मध्य प्रदेश,राजस्थान, प बंगाल अभी लागू नहीं करेगा नया मोटर व्हीकल एक्ट, बताई ये वजह

देश में मोटर व्हीकल एक्ट आज से लागू हो गया है. राजस्थान और पश्चिम बंगाल की सरकारों ने जुर्माने में 10 गुना वृद्धि समेत कई कड़े प्रावधानों से लैस इस एक्ट को प्रदेश में लागू न करने का फैसला किया है. इस कानून को लागू करने मना करने वाले राज्यों में अब मध्य प्रदेश भी शामिल हो गया है. मध्य प्रदेश के कानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि हम अभी राज्य में नए यातायात नियमों को लागू नहीं कर रहे हैं. मैंने सुबह विधि सचिव से बात की. हम मुख्यमंत्री से भी बात करेंगे और कुछ संशोधनों के साथ नए कानून को लागू करेंगे. अभी जुर्माना की राशि अधिक है और इतनी बड़ी राशि कोई चुका नहीं पाएगा.

राजनीति के चक़व्यूह में फंस गये हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया.


समय का फेर कहिये या कुटिल राजनीतिज्ञों की चाल एक उर्जावान और सक्षम ,युवा उभरते नेतृत्व को आज संशय की स्थिति से गुजरना पड़ रहा है. जिन लोगों को सिंधिया ने फर्श से राजनीति के अर्श तक पहुंचाया वही आज उनकी राहों में कांटे विछा रहे हैं.
उनके गुट से जो मंत्री पद पर बैठ सुख सुविधा भोग रहे वह भी आज दोहरी चालें चल रहे हैं और पीठ पीछे राजनीति की छुरी घौंपने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं.
ये तो जग जाहिर है कि आज मध्यप़देश में जो कमलनाथ सरकार है , उसके बनाने में सिंधिया की समूची उर्जा और ताकत का स्तेमाल कर लिया गया था, मध्यप़देश की जनता ने भी सिंधिया के द्वारा किये गये वादों और इस उम्मीद में कि कल सिंधिया मुख्यमंत्री बनेंगे इस उम्मीद को लेकर अपना मत दिया था. लेकिन कुटिल राजनीति के खिलाड़ियों ने न तो सिंधिया को मुख्यमंत्री बनने दिया न किसान और जनता से किये गये वादों को पूरा किया.
वर्तमान सरकार केवल चंद नौकरशाहों और दलालों के द्वारा संचालित हो रही है. करीब 6 करोड़ जनता की ताकत दो चार दलाल किस्म के लोगों के आसपास सिमट कर रह गई है.ये बात किसी विधायक और मंत्रियों की समझ से भी बाहर है, कि आखिर इस सरकार का संचालन कौन कर रहा है, अधिकांश विधायक और मंत्री असंतुष्ट हैं.
अगर आज सरकार गिर जाये और चुनाव हों तो कांग़ेस को तीस से चालीस सीटें मिल जायें तो काफी होगा, यह सरकार जनता में अपना विश्वास खो चुकी है.
दूसरी तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी कुटिल राजनीति के कारण नीचा देखना पड़ रहा है, बारबार उनको संगठन और केंद़ीय नेताओं के द्वारा बेईज्जत किया जा रहा है.
जबकि मध्यप़देश में मुख्यमंत्री पद के असली हकदार सिंधिया थे. वर्तमान राजनीति मेंइस राष्ट्रीय कद के युवा उर्जावान नेता को प़देश अध्यक्ष जैसे पद के लिये भी कूटनीतिज्ञ और चालबाज राजनीतिज्ञों के द्वारा नीचा दिखाया.जा रहा है.
इस समय तो यही दिख रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अभिमन्यु की तरह कुटिल लोगों की गंदी राजनीति के कारण चक़ब्यूह में फंस गये हैं अब वह इसको कैसे भेदन करेंगे , इसका जवाब तो समय ही देगा.

सत्येंद़ सिंह रघुवंशी*
डायरेक्टर &
चीफ एडीटर द न्यूज़ लाइट
थाटीपुर मयुरनगर ग्वालियर

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का दावा- ISI से फंड लेती है बीजेपी और बजरंग दल

बीजेपी और बजरंग दल ISI से लेती है पैसा-
दिग्विजय सिंहमुस्लिमों से ज्यादा गैर-मुस्लिम करते हैं ISI के लिए काम- दिग्विजय

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह अपने बयानों के चलते अक्सर सुर्खियों में रहते हैं. दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर बीजेपी और बजरंग दल पर बड़ा बयान दिया है. दिग्विजय सिंह ने कहा कि मुसलमानों से ज्यादा गैर-मुसलमान आईएसआई के लिए जासूसी कर रहे हैं. इसके साथ दिग्विजय सिंह ने बीजेपी और बजरंग दल पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से पैसा लेने का भी आरोप लगाया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए मुसलमान कम गैर मुसलमान ज्यादा जासूसी कर रहे हैं. उन्होंने बजरंग दल और भारतीय जनता पार्टी पर आईएसआई से पैसा लेने का भी आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा कि बजरंग दल और बीजेपी आईएसआई से पैसा ले रहे हैं, इस पर थोड़ा ध्यान दीजिए. दिग्विजय सिंह ने देश की खराब होती अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर भी निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में अर्थव्यवस्था बिगड़ रही है, नौकरियां नहीं हैं, अपना घाटा पूर्ति करने के लिए आरबीआई है, मोदी को सभी बातें छोड़कर अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए.

इससे पहले दिग्विजय सिंह ने पुलवामा हमले को खुफिया विभाग की बड़ी चूक बताया था. दिग्विजय सिंह ने कहा था कि अगर कोई दूसरा देश होता तो प्रधानमंत्री न सही, गृह मंत्री को तो इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया जाता लेकिन यहां पर जो कोई भी इन मसलों पर सवाल उठाता है उसे देशद्रोही घोषित कर दिया जाता है.
मुंबई हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे पर बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा के बयान के बाद दिग्विजय सिंह ने आरएसएस पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि जो संघ की मर्जी के खिलाफ बोलता है वो देशद्रोही होता है. भारत के शहीद भी अगर संघ को पसंद नहीं तो वो ‘शैतान’ हैं.

भारत तालिबान के खिलाफ लड़ा तो PoK दिलाने में मदद करेगा US, भाजपा नेता का बड़ा दावा

नई दिल्ली । एक सप्ताह पहले ही अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत से सहयोग की अपील की थी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि भारत को अफगानिस्तान में तालिबान और इस्लामिक स्टेट (ISIS) के खिलाफ लड़ाई में उतरना चाहिए। अब भाजपा के एक बड़े नेता ने दावा किया है कि अगर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत अमेरिका का साथ देता है तो बदले में वह पीओके वापस दिलाने में हमारी मदद करेगा।

ये दावा वरिष्ठ अधिवक्ता और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने किया है। उन्होंने शनिवार दोपहर एक ट्वीट कर ये दावा किया है। इस ट्वीट में सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा है कि मेरे पास अब एक पुख्ता हिंट है कि अगर भारत तालिबान जैसे आतंकवादी संगठनों से अफगानिस्तान को बचाने में मदद करता है और इससे अमेरिकी सेनाओं की अफगानिस्तान से वापसी संभव हो पाती है तो तब अमेरिका, पीओके को वापस भारत में मिलाने के लिए पूरा सहयोग करेगा।

370 खत्म करने से सीमा पर बढ़ा है तनाव
सुब्रमण्यम स्वामी का ये बयान ऐसे वक्त आया है जब केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म कर विशेष राज्य का दर्जा खत्म कर दिया है। साथ ही जम्मू-कश्मीर को दो भागों (जम्मू-कश्मीर और लद्दाख) में विभाजित कर दोनों नए राज्यों को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया है। भारत के इस फैसले से पाकिस्तान बुरी तरह से तिलमिलाया हुआ है और लगातार युद्ध की गीदड़भभकी दे रहा है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और गृहमंत्री अमित शाह समेत भाजपा के कई बड़े नेता स्पष्ट कर चुके हैं कि पाकिस्तान से अब बातचीत होगी तो केवल पीओके पर।

PoK ही नहीं गिलगित-बल्टिस्तान भी भारत का
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने दो दिन पहले लद्दाख दौरे के वक्त भी कहा था कि पीओके ही नहीं गिलगित-बल्टिस्तान भी भारत का हिस्सा है और पाकिस्तान ने वहां अवैध कब्जा कर रखा है। उन्होंने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देते हुए कहा था कि भारत पाकिस्तान की हर चाल से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। केंद्रीय मंत्रियों के इस तरह के बयान से उम्मीद लगाई जा रही है कि जम्मू-कश्मीर के बाद भारत अब जल्द ही पीओके को लेकर कोई बड़ा कदम उठा सकता है।

ट्रंप ने अफगानिस्तान में भारत से मांगी थी मदद
मालूम हो कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रप ने एक सप्ताह पूर्व व्हाइट हाउस में मीडिया से बात करते हुए बोला था, ‘अफगानिस्तान में आतंकी संगठनों के खिलाफ भारत, रूस, तुर्की, इराक और पाकिस्तान को भूमिका निभाई ही होगी।’ उन्होंने कहा था कि सात हजार मील दूर से अमेरिका, अफगानिस्तान में आतंकवादियों के खिलाफ जंग लड़ रहा है, जबकि बाकी देश आतंकवाद के खिलाफ इस लड़ाई में बिल्कुल मदद नहीं कर रहे हैं। इतना ही नहीं अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था कि भारत, वहां (अफगानिस्तान) में मौजूद है, लेकिन लड़ नहीं रहा है। जहां कहीं भी आइएसआइएस (ISIS) की मौजूदगी है, किसी ना किसी वक्त इन देशों को लड़ना ही होगा।

अफगानिस्तान में भारत की भूमिका को लेकर बदली रणनीति
अफगानिस्तान में भारत की भूमिका को लेकर जिस तरह ट्रंप ने बयान दिया था, यह अमेरिका की रणनीति में बड़े बदलाव को दिखाता है। ट्रंप की दक्षिण एशिया की रणनीति में भारत की अफगानिस्तान में भूमिका रचनात्मक और विकास कार्यों तक सीमित रही है। भारत, अफगानिस्तान में विकास कार्यों में लगातार योगदान दे रहा है। अमेरिका ने इससे पहले कभी भी भारत को अफगानिस्तान में आतंक निरोधी अभियान का हिस्सा बनने को नहीं कहा था। भारत खुद भी आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई में शामिल होना चाहता है। ऐसे में भारत को लेकर ट्रंप को बयान पाकिस्तान के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

Jio Fiber Effect: BSNL Rs 700 में अपने उपभोक्ताओं को देगा लैंडलाइन, ब्रॉडबैंड और सेट-टॉप बॉक्स

नई दिल्ली, Jio Fiber Effect:BSNL लोकल केबल टीवी सेवा प्रदाताओं के साथ मिलकर Jio Fiber को मात देने की योजना बना रहा है। टेलीकॉमटॉक की खबर के अनुसार, BSNL ने Vizag में लोकल टीवी केबल ऑपरेटर्स के साथ ट्रिपल प्ले सेवा के लिए बातचीत खत्म भी कर ली है। इस कोलैबोरेशन में केबल टीवी ऑपरेटर्स उपभोक्ताओं को सेट-टॉप बॉक्स डिलीवर करेंगे। वहीं, BSNL लैंडलाइन और ब्रॉडबैंड सेवाओं को उपलब्ध करवाएगा। इसमें तीनों सेवाओं को एक ऑप्टिकल फाइबर केबल के तहत उपलब्ध कराया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, ये सेवाएं केबल टीवी सेवा प्रदाता द्वारा उपलब्ध करवाई जाएंगी। Jio Fiber की ही तरह BSNL और केबल टीवी ऑपरेटर्स तीनों कनेक्टिंस के बीच ONT डिवाइस उपलब्ध करवाएंगे। जिनको नहीं पता, उन्हें बता दें, Jio Fiber भी BSNL के ट्रिपल प्ले प्लान की ही तरह सेवाएं ऑफर करेगा।

BSNL Triple Play Plan: क्या हो सकता है इस सर्विस में? 
BSNL भारत में 10 मिलियन सब्सक्राइबर्स के साथ टॉप ब्रॉडबैंड कंपनियों में से एक है। हालांकि, Reliance Jio 6 महीने से भी कम समय में अपने Jio Fiber बंडल्ड प्लान्स के साथ इससे आगे निकलने की योजना में है। फिलहाल, BSNL अपने उपभोक्ताओं को लैंडलाइन और ब्रॉडबैंड सेवाएं उपलब्ध करवाता है, लेकिन Jio Fiber लैंडलाइन, ब्रॉडबैंड और केबल टीवी सेवाएं उपलब्ध करवाएगा। इसे टक्कर देने के लिए BSNL कई शहरों में लोकल केबल टीवी ऑपरेटर्स के साथ पार्टनरशिप कर रहा है।

BSNL Triple Play Plans भी Jio Fiber की तरह Rs 700 से हो सकते हैं शुरू
अब रीडर्स के मन में उठने वाला सबसे पहला सवाल यह होगा की BSNL ट्रिपल प्ले प्लान की कीमत क्या होगी? रिपोर्ट के अनुसार, सरकार द्वारा अधिकृत PSU प्लान्स को Rs 700 के करीब लेकर आ सकता है। फिलहाल, BSNL लैंडलाइन प्लान प्रति महीने Rs 170 में और ब्रॉडबैंड प्लान औसत Rs 440 प्रति महीने में आता है। स्टैंडर्ड टीवी ऑपरेटर फिलहाल Rs 200 से 300 प्रति महीना लेते हैं। कुल मिलकर, इन सब की कीमत Rs 900 के करीब हो जाती है। BSNL इन सभी सेवाओं को Rs 700 में उपलब्ध करवाने के प्रयास में है। कंपनी इस प्लान को इस साल दशहरा से पहले लेकर आ सकती है।

स्विस बैंकों में किन भारतीयों का है कालाधन, आज से खुलनी शुरू हो जाएगी पोल

1 सितंबर से बदल गए गोपनीयता नियमभारत को मिलेंगी स्विस बैंकों की जानकारीस्विट्जरलैंड सौंपेगा काला धन वालों की सूचीसीबीडीटी के पास होगी खाताधारकों की लिस्ट

1 सितंबर से भारत के टैक्स अधिकारी आसानी से जान सकेंगे कि स्विस बैंकों में किन भारतीयों का कितना काला धन जमा है. इसके लिए भारत और स्विट्जरलैंड के बीच एक करार हुआ है जो 1 सितंबर से प्रभावी होने जा रहा है. इससे काले धन का पता लगाना आसान हो जाएगा.

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) लंबे दिनों से इस इंतजार में था कि किसी तरह स्विस बैंकों से गोपनीयता का दौर समाप्त हो ताकि वहां जमा काले धन की जानकारी मिल सके. अब वह दौर आ गया है. स्विस बैंकों में 1 सितंबर से गोपनीयता का नियम हटने के बाद भारत आसानी से खाताधारकों की जानकारी जुटा सकेगा.

सीबीडीटी आयकर विभाग के लिए नीति बनाता है. सीबीडीटी के लिए अच्छी बात यह है कि उसे अब स्विट्जरलैंड में भारतीय नागरिकों के साल 2018 में बंद किए खातों की जानकारी भी मिलेगी. भारत सरकार की ओर से सख्ती अपनाने के बाद कई लोगों ने स्विस बैंकों में अपने खाते बंद कर दिए थे और पैसा कहीं और ट्रांसफर कर दिया था. अब टैक्स विभाग को ऐसे लोगों पर भी नकेल कसने में आसानी होगी.

सीबीडीटी के मुताबिक, सूचना लेने-देने की यह व्यवस्था शुरू होने के ठीक पहले भारत आए स्विट्जरलैंड के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजस्व सचिव एबी पांडेय, बोर्ड के चेयरमैन पीसी मोदी और बोर्ड के सदस्य (विधायी) अखिलेश रंजन के साथ बैठक की. 29-30 अगस्त के बीच आए इस प्रतिनिधिमंडल की अगुआई स्विट्जरलैंड के निकोलस मारियो ने की.

एक आंकड़े के मुताबिक साल 1980 से साल 2010 के बीच 30 साल के दौरान भारतीयों ने लगभग 246.48 अरब डॉलर (17,25,300 करोड़ रुपये) से लेकर 490 अरब डॉलर  (34,30,000 करोड़ रुपये) के बीच काला धन देश के बाहर भेजा. इसमें ज्यादातर हिस्सा स्विस बैंकों में जमा है. भारत सरकार काफी दिनों से इसकी जानकारी जुटाने की कोशिश में लगी थी. 1 सितंबर से स्विस बैंकों में गोपनीयता का नियम हटने के बाद भारत को बड़ी कामयाबी हासिल होने जा रही है.

➖➖ से हर समस्या एवं मानव के प्रत्येक रोग की चिकित्सा करती है :आध्यात्मिक गुरू डा विधा जोसेफ़. ➖➖➖➖➖➖

.
हमारे देश मे धर्म मे विश्वास रखने बाले यह भली भाँति जानते है कि आदिकाल मे हमारे वेद,शास्त्र,पुराण के माध्यम से आध्यात्म के साथ ध्यान,साधना कराते हुये ज्योतिषी की गणना कर ग्रह-नक्षत्र का आकंलन कर,यंत्र -मंत्र से प्रत्येक मानव की समस्या का निदान एवं मानव शरीर मे व्याप्त गंभीर बीमारी की श्रेष्ठ चिकित्सा की जाती है थी.इसी कार्य मे विगत अनेक बर्षों से प्रख्यात आध्यात्मिक गुरु डा.विधा जोसफ लगी हुई है.विगत बर्षों मे सैकड़ो की समस्याओं का निदान ओर गंभीर बीमारियों की चिकित्सा कर मानवो को लाभ प्रदान किया है.
आध्यात्मिक गुरु डा.विधा जोसेफ ने वेद,शास्त्र,पुराणों का किया ध्यान साधना कर परमात्मा की कृपा प्राप्त की साथ ही ज्योतिष का गहन अध्ययन किया,नगो-रत्नों की तासीर की समझ ग्रहण की,यंत्र-मंत्र का प्रयोगो को समझा,देश भर के ज्योतिषियों से संपर्क किया शिक्षा ग्रहण की,साधू-संतो-ताँत्रिको से आर्शीवाद लिया.अनेक हीलिंग के विदवानों से भी शिक्षा प्राप्त की, अनेक ज्योतिष-वास्तु सम्मेलनो मे सामिल हुई.ओर वर्तमान मे भी सामिल होती रहती है.
अनेकों विशिष्ट उपाधियां -सम्मान इन्हें मिले है.
अपने जीवन का उद्देश्य इनका मानव सेवा ही है .मानव सेवा मे इन्हें आनंद प्राप्त होता है.सभी से मोवाइल से बात करती है.मोवाइल नं.7742033357,9414365226पर इनसे बात की जा सकती है.राजस्थान के जोधपुर मे निवास करती है.देश भर मे भी इनका मानव सेवा के लिए भ्रमण रहता है.
➖➖➖➖➖➖➖➖➖