प़भारी मंत्री ने शिवपुरी कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा.

शिवपुरी प्रभारी मंत्री प्रदुमन सिंह तोमर ने आज दिनांक 4/11 /2019 को कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ कलेक्ट्रेट कार्यालय में एक ज्ञापन दिया ज्ञापन के प्रारूप में यह मांग की थी कि केंद्र सरकार ने किसानों का ओलावृष्टि का पैसा वह बीमा का पैसा व अन्य सुविधाएं दूसरे प्रांतों को जैसे कर्नाटक बिहार को धन दे दिया है किंतु मध्य प्रदेश सरकार को धन केंद्र सरकार ने उपलब्ध नहीं कराया है यह ज्ञापन प्रभारी मंत्री ने राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर शिवपुरी को प्रदान किया इस अवसर पर कांग्रेस अध्यक्ष बैजनाथ सिंह कुशवाह काग्रेस नेता गणेश गौतम राम कुमार शर्मा जगमोहन सेंगर मुन्नालाल कुशवाह आकाश शर्मा और बहुत सारे कांग्रेसी कांग्रेसियों ने शिरकत की
प्रभारी मंत्री ने सफाई अभियान के तहत कुछ नालियों की सफाई कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर की उनका उद्देश्य केंद्र सरकार द्वारा चलाए जा रहे सफाई अभियान को मूर्त रूप देने का प्रयास था.

शर्त के 42 अंडे खाने से एक शख्स की मौत 50 अंडे खाने थे.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अंडे खाने और शराब पीने की शर्त पूरी करने के चक्कर में एक शख्स की जान चली गई। प्राप्त जानकारी के मुताबिक यहां एक शख्स ने दोस्तों से 50 अंडे खाने की शर्त लगाई थी। 42 अंडे खाने के बाद उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। बाद में उसे लखनऊ पीजीआई (SGPGI Lucknow) में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

दो हजार रुपए की लगी थी शर्तः मामला शुक्रवार (1 नवंबर) का बताया जा रहा है। यहां 40 वर्षीय एक शख्स दोस्तों के साथ बीबीगंज बाजार स्थित एक अंडे की दुकान पर खड़ा था। इसी बीच एक दोस्त ने शर्त लगाई कि यदि एक बोतल शराब के साथ 50 अंडे खा लिए तो वह दो हजार रुपए देगा। इस पर ग्रुप में से एक शख्स राजी हो गया और उसने अंडे खाने शुरू कर दिये। बिना कुछ सोचे-समझे वह अंडे खाता गया और शराब पीता गया।

घर पहुंचते ही गिरकर बेहोश हो गयाः 42 अंडे खाने के बाद जब उसकी हालत ज्यादा खराब हो गई तो उसने शर्त में हार मंजूर कर ली और घर जाने लगा। घर पहुंचते ही वह गिरकर बेहोश हो गया। परिजन तुरंत उसे नजदीकी हॉस्पिटल ले गए, जहां से उसे एसजीपीजीआई रैफर कर दिया गया। शनिवार (2 नवंबर) को उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

पुलिस को कुछ पता ही नहींः केस युवक की मौत की खबर फैलते ही इलाके में सनसनी मच गई और लोगों में अंडे खाने के चलते मौत की खबर चर्चा का विषय बन गई। परिजनों को खबर मिलते ही घर में मातम छा गया। फिलहाल इस संबंध में पुलिस केस दर्ज होने की कोई जानकारी सामने नहीं आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने इस संबंध में कोई जानकारी नहीं होने की बात कही है।

12 साल की बच्ची ने गलत नीयत से घर में घुसे शख्स को खदेड़ा

.लखनऊ
यूपी की राजधानी लखनऊ में एक 12 साल की बच्ची ने अपनी हिम्मत के बल पर गलत नियत से घर में घुसे शख्स से जमकर मुकाबला किया। शहर के आशियाना इलाके में रीडिंग लेने पहुंचे ग्रीन गैस कंपनी के कर्मचारी ने 12 वर्षीय बच्ची को अकेला देख छेड़छाड़ शुरू कर दी। बच्ची ने हिम्मत दिखाते हुए चाकू उठा लिया और आरोप के चंगुल से खुद को बचाया। बच्ची के शोर मचाने पर आरोपी शख्स मौके से भाग निकला। कुछ देर बाद पहुंची बच्ची की मां ने घटना की जानकारी के बाद परिचितों की मदद से आरोपी की तलाश शुरू की और फिर उसे पकड़कर धुनाई के बाद पुलिस के सुपुर्द कर दिया।

इंस्पेक्टर आशियाना विश्वजीत सिंह के अनुसार आशियाना निवासी महिला की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी शख्स को जेल भेज दिया गया है। महिला ने कहा है कि रविवार दोपहर उसकी बेटी घर पर पड़ोस में रहने वाले एक बच्चे के साथ खेल रही थी। इस बीच पहुंचे एक युवक ने खुद को ग्रीन गैस कंपनी का कर्मचारी बताते हुए घर का दरवाजा खोलने का कहा। बच्ची ने बताया कि उक्त शख्स मीटर रीडिंग के बहाने से घर में दाखिल हुआ था।

मोर्चा लेने पर भाग खड़ा हुआ आरोपी
आरोपी की बात पर भरोसा करते हुए बच्ची ने दरवाजा खोल दिया। आरोप है कि रीडिंग लेने के बाद आरोपी शख्स ने बच्ची का हाथ पकड़ लिया और छेड़छाड़ शुरू कर दी। इस दौरान किसी तरह खुद को छुड़ाने के साथ ही बच्ची ने पास में रखा चाकू उठा लिया और शोर मचाना शुरू कर दिया। किशोरी के मोर्चा लेने पर आरोपी शख्स भाग निकला। घटना के कुछ देर बाद जब बच्ची की मां घर पहुंची तो उसने सारी बात उन्हें बताई। इसके बाद महिला ने आसपास रहने वाले लोगों की मदद से आरोपी शख्स को घर के पास से ही दबोच लिया। गुस्साए लोगों ने धुनाई के बाद आरोपी को पुलिस को सुपुर्द कर दिया गया।

शिवपुरी : प्रभारी मंत्री प्रधुम्न सिंह तोमर आज शिवपुरी में किसानों के साथ कलेक्टर को ज्ञापन देंगे


शिवपुरी। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री एवं जिले के प्रभारी प्रद्युम्न सिंह तोमर 04 नवम्बर 2019 को शिवपुरी प्रवास के दौरान प्रातः 11.30 बजे कलेक्ट्रेट शिवपुरी में  जिले में अतिवृष्टि से किसानों की फसलों में नुकसान को लेकर फसल बीमा और केंद़ से मुआवजा राशि जारी करने को ले ज्ञापन कार्यक्रम में भाग लेंगे। इसके उपरांत 12.30 बजे ग्वालियर के लिए प्रस्थान करेंगे।

मध्यप़देश पंचायत चुनावों की तारीखों की घोषणा बैलेट से गैर दलीय आधार पर होंगे चुनाव.

राज्य निर्वाचन आयोग ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों की घोषणा कर दी है। ये चुनाव तीन चरणों में क्रमश: 20, 22 व 24 जनवरी को होंगे। मतदान प्रात: 8 बजे से दोपहर 3 बजे तक होगा।

भोपाल । राज्य निर्वाचन आयोग ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों की घोषणा कर दी है। ये चुनाव तीन चरणों में क्रमश: 20, 22 व 24 जनवरी को होंगे। मतदान प्रात: 8 बजे से दोपहर 3 बजे तक होगा। उसके बाद मतदान केन्द्र पर ही मतों की गणना की जाएगी। संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर मतगणना का काम नहीं किया जाएगा। इन मतों की गणना खण्ड मुख्यालयों पर क्रमश: 28 जनवरी, 30 जनवरी व 1 फरवरी को होगी। सारणीकरण व निर्वाचन परिणाम की घोषणा पंच, सरपंच व जनपद सदस्य के लिये 3 व 5 फरवरी को तथा जिला पंचायत सदस्यों के लिए 6 फरवरी को होगा। पंचायत चुनाव की घोषणा के साथ ही प्रदेश में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है, जो 25 जनवरी तक प्रभावी रहेगी।

निर्वाचन आयोग का कहना है, कि मतगणना का आचार संहिता से मतलब नहीं रहेगा और आयोग की मंशा है, कि निर्वाचन प्रक्रिया के कारण गांव के रोजगारोन्मूलक कार्य प्रभावित न हों। निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एवी. सिंह ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि इस चुनाव में 50 जिला पंचायतों के 843 व 313 जनपद पंचायतों के 6816 जनपद सदस्यों का निर्वाचन होना है। प्रदेश में कुल पंचायतों की संख्या 23,040 है जिनमें से 22 हजार 795 पंचायतों में चुनाव होंगे। प्रदेश के कुल 2 करोड़ 87 लाख मतदाताओं के लिए 62,007 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इनमें से कुल 26,874 मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं। निर्वाचन की प्रक्रिया की शुरूआत 26 दिसम्बर को निर्वाचन की सूचना के प्रकाशन के साथ होगी। नामांकन पत्र भरने की शुरूआत भी इसी दिन से होगी, जो 2 जनवरी तक जारी रहेगी। नामांकन पत्रों की जांच 4 जनवरी को होगी, नाम वापसी की अंतिम तिथि। 6 जनवरी है। चुनाव दलीय आधार पर नहीं किए जाएंगे। साथ ही मतदान में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन का उपयोग भी नहीं होगा। उन्होंने बताया कि 2004 के चुनाव में 76.61 प्रतिशत मतदान रहा था। उस चुनाव में 282 मतदान केन्द्रों पर पुनर्मतदान हुआ था। पिछले चुनाव में 5 जिला पंचायत सदस्यों, 133 जनपद सदस्यों, 814 सरपंचों व 2,06,557 पंचों का चुनाव निर्विरोध हुआ था। पिछले चुनाव में महिलाओं का प्रतिनिधित्व 37.36 प्रतिशत था, जो इस बार बढ़कर 50 प्रतिशत कर दिया गया है।