कौन था बंबई का पहला डॉन जिससे इंदिरागांधी मिलने जाती थीं

मुंबई
मुंबई अंडरवर्ल्ड के बारे में सुनते ही सबसे पहले हमारी आंखों के सामने भले ही दाउद इब्राहिम का चेहरा आता हो, लेकिन हकीकत यह है कि अंडरवर्ल्ड के पहले डॉन कहे जाने वाले हाजी मस्तान मिर्जा से भी पहले करीम लाला मुंबई पर राज करता था। बुधवार को शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत द्वारा दावा किया गया कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी मुंबई में पुराने डॉन करीम लाला से मिलने आती थीं। इसी के साथ एक बार फिर चर्चा में आ गया पठान गैंग के करीम लाला का नाम, हम आपको बता रहे हैं करीम लाला लाला के बारे में सबकुछ:

आज का मुंबई 30 के दशक में बंबई हुआ करता था, उसी समय अफगानिस्तान के कुनाप से एक शख्स बंबई आया था, उसका नाम था अब्दुल करीम शेर खान। हालांकि उसका परिवार काफी पैसे वाला था फिर भी और ज्यादा शोहरत और ताकत हासिल करने के लिए वह पहले पेशावर गया, और फिर मुंबई आ गया। उस समय करीम की उम्र सिर्फ 21 साल थी। लाला ने साउथ बंबई के ग्रांट रोड स्टेशन के पास एक मकान किराए पर लेकर, उसमें जुए का एक अड्डा खोला और उसे नाम दिया सोशल क्लब। क्लब में आने वालों को उधार भी मिलता था। बहुत कम समय में ही सोशल क्लब बंबई का नामी क्लब बन गया। इसी जुआघर से निकला था बंबई का पहला डॉन करीम लाला। इसके बाद करीम मुंबई डॉक से हीरे और जवाहरात की तस्करी करने लगा। 1940 तक उसने इस काम में एक तरफा पकड़ बना ली थी। आगे चलकर वह तस्करी के धंधे में किंग के नाम से मशहूर हो गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *