रघुवंशी समाज के आंदोलन को दरकिनार कर विवादित थाना प्रभारी ने दी आमद

प्रदेश के मुखिया की “सुशासन” की नीतियों पर उठे सवाल।

अशोकनगर।जिले में आज से 40 दिन पूर्व ट्रांसफर होकर आए निरीक्षक आशीष सप्रे की आज आमद हुई है। 40 दिन तक आमद ना होने के पीछे रघुवंशी समाज का अशोकनगर में उग्र आंदोलन रहा प्रमुख कारण।

यह है मामला

अशोकनगर के समस्त रघुवंशी समाज के द्वारा मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन को संबोधित एक ज्ञापन में आशीष सप्रे निरीक्षक का स्थानांतरण जिला अशोकनगर से निरस्त करने के लिए एक ज्ञापन रघुवंशी समाज के द्वारा मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन अशोकनगर को सौंपा गया था । उक्त ज्ञापन में रघुवंशी समाज के द्वारा बताया गया कि आशीष सप्रे निरीक्षक द्वारा विगत दिनों गुना कैंट पदस्थापना के दौरान रघुवंशी समाज के एक युवक उमेश रघुवंशी गुना पर व्यक्तिगत द्वेष समाज सेवा के प्रति हीनभावना के चलते गलत धाराएं एवं शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया था। इस घटना के चलते उन्हें निष्कासित व इनके खिलाफ जांच के आदेश दिए गए थे। जो अभी तक लंबित हैं। जिसका कोई निराकरण नहीं हुआ है। इनका एक कूरतापूर्ण कृत मानवता के प्रति हीनभावना को प्रकट करता है। इनकी पदस्थापना किए जाने से इनके खिलाफ चल रही जांच प्रभावित हो सकती हैं। साथ ही निरस्त न किए जाने की स्थिति में उग्र आंदोलन की चेतावनी देता है। उक्त ज्ञापन रघुवंशी समाज के लोगों के द्वारा जिलाधीश को दिया गया था । और कलेक्ट्रेट में आशीष सप्रे मुर्दाबाद के नारे भी लगाएं थे।

उल्लेखनीय है कि आशीष सप्रे निरीक्षक का स्थानांतरण ग्वालियर से 17/7/2019 को अशोक नगर किया गया था , उस समय रघुवंशी समाज अशोकनगर ने उक्त आदेश का पुरजोर विरोध किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *