मंत्री मंडल मे 25 विधायक ही मंत्री बनेगे.

🔹

 डा.भूपेन्द्र विकल

इन्दोर।कोराना वायरस संकमण की महामारी से निपटनें के लिए केन्द्रीय सरकार के साथ -साथ प्रदेश सरकार पूरी तरह लगी हुई है।इस समय पूरी तरह मानव की जिन्दगी बचाने मे सभी लगे है।

भाजपा सरकार के मंत्री मंडल का शपथ ग्रहण भी लाकडाउन के बाद ही होगा यह माना जा रहा है।

मंत्री मंडल को लेकर भाजपा संगठन मे दिल्ली से भोपाल तक विचार विमर्श मंथन चल रहा है।
भाजपा की सत्ता के मुख्य सूत्रधार ज्योतिरादित्य सिधिंया के 22समर्थक मे से 9 सर्मथको को मंत्री बनाना ओर भाजपा के 17 वरिष्ठ नेताओ को जोकि 6 बार से जादा बार विजयश्री प्राप्त की है ओर मंत्री पद पर रहकर कुशलता पूर्वक कार्य किया है। इनमे से किसे मंत्री बनाया जायेगा किसे नहीं।इसे लेकर भाजपा संगठन के प्रमुख नेता परेशान है।

सूत्रो से खबर आ रही है कि अगले सप्ताह भाजपा संगठन के कोर कमेटी की बैठक होने जा रही है इसमे भी मंत्री बनने बाले विधायको के नाम को फाईनल किया जायेगा ।जिन्हे मंत्री नहीं बनाया जा सकेगा ।उसे संगठन मे पदाधिकारी बनाने की भी चर्चा की जायेगी।
इसके उपरांत आर.एस.एस.(संघ)के वरिष्ठ पदाधिकारियो की राय भी ली जायेगी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चोहान के मंत्री मंडल मे 25 विधायक ही शपथ ग्रहण करेंगे।
अन्य को निगम,मंडल, प्राधिकरण,समितियों, टस्ट मे पद देकर राज्यमंत्री का दर्जा दिया जायेंगा।

भाजपा में अभी 17 विधायक ऐसे हैं जोकि निरंतर जीते है।
इसमें गोपाल भार्गव आठ बार चुनाव जीत चुके हैं। विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन, करण सिंह वर्मा सातवीं बार चुनाव जीते हैं। नरोत्तम मिश्रा, पारस जैन, गोपीलाल जाटव, रामपाल सिंह, जगदीश देवड़ा छह बार से चुनाव जीत रहे हैं। स्वयं सीएम शिवराज सिंह चौहान, जुगल किशोर बागरी, नागेन्द्र सिंह नागौद, जय सिंह मरावी, मीना सिंह कमल पटेल, डा. सीताशरण शर्मा और प्रेम सिंह पटेल पांचवी बार चुनाव जीते हैं।
11 विधायक ऐसे हैं जो चौथी बार चुनाव जीते हैं। इनमें भूपेन्द्र सिंह, राजेन्द्र शुक्ला जैसे नेता शामिल हैं।तीसरी बार चुनाव जीते 23 विधायक है।
इसी तरह से दूसरी बार चुनाव जीतने वाले 28 विधायक है ।
पहली बार 28विधायक
ऐसे हैं जो चुनाव जीतकर आए हैं।
इनमें पहली और दूसरी बार के विधायकों को मौका मिलेगा अब इसकी संभावना कम होती जा रही है।
क्षेत्रीय संतुलन साधना बड़ी चुनौती
मंत्रिमंडल में क्षेत्रीय संतुलन भी बड़ी चुनौती बन रहा है। ग्वालियर -चंबल श्रेत्र से सिंधिया समर्थक तीन मंत्री प्रद्युन सिंह तोमर, इमरती देवी और महेन्द्र सिंह सिसौदिया थे। इनका मंत्री बनना तय है, वहीं इसी इलाके से अब नरोाम मिश्रा, अरविंद भदौरिया और गोपीलाल जाटव दावेदार हैं।

इसी तरह बुंदेल खंड से गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह तो है ही अब गोविंद राजपूत भी दावेदार हो गए हैं।
इस तरह एक ही जिले से तीन मंत्री हो रहे हैं। यहीं से प्रदीप लारिया भी इस बार संगठन की पसंद हैं।
मध्यान्चल से प्रभूूराम चौधरी , सुरेन्द्र पटवा, रामपाल सिंह की भी दावेदारी है।


➖➖

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *