PAK को जवाब की तैयारी, सेना ने किया सर्जिकल स्ट्राइक का अभ्यास

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने को लेकर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के हाथों बुरी तरह मात खाने के बाद अब पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ के जरिए नापाक साजिश रचने की कोशिश में जुटा हुआ है. आतंकियों के किसी भी ऐसे संभावित हमले का मुंहतोड़ जवाब देने के  लिए भारतीय सेना ने पाकिस्तान सीमा पर सर्जिकल स्ट्राइक जैसे सैन्य कार्रवाई का अभ्यास किया.
.
गुजरात में पाकिस्तान सीमा पर किए गए इस सैन्य अभ्यास में भारतीय सेना, वायुसेना और नौसेना के स्पेशल कमांडो ने हिस्सा लिया. ऑर्म्ड फोर्स स्पेशल ऑपरेशन डिविजन (AFSOD)  के इस वॉरगेम्स को ‘स्माइलिंग फील्ड’ नाम दिया गया है. 

इस युद्धाभ्यास में तीनों सेना के स्पेशल कमांडो ने जमीन और हवा में युद्ध का अभ्यास किया. बता दें कि यह युद्धाभ्यास गुजरात के नालिया में आयोजित किया गया था. नालिया गुजरात के कच्छ जिले का हिस्सा है जहां भारतीय थल सेना और भारतीय वायु सेना का महत्वपूर्ण बेस है.

सूत्रों के मुताबिक और भी वॉरगेम आयोजित किए जाएंगे. इस वॉरगेम्स के जरिए स्पेशल कमांडो खुद को भविष्य में सर्जिकल स्ट्राइक जैसे किसी भी सैन्य ऑपरेशन के लिए पूरी तरह से तैयार करेंगे.

बता दें कि इससे पहले चीन सीमा पर भी तीनों सेना की संयुक्त टीम ने इसी तरह का अभ्यास किया था. ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि एक साथ तीनों सेनाओं के कमांडो को प्रशिक्षण देने से खर्च कम होता है. वैसे आमतौर पर तीनों सेनाओं की स्पेशल फोर्स अलग-अलग काम करती हैं, लेकिन आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल ऑपरेशन डिविजन के तहत ये कमांडो एक साथ काम करते हैं. 

बता दें कि उरी पर हमले के बाद भारत ने जब साल 2016 में पीओके में घुसकर आतंकियों पर सर्जिकल स्ट्राइक किया था तो उसकी योजना से लेकर मॉनिटिरिंग तक का काम सेना के डीजी ऑपरेशन रहे लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने किया था. इन्होंने ही आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी देश को दी थी.

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह को आमी के नॉर्दन कमांड का चीफ (मुखिया) बना दिया गया था. तब से रणबीर सिंह सेना की त्वरित कार्रवाई को लेकर ऐसे युद्ध अभ्यास का आयोजन लगातार करवा रहे हैं. चीन सीमा पर हुए युद्धाभ्यास में भी रणबीर सिंह खुद युद्ध टैंक पर बैठे नजर आए थे.,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!