भोपाल हनी ट्रेप कई हाईप़ोफाईल लोगों के राज खुल सकते हैं.

भोपाल. राजनेताओं और अफसरों को ब्लैकमेल करने वाली हाईप्रोफाइल महिलाओं को मप्र की एंटी टेररिस्ट स्क्वाॅड (एटीएस) ने नहीं पकड़ा, बल्कि उनके संबंध में इनपुट मध्यप्रदेश की काउंटर इंटेलीजेंस ने इकट्ठा किए थे। इंदौर पुलिस की सूचना के बाद काउंटर इंटेलीजेंस की टीम ने भोपाल पुलिस की मदद से इन महिलाओं को बुधवार को आराधना नगर, रिवेयरा टाउन और न्यू मिनाल रेसीडेंसी से गिरफ्तार किया।

इस गिरोह की दो महिलाओं को इंदौर पुलिस ने बुधवार की दोपहर उस समय पकड़ा था, जब वे इंजीनियर से 50 लाख रुपए लेने वहां पहुंची थी। साथ ही अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर महिलाओं ने 3 करोड़ रुपए मांगे थे। इन महिलाओं के पास से लग्जरी गाड़ियां व महंगे सामान मिले हैं। इन महिलाओं के एनजीओ हैं, जिनको आधार बनाकर ही वे नेताओं और अफसरों के करीब पहुंचती थीं। नजदीकी बनाने और जाल में फंसने के बाद ब्लैकमेल करती थीं। आपत्तिजनक वीडियो दिखाकर बड़ी रकम मांगी जाती थी। बताया जा रहा है कि टेंडर लेने और ट्रांसफर कराने में भी यह महिलाएं सक्रिय होने लगी थीं।

ब्लैकमेल के पैसों से हर ऐशो-आराम का सामान जुटा लेती थीं ये महिलाएं

आरती दयाल: करीब एक साल से सागर लैंडमार्क मिनाल रेसीडेंसी में रह रही है। उसने एक क्रेटा गाड़ी अपने नाम रजिस्टर्ड कराई है। आरती ने 8 माह पहले पति पंकज के खिलाफ छतरपुर के सिविल लाइन थाना में दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया था। कथित तौर पर बताया जा रहा है कि आरती छतरपुर में भी करीब दस लोगों को ब्लैकमेल कर चुकी है।श्वेता विजय जैन: सागर की रहने वाली है। भोपाल में न्यू मीनाल में रहती है। 2015 में इलेक्ट्रिकल एंड थर्मल इंसुलेशन प्रोडेक्ट की कंपनी शुरू की थी। पुलिस ने घर से 14.17 लाख नगद बरामद किए हैं। इसने सेकंड हैंड मर्सिडीज (एमपी 04 सीएक्स 0072) इसी साल जून में खरीदी थी। इसके पास एक ऑडी भी है।श्वेता स्वप्निल जैन: मूलत: जयपुर निवासी श्वेता यहां रिवेयरा में रहती हैं। उसके पति को पब पार्टियों में देखा जाता रहा है। दोस्तों को ठग चुके हैं। श्वेता के घर के पास ऑडी भी खड़ी मिली।बरखा सोनी भटनागर: अमित सोनी से दूसरी शादी की। अमित एनजीओ चलाते हैं। एग्रीकल्चर से संबंधित प्रोजेक्ट पर काम करते हैैं। बरखा देह के व्यापार में वर्ष 2014 से लिप्त थी। इसके बाद सागर की श्वेता जैन से जुड़ी। बरखा के पास कार और ऐशोआराम की तमाम चीजें हैं।

भाजपा और कांग्रेस ने एक दूसरे पर मढ़े आरोप

ब्लैकमेलिंग मामले में भाजपा और कांग्रेस ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप शुरू कर दिए हैं। भाजपा के पूर्व प्रदेश मीडिया प्रभारी और आपूर्ति निगम के पूर्व अध्यक्ष डाॅ. हितेश वाजपेयी ने कहा कि भ्रष्टाचार और सदचरित्र की बात करने वाली कांग्रेस इस गंभीर मामले में मौन क्यों? क्या सारे नियम-कायदे सिर्फ दूसरों के लिए हैं। ब्लैकमेलिंग के इस रैकेट के हितग्राही और प्रायोजकों को क्यों बचाने का प्रयास किया जा रहा है? कांग्रेस ने कहा कि इस गिरोह की सरगना भाजपा की महिला कार्यकर्ता है।

आंखों पर किसने पट्‌टी बांध रखी है
डाॅ. वाजपेयी ने कहा कि आंखों में किसने पट्टी बांध रखी है जो हजारों बच्चों के भविष्य से खेलने वाले और गंभीर भ्रष्टाचार वाले भिंड के कंप्यूटर घोटाले में ईओडब्ल्यू में मुख्य आरोपी अभय तिवारी दिखाई नहीं दे रहा। क्या कांग्रेस सरकार का इंटेलिजेंस को नहीं पता कि उसी अभय तिवारी का एक और गंभीर मामला मीडिया तथा सोशल मीडिया में चर्चा में है? जिसमें वह बड़े सेक्स रैकेट से ईमेल पर जुड़ा और कॉल गर्ल सप्लाई करने वाली कई वेबसाइट पर 12 साल से एक्टिव अभय तिवारी के अफसरों से भी सांठगांठ का जिक्र मीडिया में हो रहा है? किसका इन लोगों को संरक्षण है। क्या मुख्यमंत्री कठोर कार्रवाई करेंगे।

भाजपा की महिला कार्यकर्ता है सरगना
सामान्य प्रशासन मंत्री डाॅ. गोविंद सिंह ने कहा कि इस मामले में गिरोह की सरगना भाजपा की महिला कार्यकर्ता है। हर गलत गतिविधियों में भाजपा और आरएसएस के लोग पाए जाते हैं। कांग्रेस कार्यकर्ता का नाम आने के सवाल पर सिंह ने कहा कि चुनौती देता हूं कि इस मामले में कांग्रेस का कोई व्यक्ति शामिल नहीं हो सकता। कांग्रेस में गलत लोगों के बचाव की संस्कृति नहीं है। विधि मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि गृहमंत्री की अच्छी कार्रवाई है। कोई ब्लैकमेल करेगा तो उसको छोड़ा नहीं जाएगा। जहां तक कांग्रेस के आईटी सेल के कार्यकर्ता होने का सवाल है तो यह अफवाह है। कोई आईटी सेल से नहीं जुड़ा। रिवेयरा में जिनके घर ये महिला रही है, उसकी जांच हो रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!