले रहे हैं. बात करें मध्यप्रदेश की तो वहांसंक्रमितों मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है. मध्यप्रदेश के खरगोन में एक ही परिवार के आठ और भोपाल में आठ नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं. अब राज्य में कुल 327 मरीज हो चुके हैं. इन हालातों को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में आवश्यक सेवा अनुरक्षण कानून (एस्मा) लागू कर दिया है.

भोपाल में एक पत्रकार सहित आठ नए मरीज, शहर में कुल 91
भोपाल में बुधवार दोपहर तक एक टीवी न्यूज चैनल के एक पत्रकार सहित कोरोना वायरस संक्रमण के आठ नए मामले सामने आने के बाद शहर में अब तक इस महामारी की चपेट में आए मरीजों की संख्या बढ़कर 91 हो गई है।
भोपाल के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉक्टर सुधीर डेहरिया ने बताया कि भोपाल में कोरोना वायरस के आठ और लोग संक्रमित पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि इसी के साथ भोपाल में अब तक 91 लोग इस बीमारी से संक्रमित पाये गये हैं। इनमें 45 स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी एवं 12 पुलिसकर्मी शामिल हैं। डेहरिया ने बताया कि इनमें से एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है, जबकि दो मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं, जिन्हें एम्स भोपाल से डिस्चार्ज किया जा चुका है।

इसी बीच, मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया, जो आठ मरीज बुधवार को संक्रमित पाए गए हैं, उनमें एक स्थानीय टीवी न्यूज चैनल का पत्रकार भी शामिल है। उन्होंने कहा कि संभवत: यह पत्रकार एक दिन पहले संक्रमित पाए गए एक पुलिस अधिकारी के संपर्क में आने से इस बीमारी के चपेट में आया है।

मुख्यमंत्री ने भोपाल और इंदौर शहर की सीमाओं के पूरी तरह सील करने के दिए निर्देश
भोपाल पुलिस के उप महानिरीक्षक इरशाद वली ने बताया कि कोरोना वायरस की चपेट में एक नगर पुलिस अधीक्षक (सीएसपी), एक उप निरीक्षक और शेष आरक्षक हैं। इस बीच, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कल देर रात निर्देश दिए हैं कि भोपाल और इंदौर शहरों में कोरोना वायरस के अधिक मामले मिले हैं। इसलिए इनकी सीमाओं को और कड़ाई से सील किया जाए तथा आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध हो। उन्होंने कहा कि संक्रमण रोकने के लिए सर्वे कार्य तथा कोरोना वायरस जांच का कार्य गहनता से किया जाए।

आवश्यक सेवा अनुरक्षण कानून (एस्मा) लागू
कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के चलते इसके बेहतर प्रबंधन के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने नागरिकों के हित को देखते हुए बुधवार से अत्यावश्यक सेवा अनुरक्षण कानून (एस्मा) लागू कर दिया है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर लिखा कि नागरिकों के हित को देखते हुए बेहतर प्रबंधन के लिए आज से सरकार ने मध्य प्रदेश में एसेंशियल सर्विसेज मैनेजमेंट एक्ट जिसे एस्मा या हिंदी में ‘अत्यावश्यक सेवा अनुरक्षण कानून’ कहा जाता है, तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है।

इससे सरकारी महकमे में हड़ताल को रोकने में भी मदद मिलेगी। एस्मा लागू करने से पूर्व इससे प्रभावित होने वाले कर्मचारियों को किसी समाचार पत्र या अन्य माध्यम से सूचित किया जाता है। एस्मा का नियम अधिकतम छह माह के लिए लगाया जा सकता है। दंड प्रक्रिया संहिता के अन्तर्गत एस्मा लागू होने के उपरान्त इस आदेश से सम्बन्धि किसी भी कर्मचारी को बिना किसी वारन्ट के गिरफ्तार किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *