हनीट्रैप का वीडियो वायरल: श्वेता के साथ दिखे शिव ‘राज’ के मंत्री, क्या कमलनाथ के ‘चक्रव्यूह’ में फंस गई बीजेपी ?

भोपाल. मध्यप्रदेश की सियासत में भूचाल मचाने वाला हनीट्रैप कांड एक फिर से खड़ा हो गया है। हनीट्रैप मामले में पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा का एक वीडियो सामने आया है। पूर्व मंत्री श्वेता स्वपनिल जैन के साथ दिखाई दे रहे हैं। शराब और शबाब ने शर्मा जी को ऐसे अपने गिरफ्त में ले लिया था कि खुद को गिरवी रख दिया था और अपनी ही पार्टी के कद्दावर नेता शिवराज सिंह चौहान और भाजपा पर जमकर हमला बोला। हनीट्रैप का वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी मध्यप्रदेश में एक बार फिर से फंसती हुई नजर आ रही है। जानकारों का कहना है कि सीएम कमल नाथ के चक्रव्यूह में भाजपा फंसती जा रही है।
लक्ष्मीकांत शर्मा का वीडियो क्यों हुआ वायरल
लक्ष्मीकांत शर्मा का वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी में सियासी घमासान मचा है। लक्ष्मीकांत शर्मा इस समय बीजेपी में नेपथ्य में हैं। व्यापामं घोटाले में जेल जाने के बाद से लक्ष्मीकांत शर्मा अब केवल भाजपा के एक कार्यकर्ता के रूप में हैं। लक्ष्मीकांत शर्मा का जो वीडियो वायरल हुआ है उस वायरल वीडियो में लक्ष्मीकांत शर्मा पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोल रहे हैं तो इसके साथ ही उन्होंने भाजपा और संघ पर भी निशाना साधा है। शिवराज पर हमला बोलने के बाद शिवराज सिंह चौहान और भाजपा बैकफुट पर है।

वायरल वीडियो की पुष्टि मीडिया नहीं करता है। पर इस वायरल वीडियो में पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा कह रहे हैं कि मैंने व्यापमं का पूरा जहर पी लिया है। मैं चाहता तो एक मिनट में इनकी कुर्सी चली जाती थी। लेकिन संगठन हमारी मां है, इसलिए मैंने जहर का पूरा घूंट पी लिया। इसके साथ ही वह मोदी और शिवराज के रिश्ते पर भी श्वेता स्वपनिल जैन से बात करते हैं। लक्ष्मीकांत शर्मा कहते हैं कि मोदी इसका विरोधी है। प्रधानमंत्री के दावेदार में तो इसकी गिनती तो होती नहीं है लेकिन यह खुद को दावेदार मानते थे। वहीं, विधानसभा चुनाव के दौरान जब मैंने बैनर में मोदी का चेहरा लगा दिया तो वह भड़क गए और कहने लगे कि यह चुनाव शिवराज के नाम पर है कि मोदी पर। शिवराज बहुत बदमाश है यार।
फिर उठेगा व्यापामं का मुद्दा
लक्ष्मीकांत शर्मा व्यापामं के आरोपी हैं। ऐसे में एक बार फिर से मध्यप्रदेश में व्यापामं में जांच का मुद्दा गर्मा सकता है। शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी को लक्ष्मीकांत शर्मा ने करफ्ट बताया है। ऐसे में शिवराज इस मुद्दे पर बैकफुट पर रहेंगे और सरकार के खिलाफ खुला हमला करने के बचते नजर आएंगे।

मध्यप्रदेश में कमल नाथ की सरकार बनने के बाद से भाजपा लगातार हमला बोल रही है कि वो कमल नाथ की सरकार को गिरा देंगे। लेकिन कमल नाथ के दांव के सामने भाजपा बेब नजर आई। पहले भाजपा के दो विधायक बागी होकर कांग्रेस के पक्ष में वोटिंग किए। उसके बाद भाजपा को झाबुआ उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा। वहीं, भाजपा के कई कद्दावर नेताओं के खिलाफ सरकार जांच की फाइलें खुलवाने में लगी है। कैलाश विजयवर्गीय के खिलाफ पेंशन घोटला, नरोत्तम मिश्रा के खिलाफ ई-टेंटर घोटाले की जांच हो रही है। वहीं, भाजपा के दो विधायकों के बागी होने से पार्टी का आलाकमान नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से नाराज है। कमल नाथ के दांव के सामने भाजपा के बड़े नेता अब अपनों में ही उलझे हुए हैं।
शिवराज बोल रहे थे हमला
शिवराज सिंह चौहान कमल नाथ सरकार के खिलाफ लगातार हमलावर थे। किसान कर्जमाफी को लेकर शिवराज सिंह चौहान लगातार कमल नाथ सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगा रहे हैं। लेकिन अब हनीट्रैप का वीडियो वायरल होने के बाद कहीं ना कहीं शिवराज सिंह चौहान बैकफुट पर आ गए हैं। भाजपा लगातार मांग कर रही थी कि अगर सरकार के पास वीडियो हैं तो उसे जारी करे। लेकिन लक्ष्मीकांत का वीडियो वायरल होने के बाद ये कहा जा रहा है कि ये एक तरह से दबाव की राजनीति भी हो सकती है। भाजपा इस वीडियो के वायरल होने से दबाव में आ गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *