भोपाल: मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर का निधन

भोपाल 
मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता बाबूलाल गौर का बुधवार को निधन हो गया। उनका स्वास्थ्य काफी दिनों से खराब था। 7 अगस्त को उन्हें गंभीर हालत में भोपाल के नर्मदा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। पिछले महीने ही बाबूलाल गौर की गुरुग्राम के मेदांता अस्‍पताल में ऐंजिओप्लास्टी की गई थी लेकिन उसके बाद से उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। बुधवार सुबह डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पूर्व सीएम की मौत पर तीन दिनों के राजकीय शोक की घोषणा की गई है। उनकी अंतिम यात्रा भी राजकीय सम्मान के साथ निकाली जाएगी।बाबूलाल गौर 89 वर्ष के थे। बताया जा रहा है कि मंगलवार देर रात से ही उनकी हालत और बिगड़ती गई। उनका ब्लड प्रेशर कम होता गया और पल्स रेट भी गिरता गया। उन्हें लगातार लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर रखा गया था। उनकी किडनियों ने भी काम करना बंद कर दिया था। नर्मदा अस्पताल के डायरेक्टर डॉक्टर राजेश शर्मा ने बताया कि दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। वह वृद्धावस्था संबंधी बीमारियों से जूझ रहे थे और कुछ समय से अस्पताल में भर्ती थे।बताया जा रहा है कि जबसे गौर ऐंजिओप्लास्टी कराकर लौटे तभी से उन्‍हें काफी कमजोरी हो गई थी। उनकी तीन नसें ब्‍लॉक बताई गई थीं इसलिए अधिक उम्र के बावजूद उनका ऑपरेशन करना पड़ा। 

निर्दलीय विधायक से सीएम तक का सफर 
बाबूलाल गौर का जन्म 2 जून 1930 को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में हुआ था। उन्होंने भोपाल की पुट्ठा मिल में मजदूरी करते हुए अपनी पढ़ाई पूरी की। भेल में नौकरी करने के दौरान वह कई श्रमिक आंदोलनों से जुड़े। वह भारतीय मजदूर संघ के संस्थापक सदस्य भी रहे। स्कूली दिनों से ही बाबूलाल गौर संघ की शाखा जाया करते थे। 

1974 में वह भोपाल की गोविंदपुरा सीट से निर्दलीय चुनाव जीते और यहीं से उनके राजनीतिक सफर की शुरुआत हुई। 1974 के बाद से वह लगातार यहां से चुनाव जीतते रहे। वह मार्च 1990 से 1992 तक मध्य प्रदेश के स्थानीय शासन, विधि एवं विधायी कार्य, संसदीय कार्य, जनसंपर्क, नगरीय कल्याण, शहरी आवास तथा पुनर्वास एवं भोपाल गैस त्रासदी राहत मंत्री रहे। वह 23 अगस्त 2004 से 29 नवंबर 2005 तक मध्य प्रदेश के सीएम रहे। 
पीएम, शिवराज और दिग्विजय ने दी श्रद्धांजलि 
बाबूलाल गौर के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर शोक जताया है। पीएम ने लिखा, ‘बाबूलाल गौरजी का लम्बा राजनीतिक जीवन जनता-जनार्दन की सेवा में समर्पित था। जनसंघ के समय से ही उन्होंने पार्टी को मजबूत और लोकप्रिय बनाने के लिए मेहनत की। मंत्री और मुख्यमंत्री के रूप में मध्य प्रदेश के विकास के लिए किए गए उनके कार्य हमेशा याद रखे जाएंगे। बाबूलाल गौरजी के निधन से गहरा दुख हुआ। ईश्वर शोक संतप्त परिवार को दुख की इस घड़ी में धैर्य और संबल प्रदान करे।’

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, ‘मध्य प्रदेश की राजनीति में एक युग की समाप्ति। बीजेपी के आधार स्तंभ, पूर्व मुख्यमंत्री, हमारे मार्गदर्शक व जन-जन के नेता श्री बाबूलाल गौर के निधन से दुखी हूं। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें व परिजनों को इस गहन दुख को सहने की क्षमता प्रदान करें।’ 

शिवराज ने दूसरे ट्वीट में लिखा, ‘आदरणीय बाबूलाल गौर को सत्य के लिए लड़ने वाले सिपाही और मजदूरों, गरीबों व कमजोर वर्ग के हितों के रक्षक के रूप में सदैव याद किया जायेगा। गोवा मुक्ति आंदोलन से लेकर आपातकाल तक में पुलिस की लाठियों का निडरता से सामना करने वाले नायक युगों-युगों तक हमारे दिलों में जिंदा रहेंगे।’ 

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने गौर को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया, ‘बीजेपी के वरिष्ठ नेता, पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौरजी के निधन के समाचार ने द्रवित कर दिया। वह सिर्फ नेता नहीं, बीजेपी की राजनीतिक सोच वाले मार्गदर्शक भी थे। उनके साथ पार्टी के एक युग का अवसान हो गया। ईश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दे!’ 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, ‘बाबूलाल गौरजी के देहांत से मुझे गहरा दुख हुआ। राजनीतिक जीवन में हम दो ध्रुवों पर रहे लेकिन व्यावहारिक रूप से वह मेरे दिल के बेहद करीब थे। जब भी मिले पूरी गर्मजोशी के साथ मिले। जो भी किया पूरी ईमानदारी से किया। गौर साहब के जाने से मैंने एक राजनीतिक साथी खो दिया। श्रद्धांजलि !’ 

यूपी के विधानसभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने ट्वीट किया, ‘मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौरजी का निधन हो गया है। ईश्वर से प्रार्थना की है कि वह दिवंगत आत्मा को चिर-शान्ति व शोकाकुल परिवार को इस अपार दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।’ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *