राम मंदिर मामले में नागरिक सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन अंतरात्मा से करें – धैर्यवर्धन

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्य समिति सदस्य धैर्यवर्धन ने राम मंदिर मुद्दे पर शीघ्रातिशीघ्र आ रहे फैसले पर शांतिपूर्वक कानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है ।
धैर्यवर्धन ने कहा कि जगह जगह धारा 144 लग रही है !
क्या भारत के नागरिक स्वयं नियंत्रण में रहकर आदर्श प्रस्तुत नहीं कर सकते ?

वरिष्ठ भाजपा नेता धैर्य वर्धन द्वारा जारी की गई अपील में कहा गया है कि सभी धर्मो के लोग राम मंदिर के मद्देनजर माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले को शांतचित्त होकर स्वीकारने का वातावरण बनाने में सहयोग करें । अड़ोस पड़ोस विशेषकर सोशल मीडिया पर भड़काने वाले लोगों की तत्काल क्लास लें, मजम्मत करे , हतोत्साहित करें । पिछले वर्षों में हाई कोर्ट के आदेश पर भी पूरे देश ने समझदारी और शांति का परिचय दिया था ।

प्रदेश भाजपा के मीडिया पैनलिस्ट धैर्यवर्धन ने कहा कि मंदिर के पक्ष में फैसला आए तो दरवाजे पर स्वांतः सुखाय हेतु चुपचाप दीपक जलाएं ,
खिलाफ फैसला आने पर भले ही अपना दिल जलाएं लेकिन किसी का घर न जलाएं । ऐसी ही अपेक्षा मेरी अल्पसंख्यक वर्ग के भाई बहिनों से भी है । बाबरी मस्जिद के पक्ष में कुछ आए तो फोन पर मुबारकबाद दें और खिलाफ आए तो सोचें कि बाबर ने हमारे कुल खानदान और भारत भूमि में जन्म ही नहीं लिया था ।

धैर्यवर्धन ने अपनी समझाइश में निवेदन किया है की प्रभु श्री राम को प्रसिद्ध मुस्लिम कवि इक़बाल की नज़र से देखने का प्रयास करें । उन्होंने अपनी कविता में लिखा है कि –

लबरेज़ है शराबे हक़ीक़त से जामे हिन्द

सब फ़लसफ़ी हैं खि़त्ता ए मग़रिब के राम ए हिन्द

यह हिन्दियों के फ़िक्र ए फ़लक रस का है असर
रिफ़अ़त में आसमां से भी ऊंचा है बामे हिन्द
इस देस में हुए हैं हज़ारों मलक सरिश्त
मशहूर जिनके दम से है दुनिया में नाम ए हिन्द
है राम के वुजूद पे हिन्दोस्तां को नाज


अहले नज़र समझते हैं उसको इमाम ए हिन्द


ऐजाज़ उस चराग़ ए हिदायत का है यही
रौशनतर अज़ सहर है ज़माने में शाम ए हिन्द
तलवार का धनी था शुजाअत में फ़र्द था
पाकीज़गी में जोश ए मुहब्बत में फ़र्द था बांगे दिरा मय शरह उर्दू से हिन्दी, पृष्ठ 467, एतक़ाद पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली 2 से प्रकाशित पुस्तक का उल्लेख करते हुए उन्होंने यह बात कही है । सुप्रीम कोर्ट का आदर न करना भी गैर जिम्मेदार नागरिक होने का परिचायक है । आखिर यह गठान देवठान त्यौहार के अवसर पर हमेशा के लिए खुल ही जानी चाहिए .

भाजपा नेता धैर्यवर्धन ने कहा कि जिस शहर में मीठी सेंवई खाकर ईद मुबारक कहते है, होली दीवाली पर हिन्दुओं को बधाई देते है उसी शहर में आपा खोकर वहीं लोग रिश्तों को खून से रंग देते हैं । बंदूक की गोली चलवा देती है जहरीली बोली । तलवार और बंदूक हिन्दू मुसलमान किसी को नहीं बख्शती है । सभी धर्मो के अपराधी प्रवित्ति के लोग लूटपाट के लिए ऐसी ही परिस्थिति का बेसब्री से इंतजार करते हैं ।
हालांकि शिवपुरी शहर शांत शहर है परन्तु भारत में कहीं भी लोग देश की साख को बट्टा न लगाएं ।
भाजपा नेता धैर्यवर्धन ने लोगों का ध्यानआकर्षित करते हुए कहा कि वैसे भी दिलजला पाकिस्तान ऐसी ही किसी अनहोनी के लिए आंखें गड़ाए बैठा है । देश विरोधी ताकतें मौके के इंतजार में है ।
सारी दुनिया मार काट पर उतारू है केवल भारत ही शांति का टापू है कृपया उसे स्वर्ग से सुंदर भूमि बनाए रखने में अपना अपेक्षित बहुमूल्य योगदान दीजिए ।

देश के बटवारे के समय के दंगे, सिख दंगे, गोधरा गुजरात के दंगे हों या अन्य कोई दंगा फसाद , हमको यही सिखाया है कि धीरे से लगाई गई आग भी बेकाबू हो जाती है , लाशें बिछ जाती हैं, करोड़ों – अरबों की संपत्ति स्वाहा हो जाती है और बुझने में बहुत समय लेती है। और घाव को और गहरा कर जाती है पीढ़ियों के मन में ।
भाजपा नेता धैर्यवर्धन ने नागरिकों से अपील की है कि फैसला आने पर एहतियात के तौर पर अपने नौनिहालों, पड़ोसियों की सुरक्षा भी सुनिश्चित करे । जली कटी बातें न करें । किसी के भी कमजोर/ताकतवर या छोटे/बड़े की बात नहीं है , बात तो सिर्फ इतनी सी है कि हमें कैसा देश बनाना है , देश को किस दिशा में ले जाना है । छोटी सी चूक भी अर्थव्यवस्था को बहुत बहुत बड़ा झटका दे जाएगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *