नोहरी खुर्द शिवपुरी क्षेत्र में मोरम का अवैध उत्खनन जारी.

करुणेश शर्मा की कलम से
शिवपुरी नोहारी खुर्द केशव महाविद्यालय के पीछे मुरम का अवैध उत्खनन कई दिनों से माफियाओं के द्वारा किया जा रहा है इस उत्खनन की शिकायत कई बार अधिकारियों से की गई किंतु प्रशासन ने इस ओर ध्यान नहीं दिया जहां पर मोरम का अवैध उत्खनन किया जा रहा है वहीं पर हाई टेंशन लाइन विद्युत की होकर गुजरती है जिसके पौधों के आसपास की मिट्टी मोरम खोद दी गई है भविष्य में पुल के गिरने से कोई गंभीर हादसा हो सकता है बिजली के खंभे मोरम हटने के कारण झुकते हुए दिखाई दे रहे हैं यह मोरम ऊंचे दामों पर बाजार में बेधड़क बेची जा रही है प्रशासन से अनुरोध है कि इस अवैध उत्खनन को रुकवा कर वह अपराधियों को दंडित करके मुख्यमंत्री कमलनाथ की माफिया विरोधी अभियान को गति दें एवं शासन के लाखों रुपए के राजस्व को बचाने में सहयोग करें.

राजन कुमार सुभाष चन्द्र बोस बनेंगे. ➖➖➖➖➖➖➖

                 
मुबई।हीरो और इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया के आइकॉन राजन कुमार को वैसे तो बहुत से पुरुस्कारों और अवॉर्ड्स से नवाजा गया है लेकिन अब उन्हें एक खास सम्मान से नवाजा जाएगा. मुंबई के एक फाइव स्टार होटलों में ‘नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ब्रेवेरी अवार्ड” का आयोजन हो रहा है.  जहाँ हीरो राजन कुमार एक विशेष प्रस्तुति देंगे. वह सुभाष चन्द्र बोस के लुक में आज के दौर में सुभाष चन्द्र बोस की जरुरत पर जोर देते हुए बच्चों को मोबाइल से दूर रहने की अपील भी करेंगे, जिसको लेकर वह बेहद उत्साहित हैं.

                इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया के आइकॉन के रूप में उन्होंने बिहार के मुंगेर जनपद का नाम देश भर में चर्चित किया है. उनके वोटिंग ट्री के न्यू कांसेप्ट की चर्चा इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया की पत्रिका में भी की गई है. राजन कुमार चार्ली चैपलिन 2 के नाम से भी दुनिया भर में विख्यात हैं. हजारों लाईव शोज करने की वजह से उनका नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है. वह बहुमुखी प्रतिभा के धनी लेखक और एक अच्छे अभिनेता हैं. इन तमाम कारनामों के कारण उन्हें  ‘नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ब्रेवेरी अवार्ड’ सम्मान दिया जा रहा है. 

                  बता दें कि, हाल ही में ‘श्रेष्ठ नागरिक सम्मान’ से सम्मानित किया गया था. अब तक वह दर्ज़नो अवार्ड से सम्मानित हो चुके हैं. उनकी फिल्म ‘नमस्ते बिहार’ सिनेमाघरों में प्रदर्शित हो चुकी है और वह वर्तमान में एक नई हिन्दी फिल्म की शूटिंग में भी व्यस्त हैं, जो संभवतः इसी साल प्रदर्शित होगी. एक निर्माता ने उन्हें अपनी फिल्म के लिए अनुबंधित किया है, जिसमें वह नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की भूमिका निभाएंगे. 
➖➖➖➖➖➖➖

MP: CAA: प्रदर्शन कर रहे BJP कार्यकर्ताओं ने महिला डिप्टी कलेक्टर की खींची चोटी

राजगढ़ में CCA के समर्थन में प्रदर्शन के दौरान हुई घटना
शिवराज सिंह ने पूछा- क्या थप्पड़ मारने का आदेश मिला था

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन चल रहा है. कई जगहों पर इसके समर्थन में भी प्रदर्शन किए जा रहे हैं. मध्य प्रदेश के राजगढ़ में CCA के समर्थन में प्रदर्शन के दौरान एक प्रदर्शनकारी ने डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा के बाल खींच दिए.

दरअसल, प्रशासन प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश कर रहा था और बीचे रास्ते में प्रदर्शन कर रहे लोगों को वहां से हटा रहा था. इसी दौरान डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा एक प्रदर्शनकारी को थप्पड़ मारने लगीं. तभी किसी प्रदर्शनकारी ने डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा की चोटी खींच दी.

इस घटना पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहानका बयान आया है. उन्होंने एक ट्वीट में कहा, आज का दिन लोकतंत्र के सबसे काले दिनों में गिना जाएगा. आज राजगढ़ में डिप्टी कलेक्टर साहिबा ने जिस बेशर्मी से CAA के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं को लताड़ा, घसीटा और चांटे मारे, उसकी निंदा मैं शब्दों में नहीं कर सकता. क्या उन्हें प्रदर्शनकारियों को पीटने का आदेश मिला था?

देशभर में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध प्रदर्शन के बीच मध्यप्रदेश सरकार साफ कर चुकी है कि वह इस कानून का विरोध करेगी. विरोध में मुख्यमंत्री कमलनाथ और सरकार के सभी मंत्री व कांग्रेस कार्यकर्ता पैदल मार्च भी निकाल चुके हैं.

बता दें, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का नागरिकता संशोधन कानून पर आधिकारिक बयान आया था जिसमें उन्होंने स्पष्ट किया था कि इस बिल को संसद में लाने से पहले केंद्र सरकार ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भरोसे में नहीं लिया गया. उनका कहना था कि इतने संवेदनशील मुद्दे पर केंद्र सरकार की जिद के कारण हालात काबू से बाहर हैं और इसलिए इस कानून को लेकर जो कांग्रेस का स्टैंड है वहीं मध्यप्रदेश सरकार का स्टैंड रहेगा.

दिल्ली में दल बदलने का सिलसिला जारी, AAP-कांग्रेस के कई नेता BJP में शामिल

दिल्ली विधानसभा चुनाव को देखते हुए नेताओं के दल बदलने का सिलसिला जारी है. दिल्ली में रविवार को आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस के कई नेताओं ने बीजेपी का दामन थाम लिया. AAP युवा मोर्चा के अध्यक्ष अतुल कोहली, AAP महिला शाखा की विजय लक्ष्मी, जैसमीन पीटर और कांग्रेस के पंकज चौधरी बीजेपी में शामिल हो गए. इससे पहले टिकट न मिलने से नाराज द्वारका से आम आदमी पार्टी के विधायक आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया था.

बता दें, दिल्ली में 8 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सत्ताधारी आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों की सूची जारी होने के चंद दिनों बाद टिकट न मिलने से नाराज विधायकों के पार्टी छोड़ने का सिलसिला शुरू हो गया है. बेटिकट किए गए 15 विधायकों में द्वारका से विधायक आदर्श शास्त्री और हरि नगर से विधायक जगदीप सिंह भी शामिल हैं. इन दानों ने पार्टी छोड़ दी है.

दिवंगत प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के पोते आदर्श शास्त्री 2015 के चुनाव में 59.08 फीसदी वोट पाकर जीते थे. वे शनिवार को आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए. वहीं, जगदीप सिंह ने भी पार्टी छोड़ने की घोषणा की है. उन्होंने हालांकि अपने अगले रुख का खुलासा नहीं किया है.

कई नेताओं के कटे टिकट

आम आदमी पार्टी ने 70 सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की सूची जारी की है. इस सूची में 15 मौजूदा विधायकों के नाम नहीं हैं. जो विधायक टिकट से वंचित किए गए, उनमें शामिल हैं पंकज पुष्कर (तिमारपुर), राम चंदर (बवाना), सुखबीर दलाल (मुंडका), हजारी लाल चौहान (पटेल नगर), विजेंद्र गर्ग (राजेंद्र नगर), अवतार सिंह (कालकाजी), राजू धींगान (त्रिलोकपुरी), मनोज कुमार (कोंडली), चौधरी फतेह सिंह (गोकुलपुर) और आसिम अहमद खान (मटिया महल).

दिल्ली के मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल अगले महीने खत्म होने जा रहा है. नए चुनाव के लिए मतदान 8 फरवरी को होगा और मतगणना 11 फरवरी को होगी

नीति आयोग सदस्य का यू-टर्न, कहा- गलत तरीके से पेश किया गया बयान

नई दिल्ली: नीति आयोग के सदस्य वी के सारस्वत के कश्मीर के बारे में दिए गए बयान पर विवाद बढ़ने के बाद उन्होंने अपनी सफाई दी है. उन्होंने कहा, “मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया. अगर उनकी बात से किसी की भावनाएं आहत हुई हैं तो मैं माफी चाहता हूं.”

दरअसल नीति आयोग सदस्य और पूर्व डीआरडीओ चीफ वीके सारस्वत ने गुजरात के गांधीनगर में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट बंद रहने का देश की अर्थव्यवस्था पर कोई असर नहीं पड़ा है, क्योंकि वहां के लोग ऑनलाइन गंदी फिल्में देखने के अलावा और कुछ नहीं करते.
वहीं अब सारस्वत ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया, “मैंने मीडिया से गंदी फिल्मों के बारे में नहीं कहा था. मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया अगर इससे किसी को तकलीफ हुई है इसके लिए मैं माफी मांगता हूं” उन्होंने कहा, “मैं छात्रों से तकनीक के संबंध में बातचीत कर रहा था. इस दौरान किसी ने कश्मीर के बारे में पूछा और मैंने कहा- हां इंटरनेट जरूरी है.” सारस्वत ने कहा, “मैं सभी कश्मीरियों की भावनाओं का सम्मान करता हूं कि उन्हें इंटरनेट मिलना चाहिए और इस तथ्य से सहमत हूं कि उनके पास आजादी होनी चाहिए.”
सारस्वत ने आगे कहा, “कभी-कभी सरकारों को कानून-व्यवस्था और सुरक्षा बनाए रखने के लिए कदम उठाने पड़ते हैं और कभी-कभी इंटरनेट बंद करना पड़ता है. उसके बाद बात खत्म हो गई और हमने दूसरे कई विषयों पर बात की. कई बातों में से उन्होंने इस बेतुकी बात को चुन लिया और उसे गलत तरीके से पेश कर दिया.

शेरनी से मिलने के लिए शेर ने किया कुछ ऐसा कि दंग रह गए लोग, जानिए पूरा मामला

गुजरात: जूनागढ़ से जंगल के राजा शेर का एक वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में दिख रहा है कि शेर को शेरनी से मिलने के लिए 15 फीट ऊंची दीवार भी नहीं रोक सकी. मिली जानकारी के मुताबिक गिर के जंगल का शेर, सक्करबाग प्राणी संग्रहालय की शेरनी से मिलने आया था. वीडियो में जिस दीवार को शेर पार कर रहा है, वो सक्करबाग प्राणी संग्रहालय की है.

वीडियो में साफ दिख रहा है कि शेर को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है कि दीवार की ऊंचाई कितनी है. शेर बस अपनी ही धुन में नजर आ रहा है और पूरे ध्यान के साथ इतनी ऊंची दीवार फांद जाता है.

सोशल मीडिया पर ये वीडियो खूब वायरल हो रहा है और यूजर्स कमेंट में एक बात बार-बार कहते दिख रहे हैं कि प्रेम को कोई दीवार नहीं रोक सकती. शेर अपनी शेरनी से मिलने के लिए ऐसी कई दीवारें फांद सकता है.

भाग्य चमकाएं, नित्य करें यह आसान उपाय.

*सत्येंद़ रघुवंशी

विपत्ति में घिरे किसी भी प्राणी के लिए तिनका भी सहारा होता है, लेकिन बहुत कम जातक जानते हैं कि प्राचीन धार्मिक ग्रंथों में दी गई सीख को अपनाने मात्र से कैसे भी बुरे दिनों से बाहर निकला जा सकता है।

भाग्य चमकाने के सरल टोटके

जब भी सुबह उठें तो सबसे पहले दोनों हाथों की हथेलियों को कुछ क्षण देखकर चेहरे पर तीन-चार बार फेरें और ईश्वर को नमस्कार करें। इसका कारण है कि हथेली के अग्र भाग में मां लक्ष्मी, मध्य भाग में मां सरस्वती व मूल भाग (मणि बंध) में भगवान विष्णु का स्थान होता है। नित्य यह कर्म करने से जातक का भाग्य चमक उठता है।

वैदिक ग्रंथों के अनुसार घर में बन रहे भोजन में से पशु (गौ माता) का हिस्सा भी अलग से रखें। वर्तमान में भोजन के लिए बनाई जा रही रोटी को गाय या किसी पशु के लिए निकाल लें और उसे खिलाएं। गौमाता धरती पर ईश्वर का वरदान मानी जाती है। ऐसा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

प्रतिदिन चींटियों को शक्कर मिला हुआ आटा खिलाएं। माना जाता है कि ऐसा करने से आपके पाप कर्मों का क्षय होगा और पुण्य कर्म उदय होंगे।

घर में स्थापित देवी-देवताओं को रोज ताजे फूलों से श्रृंगारित करना चाहिए। घर में स्थापित देवी-देवताओं को फूल आदि अर्पित करने से वे प्रसन्न होते हैं व साधक का भाग्य चमका देते हैं।

अपने निवास में प्रतिदिन सुबह झाड़ू-पोछा करें। शाम के समय घर में झाड़ू-पोछा न करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं और आर्थिक हानि का सामना करना पड़ सकता है।

किसी भी तालाब, झील या नदी में मछलियों को नित्य जाकर आटे की गोलियां खिलाएं। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने का यह बहुत ही अचूक उपाय है। नियमित रूप से जो यह उपाय करता है, कुछ ही दिनों में उसकी किस्मत चमक जाती है।

जब भी किसी महत्वपूर्ण कार्य के लिए घर से निकलें तो उसके पहले अपने माता-पिता और घर के बड़े-बुजुर्गों के चरण स्पर्श करें और आशीर्वाद लें। माता-पिता को प्रत्यक्ष देवता माना गया है। ऐसा करने से सभी विपरीत ग्रह अनुकूल हो जाते हैं और शुभ फल प्रदान करते हैं।

ध्यान रहे कि जब भी आप घर में प्रवेश करें तो कभी खाली हाथ न जाएं। घर में हमेशा कुछ न कुछ लेकर ही प्रवेश करें, चाहे वह पेड़ का पत्ता ही क्यों न हो।

प्रतिदिन सुबह पीपल के पेड़ पर एक लोटा जल चढ़ाएं। मान्यता है कि पीपल में भगवान विष्णु का वास होता है। रोज ये उपाय करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और शुभ फल प्रदान करते हैं।

पति का हुआ बंटवारा, तीन दिन पहली पत्नी और तीन दिन दूसरी पत्नी के साथ रहेगा

नई दिल्ली: रांची शहर के सदर थाने में शनिवार को एक बड़ा ही हास्यास्पद और अजीबोगरीब मसला सामने आया। इस मसले के बारे में जानकार आप या तो हैरान हो जायेंगे या तो हंस कर लोट-पोट हो जायेंगे। एक आदमी की अगर दो पत्नियां हों तो उनका ख्याल रखना एक चुनौती से कम नही है।

मामला यह है कि एक आदमी की दो पत्नियों ने अपने पत्नी के दिनों का बंटवारा किया है। ये बंटवारा साथ रहने के लिए किया है। पति के सप्ताह में तीन-तीन दिन दोनों के साथ रहने पर सहमति हुई। और दोनों महिलाओं ने पति को एक दिन की छुट्टी भी दी।

इनके चक्कर में पुलिस भी परेशानी में

दरअसल, शनिवार को दूसरी पत्नी सदर थाने पहुंची और शिकायत की कि इकरारनामे को तोड़ते हुए पांच दिन से उसका पति घर नहीं आया है। वह अपनी पहली पत्नी के साथ रहने लगा है। अब पहली पत्नी के संग गए राजेश की वापसी नहीं होने से दूसरी परेशान थी। शनिवार को दूसरी पत्नी ने थाने में इसे लेकर शिकायत की। इस चक्कर में पुलिस भी परेशानी में पड़ गई। पुलिस ने पति राजेश कुमार को थाने बुलाया और समझाया। इसके बाद राजेश दूसरी पत्नी के साथ चला गया।

तीन दिन पहली पत्नी और तीन दिन दूसरी पत्नी के साथ रहेगा

पुलिस की मौजूदगी में इससे पूर्व में ही दोनों महिलाओं ने समझौता किया था। यह सहमति बनी थी कि दोनों के लिए पति के साथ रहने के दिन का बंटवारा होगा। सप्ताह में तीन दिन पहली पत्नी और तीन दिन दूसरी पत्नी के साथ रहेगा। एक दिन अपना काम करेगा। पर पति जब पांच दिन तक एक ही पत्नी के साथ रह गया तो दूसरी को इसकी शिकायत पुलिस से करनी पड़ी।

विधायक मुन्नालाल हुये कमलनाथ सरकार से नाराज, धरने पर बैठ किया नारजगी का इजहार

भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा के बाहर धरने के बाद नाराज कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल को मनाने की कवायद शुरू हो गई है। कमलनाथ सरकार के मंत्री पीसी शर्मा और डॉक्टर गोविंद सिंह उन्हें मनाने में जुट गए हैं। जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा के बंगले पर हुई इस मुलाकात में तीनों ने साथ बैठकर पहले चाय पर चर्चा की और फिर गिले शिकवे दूर करने की कोशिश की।

इस दौरान विधायक मुन्नालाल गोयल ने कहा कि उनकी नाराजगी किसी से नहीं है। कांग्रेस पार्टी में लोकतंत्र है लिहाजा मैंने गांधीवादी तरीके से अपना विरोध दर्ज कराया। मैंने धरना सरकार के खिलाफ नहीं बल्कि वचन पत्र के वायदों को याद दिलाने के लिए दिया था। वहीं जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि कांग्रेस विधायकों को बोलने का अधिकार है। अगर कोई अधिकारी किसी विधायक की नहीं सुनेगा तो उसके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। सरकार से विधायक की नाराजगी जैसी कोई बात नहीं है। ग्वालियर पूर्व से कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी माने जाते हैं।

कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल इससे पहले शनिवार सुबह 11 बजे विधानसभा पहुंचे। उन्होंने वहां महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और धरने पर बैठ गए। मुन्नालाल गोयल इस बात से नाराज थे कि सरकार में विधायकों की सुनवाई नहीं हो रही और उनके विधानसभा क्षेत्र में गरीबों पर कड़ाके की ठंड में बुलडोजर चलाए जा रहे हैं। गोयल ने भूमिहीन गरीबों को पट्टे देने के कांग्रेस के वचन की भी चिट्ठी लिखकर सीएम कमलनाथ को याद दिलाई थी। गोयल एडीएम अनूप सिंह द्वारा कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ अभद्र व्यवहार करने से भी नाराज हैं।