मंत्रियों-विधायकों को हनीट्रैप में फंसाकर कमलनाथ सरकार गिराने की कोशिश? मिनिस्टर के बीजेपी पर सनसनीखेज आरोप

मध्य प्रदेश के शहर इंदौर में दो दिन पहले एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है जिस पर सरकारी अधिकारियों और राजनेताओं को हनीट्रैप में फंसाने का आरोप है। उधर, राज्य के कानून और जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने शनिवार को आरोप लगाया कि इस गैंग के निशाने पर कुछ मंत्री और कांग्रेस विधायक थे और मकसद राज्य की कांग्रेस सरकार को अस्थिर करना था।

शर्मा ने दावा किया कि राज्य सरकार को इस बात के इनपुट्स मिले थे कि बीजेपी के कुछ पूर्व मंत्री इस गिरोह के पीछे हो सकते हैं। मंत्री ने आरोप लगाया कि पूरा मामला कमलनाथ की सरकार को अस्थिर करने की साजिश है। मंत्री ने यह भी दावा किया कि कुछ आरोपी महिलाओं का संबंध विपक्षी पार्टी बीजेपी से है। हालांकि, जब सीएम कमलनाथ से इस मामले पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

बीजेपी के प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय ने मंत्री के आरोपों का खंडन किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार इस मामले का राजनीतिकरण कर रही है। उन्होंने कहा, ‘मामले को राजनीतिक रंग दिए जाने के बजाए उन्हें असली गुनहगारों को पकड़ना चाहिए।’ बता दें कि मंगलवार और बुधवार को इंदौर और भोपाल से पांच महिलाओं और एक पुरुष ड्राइवर को गिरफ्तार किया गया था।

इंदौर म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के एक इंजीनियर ने पुलिस से शिकायत की थी कि उसे कुछ उसके आपत्तिजनक वीडियोज और तस्वीरों के जरिए ब्लैकमेल किया जा रहा है। एसएसपी रूचि वर्द्धन मिश्रा ने द संडे एक्सप्रेस से कहा कि इंदौर पुलिस की जांच का दायरा इंजीनियर की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत के इर्दगिर्द है। उन्होंने बताया कि आरोपियों के पास से जब्त सामग्री को फोरेंसिक लैब भेजा गया है। पुलिस उस होटल भी जाएगी, जहां वीडियो बनाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!