UP: अलीगढ़ में बिजली के तारों में उलझकर प्राइवेट प्लेन क्रैश, पायलट सुरक्षित

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में चार्टर कंपनी का प्राइवेट प्लेन क्रैश हो गया है. मंगलवार को धनीपुर हवाई पट्टी पर हुए इस हादसे में सभी 6 यात्री सुरक्षित हैं. बताया जा रहा है कि लैंडिंग के दौरान बिजली के तारों में उलझकर विमान जमीन पर गिर गया. यह विमान अलीगढ़ मेंटेनेंस के लिए आया था.

पुलिस ने बताया कि निजी एविएशन कंपनी के प्लेनों की मरम्मत के लिए इंजीनियर की टीम आज दिल्ली से प्लैन के जरिए अलीगढ़ आ रही थे. प्लैन जैसे ही अलीगढ़ के धनीपुर हवाई पट्टी पर लैंडिंग कर रही थी, उसी समय वह बिजली के तारों में उलझ गई. प्लेन में चार इंजीनियरों के साथ दो पायलट थे. सभी सुरक्षित हैं.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि आज सुबह प्लैन लैंडिंग के दौरान 33 हजार वोल्टेज की तार की चपेट में आ गया. इसके बाद प्लेन में आग लग गई. किसी तरह प्लेन में सवार यात्रियों ने कूदकर जान बचाई. प्लेन में दो पायलट समेत 6 लोग सवार थे. विमान सवारों की मदद के लिए स्थानीय लोग भी पहुंचे, लेकिन पुलिस ने लोगों को वहां से हटा दिया.

प्राइवेट प्लेन में सवार यात्रियों को मामूली चोट आई है. उन्हें अस्पताल भेज दिया गया है. इसके साथ ही दमकल विभाग ने प्लेन में लगी आग को बुझा लिया गया है.

जनवरी में क्रैश हुआ लड़ाकू विमान

इससे पहले साल की शुरुआत में 28 जनवरी की दोपहर उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में वायुसेना का लड़ाकू विमान जगुआर क्रैश हो गया. उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही यह विमान क्रैश हो गया था. हालांकि पायलट को इस हादसे में कोई नुकसान नहीं पहुंचा, लेकिन विमान कुशीनगर के ग्रामीण हिस्से में खेतों में जाकर गिरा.

गोरखपुर एयरबेस से इस जगुआर ने उड़ान भरी थी, लेकिन कुशीनगर में प्लेन क्रैश हो गया. हालांकि क्रैश होने से पहले ही पायलट ने सूझ-बूझ से अपनी जान बचा ली. क्रैश होने से ठीक पहले पायलट विमान से बाहर निकलने में कामयाब रहा.

इसी तरह पिछले साल अक्टूबर में बागपत में भारतीय वायुसेना का एक विमान क्रैश हो गया. विमान में दो पायलट सवार थे और दोनों ही सुरक्षित बच गए. प्लेन कैश होने से पहले ही दोनों पायलेट ने पैराशूट खोल दिया दिया था. वायुसेना के इस विमान ने गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस से उड़ान भरी थी, लेकिन बागपत के पास पहुंचते ही विमान में कुछ तकनीकी खराबी आ गई और विमान क्रैश हो गया. विमान बागपत के रंछाड गांव के खेत में जाकर गिरा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *