अयोध्या केस LIVE: SC में वकील का दावा- बाबरी मस्जिद के स्लैब पर थे संस्कृत शिलालेख

रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई हो रही है. सोमवार को इस मामले की सुनवाई नहीं हो पाई थी, इसलिए अब मंगलवार को मामला आगे बढ़ रहा है. 6 अगस्त से इस मामले को सर्वोच्च अदालत में रोजाना यानी हफ्ते में पांच दिन सुना जा रहा है. सोमवार को जस्टिस बोबड़े अदालत में अनुपस्थित रहे, इसी वजह से मामला सुना नहीं गया. आज रामलला विराजमान के वकील सीएस. वैद्यनाथन एक बार फिर अदालत में अपनी दलील पेश कर रहे हैं.

20.8.2019 सुनवाई के लाइव अपडेट…

12.22 PM: रामलला के वकील के इस दावे पर जस्टिस बोबडे ने पूछा कि वो स्लैब कहां मिले थे? उन्होंने कहां से पता लगा कि स्लैब वहां से आ रही है? इसके बाद जस्टिस चंद्रचूड़ ने पूछा कि क्या इस शिलालेख को भी लेकर चैलेंज किया गया है?

इस पर सीएस वैद्यनाथन ने कहा कि स्लैब पर उत्कीर्ण कंटेंट के अनुवाद या इस शिलालेख की प्रमाणिकता को चैलेंज नहीं किया गया है बल्कि सवाल इस पर उठाया गया है कि ये स्लैब विवादित जमीन से मिला है या नहीं. इस दौरान उन्होंने 1950 में ली गई कुछ तस्वीरों को कोर्ट के सामने पेश किया गया.

12.10 PM: रामलला के वकील सीएस वैद्यनाथन ने अदालत में पाञ्चजन्य के एक रिपोर्टर की रिपोर्ट को पढ़ा और बताया कि जब 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद का ढांचा गिराया गया तो जो स्लैब वहां से गिर रही थीं, उनमें संस्कृत भाषा में कुछ लिखा हुआ था. रिपोर्टर ने इसकी तस्वीर भी खींची थी, बाद में पुलिस ने उन स्लैब को जब्त कर लिया था.

11.55 AM: सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि क्या से सब ASI के द्वारा इकट्ठा किया गया था? इस पर वैद्यनाथन ने कहा कि ये ASI रिपोर्ट में नहीं था, ASI काफी बाद में आई थी. रामलला विराजमान के वकील सीएस वैद्यनाथन ने कहा कि मस्जिद को बनाने के लिए मंदिर तोड़ा गया था. उन्होंने ASI रिपोर्ट का हवाला देते हुए मगरमच्छ, कछुओं का भी जिक्र किया और कहा कि इनका मुस्लिम कल्चर से मतलब नहीं था.

11.43 AM: रामलला के वकील वैद्यनाथन ने कहा कि 1114 AD से 1155 AD तक 12वीं शताब्दी में साकेत मंडल का राजा गोविंदचंद्र था, तब अयोध्या ही उसकी राजधानी हुआ करती थी. उन्होंने बताया कि यहां विष्णु हरि का बहुत भव्य मंदिर था, पुरातत्वविदों ने इसकी पुष्टि भी की है.

11.15 AM: रामलला के वकील सीएस. वैद्यनाथन ने अदालत में बताया कि मुस्लिम पक्ष ने पहले कहा था कि जमीन के नीचे कुछ नहीं था, लेकिन बाद में उन्होंने कहा कि जो ढांचा मिला है वह इस्लामिक ढांचा है. उन्होंने कहा कि पुरातत्व विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, भूमि के नीचे मंदिर था. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी इस रिपोर्ट पर भरोसा किया है.

रामलला के वकील की तरफ से उदाहरण देते हुए कहा गया कि आज के दौर में लोग फ्लाइट ले कर सुबह सबरीमाला के दर्शन के लिए जाते हैं और शाम को लौट आते हैं. लेकिन राम जन्मभूमि को लेकर श्रद्धालु कई सदियों से यानी तब से दर्शन के लिए आते-जाते हैं, जब कि सरयू और अन्य नदियों पर कोई पुल नहीं था.

10.50 AM: अयोध्या विवाद पर अदालत में सुनवाई शुरू हो गई है. रामलला विराजमान के वकील सी.एस. वैद्यनाथन अपनी दलीलें रख रहे हैं. उन्होंने अदालत में पुरातत्व विभाग की खुदाई में मिले सबूत पेश किए.

अभी तक की दलीलों में रामलला के वकील की तरफ से पौराणिक, ऐतिहासिक तथ्यों का हवाला दिया गया, कुछ रिपोर्ट, पुरातत्व विभाग की तस्वीरें भी साझा की. सीएस. वैद्यनाथन ने अदालत में कहा कि जन्मभूमि स्थान पर बाबरी मस्जिद से पहले मंदिर था और उसके कई साक्ष्य भी थे. सुप्रीम कोर्ट में उन्होंने इस दौरान कुछ स्तंभों जिनपर भगवान के चित्र थे, उनका जिक्र किया. कुछ नक्शे भी दिखाए.

मामले की सुनवाई कर रहे जजों ने भी कई सवाल पूछे और रामलला के वकीलों से जवाब मांगे. फिर चाहे रामजन्मभूमि पर दावा करने का सबूत हो या फिर मंदिर गिराने का आदेश बाबर ने ही दिया था ऐसा कोई सबूत हो.

आपको बता दें कि मंगलवार को रोजाना सुनवाई का आठवां दिन है. 6 अगस्त तक रोजाना सुनवाई हुई, शुरुआत में निर्मोही अखाड़ा की तरफ से अदालत में अपनी दलीलों को पेश किया गया, उसके बाद से ही रामलला विराजमान के वकील अपनी बात रख रहे हैं.

SC की तरफ से आदेश दिया गया है कि कोई भी वकील जितना समय लेना चाहे वो ले सकता है, समय की कोई सीमा नहीं है. रोजाना सुनवाई से पहले अदालत ने मध्यस्थता का रास्ता भी दिया था, लेकिन उससे काम नहीं हो सका.

इस विवाद की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ कर रही है. इसमें जस्टिस एस. ए. बोबडे, जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस. ए. नजीर भी शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *