मंडी कमेटी शिवपुरी में लाखों रुपए की राजस्व की चोरी


शिवपुरी की कृषि उपज मंडी समिति शिवपुरी आजकल राजस्व लूट का अड्डा बनी हुई है. किसान मेहनत मजदूरी करके कृषि उपज लेकर जब मंडी शिवपुरी में आते हैं , तो कृषि उपज, मंडी शिवपुरी में लाइसेंसी व्यापारी व विभाग के कर्मचारी मिलकर मनमानी बोली लगाकर, किसान की कृषि उपज कम दामों में खरीद लेते हैं. किसान को अनाज का कम मूल्य मिलता है इतना ही नहीं इस अवधि में उसके अनाज के बोरे अगर चोरी हो जाए तो कोई गारंटी नहीं है. इसके लिए अनाज मंडी के चेक पोस्ट से बगैर गेट पास दिए एक निश्चित राशि लेकर ट्रैक्टर ट्रॉली निकलवा दी जाती है .इस चोरी से प्रतिदिन लाखों रुपए एकत्रित करके बंदरबांट विभाग के लोगों द्वारा कर लिया जाता है .चेक पोस्ट पर स्थित सीसीटीवी कैमरा की अगर जांच करवाई जाए तो सारी सच्चाई सामने आ जाएगी इस बारे में जब सचिव से संपर्क किया जाता है तो वह कोई भी उत्तर देना पसंद नहीं करते.
इसके अलावा एक संगठित गैंग द्वारा शहर के बाहर ही किसान की ट्रैक्टर ट्रॉली रोककर आनाज को कम दामों में खरीद लिया जाता है. इस प्रकार बिगर मंडी शुल्क अदा किए व्यापारियों का एक वर्ग किसानों से अनाज खरीद लेता है ,वह शासन को मंडी शुल्क को अदा ना करके कम दाम में उसे अनाज मिल जाता है. किसान द्वारा खरीदे गए अनाज को गोदामों में पहुंचा दिया जाता है फिर वहां से बाहर भेज दिया जाता है, इस प्रकार मध्यप्रदेश शासन को मंडी शुल्क के रूप में प्रतिदिन लाखों रुपए का नुकसान हो रहा है . कलेक्टर महोदया से बड़ी कार्रवाई करें जिससे शासन को राजस्व की हानि ना हो एवं किसान को उसका उचित मूल्य मिल सके.
[करुणेश शर्मा: संपादक करुणेश शर्मा की रिपोर्ट]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *