इमरान खान ने किया पाकिस्तान को आर्थिक तौर पर कंगाल

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान  इन दिनों हर जगह कश्मीर का राग अलाप रहे हैं. कश्मीर से आर्टिकल 370  हटाए जाने के मुद्दे पर पहले ही अलग-थलग पड़ चुके इमरान खान अब अपने देश में भी आलोचनाओं का शिकार हो रहे हैं. दरअसल पाकिस्तान के हालात पर करीबी नजर डालें तो प्रतीत होता है कि इमरान खान ने गरीबी से जूझ रहे देश को और कंगाल बन दिया है. इमरान ने अगस्त 2018 में पाकिस्तान की सत्ता संभाली थी और इकॉनमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इसके बाद से पाकिस्तान की हालत और भी खराब हो गई है.

इकॉनमिक ग्रोथ

पाकिस्तान की इकॉनमिक ग्रोथ  5.5 फीसदी से गिरकर 3.3 फीसदी पर पहुंच गई है. अनुमान लगाया जा रहा है कि अगले साल ये 2.4 फीसदी तक पहुंच सकता है.

रुपये में गिरावट

पाकिस्तानी रुपये भी लगातार गिरावट आ रही है. पिछले साल अगस्त में एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपये की कीमत 122 रुपये थी, लेकिन अब ये 156 रुपये पर पहुंच गया है. जानकारों का कहना है कि इसमें और गिरावट दर्ज हो सकती है.

महंगाई दर

इमरान खान के पीएम बनने के बाद मंहगाई दर में भी भारी इज़ाफा हुआ है. पिछले साल महंगाई दर 3.9 फीसदी थी जो अब बढ़कर 7.3 फीसदी पर पहुंच गया है. कहा जा रहा है कि ये अगले साल 13 फीसदी तक पहुंच सकता है.
FDI का हाल

इस साल जुलाई अप्रैल के बीच विदेशी निवेश में 51.7 फीसदी की कमी आई है. विदेशी प्राइवेट इन्वेस्टमेंट में भी 64.3 फीसदी की गिरावट आई है.

6 लाख करोड़ का कर्ज

देश को चलाने के लिए पाकिस्तान लगातार कर्ज ले रहा है. मार्च 2019 तक पाकिस्तान पर 85 बिलियन डॉलर यानी भारतीय रुपये में 6 लाख करोड़ से ज़्यादा कर कर्ज है. पाकिस्तान ने पश्चिमी यूरोप और मध्य पूर्व के देशों से भारी भरकम कर्ज ले रखा है. पाकिस्तान को सबसे कर्ज चीन ने दिया है. इसके अलावा पाकिस्तान ने कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों से लोन ले रखा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!