भ्रष्टाचार की कमाई से पवन सिंघल ने खड़े किये धन दौलत के अंबार

ग्वालियर। न कोई बड़ा पुश्तैनी धंधा और न ही विरासत में मिली कोई बड़ी संपत्ति। मगर वर्तमान में करोड़ों रूपयों के साम्राज्य के मालिक बनने वाले व्यक्ति की कहानी फिल्मों में ही नजर आती है। मगर निगम में ऐसी ही एक पटकथा सब इंजीनियर ने अपनी दिमागी उपज से शासन के राजस्व को जबरदस्त क्षति पहुंचाते हुये लिखी है। जिसमें अपनी नौकरी के वर्षों में उन्होंने धन दौलत का अंबार अपने पास लगा लिया है।
नगर निगम में पदस्थ इंजीनियर पवन सिंघल को लेकर निगम में लगातार चर्चाओं की स्थिति बनी रहती है। जिसके कारण उनके पास ना कोई पुश्तैनी धंधा था और न ही उनको विरासत में एक मकान के अलावा कोई बड़ी संपत्ति हासिल हुई थी। मगर वर्तमान में नौकरी के सहारे ही उनके पास करोड़ों रूपयों की संपत्ति अर्जित की गई है। जिसके दिखाने के लिए कई वारिस मौजूद है। मगर उसके बाबजूद उस पूरे इंतजामात की कमाई का स्त्रोत पवन सिंघल से होकर ही निकलता है। अपने सेवाकाल में पवन सिंघल की संपत्ति का अनुमान निगम सूत्रों के अनुसार 50 करोड़ से अधिक है। वैसे पवन सिंघल का पुश्तैनी मकान जीवाजीगंज स्थित निम्बाह जी की खोह में है।
मलाईदार पदों पर रहे हैं पवन सिंघल
इंजीनियर पवन सिंघल निगम में हमेशा मलाईदार पदों पर ही रहे हैं। जिनमें नियम विरूद्ध सिटी प्लानर, कार्यपालन यंत्री भवन, नोडल अधिकारी प्रोजेक्ट सेल जैसे पद हैं।
पिता थे 300 रूपये माह के लेखापाल
पवन सिंघल के पिताजी निगम में ही लेखापाल के पद पर पदस्थ बताये जाते है। जिनको 300 रूपये मासिक वेतन मिलने की व्यवस्था थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *