भ्रष्ट और लापरवाह सिस्टम ने मार डाले दो नौनिहाल – धैर्यवर्धन

पर्याप्त कार्यवाही न हुई तो राठखेड़ा जाकर धारा 144 का उल्लघंन करेंगे

कांग्रेस विधायक के गांव में हुई घटना की समय सीमा में हो निष्पक्ष जांच


पोहरी विधायक के गांव में शौचालय के ढहने से ( ग्राम रांठखेड़ा ) पोहरी व्लॉक जिला शिवपुरी के 2 आदिवासी बच्चों की मौत पर भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्य समिति सदस्य धैर्यवर्धन ने संवेदना व्यक्ति की है । भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि उन्हें गहरा दुख पहुंचा है, मै नौनिहालों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।
धैर्यवर्धन ने शासन से मांग की है कि निष्पक्ष जांच हो कि उस घटिया शौचालय को पंचायत के सरपंच/ सेक्रेटरी ने बनवाया था , किसी ठेकेदार ने बनवाया था या फिर स्वयं उस आदिवासी ने ही बनाया था ।
मध्यप्रदेश भाजपा के पैनलिस्ट धैर्यवर्धन ने आरोप लगाया कि गरीब आदिवासी बच्चों को भ्रष्ट, लापरवाह और बेईमान सिस्टम ने मार डाला । यदि प्रशासन ने लीपापोती की तो वे राठखेडा गांव में पहुंचकर धारा 144 का उल्लघंन करने के लिए विवश होना पड़ेगा ।
धैर्यवर्धन ने कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से मांग की है कि अविलंब प्रकरण दर्ज कर समय सीमा में निष्पक्ष जांच कर दोषियों को कठोर सजा दिलाई जाए ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो । उन्होंने कहा कि किसी बड़े और समृद्ध परिवार में यह घटना होती तो हाहाकार मच जाता पर इस घटना को भी रत्ती भर हल्के में लेना अमानवीय और संवेदनहीनता होगी ।

मोदी छठी बार ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए आज ब्राजील रवाना होंगे, पुतिन और जिनपिंग से भी मिलेंगे

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11वें ब्रिक्स सम्मेलन(13 और 14 नवंबर) में हिस्सा लेने के लिए आज ब्राजील रवाना होंगे। वेछठी बार समिट में हिस्सा लेंगे।इस बारसमिट कीथीम ‘उन्नत भविष्य के लिए आर्थिक वृद्धि’है। मोदी पहली बार ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने 2014 में ब्राजील के शहर फोर्टलेजा गए थे।

सरकार के सूत्रों के मुताबिक, मोदी मंगलवार दोपहर ब्राजील की राजधानी ब्राजीलिया के लिए रवाना होंगे। इस यात्रा के दौरान उनके साथ एक बड़ा व्यापार प्रतिनिधियों का दल भी शामिल होगा। यह प्रतिनिधि विशेषकर ब्रिक्स बिजनेस फोरम में हिस्सा लेगा।

मोदी, पुतिन और शी जिनपिंग के साथ अलग-अलग द्विपक्षीय वार्ता करेंगे

अधिकारियों ने बताया, समिट के दौरान मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ अलग-अलग द्विपक्षीय वार्ता करेंगे।मोदी का ब्रिक्स बिजनेस फोरम के समापन और ब्रिक्स के मुख्यसत्र और समापन समारोह दोनों में हिस्सा लेने का कार्यक्रम है। समिटमें समकालीन विश्व में राष्ट्रीय संप्रभुता के लिए चुनौतीऔर अवसरों पर बातचीत होने की संभावना है।

व्यापार और निवेश प्रमोशन एजेंसियों के बीच ब्रिक्स एमओयू परहस्ताक्षर होंगे

ब्रिक्स के मुख्य अधिवेशन में सभी नेता आपस मेंआर्थिक विकास के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर बातचीत करेंगे। मोदीब्रिक्स बिजनेस काउंसिल में भी हिस्सा लेंगे। इसमें ब्राजीलियन ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल के चेयरमैन और न्यू डेवलपमेंट बैंक के अध्यक्ष अपनी-अपनी रिपोर्ट भी सौंपेंगे। इसमें व्यापार और निवेश प्रमोशन एजेंसियों के बीच ब्रिक्स एमओयू पर भी हस्ताक्षर होंगे।

ब्रिक्स विश्व की पांच बड़ी अर्थव्यवस्था ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका से मिलकर बना है। ब्रिक्सदेशों कीदुनिया की कुल आबादी में 42% और जीडीपी में23% हिस्सेदारी है।पांचों देशों का विश्व व्यापार में हिस्सा 17% है।

अयोध्या पर सिंधिया ने कहा- सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य, राजनीति अब समाप्त हो गई

ग्वालियर.कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को ग्वालियर पहुंचे। वह दिल्ली से ट्रेन से ग्वालियर पहुंचे, जहां पर बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। मीडिया से बातचीत मेंअयोध्या मामले पर सिंधिया नेकहा किसुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है। राजनीति अब समाप्त हो गई है और अमन चैन और आपसी सद्भाव कायम है। अब प्रगति और विकास के मुद्दे पर काम होगा।

इसी मामले में दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर सिंधिया ने कहा कि किसी के बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देता। मीडिया ने जब उनसे मध्यप्रदेश पीसीसी चीफ बनने पर सवाल किया तो ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले जनसेवा और सेवाभाव के लिए काम करता हूं, किसी पद के लिए नहीं।

जनमत भाजपा व शिवसेना को मिला है

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में प्रभारी रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार को लेकर बने असमंजस पर सिंधिया ने कहा कि इसमें दो राय नहीं है कि जनमत भाजपा और शिवसेना गठबंधन को मिला है। अब बड़ी विचित्र स्थिति बन गई है, ज्योतिरादित्य सिंधिया से जब दिग्विजय सिंह के बाबरी विध्वंस के आरोपियों को सजा देने वाले बयान के बारे में पूछा गया तो सिंधिया ने चुप्पी साध ली। इस पर सिंधिया ने इतना ही कहा कि वे किसी के ट्वीट का उत्तर नहीं देते हैं, जो कहते हैं खुद कहते हैं।

क्या बोले थे दिग्विजय सिंह
इससे एक दिन पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने अयोध्या मामले में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रविवार कोएक ट्वीट कर कहा था कि फैसले का स्वागत लेकिन बाबरी विध्वंस करने वाले आरोपियों को सजा क्या मिलेगी। इनका ये ट्वीट वायरल हो रहा है।

खाद्य मंत्री ने सिंधिया को कियादंड़वत प्रणाम

ज्योतिरादित्य सिंधिया जब ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे तो उनका स्वागत करने के लिए मध्यप्रदेश के खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भी पहुंचे थे। मंत्री ने ज्योरादित्य सिंधिया के सामने झुककर दंडवत प्रणाम किया। कुछ ही देर में मंत्री द्वारा सिंधिया के सामने पूरी तरह झुककर प्रणाम करते वीडियो वायरल होने लगा। जब कांग्रेस नेताओं से मंत्री द्वारा किए गए इस प्रणाम को लेकर सवाल हुए तो उन्होंने कहा कि राजस्थान में खम्मा घणी की इसी तरह प्रणाम करने की परंपरा है।

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर असमंजस की स्थिति बरकरार

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर असमंजस की स्थिति बरकरार है. कांग्रेस तय नहीं कर पा रही है कि वह सरकार बनाने में शिवसेना का सहयोग करेगी या नहीं. हालांकि, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को सरकार बनाने का न्योता मिलने के बाद कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज कोर कमेटी की बैठक बुलाई है. इस बीच कांग्रेस के अंदर से दो सुर सामने आ रहे हैं. एक ओर केसी पडवी ने सरकार बनाने का समर्थन किया तो वहीं संजय निरुपम ने शिवसेना के साथ गठबंधन का विरोध किया.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरुपम ने कहा कि कांग्रेस के पास महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कोई नैतिक जिम्मेदारी नहीं है. अस्थिरता के लिए हम पर कोई भी आरोप लगाना गलत है. यह बीजेपी और शिवसेना की विफलता है, जिसने राज्य को राष्ट्रपति शासन की चौखट पर ला खड़ा किया है. वहीं, केसी पडवी ने कहा कि प्रक्रिया अभी भी चल रही है, लेकिन अंतिम रिजल्ट सकारात्मक होगा. व्यक्तिगत रूप से मुझे लगता है कि तीनों (शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी) पार्टी सरकार बनाएंगे और शिवसेना का नेता सीएम होगा.

लतामंगेशकर अस्पताल में फैंफड़ों के संक़मण से जूझ रहीं.

मुंबई. स्‍वर कोकिला के नाम से प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) की तबीयत खराब होने के चलते सोमवार को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल (Breach Candy Hospital) में भर्ती कराया गया. वह फेफड़ों के गंभीर इंफेक्‍शन से जूझ रही हैं. टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने डॉक्‍टरों के हवाले से रिपोर्ट दी है कि 90 साल की लता की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है और उन्‍हें वेंटिलेटर पर रखा गया है. जानकारी के अनुसार लता मंगेशकर को रात लगभग 1.30 बजे ब्रीच कैंडी अंस्‍पताल में सांस लेने में तकलीफ के चलते भर्ती किया गया था. कुछ घंटों बाद उन्‍हें आईसीयू में लाइफ सपोर्ट पर शिफ्ट कर दिया गया.

इंटरनल मेडिसिन फिजिशन, डॉक्‍टर प्रतित समदानी ने इस रिपोर्ट में जानकारी दी है, ‘उन्‍हें निमोनिया हुआ है. साथ ही उनका बायां वेट्रिकुलर भी फेल हो गया है. उनकी हालत अभी भी लगातार गंभीर ही बनी हुई है, हालांकि पिछले कुछ घंटों में थोड़ा सुधार हम देख रहे हैं.’ डाक्‍टर की मानें तो लेफ्ट वेट्रिकुलर ही हृदय को सबसे ज्‍यादा ऑक्‍सीजन देता है और शरीर के सामान्‍य काम करने के लिए इसका ठीक होना बहुत जरूरी है. ऐसे में हृदय का लेफ्ट हिस्‍से को ब्‍लड सप्‍लाई करने के लिए ज्‍यादा काम करना होता है.

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का चयन वित्तीय मामलों की संसदीय समिति के लिये हुआ.

मनमोहन सिंह को वित्तीय मामलों की संसदीय समिति में दिग्विजय सिंह की जगह मनोनीत किया गया है. बताया जाता है कि मनमोहन सिंह को वित्त मामलों की संसदीय समिति में शामिल करने के मकसद से ही दिग्विजय ने इस समिति से इस्तीफा दे दिया था.

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को वित्तीय मामलों की संसद की स्थायी समित के लिए मनोनीत किया गया है. मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में दोबारा निर्वाचित हुए हैं. वह अगस्त में राजस्थान से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए. राज्यसभा की बुलेटिन के अनुसार, सभापति ने राज्यसभा के सदस्य डॉ. मनमोहन सिंह को वित्तीय मामलों की संसदीय समिति में दिग्विजय सिंह की जगह मनोनीत किया गया है. उनका मनोनयन छह नवंबर 2019 से प्रभावी है.

सभापति ने राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह को भी शहरी विकास मामलों की समिति के लिए मनोनीत किया है और उनका भी मनोनयन 6 नवंबर 2019 से प्रभावी है. मनमोहन सिंह 1991 से 1996 के दौरान वित्तमंत्री भी रहे हैं. वह इस साल सितंबर में बतौर राज्यसभा सदस्य अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद अवकाश प्राप्त करने से पहले सितंबर 2014 से लेकर मई 2019 तक इस समिति के सदस्य थे.

शौचालय ढहने से भ़ष्टाचार की बलि चढ़ गये मासूम ,जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हत्या का प़करण दर्ज होना चाहिये

शिवपुरी जिले के पोहरी थाना अंतर्गत राठखेड़ा गांव में सोमवार की शाम को भ़ष्टाचार की बलि चढ़ गये दो मासूम एक यही पंचायत नहीं जिले की हर पंचायत के निर्माण कार्यों की गुणवत्ता निम्न दरजे की है हर तरफ पंचायतों के सचिव, रोजगार सहायक और अधिकारी केवल पैसा बटोरने में लगे हैं.
समय आ गया है कि सारे जिले की पंचायतों में जो निर्माण कार्य हुये हैं उनकी गुणवत्ता की जांच होना चाहिये.
रांठखेड़ा गांव में एक शौचालय गिर जाने से वहां खेल रहे दो बच्चों की मौत हो गई और जिन बच्चों की मौत हुई है वह आदिवासी वर्ग के हैं और वहां बनी  शौचालयों के समीप खेल रहे थे तभी शौचालय की दीवार गिर गई और  यह  बच्चे इसकी चपेट में आ गए। 

दो मासूम बच्चों की मौत के बाद आदिवासी बस्ती में मातम छाया हुआ है। गांव के लोगों ने बताया कि यहां पर कुछ साल पहले पंचायत द्वारा शौचालय बनवाया गया था लेकिन घटिया शौचालय बनवाया गया था जिसकी पोल दीवार गिरने से खुल गई और बच्चे इसकी चपेट में आ गए। शौचालय की दीवार कमजोर थी और तभी बच्चे खेलते हुए वहां पहुंच गए और दीवार गिर गई। मृतक बच्चों में एक का नाम राजा आदिवासी उम्र 7 वर्ष है और दूसरे का नाम प्रिंस आदिवासी उम्र 6 वर्ष बताया गया है।
आखिर इन मासूमों का कसूर क्या था और इनकी मृत्यु का जिम्मेदार जो भी हो चाहे सरपंच चाहे सचिव चाहे इंजीनियर जिसने निर्माण कार्य को स्वीकृति दी सजा के हरदार है.