PM मोदी ने बताया- MLA बनने तक मेरे खाते में नहीं था एक पैसा

पीएम मोदी ने ये बातें इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आपका बैंक आपके द्वार) की शुरुआत करते हुए कही. उन्होंने बताया, ‘देना बैंक ने एक गुल्लक मुझे भी दी, लेकिन मेरा गुल्लक हमेशा खाली रहता था.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीने शनिवार को कहा कि विधायक बनने से पहले तक उनके पास कोई ऑपरेशनल बैंक खाता (जिसमें लेनदेन होता हो) नहीं था ,क्योंकि उनके पास कभी ज्यादा पैसा आया ही नहीं. मोदी ने अपने स्कूल के दिनों को याद करते हुए कहा कि बताया कि उन दिनों किस तरह देना बैंक एक योजना लाई थी, जिसके तहत छात्रों को गुल्लक दी जाती थी. उनका खाता खोलाभी जाता था.

पीएम मोदी ने ये बातें इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आपका बैंक आपके द्वार) की शुरुआत करते हुए कही. उन्होंने बताया, ‘देना बैंक ने एक गुल्लक मुझे भी दी, लेकिन मेरा गुल्लक हमेशा खाली रहता था. बाद में मैंने गांव छोड़ दिया. बैंक खाता चलता रहा और अधिकारियों को उसे हर साल आगे बढ़ाना पड़ता था. बैंक अधिकारी खाता बंद करने के लिए मेरी तलाश में थे.’

पीएम मोदी ने बताया कि कैसे 32 साल बाद बैंक अधिकारियों ने उन्हें ढूंढ़ निकाला और खाता बंद करने के लिए संपर्क किया. मोदी ने बताया, ‘32 वर्ष बाद उन्हें पता चला कि मैं किसी खास जगह पर हूं. फिर बैंक अधिकारी वहां आए और कहा, प्लीज साइन कीजिए. हमें आपका खाता बंद करना है.’

गुजरात में विधायक बनने के बाद मिला वेतन

पीएम ने बताया, ‘जब वह गुजरात में विधायक बने. उन्हें वेतन मिलना शुरू हुआ. इसलिए बैंक खाता खुलवाना पड़ा. मोदी ने कहा, ‘…इससे पहले कोई कामकाज वाला खाता नहीं था.’

3 लाख डाकियों को कवर करेगा इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक सर्विस

बता दें कि पीएम मोदी ने शनिवार को इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक सर्विस लॉन्च की. इसका स्कीम का मकसद करीब तीन लाख डाकियों और ‘ग्रामीण डाक सेवक’ और डाकघर की शाखाओं के व्यापक तंत्र का उपयोग करके आम आदमी के दरवाजे तक बैंकिंग सेवाएं पहुंचाना है. इस दौरान स्थानीय समूहों के साथ डाकियों के भावनात्मक जुड़ाव का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जनता का सरकार पर से विश्वास डगमगा सकता है, लेकिन डाकिए से नहीं.

पीएम मोदी ने कहा, ‘दशकों पहले जब डाकिये एक गांव से दूसरे गांव जाता था, तो डकैत और लुटेरे कभी पेास्टमैन पर कभी हमला नहीं करते थे, क्योंकि वे जानते थे कि वह शायद वो पैसे ले कर जा रहा है, जो किसी बेटे ने गांव में रहने वाली अपनी मां के लिए भेजे हैं.’

कैसे खुलेगा खाता?

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के लिए ऑनलाइन ऐप डाउनलोड कर भी खाता खोला जा सकता है. इसमें एक मिनट से कम का समय लगेगा. लेकिन 12 महीने के भीतर आपको पोस्ट ऑफिस या फिर चेक पोइंट में अपने डॉक्युमेंट जमा कराने होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!