राकेश सिंह का पूर्व शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप, स्टांप की कालाबाजारी के जरिए 22 हजार करोड़ का घोटाला.. देखिए

इंदौर। कांग्रेस प्रदेश सचिव राकेश सिंह ने पूर्व शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। राकेश के मुताबिक मध्यप्रदेश में स्टांप की कालाबाजारी के जरिए 22 हजार करोड़ का घोटाला किया गया। कांग्रेस नेता ने बताया कि प्रदेश में 25 हजार स्टांप वेंडर कालाबाजारी कर रहे हैं। ये सभी शिवराज सरकार के कार्यकाल के हैं। राकेश की माने तो एक स्टिंग के जरिए इस पूरे कालाबाजारी का खुलासा हुआ है।

वेंडर 50 रूपए का स्टाम्प 60 रुपए, 100 का स्टाम्प 150 और 500 का स्टाम्प 600 रुपए में बेच रहे हैं। स्टाम्प वेंडरों को राज्य सरकार से डेढ़ से 2 फीसदी कमीशन मिलती है। राकेश सिंह ने सरकार से अपील की है कि मिलावटखोरों के बाद अब स्टांप माफिया पर कार्रवाई करें।

बर्फीली नदी में चलाई पीएम मोदी की नाव, ग्रिल्स बोले- हिमालय का पानी बेहद ठंडा

नॉर्दन आयरलैंड के एडवेंचरर बेयर ग्रिल्स और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का खास एडवेंचर मैन VS वाइल्ड में लोगों को देखने को मिला. देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी इस स्पेशल एपिसोड को लोगों ने देखा. इस एपिसोड में पीएम मोदी ने ना केवल पर्यावरण संरक्षण के बारे में बात की. बल्कि लोगों के सामने ये संदेश भी रखा कि पर्यावरण का संरक्षण आने वाली जनरेशन के लिए कितना महत्वपूर्ण है और इंसान को अपने स्वार्थ से आगे बढ़कर मानवता के बारे में सोचना चाहिए.

इस शो के दौरान पीएम मोदी अलग ही अंदाज में नजर आए. पीएम मोदी ने राफ्ट का सहारा लेकर नदी पार की. इस दौरान ग्रिल्स राफ्ट को खींच रहे थे और पीएम मोदी राफ्ट में बैठे हुए थे. हिमालय के ठंडे पानी की वजह से ग्रिल्स की हालत खराब हो गई थी. उन्होंने ये बात पीएम मोदी के साथ साझा की.

पीएम मोदी पर्यावरण को लेकर भी काफी संवेदनशील हैं और इस बारे में अपने विचार साझा करते नजर आए. ये बात एक बार फिर देखने को मिली जब ग्रिल्स ने उन्हें कहा कि जिम कॉर्बेट काफी खतरनाक एरिया है.

इस पर पीएम मोदी ने जवाब देते हुए कहा कि ”अगर प्रकृति से संघर्ष करोगे, नेचर के खिलाफ रहोगे तो आपको सब कुछ खतरनाक लगेगा. तब आपको इंसान भी खतरनाक लगेंगे. लेकिन अगर आप प्रकृति के साथ हैं, उसे प्यार करते हैं और उसे बचाने की कोशिश करते हैं तो जंगली जानवर भी आपका साथ देते हैं.”

इस शो के दौरान पीएम मोदी पर्यावरण सुरक्षा पर भी बात करते हैं और बताते हैं कि इंसानों के लिए इनका वजूद बना रहना क्यों जरूरी है. ये स्पेशल एपिसोड दुनिया के कई देशों में दिखाया गया. इसे 8 भारतीय भाषाओं में प्रसारित किया गया. इनमें हिंदी, तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम और मराठी जैसी भाषाएं प्रमुखता से शामिल रहीं.

दो उबले अंडे की कीमत 1700 रुपये वसूले जाने पर सोशल मीडिया में हुआ बवाल, राहुल बोस की आई याद

नई दिल्ली, । अभी दो केलों के लिए 442 रुपये वसूलने का मामला ठंडा भी नहीं पड़ा था कि एक होटल ने दो उबले अंडे के लिए 1700 रुपये वसूल लिए। बता दें कि दो केलों के लिए अभिनेता राहुल बोस से चंड़ीगढ़ के होटल जेडब्ल्यू मैरियॉट ने 442 रुपये वसूले थे।

नया मामला मुंबई के एक होटल का है जहां ‘ऑल द क्वीन्स मेन’ के लेखक कार्तिक धर ने दो उबले अंडे का ऑर्डर दिया। ट्विटर यूजर कार्तिक को उन अंडे का बिल देखकर बेहद आश्चर्य हुआ हुआ जब होटल ने उनको 1700 रुपये का बिल थमा दिया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, मुंबई के फाइव स्टार होटल में दो अंडे के लिए 1700 रुपये। कार्तिक ने राहुल बोस के बिल को टैग करते हुए अपने उस बिल की कॉपी को ट्विटर पर अपलोड करते हुए लिखा, भाई आंदोलन करें क्या?

कार्तिक ने कहा कि दो आमलेट के लिए भी उतने का ही बिल वसूला गया। उन्होंने दो आमलेट के बिल को भी ट्विटर पर अपलोड किया। बहरहाल अभी उनके इस ट्वीट का उस होटल की ओर से कोई जवाब नहीं आया है जबकि इसके पहले राहुल बोस के दो केलों का बिल ट्विटर पर अपलोड करने के बाद आबकारी विभाग ने उस होटल पर 25 हजार रुपये का जुर्माना लगा दिया था।

बता दें कि कार्तिक के ट्विटर पर बिल अपलोड करते ही यूजर्स ने होटल की खिंचाई करते हुए खूब मजेदार ट्वीट किए। किसी ने लिखा, इस अंडे के साथ सोना भी निकला क्या? तो किसी ने लिखा, मुर्गी जरूर किसी धन्नासेठ की होगी?

शख्स द्वारा शेयर किए गए बिल पर एक यूजर ने लिखा कि इस अंडे के साथ सोना भी निकला है क्या? इसके साथ ही एक यूजर ने लिखा कि इतने में 870 अंडे आ जाते और पूरा मोहल्ला खा लेता। एक यूजर ने लिखा कि होटल में खाने से अच्छा सामने ठेले पर खा लेते। सारा खाना 200 रुपये में निपटा जाता। अगर क्षमता नही है तो ऐसे महेंगे होटल में जाते ही क्यों हो? और अगर क्षमता है तो यहां रो क्यों कर रहे हो। खाने से पहले होटल का मेनू तो देखा होगा।  

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही अभिनेता राहुल बोस से चंडीगढ़ के एक फाइव स्टार होटल में दो केलों के लिए 442 रुपये वसूले गए थे। जिसके बाद राहुल ने इस बिल को ट्विटर पर शेयर किया था। उन्होंने ट्विटर पर वीडियो डाल कर कहा था कि कौन कहता है फल आपके लिए नुकसानदेह नहीं होते हैं? लेकिन आपको यह देखकर विश्‍वास करना होगा।   

उन्नाव रेप कांड : CBI अब आरोपी ट्रक ड्राइवर और कंडक्टर का ‘BEOSP’ टेस्ट करवाएगी

नई दिल्ली: उन्नाव रेप कांड की पीड़िता की कार को टक्कर मारने के आरोप में चल रही तफ़्तीश के दौरान सीबीआई की टीम अब ट्रक ड्राइवर और कंडक्टर का विशेष जांच परीक्षण करवाएगी. सीबीआई की टीम गुजरात के गांधीनगर में स्थित FSL लैब में ब्रेन इलेक्ट्रॉनिक ऑसिलेशन सिग्नेचर प्रोफाइलिंग (BEOSP) टेस्ट करवाएगी. कल भी इन दोनों आरोपियों के बारे में सीबीआई ने परीक्षण करने वाले अधिकारियों को कई घंटों तक ब्रीफ किया था. सीबीआई की टीम परीक्षण करने वाली टीम को इस केस से जुड़ी तमाम जानकारी दे रही है. आज भी ये परीक्षण करीब 12 घन्टे से ज्यादा तक चलेगा. कल सीबीआई की टीम जांच करने वाली टीम को घटना से जुड़े कई फोटोग्राफ, वीडियो भी सौंपे थे. बुधवार को भी इसी परीक्षण जुड़े अन्य टेस्ट होंगे. 

मामले की विस्तृत रिपोर्ट के लिए सीबीआई दोनों आरोपियों का मेमोरी रिकॉल टेस्ट और नार्को टेस्ट करवाना चाहती थी इसलिए दोनों आरोपियों को गांधीनगर स्थित लैब लाया गया था. इन शुरुआती टेस्ट के बाद नार्को टेस्ट के लिए कुल पांच दिनों के लिए जरूरत होगी. हालांकि अभी ये साफ नहीं कि नार्को टेस्ट की अनुमति सीबीआई को मिली है या नहीं. 

गौतलब है कि उन्नाव रेप कांड के आरोपी विधायककुलदीप सिंह सेंगर  इस समय जेल में बंद हैं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मामले की सुनवाई अब दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में हो रही है. पिछले महीने जब पीड़िता रायबरेली में अपने चाचा से मिलकर वापस उन्नाव जा रही थी तभी उसकी कार को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी जिसमें उसकी मौसी और चाची की मौत हो गई थी जबकि पीड़िता और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे. 

नागपुर से दिल्ली आ रही इंडिगो फ्लाइट में तकनीकी खराबी, नितिन गडकरी भी थे सवार

महाराष्ट्र के नागपुर से दिल्ली आ रही इंडिगो फ्लाइट में तकनीकी खराब आई है. इस फ्लाइट में ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी सवार थे. दरअसल, इंडिगो की फ्लाइट 6E 636 आज सुबह नागपुर से दिल्ली आने के लिए रनवे पर उतरी. अचानक विमान में तकनीकी खराबी आ गई.

इसके बाद विमान को रनवे से टेक ऑफ करने का फैसला लिया गया. सभी यात्री सुरक्षित डी-बोर्ड गए हैं. किसी को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी दिल्ली में केंद्रीय कैबिनेट दोपहर 11 बजे होने वाली बैठक में शामिल होने वाले थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोक कल्याण मार्ग पर स्थित आवास पर कैबिनेट की अहम बैठक बुलाई गई है. ऐन वक्त पर फ्लाइट में आई खराबी की वजह से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बैठक में शामिल नहीं हो सकेंगे.

नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री निवास पर होने वाली 11:00 बजे केबिनेट की मीटिंग में पहुंचना था, लेकिन उसके बाद कोई फ्लाइट का ऑप्शन ना मिलने की वजह से नितिन गडकरी दिल्ली नहीं आ पाए. अभी वे नागपुर में ही हैं.

नितिन गडकरी को कैबिनेट मीटिंग में शामिल होने के बाद शाम को सनी देओल के साथ वापस नागपुर भी जाना था. बुधवार को नागपुर में सुबह सनी देओल के साथ नितिन गडकरी का प्रोग्राम भी है. अब नितिन गडकरी बुधवार देर शाम दिल्ली पहुंचेंगे.

माना जा रहा है कि पीएम मोदी 15 अगस्त को बड़ी परियोजनाओं और योजनाओं का ऐलान कर सकते हैं. साथ ही जम्मू-कश्मीर के हालात की समीक्षा की जा सकती है.

अर्थव्यवस्था की रफ़्तार में आई गिरावट से निपटने के लिए उद्योगों ने मांगा एक लाख करोड़ का पैकेज

नई दिल्‍ली: अर्थव्यवस्था की रफ़्तार में आई गिरावट देखते हुए उद्योग संघ एसोचैम ने स्टिमुलस पैकेज की मांग की है. उधर पीएम की आर्थिक सलाहकार काउंसिल के अध्यक्ष बिबेक देबराय ने सरकार के सामने इकोनॉमिक रिवाइवल के लिए एक नया रोडमैप पेश किया है. भारतीय उद्योगों पर पटरी में लाने के लिए कम से कम एक लाख करोड़ के पैकेज की ज़रूरत है- ये बात एसोचैम ने सरकार के सामने रख दी है.

एसोचैम के असिसटेन्ट सेक्रेटरी जनरल अजय शर्मा ने एनडीटीवी से कहा, ‘एसोचैम के अध्यक्ष ने हाल ही में वित्त मंत्री से मिल कर एक लाख करोड़ के स्टिमुलस पैकेज की मांग की है. अर्थव्यवस्था के फंडामेंटल्‍स मज़बूत हैं लेकिन अर्थव्यवस्था में ग्रोथ सेंटिमेंट रिवाइव करने के लिए स्टिमुलस पैकेज की ज़रूरत है.

इस मांग के बीच पीएम की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष अर्थशास्त्री बिबेक देबराय ने इकोनॉमिक टाइम्स में लेख लिखकर सरकार को चार अहम सुझाव दिए हैं. उनका कहना है जीएसटी की 3 दरें 6%, 12% और 18% हों. कॉरपोरेट सोशल रिसपॉन्सिबिलीटी और टैक्स सरचार्ज हटाए जाएं, सरकारी उद्यमों को निजी हाथों में सौंपा जाए और सरकार अपना ख़र्च घटाए. 10 से 15 सरकारी योजनाएं ही चलाए, फिलहाल 28 बड़ी योजनाएं चल रही हैं.

सरकार का संकट ये है कि उसे बाज़ार का खयाल भी रखना है और बजट की ज़रूरतों का भी. आम आदमी के हितों की भी चिंता करनी है और बड़ी बड़ी कंपनियों के लिए भी माहौल बनाना है. साफ है, बजट पेश कर चुकीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की चुनौतियां अभी कम नहीं हुई हैं. देखना होगा कि इस आर्थिक संकट से निबटने का क्या रास्ता वो खोज पाती हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 15 को करेंगे जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरुआत

पटना : राज्य को पर्यावरण संकट से उबारने और इस विषय पर देश में उदाहरण बनने के उद्देश्य से 15 अगस्त से जल-जीवन-हरियाली अभियान शुरू होगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस अभियान को लांच करेंगे. माना जा रहा है कि ऐतिहासिक गांधी मैदान में स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने के बाद इस अभियान को शुरू करने की घोषणा की जायेगी. इसके तहत सरकारी  कुआं, तालाब, आहर व पइन का जीर्णोद्धार किया जायेगा. 15 अगस्त से दिसंबर तक इस अभियान को युद्ध स्तर पर चलाया जायेगा. इसके लिए ग्रामीण विकास विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है. कृषि, पशु मत्स्य संसाधन, नगर विकास, जल संसाधन, लघु जल संसाधन, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पीएचइडी, ऊर्जा और पंचायती राज विभाग को इसमें शामिल किया गया है.   मुख्यमंत्री के निर्देश पर पुलिस की विशेष शाखा ने अवैध कब्जे वाले  कुआें और तालाबाें को खोजकर मुख्य सचिव को उनकी संख्या उपलब्ध करा दी है. माना जा रहा है कि अब तक  करीब दो लाख ऐसे कुआेें की जानकारी मिल पायी है. 11 जिलों से जानकारी अभी आनी बाकी है. सभी जिलों से रिपोर्ट आयी तो अवैध कब्जे वाले कुओं की संख्या तीन लाख को पार कर जायेगी.   इनमें से सरकारी कुओं को जीवित किया जायेगा.  जल-जीवन-हरियाली  मिशन के तहत राज्य व्यापक स्तर पर पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्य कराये  जायेंगे. राज्य में सार्वजनिक क्षेत्रों में तालाबों की संख्या 60 से 65 हजार है. नये जल निकायों या स्रोतों का सृजन सरकारी और निजी जमीन पर कराया जायेगा. बाढ़ के समय नदियों के अतिरिक्त पानी को सूखाग्रस्त इलाकों नवादा, गया, राजगीर में पहुंचाया जायेगा. सभी भूगर्भ जल स्रोत चापाकल, कुओं के किनारे सोख्ता बनाया जायेगा.   हर सरकारी और निजी भवन पर रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगेगा. सोलर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए निजी और सरकारी भवन पर लगेंगे. हरियाली लाने के लिए बड़े स्तर पर  पौधारोपण होगा़  इसमें सभी सरकारी अधिकारी और कर्मी के अलावा जनप्रतिनिधि भी सहभागी होंगे .कुआं, तालाब, आहर व पइन का होगा जीर्णोद्धार.    

सिक्किम में बड़ा सियासी उलटफेर, चामलिंग की पार्टी के दस विधायक भाजपा में शामिल

सिक्किम में पूर्व मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग की पार्टी सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के दस विधायक आज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए हैं। सभी विधायक भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी महासचिव राम माधव की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए हैं।

बता दें इस बार हुए विधानसभा चुनाव में 25 साल से सत्ता में काबिज पवन कुमार चामलिंग की पार्टी को हार नसीब हुई। वहीं मुख्य विपक्षी पार्टी सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) ने जीत हासिल की।
 
चामलिंग की एसडीएफ पार्टी ने 32 में से 15 सीट हासिल कीं। जबकि 2013 में अस्तित्व में आए एसकेएम ने 17 सीटें हासिल की हैं। बहुमत के लिए भी 17 सीटें ही चाहिए थी। 

यहां राष्ट्रीय पार्टियों की स्थिति उतनी मजबूत नहीं है। साल 1994 से एसडीएफ के नेता पवन कुमार चामलिंग राज्य के मुख्यमंत्री थे।

चामलिंग पांच बार मुख्यमंत्री रहे हैं। उनकी पार्टी की हार से राज्य में 25 साल का दौर खत्म हो गया है। लेकिन चामलिंग ने जिन दो सीटों पर चुनाव लड़ा वहां उन्होंने जीत हासिल की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चामलिंग ने नामची सिंह थांग और पकलोक विधानसभा सीटों से चुनाव लड़ा था।

उन्होंने नामची सिंह थांग सीट से 377 मतों के अंतर से जीत हासिल की। वहीं पकलोल से उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के खड़क बहादुर राय को 2,899 वोट से परास्त कर दिया।

जब चीन ने उठाया कश्मीर मुद्दा, तो क्या कहकर जयशंकर ने कराया चुप

जम्मू-कश्मीर पर भारत द्वारा लिए गए ऐतिहासिक फैसले के बीच विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री वांग ली के साथ सोमवार को बीजिंग में मुलाकात की. भारत के फैसले से बौखलाए पाकिस्तान ने दुनिया के कई देशों के सामने गुहार लगाई, जिसमें चीन भी शामिल रहा. दोनों विदेश मंत्रियों के बीच इस मुलाकात में कश्मीर का मसला भी उठा, लेकिन विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने चीन को कुछ ऐसा तर्क दिया कि चीन आगे कुछ नहीं कह पाया.

जब दोनों की मुलाकात में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने और राज्य का पुनर्गठन करने का मामला सामने आया तो विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि भारत ने जो फैसला लिया है वह उसके संविधान के तहत है और उससे न तो पाकिस्तान की सीमा पर कोई असर होता है और न ही चीन की.

चीन ने भारत के सामने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के फैसले पर सवाल खड़े किए थे और कहा था कि इससे क्षेत्रीय अखंडता पर असर पड़ सकता है.

साझा प्रेस वार्ता में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा, ‘बातचीत के दौरान अक्साई चिन का मसला भी उठा, चीन को चिंता थी कि अनुच्छेद 370 की वजह से भारत-चीन की सीमा पर असर पड़ सकता है. लेकिन, उन्होंने साफ किया कि भारत का फैसला अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कुछ असर नहीं डालेगा. इससे सिर्फ भारत के अंदर ही राज्य में असर होगा’.

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर पर फैसले के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी चीन पहुंचे थे, लेकिन चीन ने इस मसले पर शांति का रास्ता ही अपनाया. चीन ने अपने बयान में कहा था कि भारत के फैसले के बारे में उन्हें पता है, वह उम्मीद करते हैं कि इससे क्षेत्र में शांति बनी रहेगी.

दूसरी ओर अगर पाकिस्तान की बात करें, तो पाकिस्तान लगातार दुनिया के सामने मदद की गुहार लगा रहा है और भारत को लेकर गलत खबरें फैला रहा है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात का जिक्र किया था कि दुनिया के सामने कश्मीर का मसला समझाना और अपने हक में कर लेना इतना आसान नहीं है. साफ है कि पाकिस्तान की बात कोई भी देश मानने को तैयार नहीं है और हर कोई इस फैसले को भारत का आंतरिक मसला बता रहा है.