एसपी ने थाना प्रभारियों के कार्यक्षेत्र में किया बदलाव

शिवपुरी। पुलिस कप्तान राजेशसिंह चंदेल ने फिर से जिले के थानों में फेरबदल किया है। एसपी ने पोहरी में पदस्थ एसआई अरविंदसिंह चौहान को तेंदुआ थाना प्रभारी बनाया है। वहीं पुलिस लाइन में पदस्थ रामराजा तिवारी को सतनवाड़ा थाना प्रभारी बनाया गया है। इसके अलावा भटनावर चौकी से सुरेंद्रसिंह यादव को गोवर्धन थाना प्रभारी और खनियांधाना में पदस्थ एसआई श्यामसिं

शिवपुरी। पुलिस कप्तान राजेशसिंह चंदेल ने फिर से जिले के थानों में फेरबदल किया है। एसपी ने पोहरी में पदस्थ एसआई अरविंदसिंह चौहान को तेंदुआ थाना प्रभारी बनाया है। वहीं पुलिस लाइन में पदस्थ रामराजा तिवारी को सतनवाड़ा थाना प्रभारी बनाया गया है। इसके अलावा भटनावर चौकी से सुरेंद्रसिंह यादव को गोवर्धन थाना प्रभारी और खनियांधाना में पदस्थ एसआई श्यामसिंह जादौन को भटनावर चौकी प्रभारी नियुक्त किया है। इसी तरह सिटी कोतवाली में पदस्थ शिवनाथसिंह सिकरवार को थनरा चौकी प्रभारी और थनरा चौकी प्रभारी अरविंद राजपूत को सिटी कोतवाली में पदस्थ किया गया है। वहीं इला टंडन को विशेष शाखा से निर्भया मोबाइल प्रभारी बनाया गया है, जबकि कोलारस के एसआई हरिशंकर को अमोलपठा चौकी भेजा गया है। साथ ही पुलिस लाइन से लोकनाथ भगत को फिजीकल थाने और पुलिस लाइन से राजेंद्र यादव को इंदार थाने में भेजा गया है।

आकाश विजय वर्गीय को जमानत मिली, आज जेल से बाहर आये.

इंदौर इंदौर नगर निगम के अधिकारी को क्रिकेट बैट से पीटने के बहुचर्चित मामले और एक अन्य प्रकरण में भोपाल की विशेष अदालत ने बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय को जमानत दे दी है। आकाश रविवार की सुबह जेल से बाहर आ गए। बाहर आने के बाद आकाश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जेल में उनका समय अच्छा बीता है। साथ ही बीजेपी विधायक ने यह भी कहा कि वह जनता की सेवा करते रहेंगे। 

भोपाल की विशेष अदालत ने शनिवार को ही आकाश को जमानत दे दी थी। पर, लॉकअप के तय समय तक स्थानीय जेल प्रशासन को जमानत का अदालती आदेश नहीं मिल पाने के कारण उन्हें कारागार में ही लगातार चौथी रात गुजारनी पड़ी। जेल से बाहर आने पर आकाश ने कहा, ‘मैं जनता की सेवा करता रहूंगा जेल में समय अच्छा बीता है। ऐसी स्थिति में जबकि पुलिस के सामने ही किसी महिला को घसीटा जा रहा था, मैं कुछ और करने की नहीं सोच सकता था। इसलिए मैंने जो कुछ भी किया उसे लेकर शर्मिंदा नहीं हूं। हां, मैं भगवान से जरूर प्रार्थना करूंगा कि वह दोबारा मुझे ‘बल्लेबाजी’ करने का अवसर ना दे।’

कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं आकाश 
बता दें कि आकाश बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं। शहर के गंजी कम्पाउंड क्षेत्र में एक जर्जर भवन ढहाने की मुहिम के विरोध के दौरान आकाश ने नगर निगम के एक अधिकारी को क्रिकेट के बैट से पीट दिया था। कैमरे में कैद पिटाई कांड में गिरफ्तारी के बाद विजयवर्गीय को बुधवार को यहां एक स्थानीय अदालत के सामने पेश किया गया था। अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद बीजेपी विधायक की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। इसके साथ ही, उन्हें 11 जुलाई तक न्यायिक हिरासत के तहत जिला जेल भेज दिया था। 

सीएम का पुतला जलाने के मामले में भी औपचारिक गिरफ्तारी 
न्यायिक हिरासत के तहत जेल में बंद रहने के दौरान बीजेपी विधायक को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला जलाने के पुराने मामले में गुरुवार को औपचारिक रूप से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अघोषित बिजली कटौती को लेकर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने विजयवर्गीय की अगुवाई में चार जून को शहर के राजबाड़ा चौराहे पर प्रदर्शन के दौरान यह पुतला जलाया था, लेकिन इस प्रदर्शन के लिये प्रशासन से कोई अनुमति नहीं ली गयी थी। लिहाजा विजयवर्गीय और बीजेपी के अन्य प्रदर्शनकारियों के खिलाफ भारतीय दण्ड विधान की धारा 188 (किसी सरकारी अधिकारी के आदेश की अवज्ञा) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी। 

जल्द बदला जा सकता है मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष.

जल्द बदला जा सकता है मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, खुद सीएम कमलनाथ ने दिए स्पष्ट संकेत

लोकसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रचंड लहर के कारण कांग्रेस को मध्य प्रदेश की 29 में 28 सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था. प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद का दावेदार माना जा रहा है.

इंदौर: लोकसभा चुनावों की करारी हार के बाद देश भर में कांग्रेस संगठन में जारी उथल-पुथल के बीच मध्य प्रदेश में पार्टी का अध्यक्ष जल्द बदला जा सकता है. इस बात के स्पष्ट संकेत खुद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार शाम दिये जो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की अतिरिक्त जिम्मेदारी भी संभाल रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बदले जाने की सुगबुगाहट के बारे में पूछे जाने पर कमलनाथ ने कहा, “मैंने मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के ठीक बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देते हुए पार्टी आलाकमान से कहा था कि संगठन का यह ओहदा किसी अन्य नेता को सौंप दिया जाये. तब मुझे कहा गया था कि मैं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बना रहूं.”

अप्रैल 2018 में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किये गये वरिष्ठ राजनेता ने कहा, “…तो नया अध्यक्ष (प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष) बनेगा. हमें बीजेपी की चुनावी मशीनरी से मुकाबला करना है. इस मुकाबले के लिये हमें इस विरोधी पार्टी की तरह अपनी चुनावी मशीनरी बनानी है. हमें कांग्रेस संगठन को एक नयी दृष्टि से आकार देना है.” इस बीच, कांग्रेस के मीडिया विभाग की प्रदेश इकाई की प्रमुख शोभा ओझा ने कहा, “कमलनाथ कांग्रेस आलाकमान से मिलने जा रहे हैं. मध्य प्रदेश कांग्रेस संगठन को नया अध्यक्ष मिलेगा.”

गृह मंत्री बाला बच्चन भी अध्यक्ष पद के दावेदार
प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन को भी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद का दावेदार माना जा रहा है. राज्य के लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा कांग्रेस के नये प्रदेश अध्यक्ष के रूप में बच्चन का नाम सुझा चुके हैं. वर्मा ने 17 जून को एक बयान में कहा था कि आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले बच्चन को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाने से जनजातीय वर्ग में अच्छा संदेश जायेगा.

बच्चन ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उनका नाम सुझाये जाने के बारे में पूछे जाने पर कहा, “मैं कांग्रेस का कार्यकर्ता हूं. अब तक मैंने पार्टी की हर जिम्मेदारी को अच्छी तरह निभाने की कोशिश की है. आने वाले समय में भी पार्टी मुझे जो जिम्मेदारी देगी, मैं उसे बखूबी निभाऊंगा.”

कांग्रेस ने 15 साल बाद मध्य प्रदेश में अपनी सरकार बनायी थी
लोकसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रचंड लहर के कारण कांग्रेस को मध्य प्रदेश की 29 में 28 सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था. सूबे में सत्तारूढ़ कांग्रेस केवल छिंदवाड़ा सीट जीत सकी थी. यह सीट कमलनाथ का मजबूत गढ़ मानी जाती है. इस बार छिंदवाड़ा सीट से उनके बेटे नकुल नाथ विजयी होकर लोकसभा पहुंचे हैं. नवम्बर 2018 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी को नजदीकी अंतर से सत्ता से बेदखल करते हुए कांग्रेस ने 15 साल के लम्बे अंतराल के बाद सूबे में अपनी सरकार बनायी थी.news