▪शिवराज सरकार के मंत्रीमंडल का गठन करना मुश्किल मे है.


➖डा.भूपेन्द्र विकल➖
इन्दोर। कोरोना वायरस के संक्रमण के gb चलते मध्यप्रदेश में शिवराज मंत्रीमंडल का गठन नहीं हो पा रहा है, काग्रेंस सरकार को गिराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले भाजपा नेता पूर्व मंत्री बीते एक सप्ताह से राजभवन से अपने बुलावे का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन अब पूरे लाकडाउन तक कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते पूरा मंत्रीमंडल का गठन होना मुश्किल लग रहा है।
कुछ भाजपा के बडे नेताओं व आर.एस.एस.वरिष्ठ पदाधिकारीओ के अनुसार कोरोना वायरस संक्रमण के चलते सरकार का कामकाज और तेजी से चलाने के लिये भले ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने मंत्रीमंडल का गठन अभी न करें, लेकिन वह आधा दर्जन विश्वस्त सक्रिय सहयोगियों को सादगी भरे माहौल में राजभवन में शपथ दिलवा दें, ताकि कोरोना वायरस संक्रमण को एक टीम भावना के साथ अच्छी तरह नियंत्रित करने मे जादा सहयोग हाँसिल किया जा सके।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चोहान कोरोना वायरल संक्रमण की महामारी के चलते सरकार में अकेले हैं।

इसीलिये उन्हें अपने विश्वस्त सहयोगियों की ऐसे समय अत्यंत जरूरत है।
प्रदेश के विभिन्न हालातों पर नजर रखें और जरूरत पडने पर संपूर्ण प्रदेश मे दोरा कर जायजा लेकर जानकारी से अवगत होकर प्रशासनिक व स्वास्थ्य अधिकारियों से तालमेल कर व्यवस्थाएं जुटा सकें।
इसी कारण अब ऐसी संभावना बन सकती है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सबसे सक्रिय व सहयोगी आधा-दर्जन पूर्व मंत्रियों को लेकर मंत्रीमंडल गठन कर लिया जाये।

इनमें पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा से लेकर भूपेन्द्र सिंह, राजेन्द्र शुक्ला, अजय विश्रोई, कमल पटेल, यशोधरा राजे व गोपाल भार्गव आदि हो सकते हैं।

आगे की रणनीति मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने है।
प्रदेश अध्यक्ष बी.डी .शर्मा की भी इसमें प्रमुख भूमिका हो सकती है।
भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री सरकार के संकटमोचक है । यह भी अब ऐसे समय में सहयोगी ठीक तरह से नही बन पा रहे है।
राजनीति के चिन्तकों की माने तो मंत्री मंडल के गठन मे सबसे बडी मुश्किल भाजपा की पुनः सरकार बनाने बाले सूत्रधार ज्योतिरादित्य सिधिंया के समर्थको को मंत्री बनाना है।इधर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से सामजस्य भी बनाने मे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चोहान लगे है।सभी को संतुष्ट कर ही वह मंत्री मंडल का गठन करेंगे।

सूत्रों की खबर है कि राजभवन से दिशा निर्देश भी शीध्र जारी होने बाले है।


➖➖

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *