भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राज्यसभा सांसद प्रभात झा की माताजी का निधन

ग्वालियर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राज्यसभा सांसद प्रभात झा की माताजी श्रीमती लालमुखी देवी झा का आज अचानक निधन हो गया। वे पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहीं थी। स्व. श्रीमती लालमुखी देवी झा का अंतिम संस्कार बिहार के सीतामढी जिले के कुरियाई गांव में हुआ अंतिम संस्कार

दिग्विजय सिंह के भाई के बयान से BJP गदगद, शिवराज ने कांग्रेस पर साधा निशाना

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई और कांग्रेस के विधायक लक्ष्मण सिंह के राहुल गांधी पर दिए बयान से विपक्ष में बैठी बीजेपी को जैसे संजीवनी मिल गई है. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और बीजेपी के अन्य नेताओं ने कांग्रेस पर जमकर हल्ला बोला है.

लक्ष्मण सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘हम लोग तो पहले से ही बोल रहे थे कि कांग्रेस ने झूठा वादा किया. 10 दिन में कर्ज माफी का झूठा वादा किया था, आज 10 महीने हो गए कर्ज माफ नहीं हुआ. किसान परेशान हैं, पूरा सिस्टम तबाह हो गया है. राहुल जी, कमलनाथ जी, आपने मध्य प्रदेश के किसान को तबाह और बर्बाद कर दिया और उन्हें कहीं का नहीं छोड़ा.’

बीजेपी को मिला हमले का मौका

वहीं, भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने भी लक्ष्मण सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘कांग्रेस में भी जिनके अंदर आत्मा है क्योंकि आत्मा कभी झूठ नहीं बोलती और जिनके अंदर आत्मा है वह सत्य का बखान करेंगे ही चाहे कुछ हो जाए. समय आ रहा है और इनके सबके पाप बोलेंगे और जिनके अंदर शुद्ध आत्मा है वह बोलेगी और इन सब के मुंह से सत्य निकलेगा.’

बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा, ‘मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार की नींव ही झूठ पर खड़ी है और झूठे-खोखले वादों वाली सरकार से ज्यादा उम्मीद भी नहीं होती है.’ रजनीश अग्रवाल ने कहा कि सरकार लगातार कर्जा लेकर घी पी रही है क्योंकि सरकारी खज़ाना खाली है, लेकिन एक के बाद एक लुभावने वादे कर सिर्फ जनता को ठगा जा रहा है जिसकी कलई लक्ष्मण सिंह ने खोल दी है.

बता दें कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के भाई और पार्टी विधायक लक्ष्मण सिंह ने राहुल गांधी से माफी की मांग की थी. उन्होंने कहा था कि 10 दिनों में किसानों का कर्ज माफ करने के बयान पर राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए. माफी मांगने में कोई बुराई नहीं है, राज्य में एक बड़ा वित्तीय संकट है.

अमर सिंह ने ट्वीट कर चिदंबरम से पूछा- जेल में कैसा लग रहा है?

लखनऊ 
राज्‍यसभा सांसद अमर सिंह ट्विटर पर राजनीतिक बयानबाजी के जरिए अकसर चर्चा में बने रहते हैं। उन्‍होंने जेल में बंद वरिष्‍ठ कांग्रेसनेता पी चिदंबरम को लेकर गुरुवार को एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में अमर सिंह ने चिदंबरम से सहानुभूति जताने के बहाने उन पर तंज कसते हुए कहा है- इतिहास खुद को दोहराता है। 
19 सितंबर की शाम को किए इस ट्वीट में अमर सिंह ने लिखा है, ‘पहली बार मैं अपने पुराने परिचित पी चिदंबरम के लिए गहरी सहानुभूति महसूस कर रहा हूं। अपनी किडनी ट्रांसप्‍लांट के ठीक बाद उनकी सरकार बचाने के बावजूद उन्‍होंने मुझे जेल भेज दिया था और मैं उसी फर्श पर बिना तकिए के सोया था। आज इतिहास खुद को दोहरा रहा है। पी चिदंबरम, आपको कैसा लग रहा है?’

पहले भी जारी किया था विडियो 
गौरतलब है कि इस समय पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम भ्रष्‍टाचार के मामले में आरोपी हैं औरतिहाड़ जेल में कैद हैं। अमर सिंह इससे पहले भी चिदंबरम पर आरोपों के अपने विडियो जारी करते रहे हैं। ऐसे ही एक विडियो में अमर सिंह ने अस्‍पताल के बेड से दावा किया था कि ‘करप्शन केस में फंसे पी. चिदंबरम ने यूपीए सरकार में वित्त मंत्री के तौर पर कई कंपनियों को मनमाने तरीके से पैसे ‘बांटे’ थे। अमर ने सिंह ने यह भी दावा किया कि विडियोकॉन के वेणुगोपाल धूत और रिलांयस के अनिल अंबानी के साथ-साथ भूषण स्टील, दीवान हाउसिंग समेत तमाम कॉर्पोरेट दिग्गजों को चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते ही लोन मिले थे। 

चिदंबरम की गिरफ्तारी को सही बताया था 
अपने एक और ट्वीट में अमर सिंह ने चिदंबरम की गिरफ्तारी को सही ठहराया और इसे ऐतिहासिक दिन बताया था। अमर सिंह ने कहा था, ‘जो लोग सफेद कपड़ों में घूम रहे थे, वह पकड़े गए हैं।’ 

हाउडी मोदी: भारत के खिलाफ मस्जिदों में रणनीति बना रहे पाकिस्तानी? भारतीय अमेरिकियों ने उठाया सवाल

वॉशिंगटन 
अमेरिका में पीएम नरेंद्र मोदी के ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम से पहले भारत और पाकिस्तान के प्रवासी नागरिकों के बीच जंग छिड़ गई है। अमेरिका में रहने वाले भारतीयों ने इस आयोजन से पहले पाकिस्तानियों पर प्रॉपेगैंडा चलाने का आरोप लगाया है। भारत समर्थक ऐक्टिविस्ट्स का कहना है कि सैकड़ों की संख्या में मस्जिदों और इस्लामिक सेंटर्स में लोग पहुंचे हैं और कार्यक्रम के विरोध की योजना बनाई जा रही है। पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए अमेरिका रवाना होने वाले हैं।
खासतौर पर ऐसे विरोध के लिए मस्जिदों को केंद्र के तौर पर चुनने पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। मोदी की इस रैली के समर्थकों ने ह्यूस्टन पुलिस, एफबीआई, यूएस सीक्रट सर्विस और इमिग्रेशन अथॉरिटीज को टैग कर इसकी शिकायत की है। इस कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप भी पीएम नरेंद्र मोदी के साथ मंच साझा करने वाले हैं। 

भारत समर्थकों का कहना है कि मस्जिद एक इबादत स्थल है और उसका इस्तेमाल राजनीतिक मकसदों को पूरा करने के लिए किया जा रहा है। यह मामला सबसे पहले तब सोशल मीडिया पर आया जब एक ऐक्टिविस्ट ने 13 पिक-अप लोकेशंस की जानकारी देते हुए कहा कि इन जगहों से ‘हाउडी मोदी’ इवेंट के खिलाफ प्रदर्शन के लिए लोगों को ले जाया गया है। 

आखिर मस्जिदों में ही क्यों हो रही मोदी के खिलाफ चर्चा 
भारतीय मूल के नागरिक ने लिखा, ‘मोदी और ट्रंप के खिलाफ आंदोलन करने वाले लोगों को मस्जिदों से पिक किया जा रहा है। देखें, ये कैसे काम कर रहे हैं? मस्जिदें सिर्फ इबादतगाह ही नहीं है। ये समन्वय और नियंत्रण का ठिकाना भी हो गई हैं।’ इस पर जवाब देते हुए पाकिस्तान समर्थक एक शख्स ने लिखा, ‘ऐसे ही जैसे कि चर्च, विलेज गॉल्स, टाउन हॉल्स, स्कूल और अन्य जगहों पर स्थानीय समुदाय के लिए काम किए जाते हैं। आप क्या कहेंगे?’ इस पर एक अन्य शख्स ने जवाब दिया, ‘उनका सवाल है कि आखिर मस्जिदों में ही क्यों? अन्य लोकल कम्युनिटी बिल्डिंग्स जैसे चर्च, विलेज हॉल्स और टाउन हॉल्स और स्कूलों में ऐसा क्यों नहीं?’ 

भारतीय बोले, मंदिरों से जुटते तो ‘हिंदू टेरर’ का लगता लेबल 
इस पर एक अन्य भारतीय ने लिखा, ‘आप कल्पना करिए कि यदि इस तरह से लोगों को मंदिरों से जुटाया जाता तो अब तक ‘हिंदू टेरर’ का लेबल लग जाता।’ यही नहीं भारतीय मूल के नागरिकों ने स्थानीय प्रशासन से अलर्ट रहने की अपील करते हुए कहा कि इससे पहले पाकिस्तानी लंदन और प्रिटोरिया में प्रदर्शन के नाम पर हिंसा फैला चुके हैं। 

अपनीजान देकर बचाई बैल ने दो लोगों की जिंदगी, मौत के बाद हुआ 13वीं का आयोजन

झांसी. हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार इंसान की मौत के बाद तेरहवीं का आयोजन किया जाता है. लेकिन क्या आपने कभी किसी जानवारी की तेरहवीं होने और भोज के बारे में सुना है? यदि नहीं, तो मवेशी प्रेम का ऐसा ही एक अनोखा मामला उत्तर प्रदेश के झांसी में सामने आया है. यहां एक किसान पंजाब सिंह ने अपने बैल को खोने के गम में कुछ ऐसा किया जिससे सभी अचंभित रह गए.

बैल ने जीते थे 150 से अधिक इनाम

पंजाब सिंह का कहना है कि उनके प्रिय बैल का नाम नंदी था. कुछ दिन पहले एक सड़क हादसे में उसने अपनी जान देकर परिवार के दो लोगों की जान बचाई थी. इसके अलावा नंदी ने विभिन्न प्रतियोगिताओ में 150 से अधिक इनाम जीतकर भी परिवार का नाम पूरे बुंदेलखंड में रौशन किया था.

विधि विधान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

सड़क दुर्घटना में घायल नंदी की इलाज के दौरान दो हफ्ते पहले मौत हो गई थी. घर के सदस्य की तरह रहने वाले नंदी से पूरा बुंदेलखंड खासा प्यार करता था. बैल की मौत से गमजदा परिवार ने उसका शव यात्रा निकाला और पूरे विधि विधान के साथ अंतिम संस्कार किया. इतना ही नहीं, बैल की अस्थियों को प्रयागराज (इलाहाबाद) में प्रवाहित भी किया गया. साथ ही बैल की तेरहवीं के मौके पर उसके मालिक पंजाब सिंह ने विशाल भोज का आयोजन किया. बैल की आत्मा की शांति के लिए आयोजित भोज में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए.

स्वामी चिन्मयानंद को SIT ने किया गिरफ्तार

दिल्ली पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद को SIT ने शाहजहांपुर से गिरफ्तार कर लिया है। उनपर शाहजहांपुर स्थित एसएस लॉ कॉलेज की छात्रा ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे। मामले की जांच कर रही एसआईटी टीम ने स्वामी चिन्मयानंद को उनके मुमुक्षु आश्रम से गिरफ्तार किया है। शाहजहांपुर जिला अस्पताल में चिन्मयानंद का मेडिकल कराया जा रहा है। जिसके बाद आज उन्हें को कोर्ट में पेश किया जाएगा। बता दें पीड़िता की ओर से विडियो जारी किए जाने के बाद से चिन्मयानंद की गिरफ्तारी की मांग की जा रही थी।

इससे पहले बुधवार को चिन्मयानंद की खराब तबीयत का हवाला देते हुए उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। चिन्मयानंद को शाहजहांपुर मेडिकल कालेज से गुरुवार शाम को केजीएमयू के लिए रेफर कर दिया गया, लेकिन वह सीधे केजीएमयू नहीं गए। वह मेडिकल कालेज से अपने मुमुक्षु आश्रम पहुंचे। जहां उन्हें आज सुबह गिरफ्तार कर लिया गया।

केंद़ीय मंत्री बाबुल सुप़ियो के साथ वामपंथी छात्रों ने की झूमाझटकी

कोलकाता के जाधवपुर यूनिवर्सिटी में एबीवीपी के कार्यक्रम में जमकर हंगामा हुआ। वामपंथी छात्र संगठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) और ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिशन (AISA) के छात्रों ने भाजपा सांसद और केंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो के कार्यक्रम में शामिल होने का विरोध किया।

विरोध प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने केंद्रीय मंत्री को काले झंडे दिखाए। छात्रों ने बाबुल सुप्रियो का घेराव किया। छात्रों और केंद्रीय मंत्री के बीच धक्कामुक्की भी हुई। इस बीच केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मुझे बुरी तरह मारा गया, मेरे बाल खींचे व लात-घूंसे चलाए गए। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यदि किसी को कोई समस्या है तो वह आएं और मेरे साथ इस मुद्दे पर चर्चा करे। उन्हें मुझे मारना नहीं चाहिए।

वह लोग मुझे कहीं भी जाने से नहीं रोक सकते हैं। सुप्रियो ने कहा कि यदि आप एनआरसी पर चर्चा करना चाहते हैं तो आप कर सकते हैं। जाधवपुर यूनिवर्सिटी में यह बिल्कुल ही अप्रत्याशित है। मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी। बाबुल ने पत्रकारों से कहा कि यह इस राज्य के शिक्षा व्यवस्था का हाल है। इससे पहले वामंपथी छात्र संगठन के छात्रों के साथ कहा सुनी होने के बावजूद केंद्रीय मंत्री ने कैंपस छोड़ने से इनकार कर दिया।

विरोध को लेकर भाजपा सांसद ने प्रदर्शनकारी छात्रों से कहा कि यह आपकी समस्या है। मौखिक विरोध के साथ लोकतंत्र अच्छा है लेकिन यहां आप मुझे बोलने नहीं दे रहे हैं। सुप्रियो ने कहा कि मैंने 1989 में भी यहां परफॉर्म किया था। जाधवपुर तो ऐसा नहीं था। इससे पहले जैसे ही सुप्रियो अपनी कार से उतरे छात्रों ने उन्हें घेर लिया और नारेबाजी करने लगे। उन्होंने प्रदर्शनकारी छात्रों से बात करने की भी कोशिश की।

सुप्रियो के उतरने के बाद हाल ही में एबीवीपी में शामिल हुईं फैशन डिजाइनर अग्निमित्रा पॉल उनकी अगुवाई के लिए पहुंची। उन्होंने विरोध कर रहे छात्रों द्वारा कथित रूप से उनका रास्ता रोके जाने और साड़ी खींचे जाने की बात कह

अमेरिका: वाशिंगटन डीसी की सड़कों पर गोलीबारी, कई लोगों के मारे जाने की आशंका


अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी में गुरुवार देर रात गोलीबारी हुई है. इस हादसे में कई लोगों के मारे जाने की खबर है. स्थानीय मीडिया के अनुसार, राजधानी की गलियों में देर रात गोलियों की तड़तड़ाहट सुनी गई. इसके बाद कई एंबुलेंस में लोगों को अस्पताल लेकर जाते हुए देखा गया है.

अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी में गुरुवार देर रात गोलीबारी हुई है. इस हादसे में कई लोगों के मारे जाने की खबर है. स्थानीय मीडिया के अनुसार, राजधानी की गलियों में देर रात गोलियों की तड़तड़ाहट सुनी गई. इसके बाद कई एंबुलेंस में लोगों को अस्पताल लेकर जाते हुए देखा गया है.

भोपाल हनी ट्रेप कई हाईप़ोफाईल लोगों के राज खुल सकते हैं.

भोपाल. राजनेताओं और अफसरों को ब्लैकमेल करने वाली हाईप्रोफाइल महिलाओं को मप्र की एंटी टेररिस्ट स्क्वाॅड (एटीएस) ने नहीं पकड़ा, बल्कि उनके संबंध में इनपुट मध्यप्रदेश की काउंटर इंटेलीजेंस ने इकट्ठा किए थे। इंदौर पुलिस की सूचना के बाद काउंटर इंटेलीजेंस की टीम ने भोपाल पुलिस की मदद से इन महिलाओं को बुधवार को आराधना नगर, रिवेयरा टाउन और न्यू मिनाल रेसीडेंसी से गिरफ्तार किया।

इस गिरोह की दो महिलाओं को इंदौर पुलिस ने बुधवार की दोपहर उस समय पकड़ा था, जब वे इंजीनियर से 50 लाख रुपए लेने वहां पहुंची थी। साथ ही अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर महिलाओं ने 3 करोड़ रुपए मांगे थे। इन महिलाओं के पास से लग्जरी गाड़ियां व महंगे सामान मिले हैं। इन महिलाओं के एनजीओ हैं, जिनको आधार बनाकर ही वे नेताओं और अफसरों के करीब पहुंचती थीं। नजदीकी बनाने और जाल में फंसने के बाद ब्लैकमेल करती थीं। आपत्तिजनक वीडियो दिखाकर बड़ी रकम मांगी जाती थी। बताया जा रहा है कि टेंडर लेने और ट्रांसफर कराने में भी यह महिलाएं सक्रिय होने लगी थीं।

ब्लैकमेल के पैसों से हर ऐशो-आराम का सामान जुटा लेती थीं ये महिलाएं

आरती दयाल: करीब एक साल से सागर लैंडमार्क मिनाल रेसीडेंसी में रह रही है। उसने एक क्रेटा गाड़ी अपने नाम रजिस्टर्ड कराई है। आरती ने 8 माह पहले पति पंकज के खिलाफ छतरपुर के सिविल लाइन थाना में दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया था। कथित तौर पर बताया जा रहा है कि आरती छतरपुर में भी करीब दस लोगों को ब्लैकमेल कर चुकी है।श्वेता विजय जैन: सागर की रहने वाली है। भोपाल में न्यू मीनाल में रहती है। 2015 में इलेक्ट्रिकल एंड थर्मल इंसुलेशन प्रोडेक्ट की कंपनी शुरू की थी। पुलिस ने घर से 14.17 लाख नगद बरामद किए हैं। इसने सेकंड हैंड मर्सिडीज (एमपी 04 सीएक्स 0072) इसी साल जून में खरीदी थी। इसके पास एक ऑडी भी है।श्वेता स्वप्निल जैन: मूलत: जयपुर निवासी श्वेता यहां रिवेयरा में रहती हैं। उसके पति को पब पार्टियों में देखा जाता रहा है। दोस्तों को ठग चुके हैं। श्वेता के घर के पास ऑडी भी खड़ी मिली।बरखा सोनी भटनागर: अमित सोनी से दूसरी शादी की। अमित एनजीओ चलाते हैं। एग्रीकल्चर से संबंधित प्रोजेक्ट पर काम करते हैैं। बरखा देह के व्यापार में वर्ष 2014 से लिप्त थी। इसके बाद सागर की श्वेता जैन से जुड़ी। बरखा के पास कार और ऐशोआराम की तमाम चीजें हैं।

भाजपा और कांग्रेस ने एक दूसरे पर मढ़े आरोप

ब्लैकमेलिंग मामले में भाजपा और कांग्रेस ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप शुरू कर दिए हैं। भाजपा के पूर्व प्रदेश मीडिया प्रभारी और आपूर्ति निगम के पूर्व अध्यक्ष डाॅ. हितेश वाजपेयी ने कहा कि भ्रष्टाचार और सदचरित्र की बात करने वाली कांग्रेस इस गंभीर मामले में मौन क्यों? क्या सारे नियम-कायदे सिर्फ दूसरों के लिए हैं। ब्लैकमेलिंग के इस रैकेट के हितग्राही और प्रायोजकों को क्यों बचाने का प्रयास किया जा रहा है? कांग्रेस ने कहा कि इस गिरोह की सरगना भाजपा की महिला कार्यकर्ता है।

आंखों पर किसने पट्‌टी बांध रखी है
डाॅ. वाजपेयी ने कहा कि आंखों में किसने पट्टी बांध रखी है जो हजारों बच्चों के भविष्य से खेलने वाले और गंभीर भ्रष्टाचार वाले भिंड के कंप्यूटर घोटाले में ईओडब्ल्यू में मुख्य आरोपी अभय तिवारी दिखाई नहीं दे रहा। क्या कांग्रेस सरकार का इंटेलिजेंस को नहीं पता कि उसी अभय तिवारी का एक और गंभीर मामला मीडिया तथा सोशल मीडिया में चर्चा में है? जिसमें वह बड़े सेक्स रैकेट से ईमेल पर जुड़ा और कॉल गर्ल सप्लाई करने वाली कई वेबसाइट पर 12 साल से एक्टिव अभय तिवारी के अफसरों से भी सांठगांठ का जिक्र मीडिया में हो रहा है? किसका इन लोगों को संरक्षण है। क्या मुख्यमंत्री कठोर कार्रवाई करेंगे।

भाजपा की महिला कार्यकर्ता है सरगना
सामान्य प्रशासन मंत्री डाॅ. गोविंद सिंह ने कहा कि इस मामले में गिरोह की सरगना भाजपा की महिला कार्यकर्ता है। हर गलत गतिविधियों में भाजपा और आरएसएस के लोग पाए जाते हैं। कांग्रेस कार्यकर्ता का नाम आने के सवाल पर सिंह ने कहा कि चुनौती देता हूं कि इस मामले में कांग्रेस का कोई व्यक्ति शामिल नहीं हो सकता। कांग्रेस में गलत लोगों के बचाव की संस्कृति नहीं है। विधि मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि गृहमंत्री की अच्छी कार्रवाई है। कोई ब्लैकमेल करेगा तो उसको छोड़ा नहीं जाएगा। जहां तक कांग्रेस के आईटी सेल के कार्यकर्ता होने का सवाल है तो यह अफवाह है। कोई आईटी सेल से नहीं जुड़ा। रिवेयरा में जिनके घर ये महिला रही है, उसकी जांच हो रही है