नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम हेतु सभी जिला कलेक्टर करें पुख्ता प्रबंध

ग्वालियर / नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये संभाग के सभी जिलों में पुख्ता प्रबंध किए जाएं। लॉकडाउन के दौरान जारी किए गए प्रतिबंधात्मक आदेशों का पालन भी सुनिश्चित हो। संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना एवं रबी उपार्जन की समीक्षा करते हुए ग्वालियर संभाग के सभी जिला कलेक्टरों को उक्त निर्देश दिए हैं।

संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्मय से संभाग के सभी कलेक्टरों से कहा है कि नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये जिला कलेक्टर अपने-अपने जिलों में सभी एहतियातन उपाय करें। लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जाए। संभावित कोरोना मरीजों को ठहराने हेतु क्वारंटाइन किए गए लोगों की चिकित्सीय जांच कराने के साथ-साथ उनके रहने एवं खाने की व्यवस्थायें भी अच्छे से की जाएं।

उन्होंने सभी कलेक्टरों से कहा है कि वे अपने-अपने जिले में बीपीएल कार्डधारियों को राशन वितरण के साथ-साथ अन्य जरूरतमंदों को भी राशन उपलब्ध हो, यह सुनिश्चित करें। सभी जिला कलेक्टर अपने-अपने जिले में पंचायतों में 5 – 5 क्विंटल गेहूँ रखवाने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। सोसायटियों एवं उचित मूल्य दुकान के माध्यम से वितरण के साथ-साथ पंचायतों में भी गेहूँ रखवाया जाए, ताकि जरूरतमंद को आवश्यकता पड़े तो पंचायत के माध्यम से भी तत्काल गेहूँ उपलब्ध कराया जा सके।

संभाग आयुक्त श्री ओझा ने बताया कि सभी जिलों में प्रदेश स्तर से कोरोना के लिये किट एवं सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। आवश्यकता पड़ने पर कलेक्टर अपने स्तर से भी सामग्री क्रय कर सकते हैं। संभाग स्तर पर डीपीआर श्री भारती एवं संयुक्त संचालक डॉ. दीक्षित समन्वयक के रूप में कार्य कर रहे हैं। इनसे भी संपर्क किया जा सकता है।

लापरवाही बरतने वालों पर की जाए सख्त कार्रवाई

संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा ने कहा कि नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण के समय कोई भी अधिकारी और कर्मचारी अपने दायित्वों के निर्वहन में लापरवाही न करे। जिला कलेक्टर यह सुनिश्चित करें कि सभी अधिकारी-कर्मचारी अपने दायित्वों का निष्ठापूर्वक निर्वहन करें। कोई भी शासकीय अधिकारी-कर्मचारी अपने दायित्वों के निर्वहन में लापरवाही बरते, तो उसके विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जाए।

सभी रहें अपने मुख्यालय पर

संभाग आयुक्त श्री ओझा ने यह भी निर्देश दिए हैं कि शासकीय अमला अपने निर्धारित मुख्यालय पर ही रहकर अपने दायित्वों का निर्वहन करे। कोई भी अधिकारी-कर्मचारी बिना सक्षम स्वीकृति के मुख्यालय न छोड़े। अप-डाउन करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाए । उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि अडॉक पर रखे गए चिकित्सकों की अवधि भी एक माह बढ़ा दी जाए। वर्तमान समय में किसी भी चिकित्सक को भारमुक्त न किया जाए।

जरूरतमंदों को भोजन एवं खाद्य सामग्री का वितरण हो

संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा ने कहा ‍िक सभी जिलों में जरूरतमंदों को खाने के पैकेट एवं खाद्य सामग्री के पैकेटों का वितरण जन सहयोग के माध्यम से किया जा रहा है। कलेक्टर अपने स्तर से यह सुनिश्चित करें कि जिले की सामाजिक संस्थाओं, धार्मिक संस्थाओं एवं जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ अन्य दानदाताओं के माध्यम से जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट एवं खाद्य सामग्री का वितरण सुनिश्चित करें। जिले में दानदाताओं के माध्यम से रेडक्रॉस समिति में भी धनराशि प्राप्त कर उसका उपयोग नोवेल कोरोना के संक्रमण की रोकथाम के कार्यों में किया जाए।

कलेक्टरों ने अपने-अपने जिले के संबंध में दी जानकारी

संभाग आयुक्त श्री एम बी ओझा द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की गई समीक्षा में संभाग के सभी जिला कलेक्टरों ने अपने-अपने जिलों में नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये की जा रही व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति, जरूरतमंदों को भोजन एवं खाद्य सामग्री का वितरण के साथ-साथ मरीजों के उपचार एवं संभावित मरीजों को किए गए क्वारंटाइन के संबंध में भी विस्तार से जानकारी दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *