PAK को जवाब की तैयारी, सेना ने किया सर्जिकल स्ट्राइक का अभ्यास

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने को लेकर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के हाथों बुरी तरह मात खाने के बाद अब पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ के जरिए नापाक साजिश रचने की कोशिश में जुटा हुआ है. आतंकियों के किसी भी ऐसे संभावित हमले का मुंहतोड़ जवाब देने के  लिए भारतीय सेना ने पाकिस्तान सीमा पर सर्जिकल स्ट्राइक जैसे सैन्य कार्रवाई का अभ्यास किया.
.
गुजरात में पाकिस्तान सीमा पर किए गए इस सैन्य अभ्यास में भारतीय सेना, वायुसेना और नौसेना के स्पेशल कमांडो ने हिस्सा लिया. ऑर्म्ड फोर्स स्पेशल ऑपरेशन डिविजन (AFSOD)  के इस वॉरगेम्स को ‘स्माइलिंग फील्ड’ नाम दिया गया है. 

इस युद्धाभ्यास में तीनों सेना के स्पेशल कमांडो ने जमीन और हवा में युद्ध का अभ्यास किया. बता दें कि यह युद्धाभ्यास गुजरात के नालिया में आयोजित किया गया था. नालिया गुजरात के कच्छ जिले का हिस्सा है जहां भारतीय थल सेना और भारतीय वायु सेना का महत्वपूर्ण बेस है.

सूत्रों के मुताबिक और भी वॉरगेम आयोजित किए जाएंगे. इस वॉरगेम्स के जरिए स्पेशल कमांडो खुद को भविष्य में सर्जिकल स्ट्राइक जैसे किसी भी सैन्य ऑपरेशन के लिए पूरी तरह से तैयार करेंगे.

बता दें कि इससे पहले चीन सीमा पर भी तीनों सेना की संयुक्त टीम ने इसी तरह का अभ्यास किया था. ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि एक साथ तीनों सेनाओं के कमांडो को प्रशिक्षण देने से खर्च कम होता है. वैसे आमतौर पर तीनों सेनाओं की स्पेशल फोर्स अलग-अलग काम करती हैं, लेकिन आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल ऑपरेशन डिविजन के तहत ये कमांडो एक साथ काम करते हैं. 

बता दें कि उरी पर हमले के बाद भारत ने जब साल 2016 में पीओके में घुसकर आतंकियों पर सर्जिकल स्ट्राइक किया था तो उसकी योजना से लेकर मॉनिटिरिंग तक का काम सेना के डीजी ऑपरेशन रहे लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने किया था. इन्होंने ही आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी देश को दी थी.

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह को आमी के नॉर्दन कमांड का चीफ (मुखिया) बना दिया गया था. तब से रणबीर सिंह सेना की त्वरित कार्रवाई को लेकर ऐसे युद्ध अभ्यास का आयोजन लगातार करवा रहे हैं. चीन सीमा पर हुए युद्धाभ्यास में भी रणबीर सिंह खुद युद्ध टैंक पर बैठे नजर आए थे.,

स्वर्गीय माधवराव सिंधिया की पुण्यतिथि : निकाली प्रभात फेरी/छत्री परिसर में किया नमन

ग्वालियर। वरिष्ठ नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री माधवराव सिंधिया की 18वीं पुण्यतिथि पर सोमवार को शहर जिला कांग्रेस कार्यालय से प्रभात फेरी निकाली गई जो छत्री परिसर पहंुची जहंा कंाग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अपने प्रिय नेता की तस्वीर पर पुष्प चढ़ाकर उन्हें याद किया/

इस दौरान पार्टी नेताओं ने कहा- स्वर्गीय माधवराव सिंधिया को कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान की पूरी चिंता थी। वे हर छोटे-बड़े कार्यकर्ता का ध्यान रखते थे। कार्यकर्ताओं से आत्मीय लगाव और अंचल के विकास के लिए सदैव प्रयासरत रहने के कारण लोग उन्हें विकास का मसीहा कहते थे। इस मौके पर एपेक्स बैंक के प्रशासक अशोक सिंह, शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष डाॅ. देवेंद्र शर्मा के साथ ही अशोक शर्मा, रमेश अग्रवाल, रामवरण गुर्जर, सुनील शर्मा, बाल खांडे, महाराज सिंह पटेल, जेएच जाफरी ने अपने संस्मरण सुनाकर श्रद्धांजलि अर्पित की।

शाम को निकलेगी माधव ज्योति यात्रा- सिंधिया की पुण्यतिथि पर राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया इसके साथ ही शाम को 4 बजे चंबल संभाग रोलर स्केटिंग एसोसिएशन और एसोसिएशन ऑफ ग्वालियर यूथ सोसायटी नदी गेट जयेंद्रगंज से छत्री तक माधव ज्योति यात्रा निकालेगी। शाम 4 बजे छत्री पर भजन संध्या होगी। इसमें पारुल दीक्षित, पारुल बांदिल, राकेश जैन और वृंदावन के परमानंद महाराज भजन प्रस्तुत करेंगे। इस मौके पर धर्मगुरुओं का सम्मान भी किया जाएगा। भजन संध्या में ढोली बुवा महाराज, संत कृपाल, अब्दुल हमीद कादरी, बाबा लख्खा सिंह और समा सिंह, फादर एसपी दास विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे।

महाराजा का हृदय कब पसीजेगा.

शिवपुरी के भावखेड़ी गांव में एक हृदय विदारक घटना घट गई. दो छोटे छोटे नौनिहाल झूठे अहंकार और दबंगई के कारण असमय काल के ग़ास बन गये. उनका कसूर सिर्फ इतना सा था कि वो नासमझ मासूम बच्चे खुले में शौच के लिये बैठे थे, बिडंबना तो यह भी रही कि उसी दिन अमेरिका में हमारे प़धानमंत्री स्वच्छ भारत अभियान के लिये एक सम्मान हासिल कर रहे थे.

शायद इस साल के क़ूरतम अपराधों की सूची बनाई जायेगी तो इन मासुमों की निर्मम हत्या काले पन्नों में सबसे उपर लिखी जायेगी.
मासूम नहीं जानते थे कि स्वच्छ भारत अभियान उनकी बलि का कारण बनेगा.
हर किसी का हृदय इस घटना को सुन द़वित हो गया. क्षेत्र के जनप़तिनिधि पीड़ित परिवार के गांव जा जाकर अपनी संवेदना व्यक्त कर रहे लेकिन जिन महाराज ने अपने शिवपुरी में दिये प़थम भाषण में यह शब्द कहे थे कि ” जहां आपका पसीना बहेगा मैं खून बहा दूंगा “.आज तक उस गांव तक नहीं पहुंचे हैं.
हार जीत तो होती रहती है लेकिन एक लड़ाई वह होती है जो सत्य के लिये लड़ी जाती है. वैसे भी महाराजा कहते हैं कि उनका ध्येय केवल समाजसेवा है. लेकिन महाराजा की ये बेरुखी कुछ और ही सिद्ध करती है. अभी प़देश में उनकी ही सत्ता है उनके ही जिले में प़भारी हैं लेकिन सब कुछ शून्य नजर आ रहा है.
उनकी एक महिला मंत्री खुले आम तबादला उद्योग में धन उगाही की बात कर रहीं.
पहले के उत्तराधिकारियोंं ने अपने पूर्वजों की बिरासत के किले को प़ेम और अपनेपन से संभालकर रखा था , आज उसकी दीवारों में दरारें पड़ने लगी हैं. कारण सक्षम और समझदार उत्तराधिकार का अभाव. आज नहीं तो कल समझ में आयेगा महाराजा के कि मानवीय मूल्यों की क्या कीमत होती है.
वैसे इस घटना को लेकर प़ियंका गांधी भी अपना रोष और दुख प़कट कर चुकी हैं.
लेकिन जिन महाराज को जनता ने पिछले कई सालों से सर माथे पर बैठाया वो अपनी एक हार से बौखला गये और भूल गये कि ये प़जातंत्र है हार जीत तो होती रहती है.लेकिन जनता के दिलों का जीतना इंसानियत की सबसे बड़ी जीत होती है.

सत्येंद़ सिंह रघुवंशी*
डायरेक्टर &
चीफ एडीटर द न्यूज़ लाइट
थाटीपुर मयुरनगर ग्वालियर


गुना शिवपुरी सांसद के पी यादव भावखेड़ी गांव पहुंचे खुले में शौच को लेकर घटना मानवीय संवेदनाओं को तार तार करती.

शिवपुरी गुना शिवपुरी सांसद आज सिरसौद थाने के अंतर्गत आने वाले भावखेड़ी गांव पहुंचे. मालुम हो कुछ दिन पहले खुले में शौच को लेकर दो मासुमों की गांव के ही दबंगों ने लाठियों से पीट पीटकर हत्या कर दी थी.
आज सासंद केपी यादव भावखेड़ी गांव पहुंचे उन्होंने इस घटना को मानवीय संवेदनाओं को तार- तार करने वाली कहा मासूमों के साथ ऐसी निर्मम घटना अस्वीकार है.
आज शिवपुरी के ग्राम भावखेड़ी में शोक संतप्त परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी और उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया, हमारी प्रशासन से मांग है गुनाहगारों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए .

मध्यप़देश हनी ट्रेप में एक पूर्व सांसद से लिये गये थे लाखों रुपये.

भोपाल. मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के हाईप्रोफाइल हनीट्रैप (Honey Trap) केस में फंसे पूर्व सांसद की अश्लील सीडी को लेकर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है. बताया जा रहा है कि इस पूर्व सांसद की एक नहीं, दो नहीं, बल्कि पूरी तीस सीडी (CD)बनाई गई थीं. इन सीडी के जरिए ही आरोपी महिला बार-बार उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी. लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) से पहले टिकट कटने के डर से पूर्व सांसद ने आरोपी महिला को दुबई टूर पर भेज दिया था.

सूत्रों की मानें, तो जांच के दौरान एक ऐसी बात सामने आई है, जिससे जांच एजेंसी भी सकते में है. पता चला है कि एक पूर्व सांसद की सीडी एक बार नहीं, बल्कि कई बार बनाई गई है. इन्हीं सीडी के ज़रिए पूर्व सांसद से सबसे पहले दो करोड़ की रकम मांगी गई. यह सिलसिला यहीं नहीं थमा. टोटल तीस अश्लील सीडी बनने की वजह से माननीय को बार-बार ब्लैकमेल किया गया. एक बार इन्होंने खुदकुशी तक की कोशिश की थी. एक वरिष्ठ नेता के हस्ताक्षेप के बाद माननीय सदमे से उबर तो गए, लेकिन भोपाल की महिला आरोपी ने उनका पीछा नहीं छोड़ा. आरोपी महिला ने उन्हें बार-बार ब्लैकमेल भी किया और एनजीओ के लिए कई सरकारी काम भी कराए. भोपाल से गिरफ्तार इस महिला आरोपी से एसआईटी पूछताछ कर रही है.

बताया जा रहा है कि राजनीतिक पार्टी के संगठन के बड़े नेता के ज़रिए भोपाल की महिला आरोपी से पूर्व सांसद की पहचान हुई थी. उसके बाद आरोपी महिला अपने एनजीओ के काम से पूर्व सांसद से कई बार मिली. उसी दौरान पूर्व सांसद महिला के जाल में बुरी तरह फंस गए और उनकी एक के बाद एक कर पूरी तीस अश्लील सीडी बना दी गईं. ब्लैकमेल हुए पूर्व सांसद ने पहली बार पीछा छुड़ाने के लिए आरोपी महिला को पूरे दो करोड़ रुपए दिए.

जब आरोपी महिला ने तीस सीडी बनाए जाने की बात पूर्व सांसद को बताई, तो उन्होंने बदनामी के डर से खुदकुशी करने की कोशिश की थी. खुदकुशी की कोशिश की इस घटना के बाद आरोपी महिला कुछ महीनों तक शांत रही और इसके बाद उसने फिर पूर्व सांसद को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया. सांसद रहते हुए नेताजी ने आरोपी महिला के एनजीओ को फंडिंग दिलाई और कई सरकारी कामकाज भी किए.

हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में टिकट कटने के डर से पूर्व सांसद ने आरोपी महिला को कुछ महीनों के लिए अपने खर्च पर दुबई टूर पर भेज दिया. हालांकि, उसके बाद भी उन्हें टिकट नहीं मिला. हनीट्रैप में फंसे होने की वजह से पार्टी ने पूर्व सांसद का टिकट काट दिया. अब माननीय के पास कोई बड़ा पद नहीं है. सीडी सार्वजनिक न हो जाए, उन्‍हें इसकी आशंका जरूर है.

ठाकरे परिवार के पहले सदस्य हैं आदित्य जो चुनाव में उतरेंगे

दिल्ली: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के पुत्र और बाला साहेब ठाकरे के पोते आदित्य ठाकरे महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में मुंबई की वर्ली सीट से चुनाव लड़ेंगे. वर्तमान में वह शिवसेना की युवा शाखा, युवा सेना के प्रमुख हैं. आदित्य के चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ ही ठाकरे परिवार से कोई चुनाव लड़ने वाला पहला सदस्य होने जा रहा है.

शिवसेना चीफ के बहुत करीबी के मुताबिक आदित्य ठाकरे का नाम वर्ली सीट से चुनाव लड़ने के लिए चयनित किया गया है, यहां के मौजूदा शिवसेना विधायक सुनील शिंदे उनके लिए अपनी सीट छोड़ने को तैयार हैं.

वर्ली सीट अभी तक सेना के लिए सबसे सुरक्षित सीटों में मानी जाती है. पूर्व एनसीपी नेता सचिन अहीर जो इस सीट के प्रमुख दावेदार थे उन्होंने पिछले दिनों सेना ज्वाइन कर ली है जिसके बाद से ठाकरे जीत यहां के लिए और आसान हो गई है. अहीर ने 2014 का विधानसभा चु्नाव शिंदे के खिलाफ लड़ा था.

रियल स्टेट कंपनी अंसल के प़णव अंसल गिरफ्तार

रियल स्टेट कंपनी अंसल एपीआई के वाइस चेयरमैन प्रणव अंसल को लखनऊ पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया. इससे पहले उन्हें रविवार सुबह ही इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया गया था. उनके खिलाफ पहले से लुकआउट सर्कुलर जारी है. प्रणव अंसल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

मीडिया से बात करते हुए लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) कलानिधि नैथानी ने कहा, ‘लखनऊ में प्रणव के खिलाफ 24 मामले दर्ज हैं. विभूती खंड पुलिस थाने में उनके खिलाफ धारा 406, 420, 467, 468, और 471 के तहत एक केस दर्ज किया गया था. इसी मामले में लुकआउट सर्कुलर भी जारी किया गया था.’

एसएसपी नैथानी ने कहा, ‘हमें दिल्ली एयरपोर्ट से सूचना मिली कि लंदन जाने के दौरान प्रणव अंसल को हिरासत में लिया गया है. सूचना मिलते ही जांच अधिकारी और एसएचओ को दिल्ली रवाना कर दिया गया. उन्हें हिरासत में लिया गया और बाद में लखनऊ लाया गया.’

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने मीडिया से कहा, ‘जांच अधिकारी ने उनके बयान दर्ज किए, उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. मजिस्ट्रेट के समक्ष हाजिर करने के बाद उन्हें जेल भेज दिया जाएगा. उन्हें लुकआउट सर्कुलर के बारे में पता नहीं था. उनके पिता भी इस केस में वांछित हैं. पहले इसी मामले में अरुण मिश्रा और हरीश नाम के दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है.’

एसएसपी ने आगे कहा कि यह कई मामलों में देखा गया है कि लोगों को या तो समय पर संपत्ति का मालिकाना हक नहीं मिलता या नियमों और शर्तों का उल्लंघन होता है. ऐसी शिकायतों पर भूमि और संपत्ति धोखाधड़ी के मामले दर्ज किए जाते हैं.

शोले फिल्म में कालिया का किरदार निभाने वाले अभिनेता का निधन.

नई दिल्‍ली: बॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता विजू खोटे (Viju K,hote) का 78 वर्ष की आयु में निधन हो गया है. उन्‍हें फिल्‍म ‘शोले’ (Sholay) में अपने ‘कालिया’ (Kalia) के किरदार के लिए जाना जाता है. उन्‍होंने मराठी फिल्मों के साथ-साथ अन्य भाषाओं में भी काम किया है. उन्होंने अपने डायलॉग, ‘सरदार मैने तुम्हारे नाम किया है’ ने दर्शकों का दिल जीत लिया था. उनका निधन हार्ट अटैक से हुआ है. बता दें कि वह लंबे समय से बीमार थे. उन्‍होंने मुंबई के अपने घर में ही आखिरी सांस ली.

फिल्म शोले के बाद उन्होंने आमिर खान-सलमान खान की फिल्म ‘अंदाज़ अपना अपना’ में रॉबर्ट की भूमिका निभाई थी. हाल ही में अजय देवगन और कोंकणा सेन की फिल्‍म ‘अतिथि तुम कब जाओगे’ में भी वह अपने शोले वाले किरदार के साथ ही नजर आए थे. उन्‍होंने हिंदी और मराठी की 300 से ज्‍यादा फिल्‍मों में काम किया है. 

संभाजी राव भिड़े ने कहा मोदी का बुद्ध वाला संदेश आज के युग में गलत है.

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के विवादास्पद दक्षिणपंथी नेता संभाजी भिड़े ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भगवान बुद्ध वाली टिप्पणी ‘गलत’ थी क्योंकि उनकी सीख आज की दुनिया के लिए उपयोगी नहीं है. भिड़े ने सांगली में एक कार्यक्रम में दावा किया कि दुनिया को वर्तमान समय में शांति का संदेश नहीं चाहिए जो बुद्ध ने अपने उपदेश में दिया था.

संभाजी भिड़े ने कहा, ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुद्ध का उल्लेख करके गलती की. हमने दुनिया को बुद्ध दिया लेकिन बुद्ध का शांति और सहिष्णुता का संदेश अब उपयोगी नहीं है. यदि आपको दुनिया में व्यवस्था कायम करनी है तो हमें छत्रपति शिवाजी महाराज और उनके पुत्र संभाजी महाराज के विचारों की आवश्यकता होगी.”

बता दें कि पीएम मोदी ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के मंच से कहा था कि भारत ने दुनिया को युद्ध नहीं, बुद्ध दिए हैं. इस वैश्विक मंच से उन्होंने आतंकवाद के मुद्दे पर कहा था कि आतंकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ी चुनौती है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74 वें सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था कि आतंक के खिलाफ दुनिया का एकजुट होना जरूरी है और भारत ने विश्व को हमेशा से शांति और भाईचारे का संदेश दिया है. पीएम मोदी ने ये भी कहा था कि हम मानते हैं कि आतंकवाद किसी एक देश की नहीं, बल्कि पूरी दुनिया की और मानवता की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है.