साक्षी 180 फ़ीट ऊंची पानी की टँकी से देखते ही देखते लगा दी छलांग.

“आत्महत्या” का घातक निर्णय लेकर पहले ही जगह चिन्हित कर चुकी थी साक्षी….
180 फ़ीट ऊंची पानी की टँकी से देखते ही देखते लगा दी छलांग हुई मौत.”
शिवपुरी
पानी की टँकी से कूदकर आत्महत्या करने बाली साक्षी के आत्महत्या के कारण भले फिलहाल अज्ञात है किंतु यह बात अवश्य स्पस्ट हो चुकी है कि उसके मन मे आत्महत्या का विचार काफी पहले आ चुका था।सिर्फ इतना ही नही वह जगह तक चिन्हित कर चुकी थी।
24 सितंबर की सुबह 10.30 बजे के लगभग प्रियदर्शनी कॉलोनी निवासी कॉलेज की छात्रा साक्षी तिवारी अचानक दो बत्ती से फिजिकल मार्ग पर के पी सिंह कोठी के नजदीक बनी पानी की टँकी पर चढ़ गयी।जब लोगो ने देखा तो पुलिस को सूचना दी जिस पर फिजिकल पुलिस ने मौके पर पहुच कर उसे नीचे से ही समझाने-बुझाने का तमाम प्रयास किया।इस दौरान भारी संख्या में लोग भी इकट्ठा हो गये।साक्षी काफी देर तक पानी की टंकी के पूर्वी भाग पर बैठी रही।टँकी की तरफ किसी के भी जाने पर वह कूदने का प्रयास करने लगती थी जिसके कारण पुलिस व लोग रुक जाते थे।इस दौरान फिजिकल थाना प्रभारी ने वन अमले से जाल मंगवाने का भी प्रयास किया। तकरीबन 45 मिनट बैठे रहने के बाद साक्षी टँकी के दक्षिणी ओर लगे जीने के नजदीक आ गयी।एक बार को यह भी लगा कि शायद वह नीचे उतर आएगी किन्तु वह ऊपर मौजूद प्लर पर चली और उसी पर बैठ गयी।पुलिस और मौजूद लोग उसे उतारने की तरकीब ही खोज रहे थे कि उसने नीचे छलांग लगा दी।देखते ही देखते कुछ पल हवा में रहने के बाद साक्षी का शरीर जमीन से टकराया।छटपटाती अवस्था मे तत्काल पुलिस उसे अस्पताल ले गयी जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
टंकी तक पहुचने के प्रमुख रास्ते पर ऊंची दीवारे व ताला लगा हुआ ऊंचा गेट है जिसे कूदकर जाना संभव नही है।निश्चित तौर पर उसने वहाँ पहुचने के लिये फिजिकल ग्राउंड बाले रास्ते को अपनाया।इसके अलावा साक्षी ने एक लंबा समय 180 फ़ीट की उस ऊँचाई पर बिताया जहाँ से नीचे देखने मात्र से कंपकपी आ जा रही थी।टँकी के ऊपर जीने ओर टँकी को जोड़ने के लिये भी एक प्लर लगा है जिस पर भी साक्षी कूदने के कुछ मिनट पहले बिना किसी सहारे के चली।फिर उसी प्लर के बीच मे बेठ भी गयी।वहाँ से नीचे झांकना भी कम ख़ौफ़नाक नही था।कुछ मिनट बाद ही साक्षी वहाँ से कूद गयी.
वह स्थान ऐसा है कि कोई भी अपना निर्णय नीचे गिरने की कल्पना मात्र से बदल देगा किन्तु साक्षी का ह्रदय परिवर्तन नही हुआ और उसने कूदने का दुस्साहसिक निर्णय ले ही डाला.
साक्षी की मौत अपने पीछे तमाम रहस्य छोड़ गयी है।सूत्र बताते है कि वह बाथरूम में कपड़े बदल कर बिना किसी को कुछ कहे घर से निकल गयी।उसके परिवार के लोग उसे तलाशने भी निकले किन्तु जब तक वे पहुचते तब तक देर हो चुकी थी.निश्चित तौर पर जब साक्षी आत्मघाती कदम उठाने के बारे में पहले ही सोच चुकी थी तो उसके पीछे वजह भी कोई बड़ी ही रही होगी।पुलिस को भी इस दिशा में काम अवश्य करना चाहिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!